Wednesday, March 9, 2011

KAMJOR KI PATNI BHAABHI SAB KI YAANI BHAARTIYA RAIL

दोस्तो,हाय !! होली की रन्गो भरी शुभ कामनाये !! पञ्जाबी मे कहतेहैं कि माडे दी जनानी यारो भाभी सभी की,ऐसी ही हमारी रेल है.जिसका जी चाहता है वो रेल की लाइन पर आ कर बेठःजाता है.ओर अपनी मान्गे पूरी करने की जिद ठानलेता है.राजनीतिक पार्टियो का सहयोग भी ऐसे लोगो को जल्दी मिलता है.राज्य सरकारे भी मस्त रहती है.माननीय उच्तम न्यायालय को ही इस मस्ले पर सखत कदम लेना पडेगा.अगर पूरी तरह बन्द ओर देश की संपत्ती का नुकसान नही रुक् सकता तो इसकी जिमेदारी उस दल की हो जो उस प्रदर्शन का आयोजक हो !!   होली मे रन्ग लगे ऐसा जिसकी खुशबू हो ऐसी की मस्ती छा जाये .नाकी ऐसा कि बदबु आये जैसी कान्ग्रेस्स ओर डी.एम.के.पारटीयो के सिटोके करार से आ रही है.ये भी भ्रष्टाचार है सोनिय जी ,राष्ट्रपति जी ,ओर मनमोहन जी.लगता है शोले के असरानि का वाक्य आप पर सही सेट होता है कि ''इतनी बद्लियो [बैज्ती]के बाद भी हम नही बदले ''.इस देश के लीडरो को सुधारने के लिये सारे कानून बदलने  होन्गे!! तो छोडो यार कहो 'आल ईस वेल ' हेप्पी होली   !!  !!  

No comments:

Post a Comment

"क्या तीन तलाक़ से तलाक़ हो पायेगा"? - पीताम्बर दत्त शर्मा (लेखक-विश्लेषक)

ना जाने किसकी प्रेरणा मुस्लिम महिलाओं को मिली , तीन तलाक़ से पीड़ित कई महिलाएं न्यायालय की शरण में चली गयीं !पीड़ित तो वे कई  समस्याओं से भी व...