Thursday, May 30, 2013

" पूछदा दिओर खड़ा, तेरा की दुख्दा भरजाइये " .....?????

सभी दर्दों से दूर जीवन व्यतीत करने वाले मेरे प्रिय मित्रो !! पेरासिटामोल भरा नमस्कार !!
       पंजाबी के मशहूर गायक स्वर्गीय सुरजीत बिन्द्रखिया जी ने ये प्यारा सा द्विअर्थी गीत गाया था तो पूरे भारत में लोग मज़े ले - ले कर गाया और सुना करते थे !! इस गीत में एक मीठा सा " मज़ाक " था जो देवर - भाभी का चुलबुला प्रेम भी दर्शाता था !! आज मुझे ये गीत इसलिए याद आ गया क्योंकि हमारे नेता भारत की जनता को अपनी भाभी समझने लग गए हैं !! पुरानी कहावत भी है कि " माड़े दी जनानी यारो भाभी सभ दी "!!
पहले जनता को अपने गलत निर्णयों से परेशान करते हैं !फिर कहते हैं कि हमारे शासन में ज़रा सी भी हेराफेरी नहीं हुई है !! अगर कोई शिकायत आएगी तो हम जाँच करवा लेंगे ! 
             जनता भी अपने दर्द को इस शेयर की तरह से बयान करती है कि ..."क्या पूछते हो ....दर्द कंहा होता है ?
इक जगह हो तो बताएं कि यंहा होता है !!!
        इस देश में " आतंकवाद, नक्सलवाद, भ्रष्टाचार, बेरोजगारी,असामाजिक तत्वों से असुरक्षा, लचर विदेश व शिक्षा नीति, असुरक्षित भारतीय सीमाएं, फटेहाल अफसरशाही और दीर्घ कालिक न्यायव्यवस्था जैसी अनगिनित व्यधायें फैली हुईं हैं ! जिनके सुधरने का कोई तरीका नज़र नहीं आ रहा !!
           क्या होगा राम ही जाने !! क्योंकि सभी बड़े राजनितिक दलों के नेताओं ने अपनी पार्टियों के असूलों को त्याग कर केवल अपने हितो को साधना ही अपना ध्येय बना लिया है !! सभी पार्टियों के पदाधिकारी एक दुसरे के ना केवल संपर्क में रहते है बल्कि एक दुसरे की भरपूर मदद भी करते हैं !! छोटे कार्यकर्ताओं को तो ये इतना "उन्मादी " बना देते हैं कि वो आपस में कई सालों तक बोलते नहीं या चुनावों में एक दुसरे से लड़ पड़ते हैं !!

            आज हालत यह है कि राजनीतिक दल अपने कार्यकर्ताओं की बात नहीं सुनते, उन्हें राजनीति के मध्य में आने का अवसर ही नहीं देते. वे कार्यकर्ताओं को स़िर्फ झंडा उठाने और दरी बिछाने के काम में इस्तेमाल करते हैं, बल्कि अब हालत यह है कि ये काम भी कार्यकर्ताओं से छीन लिए गए हैं और इन्हें ठेके पर कराया जा रहा है. कई पार्टियां तो मंच संचालन और अधिवेशनों की व्यवस्था भी इंवेंट कंपनियों को सौंप रही हैं और एक फाइव स्टार कल्चर के तहत सारे काम पूरे किए जा रहे हैं !! 
                                                    राजनीतिक दल जब अस्तित्व में आए, तो उन्होंने चुनाव जीतने के लिए भाषा, जाति एवं धर्म का इस्तेमाल किया. परिणामस्वरूप देश में भाषा, जाति एवं धर्म के आधार पर भेदभाव होने लगा और कुछ ग्रुप बन गए. ये ग्रुप आर्थिक हितों के आधार पर कम और जातीय हितों के आधार पर ज़्यादा बने. धार्मिक प्रतीकों के आधार पर चुनाव जीतने की कोशिशें हुईं, लेकिन इस सारी प्रक्रिया में कहीं भी जनता नज़र नहीं आती. आख़िर में राजनीतिक दलों ने जाति, धर्म एवं भाषा से काम बनता न देखकर सीधे मतदाताओं को प्रलोभन देने का तरीका अपनाया. वे शराब और पैसा बड़ी संख्या में लोगों को उपलब्ध कराने लगे. धीरे-धीरे लोगों का एक हिस्सा, जो बूथ पर जाता है, वह इन लुभावने प्रलोभनों में आने लगा. इस तरह राजनीतिक दलों को वोट अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग तरीकों से इन प्रलोभनों के ज़रिए मिलने लगे, लेकिन धीरे-धीरे लोकतंत्र देश से दूर होने लगा.
                                                    अब अगर इस देश को अराजकता, हिंसा और अपराध से बचाना है, तो दोबारा हमें संविधान के मूल सिद्धांतों पर लौटना पड़ेगा, जहां संविधान यह कहता है कि लोगों का प्रतिनिधित्व संसद में होना चाहिए और जब लोगों का प्रतिनिधित्व लोगों के बीच से संसद में होगा, तो वह व्यक्ति अपने चुनाव क्षेत्र की बात भी रखेगा और साथ ही देश की बात भी लोकसभा में रखेगा. आज तो स्थिति यह है कि पार्टी जैसा सोचती है, वैसी बात ही लोकसभा में रखी जाती है. अब यह देश के लोगों द्वारा फैसला करने के लिए एक बड़ा मुद्दा है कि क्या देश को बदलने के लिए संविधान आधारित राज्य व्यवस्था होनी चाहिए या फिर देश को चलाने के लिए संविधान द्वारा सुझाए गए क़दमों के विपरीत मौजूदा पार्टियों वाला कोई सिस्टम होना चाहिए! सोचना लोगों को इसलिए भी है, क्योंकि आज जो व्यवस्था चल रही है, वह व्यवस्था संविधान ने नहीं बनाई है, बल्कि वह संविधान को धोखा देकर बनाई गई है.

                                                     संविधान की किताब देखने पर यह पता चलता है कि उसमें कहीं भी राजनीतिक दलों का ज़िक्र नहीं है. राजनीतिक दल तब कहां से आए, क्योंकि संविधान तो यह कहता है कि चुनाव आयोग होगा, जिसके दो काम होंगे. एक, उम्मीदवारों द्वारा भरे गए शपथ पत्र की जांच करना और दूसरा, निष्पक्ष चुनाव कराना. ऐसे में सवाल उठता है कि तब फिर ये राजनीतिक दल कहां से आ गए, क्योंकि अगर संविधान निर्माताओं के मन में राजनीतिक प्रणाली का राजनीतिक दलों वाला स्वरूप होता, तो वे संविधान में उसका सा़फ-सा़फ ज़िक्र करते. पर दरअसल, ऐसा नहीं था, क्योंकि संविधान का निर्माण गांधी जी की इच्छानुसार हुआ, जिसमें लोगों के प्रतिनिधियों के लोकसभा में जाने की बात कही गई.(Chauthi Duniya)
                                                 क्यों मित्रो !! आपका क्या कहना है ,इस विषय पर...??
प्रिय मित्रो, ! कृपया आप मेरा ये ब्लाग " 5th pillar corrouption killer " रोजाना पढ़ें , इसे अपने अपने मित्रों संग बाँटें , इसे ज्वाइन करें तथा इसपर अपने अनमोल कोमेन्ट भी लिख्खें !! ताकि हमें होसला मिलता रहे ! इसका लिंक है ये :-www.pitamberduttsharma.blogspot.com.
आपका प्रिय ब्लॉग " फिफ्थ पिल्लर - करप्शन किल्लर " के पाठकों की संख्या हर दिन बढती ही जा रही है !! जो आपके बढ़ते प्रेम की ही निशानी है !! मैं आपके इस प्रेम पर अभिभूत हूँ !! ये ब्लॉग आप सबका है !! आप जब चाहें अपनी रचना इस पर प्रकाशित करवा सकते हैं या फिर इस ब्लॉग पर लिखी किसी भी रचना को कंही भी प्रकाशित कर सकते हैं ! हमारा उद्देश्य केवल मात्र इतना है कि पवित्र विचार दूर - दूर तलक पहुंचें !! आप रोजाना इस ब्लॉग "5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " को इस लिंक से खोल सकते हैं :-www.pitamberduttsharma.blogspot.com. फिर इस पर लिखे लेखों को पढ़ कर अपने अनमोल कोमेंट्स भी लिख सकते हैं !! आप इसे ज्वाईन और शेयर भी कर सकते हैं !! आपके विचार हमें नयी दिशा प्रदान करेंगे !! हम आपके सदा आभारी रहेंगे !! आप हमारे ये लेख ब्लॉग के इलावा हमारी फेसबुक , पेज़ ग्रुप और गूगल + पर भी पढ़ सकते हैं !! आप हमसे इस पते पर सम्पर्क भी कर सकते हैं :- 
पीताम्बर दत्त शर्मा , (समाज - सेवी व लेखक )
हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार ,
सूरतगढ़ .( मो . 91-9414657511, 01509-222768 फेक्स .)

Wednesday, May 29, 2013

"हम नहीं सुधरेंगे "....!! कर लो जो, हमारा कुछ कर सको तो ??????

सभी " सुधर " चुके मित्रों को मेरा हार्दिक नमस्कार एवं शुभ - कामनाएं !!
             समाचारों से तो यही लगता है कि जैसे हम सब ने ये कसम ही खा रख्खी है चाहे कोई कुछ भी करले,लेकिन हम नहीं सुधरेंगे !! शोले फिल्म में असरानी जी का जेलर वाला एक मशहूर किरदार था,जिसमे वो कहते हैं कि " हम अंग्रेजों के ज़माने के जेलर हैं !हम तो आज भी नहीं बदले और सुधरे !! इसीलिए सरकार हमारी हर 6 महीने बाद " बदली " कर देती है ! इतनी बदलियों के बाद भी हम नहीं " बदले " !! हा - हा "!!

       हम चाहे," नेता,मन्त्री,जज,अफसर,
कर्मचारी,क्लर्क,मास्टर,व्यपारी,छात्र,पत्रकार, खिलाडी,विचारक,संत,मिस्त्री,मजदूर  और एजेन्ट " हैं, हम सब अपने काम में आलस , हेराफेरी और गैर जिम्मेदारी करते ही जा रहे हैं !!कोई हमें चेताने की कोशिश कर्ता भी है तो हम दुसरे की और ईशारा करके बोलते हैं कि जाओ पहले उसे तो सुधारो .....!! फिर हमें सुधारना !!!!!!बस ! ऐसा ही हो रहा है सब और !! 
           सामाजिक कुरीतियाँ भी इसी लहजे में फ़ैल रही हैं !! कम होने का कोई चांस ही नज़र नहीं आता जी !! किया क्या जाए ...????? रोजाना एक जैसे ही समाचार पढने व देखने को मिलते हैं ! तो सभी एडिटोरियल और चेनलों पर बहस का विषय भी घूम फिर कर वोही सामने आता रहता है !
एक प्रकार की बोरियत सी महसूस होने लगती है !!
           मन कंही लगता ही नहीं !! पहले सिनेमा देखने या पिकनिक मनाने  परिवार के साथ चले जाया करते थे, मंहगाई के कारण वो सब बंद हो गया है जी !! रमणीय स्थल की यात्राएँ तो पंहुच से बाहर हो कर इतिहास बन चुकी हैं !! छुट्टियां चल रही हैं लेकिन जा नहीं पा रहे !! केवल टीवी ही एकमात्र सहारा है हम गरीबों का !!वो ही आजकल हमारा मनोरंजन भी कर रहा है,संतों का ज्ञान भी दिल रहा है, खेल भी दिखाता है, और प्रोडक्ट्स भी बेच रहा है !! बाकी रही-सही कसर न्यूज़ चेनेल पूरी कर देते हैं !
          आजकल के बच्चे तो टीवी ,मोबाईल और कंप्यूटर से बाहर ही नहीं निकलते !! तभी तो मोटे-मोटे चश्मे लग गए हैं तक़रीबन सबको !! हम जैसे अधेड़ लोग तो फिर भी कुछ और अच्छे बुरे काम कर लेते हैं !! आप का क्या कहना है जी इस विषय पर मित्रो !!!
              आपका प्रिय ब्लॉग " फिफ्थ पिल्लर - करप्शन किल्लर " के पाठकों की संख्या हर दिन बढती ही जा रही है !! जो आपके बढ़ते प्रेम की ही निशानी है !! मैं आपके इस प्रेम पर अभिभूत हूँ !! ये ब्लॉग आप सबका है !! आप जब चाहें अपनी रचना इस पर प्रकाशित करवा सकते हैं या फिर इस ब्लॉग पर लिखी किसी भी रचना को कंही भी प्रकाशित कर सकते हैं ! हमारा उद्देश्य केवल मात्र इतना है कि पवित्र विचार दूर - दूर तलक पहुंचें !! आप रोजाना इस ब्लॉग "5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " को इस लिंक से खोल सकते हैं :-www.pitamberduttsharma.blogspot.com. फिर इस पर लिखे लेखों को पढ़ कर अपने अनमोल कोमेंट्स भी लिख सकते हैं !! आप इसे ज्वाईन और शेयर भी कर सकते हैं !! आपके विचार हमें नयी दिशा प्रदान करेंगे !! हम आपके सदा आभारी रहेंगे !! आप हमारे ये लेख ब्लॉग के इलावा हमारी फेसबुक , पेज़ ग्रुप और गूगल + पर भी पढ़ सकते हैं !! आप हमसे इस पते पर सम्पर्क भी कर सकते हैं :- 
पीताम्बर दत्त शर्मा , (समाज - सेवी व लेखक )
हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार ,
सूरतगढ़ .( मो . 91-9414657511, 01509-222768 फेक्स .)

Monday, May 27, 2013

" माया विज्ञापन जगत की " ओ माई गॉड,ओ माई गॉड ,ओह माई गॉड - आई ई-ई-ई-ई आ -आ - आ .........!!!!!!!!!!!!

विज्ञापन जगत का ज्ञान रखने वाले सभी मित्रों को मेरा सादर नमस्कार !! 
                     विज्ञापन की दुनिया भी बड़ी निराली दुनिया है ! ये तो मानना ही पड़ेगा कि चन्द मिनटों के विज्ञापन में कई बार इतना आकर्षण होता है कि उसके आगे किसी सुपर स्टार की ढाई घन्टे की फिल्म पानी भर्ती नज़र आती है !! इसीलिए बड़े - बड़े स्टार भी विज्ञापनों में अक्सर नज़र आते ही रहते हैं !! कई बार तो विज्ञापनों के ज़रिये स्टार की वेशभूषा और किरदार को भावी फिल्म हेतु परखा भी जाता है !! अगर दर्शक उस विज्ञापन में रूचि दिखाते हैं तो फिल्म बनाने का रिस्क प्रोड्यूसर ले लेता है अन्यथा प्रोजेक्ट टाल दिया जाता है !!
                         आजकल हर चीज़ के विज्ञापन में स्त्री का शरीर दिखाना तो आम बात हो गयी है , आजकल तो हर वस्तु को खरीदना प्रेमिका पाने के साथ जोड़ दिया जाता है !!!कई बार तो यंहा तलक दिखा दिया जाता है कि इधर आपने अमुक उत्पाद का प्रयोग किया उधर आपके चारों और लड़कियां ही लडकियां आपकी हर मुराद पूरी करने को आतुर नज़र आती हैं !!!
                          सेक्सी टेग लाईन , सेक्सी लडकियां दिखाना बोलना तो आजकल आम बात सी हो गयी है !! टीवी चेनलों पर जब कभी इस विषय पर चर्चा होती है तो  
सेक्सी पक्ष को जायज़ ठहराने वाले अजीब सी वेशभूषा वाले बेवकूफी से भरे तर्कों के साथ पक्षकार भी आ जाते हैं , जो आज दिखाए जा रहे भद्दे विज्ञापनों को दिखाया जाना न केवल  जायज़  बताते हैं ,बल्कि ये और कहते हैं की नहीं देखना तो अपना टीवी बंद करदो ..!! शो का एंकर भी उसकी मदद करता नज़र आता है !! जो अपने मालिक की मर्ज़ी के मुताबिक ही करता होगा !! इसी से कई बार ये मन में वहम सा होता है कि कंही ये सब देश के विरुद्ध कोई षड्यंत्र तो नहिं ......????

                            निश्चय रूप से कई विज्ञापन न केवल देखने लायक होते हैं , साथ - साथ शिक्षाप्रद भी होते हैं ! 
ये विज्ञापन अच्छे भले पढ़े लिखे लोगों को बेवकूफ बनाने में तो कामयाब हो जाते हैं !! मूल्य भी कई गुना बढ़ जाता है उस उत्पाद का !! छोटा दूकानदार वैसा ही काफी कम कीमत में दे रहा होता है लेकिन हम लोग वंहा जाते ही नहीं .......!!
                       समय का चक्र जल्दी बदलेगा !! 
प्रिय सखियो और सखाओ , सादर नमस्कार !! आपका प्रिय ब्लॉग " फिफ्थ पिल्लर - करप्शन किल्लर " के पाठकों की संख्या हर दिन बढती ही जा रही है !! जो आपके बढ़ते प्रेम की ही निशानी है !! मैं आपके इस प्रेम पर अभिभूत हूँ !! ये ब्लॉग आप सबका है !! आप जब चाहें अपनी रचना इस पर प्रकाशित करवा सकते हैं या फिर इस ब्लॉग पर लिखी किसी भी रचना को कंही भी प्रकाशित कर सकते हैं ! हमारा उद्देश्य केवल मात्र इतना है कि पवित्र विचार दूर - दूर तलक पहुंचें !! आप रोजाना इस ब्लॉग "5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " को इस लिंक से खोल सकते हैं :-www.pitamberduttsharma.blogspot.com. फिर इस पर लिखे लेखों को पढ़ कर अपने अनमोल कोमेंट्स भी लिख सकते हैं !! आप इसे ज्वाईन और शेयर भी कर सकते हैं !! आपके विचार हमें नयी दिशा प्रदान करेंगे !! हम आपके सदा आभारी रहेंगे !! आप हमारे ये लेख ब्लॉग के इलावा हमारी फेसबुक , पेज़ ग्रुप और गूगल + पर भी पढ़ सकते हैं !! आप हमसे इस पते पर सम्पर्क भी कर सकते हैं :- 
पीताम्बर दत्त शर्मा , (समाज - सेवी व लेखक )
हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार ,
सूरतगढ़ .( मो . 91-9414657511, 01509-222768 फेक्स .)

Saturday, May 25, 2013

"जातिवाद का कीड़ा - खा रहा श्री गुरु ग्रन्थ साहिब की शिक्षा को"....!!

"जातिवाद का कीड़ा - खा रहा श्री गुरु ग्रन्थ साहिब की शिक्षा को"....!!

सिख धर्म और जातिवाद
सिख मत हिन्दू धर्म के ही एक सुधारवादी आन्दोलन के रूप में स्थापित हुआ था जिसका उद्देश्य हिन्दू समाज पर धर्मान्धता के रूप में आई हुई इस्लामिक व्याधि का उपचार करना था और उसे फिर से प्राचीन भारत के गौरव को स्थापित करना था। इस कड़ी में उस काल का सबसे बड़ा मानसिक चिकित्सक अगर मैं किसी को मानता हूँ तो वे हैं गुरु गोबिंद सिंह जी महाराज । जहाँ गुरु नानक से लेकर गुरु तेग बहादुर तक सभी गुरु साहिबान धर्म, नैतिकता और भाई चारे का उपदेश करते थे वही इस्लामिक चोट से आक्रांत हिन्दू कौम में फिर से क्षात्र धर्म की स्थापना करने वाले, उनके भीतर से अन्धविश्वास और जातिवाद के भूत को निकालने वाले गुरु गोबिंद सिंह जी महाराज ने सशस्त्र क्रांति का आवाहन किया था।
गुरु गोबिंद सिंह की सेवा में सभी वर्णों के लोग थे। जहाँ उनके पञ्च प्यारों में एक नाई ,एक कुम्हार और एक दर्जी भी था। वही उनकी सेवा में चमार जाति से एक पिता पुत्र घसीटा और जिउना की वीर गाथा बहुचर्चित हैं। इससे यह भी सिद्ध होता हैं की गुरु गोबिंद सिंह जातिवाद के घृणित मानते थे और अपने साथ सभी वर्णों के लोगों को रखकर अपने शिष्यों को इस बुराई को खत्म करने का उपदेश देते थे।
घसीटा और जिउना की वीर गाथा को सुनकर सभी दलित भाइयों की छाती गर्व से चोड़ी हो जानी चाहिए। यह गाथा खालसा सेना की स्थापना करने से पहले की हैं।
औरंगजेब ने गुरु तेग बहादुर की दिल्ली बुलाकर उनका सर कटवा दिया। गुरु ने अपना बलिदान दे दिया पर अपना धर्म न छोड़ा।
जब यह समाचार गुरु गोबिन्द सिंह को मिला तो उन्होंने सिखों के एक बड़ी सभा करी और यह कहा की तुममे से कौन मेरा प्यारा सिख हैं जो मेरे पिता गुरु तेग बहादुर का मृत शरीर लेकर आयेगा जिससे उनका विधिवत संस्कार हो सके। सब लोग चुप बैठे थे। घसीटा नामक एक चमार जाति से सम्बन्ध रखने वाला वीर और जिउना नामक उसका बेटा आगे बढ़े। और गुरु से इस कार्य को पूरा करने का निवेदन किया। गुरु ने बड़ी प्रसन्नता से यह आज्ञा दी। दोनों लम्बी दौड़ धूप करते हुए दिल्ली पहुँचे। एक बंद जेल से शव की निकालना आसान काम न था। रात को दोनों जेल के समीप पहुँच गए तो पाया की सभी पहरेदार बेख़बर सो रहे हैं।
दीवार फोड़ कर दोनों जेल के अन्दर दाखिल हो गए।लोथ के पास आकार दोनों ने उनके चरणों में अपना माथा उनके पैरों को स्पर्श किया। बाप और बेटे दोनों में बातचीत शुरू हो गयी। दोनों ने सोचा की अगर वे इस लोथ को उठा कर ले जायेंगे तो औरंगजेब को मालूम चल जायेगा और वे पकड़े जाने का खतरा हैं । ले जाने की उचित विधि यह रहेगी की उन दोनों में से कोई एक यहाँ पर लाश के स्थान पर लेट जाये।
घसीटा ने अपने बेटे से कहा की तुम जवान हो, बलशाली हो मुझे मार कर गुरु के शव को यहाँ से निकाल ले जाओ। बेटे ने कहा की दुनिया में कहीं ऐसा हुआ हैं की बेटे ने बाप को अपने हाथों से मारा हो। अपने मुझे जन्म दिया हैं इसलिए आप मुझे मार कर यहाँ पर फेंक जाओ।
बाप और बेटे दोनों में बहस आरंभ हो गयी की गुरु की जगह कौन अपना शरीर कुर्बान करेगा।
कुछ देर में फैसला हो गया। बेटा गुरु को शरीर को कंधे पर रखकर चल पड़ा और बाप ने अपनी तलवार से अपने आपको मार डाला।
बेटा गुरु साहिब का शव लेकर जल्दी ही गुरु गोबिंद सिंह के पास पहुँच गया जिससे उनका विधिवत संस्कार कर दिया गया।
जब तक सिख धर्म कायम रहेगा तब तक घसीटा चमार का नाम सदा आदर से लिया जायेगा। 


यह वीर गाथा मैंने इसलिए लिखी हैं की जिस सिख मत की स्थापना जातिवाद की विष वृक्ष को जड़ से उखाड़ने के लिए हुई थी उसी सिख मत में मज़हबी सिख, रविदासिया सिख आदि आदि के नाम से नये नये पंथ कालांतर में इसी जातिवाद के कारण बन गए। अपने आपको सिख अर्थात शिष्य कहने वाले भाई एक दूसरे से जातिवाद के कारण भेद करते हैं। उनके गुरूद्वारे अलग,ग्रन्थि अलग,शमशान स्थान अलग अलग हैं।
क्या इसीलिए गुरु साहिबान ने सिख धर्म की स्थापना की थी?
आज पंजाब में ही सिखों की नाक के नीचे बड़े पैमाने पर मज़हबी सिख जातिवाद और गरीबी से त्रस्त होकर ईसाई बन रहे हैं जबकि सिख समाज अफीम के नशे के समान सोया हुआ हैं जबकि विधर्मी उसके सहयोगियों , उसके भाइयों को दूर करते जा रहे हैं।
डॉ विवेक आर्य 
                                 प्रिय सखियो और सखाओ , सादर नमस्कार !! आपका प्रिय ब्लॉग " फिफ्थ पिल्लर - करप्शन किल्लर " के पाठकों की संख्या हर दिन बढती ही जा रही है !! जो आपके बढ़ते प्रेम की ही निशानी है !! मैं आपके इस प्रेम पर अभिभूत हूँ !! ये ब्लॉग आप सबका है !! आप जब  चाहें अपनी रचना इस पर प्रकाशित करवा सकते हैं या फिर इस ब्लॉग पर लिखी किसी भी रचना को कंही भी प्रकाशित कर सकते हैं ! हमारा उद्देश्य केवल मात्र इतना है कि पवित्र विचार दूर - दूर तलक पहुंचें !! आप रोजाना इस ब्लॉग "5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " को इस लिंक से खोल सकते हैं :- www.pitamberduttsharma.blogspot.com. फिर इस पर लिखे लेखों को पढ़ कर अपने अनमोल कोमेंट्स भी लिख सकते हैं !! आप इसे ज्वाईन और शेयर भी कर सकते हैं !! आपके विचार हमें नयी दिशा प्रदान करेंगे !! हम आपके सदा आभारी रहेंगे !! आप हमारे ये लेख ब्लॉग के इलावा हमारी फेसबुक , पेज़  ग्रुप और गूगल + पर भी पढ़ सकते हैं !! आप हमसे इस पते पर सम्पर्क भी कर सकते हैं :- 
           पीताम्बर दत्त शर्मा , (समाज - सेवी व लेखक )
              हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार ,
                 सूरतगढ़ .( मो . 91-9414657511, 01509-222768 फेक्स .)

Thursday, May 23, 2013

" जनता ",!! अभी पता नहीं चला क्या ??

"सूझबूझ वान"सभी पाठकों को मेरा प्रणाम !!
         कल यूपीए सरकार के नो साल पूरे हो गए , इस अवसर पर रात्रि-भोज रख्खा गया ,जनता हेतु नहीं बल्कि उन नेताओं,अफसरों और पत्रकारों हेतु जिन्होंने इस सरकार के नो साल शासन चलाने में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से मदद की !!चटखारे ले-ले कर इस भोज का आनन्द सब ने लिया !! जो इस भोज में आया, वो भी चर्चा में रहा, जो नहीं आया वो और ज्यादा चर्चा में रहा !! जैसे मुलायम जी और पूर्व क़ानून मंत्री अश्वनी कुमार जी नहीं पधारे तो लोग एक दुसरे से पूछते रहे कि क्यों नहीं आये ??
          सरदार मनमोहन सिंह जी ने एक बार फिरसे सोनिया-राहुल जी को प्रभावित कर ये कहलवाने में सफलता प्राप्त कर ही ली कि वोही अगले प्रधानमन्त्री होंगे अगर यूपीए की सरकार बनी तो !! ये सफलता उन्हें कैसे मिली ये " देखने " वाली बात है !!क्योंकि बहुत से कांग्रेसी अपना नंबर आने की प्रतीक्षा में थे , चाहे सरदार जी ने कईयों को " घर " भिजवा दिया था , तो भी आशा तो बनी रहती ही है ना इन्सान के मन में !!!!
          " साम्प्रदायिकता "का भूत दिखाकर,जनता को " बेवकूफ " बना कर बीस -तीस सांसद जिताकर सोदेबाज़ी करने में माहिर ये छोटे दलों के "हाईकमांड" भी इस भोज में अपना भविष्य " तलाश " रहे थे !!
भाषण भी बड़े सधे हुए तरीके से दिए गए !प्रधानमन्त्री जी ने आंकड़े गिनाये तो सोनिया जी ने कहा कि हमने मिलकर काम किया , अब हमारे पास छिपाने को कुछ बचा नहीं ...!!!
           मतलब !! देश के भेद सभी को बता दिए गए हैं, सारे खनिज बेच दिए हैं , हमने कमीशन खा लिया है , जनता ने सारे नेताओं को चोर बोल दिया है ...आदि-आदि !!!!! अब कोई " भेद " रहा नहीं इसलिए आप भी खाइये और हमें भी शान्ति से खाने दीजिये ......!! इकिस्वीं सदी आ गयी है अब जनता को भी समझदार बनना चाहिए की नहीं ...??? कलयुग में सतयुग की बात काहे करत हो आप लोग ??? " बैकवर्ड " कन्हीके ....!!
          बी . पी .एल . वाले सस्ता अनाज,दो सो रूपये दिहाड़ी नरेगा के तहत और दो कमरे आदि छोटे लालचों में आकर राज़ी हो जाओ , मध्यम तबके वाले अगर कर्मचारी हैं तो जितनी बड़ी पोस्ट पर हो उतना खा लो, व्यपारी हो तो टेक्स चुरालो और नेता हो तो अपनी पंहुच मुताबिक खालो ...!! ऐश करो !! बस वोट हमें देना ......!!
         
 जब ऐसे हालात हो देश के तो मित्रो सभी देश भक्तों को हमारी देशभक्त सेना से हमें " आह्वान " करना चाहिए कि वो देश हित में अपनी बैरकों से बाहर निकलकर भ्रष्टाचारियों से भारत को मुक्त कराएँ और देश की बागडोर किसी ऐसे एक व्यक्ति के हाथों में सौंप कर जाएँ जो हमारे देश को " इण्डिया से भारत " फिर से बना सके !! 

          ताकि देश एक नए संविधान और नयी व्यवस्था से चल सके और हमारी आगे आने वाली पीढियां "आनन्द " से रह सकें !!
     धिक्कार है !! देश द्रोही नेताओ !!
     ************************
            काश !! ऐसा होता !!??
आप का क्या कहना है मित्रो ,इस विषय पर ...???????

इंटरनेट के सभी माध्यमों पर लिखते - पढ़ते कब 4वर्ष पूरे हो गए पता ही नहीं चला !! आप मेरे ब्लॉग "5th pillar corruption killer"जिसका लिंक ये है :-www.pitamberduttsharma.blogspot.com. को इतना महत्त्व दे रहे हैं कि मैं आप के प्यार में अभिभूत हुआ पाता हूँ अपने आपको !! मैं अपने मित्रों की रचनाएँ भी पसंद आने पर आप सबके संग ब्लॉग के साथ साथ गूगल +,मेरे पेज़, फेसबुक और उसके कई ग्रुप्स में भी शेयर करता हूँ !! जिन्हें आप सेंकडों की गिनती में रोज़ाना पढ़ते है , लाईक करते हैं और अपने अनमोल कोमेन्ट्स भी लिखते हैं !! जिन्हें मैं आपके आशीर्वाद के रूप ग्रहण कर दिशा निर्देश पाता हूँ !! मुझे आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि आपका प्यार ता उम्र मुझे इसी प्रकार से मिलता रहेगा !!
हम इस अपने ब्लॉग में आन - लाईन चेनेल और न्यूज़ वेबसाइट भी शुरू करना चाहते हैं !! इस कार्य में भागिदार बनने के इच्छुक मित्र हमसे शीघ्र संपर्क करें !
पीताम्बर दत्त शर्मा, हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार , सूरतगढ़ . फोन न. -01509-222768,मो.+919414657511.
आप सबको ढेर सारी शुभकामनाएं !!सदा प्रसन्न रहें !! नए मित्र शीघ्र अपनी फ्रेण्ड-रिक्वेस्ट भेजें !!                    

Wednesday, May 22, 2013

" खाओ और खिलाओ " U.P.A. सरकार का फार्मूला .........!! ??? " ढपोल - शँख " प्रधानमंत्री !!!!

" फार्मूलों " पर जिंदगी बसर करने वाले सभी मित्रों को " हिसाब " से नमस्कार !! 
          U.P.A.सरकार के चार वर्ष पूरे हो गए , नहीं नहीं मनमोहन सरकार के चार साल पुरे हुए ,न- ना -ना सोनिया जी के नेत्रित्व के नो साल पुरे हुए ....!! खुशियाँ मनाओ जी - भंगड़े पाओ .......चाहे तो घोटालों की ख़ुशी मनाओ या फिर चीन - पाकिस्तान - श्रीलंका - नेपाल और बंगला देश से " कूटनीतिक " मार खाने की ???? गरीबों का खून चूस कर अमीरों को दान देने की या आरक्षण से पीड़ित स्वर्ण - समाज की ???? भटकते युवाओं की बेरोज़गारी की या फिर असुरक्षित महिलाओं की ???? माफियाओं से पीड़ित समाजसेवियों की या आठवीं तक बिना पढ़े पास होकर आगे ना पढ़ पाए विद्यार्थियों के अन्धकार मय भविष्य की .......??? जनता तो कहती है कि इस बात की खुशियाँ मनाओ कि मनमोहन सरकार के अब केवल चन्द महीने ही बचे हैं !! जल्द छुटकारा मिलने वाला है ????
                             मनमोहन से लोग इतने दुखी हो चुके हैं कि  सब चाहते हैं कि भले ही कोई " साम्प्रदायिक व्यक्ति " ही क्यों ना चुनना पड़े  चुनेगे लेकिन वो ठोस और तुरंत निर्णय लेने वाला व्यक्ति होना चाहिए !! ये सरदार जी तो कभी प्रधानमंत्री जैसे दिखाई दिए और ना ही P.M. जैसा बोले ??? इनके मंत्री ही इनको नहीं पूछते तो जनता और विश्व के नेता भला कैसे इनका मान सन्मान करेंगे ???
               " ढपोल - शँख " प्रधानमंत्री शायद इसी लिए बनाया हमारी समझदार सोनिया जी ने ..???

         
आज UPA का चौथा है ... फूल सभी न्यूज़ चैनलों पर चुनकर पुरे देश में बिखरायें जायेंगे ... ll
ॐ तत सत ॐ तत सत ll
                        
ये कैसा हो रहा भारत निर्माण...??
ll किस बात पर गर्व करे.....?? ll
किस बात पर गर्व करें....??
लाखों करोड़ के घोटालों पर...?
85 करोड़ भूखे गरीबों पर...?
62 प्रतिशत कुपोषित इंसानों पर...?
या क़र्ज़ से मरते किसानों पर...??
किस बात पर गर्व करे.....??

जवानों की सर कटी लाशों पर...?
सरकार में बैठे अय्याशों पर....?
स्विस बैंकों के राज़ पर...?
प्रदर्शनकारियों­­ पर होते लाठीचार्ज पर...??
किस बात पर गर्व करे......??

राज करते कुछ परिवारों पर....?
उनकी लम्बी इम्पोर्टेड कारों पर....?
रोज़ हो रहे बलात्कारों पर...?
या भारत विरोधी नारों पर...?
किस बात पर गर्व करे......??

महंगे होते आहार पर....?
अन्याय की हाहाकार पर....?
बढ़ रहे नक्सलवाद पर....?
या देश तोड़ते आतंकवाद पर....?
किस बात पर गर्व करे.......??

जवानों की खाली बंदूकों पर....?
सुरक्षा पर होती चूकों पर....?
पेंशन पर मिलते धक्कों पर.....?
या IPL के चौकों-छक्कों पर....?
किस बात पर गर्व करे......??

किसानों से छिनती ज़मीनों पर....?
युवाओं की खिसकती जीनों पर....?
संस्कृति पर होते रेलों पर.....?
या क्रिकेट-कॉमनवेल­­ थ खेलों पर....?
किस बात पर गर्व करे......??

साढ़े 900 के सिलेंडर पर...?
दुश्मन के आगे होते सरेंडर पर....?
इस झूठी शान पर....?
या 'इंडियन' होने की पहचान पर....?
किस बात पर गर्व करे.....??
किस बात पर गर्व करे.....???
                                                     प्रधानमंत्री रहते हुए मनमोहन सिंह ने जो भी फैसला लिया, वह इस देश के ग़रीब के खिलाफ और अमीर के पक्ष में गया, क्योंकि प्रधानमंत्री ने बेहिचक अमेरिकन इकोनॉमिक एजेंडा इस देश में निर्ममता से लागू किया, लेकिन हैरानी की बात तो यह है कि संसद इसके ऊपर बौखलाई नहीं और एक भी सांसद ने इस निरंकुशता के खिलाफ इस्ती़फा देने की धमकी तक नहीं दी. प्रधानमंत्री ने यह कहा कि उनके ऊपर अगर कभी भी छींटा आएगा, तो वह न केवल प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा दे देंगे, बल्कि सार्वजनिक जीवन से संन्यास भी ले लेंगे. अब देखिए, हिंदुस्तान का सबसे बड़ा घोटाला कोल ब्लॉक के आवंटन में हुआ, जिसे सबसे पहले चौथी दुनिया ने प्रमुखता से छापा और हमने सरकारी काग़ज़ों के खुलासे के साथ यह लिखा कि यह घोटाला 26 लाख करोड़ का है, लेकिन सीएजी ने सरकारी दबाव में इसे 1 लाख, 76 हज़ार करोड़ का घोटाला कहा. आश्चर्य की बात तो यह है कि प्रधानमंत्री ने इस पर कुछ भी नहीं कहा. ख़ामोश बैठे रहे. हालांकि जिस समय घोटाला हुआ, उस समय प्रधानमंत्री देश के कोयला मंत्री थे. सारे ़फैसले उनके दस्तखत के साथ लागू हुए और ये घोटाले प्रधानमंत्री के दस्तखत से ही हुए !!
                             भारतीय लोकतंत्र के इतिहास का यह पहला उदाहरण है कि जब इस देश के प्रधानमंत्री अपना पूरा वक्त राज्यसभा का सदस्य रहते हुए बिता गए. उसके पहले उन्होंने जब-जब लोकसभा का चुनाव लड़ा, वह इस चुनाव में हारे. प्रधानमंत्री रहते हुए जो व्यक्ति लोकसभा का चुनाव लड़ने की हिम्मत न करे और वह 120 करोड़ लोगों के नेता होने का दावा करे, तो शायद यह इस देश के लोकतंत्र की सबसे बड़ी विडंबना है. और इस सवाल को किसी भी दल ने मुद्दा नहीं बनाया, क्योंकि यदि यह मुद्दा बनता, तो फिर यह सवाल भी खड़ा होता कि क्या सचमुच प्रधानमंत्री नैतिक रूप से यह कह सकते हैं कि उनके असम के घर का पता, सचमुच उनके घर का पता है? क्या उस घर में वह कभी एक महीना भी रहे? क्या उनकी पत्नी कभी वहां रहीं? क्या उनकी बेटियां या बहनें वहां कभी रहीं? नहीं रहीं. हर आदमी जानता है कि जो नैतिक परंपराएं पंडित जवाहर लाल नेहरू, लाल बहादुर शास्त्री एवं इंदिरा गांधी ने डालीं, उन परंपराओं की धज्जियां सदन के भीतर प्रधानमंत्री के रूप में बैठने वाले व्यक्तिने उड़ा दीं.
                                                  
महान देश की महान संसद अति महान उदाहरण आने वाली पीढ़ियों के लिए छोड़ रही है. संसद को न अपनी गरिमा का ख्याल है, न वह लोगों की ज़िंदगी में आ रही मुश्किलों से संवेदना रखती है और न ही वह उन सवालों को उठाती है, जिन सवालों का रिश्ता इस देश के ग़रीब से है. संसद में यह भी मुद्दा नहीं उठता कि मुकेश अंबानी को जेड प्लस की सुरक्षा क्यों दी गई? गृहमंत्री को यह कहते हुए दिखाया गया कि इस सुरक्षा के बदले अंबानी पैसा देंगे, तो क्या गृहमंत्री यह कहना चाह रहे हैं कि इस देश का हर पैसे वाला कुछ लाख रुपये देकर भारत सरकार की जेड प्लस सुरक्षा हासिल कर सकता है? अफसोस! संसद में इसके ऊपर सवाल तक नहीं उठा, किसी नियम के तहत उल्लेख तक नहीं हुआ. इसका मतलब यही हुआ कि यह संसद मुकेश अंबानी के आगे सिर झुका रही है.
                       संसद के भीतर कोयला घोटाले के सवाल पर भारतीय जनता पार्टी ने प्रधानमंत्री का इस्ती़फा मांगा और इससे इसीलिए संसद की कार्रवाई बाधित हुई, लेकिन यहां एक सवाल यह उठता है कि ऐसी स्थिति मे भारतीय जनता पार्टी के सारे सांसद लोकसभा से सामूहिक इस्तीफा क्यों नहीं दे देते? जिस संसद में वे न कोई आवाज़ उठाते हैं, जिस संसद में न कोई चर्चा करवा सकते हैं और जहां उनकी किसी भी मांग को गंभीरता से नहीं लिया जाता, उस संसद में भारतीय जनता पार्टी के लोग आखिर बैठे क्यों हैं? यह सवाल केवल भारतीय जनता पार्टी का नहीं है, बल्कि यह सवाल तृणमूल कांग्रेस, जनता दल यू, शिवसेना और शिरोमणि अकाली दल के ऊपर पर भी है. दरअसल, ये सारे लोग इस संसद को सचमुच ख़ुद गंभीरता से नहीं लेते. इसीलिए इस संसद में जब भी आम जनता से जुड़े सवालों पर बहस होती है, उस समय ये सारे लोग सदन में होते ही नहीं हैं. लोकसभा टीवी की सारी कार्रवाई इसकी गवाह है (Santosh Bhartiya, Chauthi duniya)
                                            आप का क्या कहना है मित्रो ,इस विषय पर ...???????

इंटरनेट के सभी माध्यमों पर लिखते - पढ़ते कब 4वर्ष पूरे हो गए पता ही नहीं चला !! आप मेरे ब्लॉग "5th pillar corruption killer"जिसका लिंक ये है :-www.pitamberduttsharma.blogspot.com. को इतना महत्त्व दे रहे हैं कि मैं आप के प्यार में अभिभूत हुआ पाता हूँ अपने आपको !! मैं अपने मित्रों की रचनाएँ भी पसंद आने पर आप सबके संग ब्लॉग के साथ साथ गूगल +,मेरे पेज़, फेसबुक और उसके कई ग्रुप्स में भी शेयर करता हूँ !! जिन्हें आप सेंकडों की गिनती में रोज़ाना पढ़ते है , लाईक करते हैं और अपने अनमोल कोमेन्ट्स भी लिखते हैं !! जिन्हें मैं आपके आशीर्वाद के रूप ग्रहण कर दिशा निर्देश पाता हूँ !! मुझे आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि आपका प्यार ता उम्र मुझे इसी प्रकार से मिलता रहेगा !!
हम इस अपने ब्लॉग में आन - लाईन चेनेल और न्यूज़ वेबसाइट भी शुरू करना चाहते हैं !! इस कार्य में भागिदार बनने के इच्छुक मित्र हमसे शीघ्र संपर्क करें !
पीताम्बर दत्त शर्मा, हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार , सूरतगढ़ . फोन न. -01509-222768,मो.+919414657511.
आप सबको ढेर सारी शुभकामनाएं !!सदा प्रसन्न रहें !! नए मित्र शीघ्र अपनी फ्रेण्ड-रिक्वेस्ट भेजें !!
                       

Monday, May 20, 2013

"कलयुग में ही कीमत गिरती है सोने की "??

सोने जैसे " शुद्ध " मित्रों को मेरा सादर नमस्कार !! कृपया स्वीकार करें !!
          बहुत समय पहले एक फ़िल्मी गीत दलीप साहिब पर फिल्माया गया था कि - " राम चन्द्र कह गए सियासे ,ऐसा कलयुग आएगा ! हँस चुगेगा दाना - तिनका ,कौआ मोती खायेगा .....!! जो आज शत-प्रतिशत सत्य साबित हो रहा है !!
              किसी भी क्षेत्र में नज़र दोडा कर देखलो,हर तरफ यही मंज़र नज़र आता है आजकल !!हर तरफ चोरी डकैती,छीना-झपटी और छल-कपट के इलावा कुछ भी दिखाई नहीं देता !! उस पर " तुर्र्रा " ये कि " मैं तो मजबूरी में " ये काम कर रहा हूँ क्योंकि वो दूसरा पहले से यही काम कर रहा था !! इसी तरह हर कोई दुसरे की तरफ ऊँगली करके चोरी के आरोप से बचा जा 
रहा है ......!! मीडिया बेबस होने का नाटक करके अपना " हिस्सा " खा रहा है !!
जनता को भी चुप-चाप रहने का इशारा किया 
जा रहा है !! अन्यथा "मौत" का डर भी "घुमावदार" तरीके से दिखाया जा रहा है !!
            भ्रष्टाचार का काला साया सबको 
अपने आगोश में लेता जा रहा है !! इमानदार 
लोग दुनिया में कम हो रहे हैं ,क्योंकि इमानदारी की " कीमत " कम हो रही है !! 
तो सब बोल रहे हैं कि इमानदार रुपी शुद्ध सोने को ......खरीद लो !!!

             इससे पहले कि देश का सारी 
सच्चाई रुपी सोना बिक जाये .....भगवान करे हमारी सेना ....जाग जाये और देश से सारी बुराइयां दूर कर,नए क़ानून नयी व्यवस्था 
बनाकर चोरों को जेल में डालकर किसी सच्चे देश भक्त को सत्ता सौंप कर वापिस अपने बैरकों में चली जाए ......!!!
             काश !! ऐसा होता !!??
      आप का क्या कहना है मित्रो ,इस विषय पर ...???????

इंटरनेट के सभी माध्यमों पर लिखते - पढ़ते कब 4वर्ष पूरे हो गए पता ही नहीं चला !! आप मेरे ब्लॉग "5th pillar corruption killer"जिसका लिंक ये है :-www.pitamberduttsharma.blogspot.com. को इतना महत्त्व दे रहे हैं कि मैं आप के प्यार में अभिभूत हुआ पाता हूँ अपने आपको !! मैं अपने मित्रों की रचनाएँ भी पसंद आने पर आप सबके संग ब्लॉग के साथ साथ गूगल +,मेरे पेज़, फेसबुक और उसके कई ग्रुप्स में भी शेयर करता हूँ !! जिन्हें आप सेंकडों की गिनती में रोज़ाना पढ़ते है , लाईक करते हैं और अपने अनमोल कोमेन्ट्स भी लिखते हैं !! जिन्हें मैं आपके आशीर्वाद के रूप ग्रहण कर दिशा निर्देश पाता हूँ !! मुझे आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि आपका प्यार ता उम्र मुझे इसी प्रकार से मिलता रहेगा !!
हम इस अपने ब्लॉग में आन - लाईन चेनेल और न्यूज़ वेबसाइट भी शुरू करना चाहते हैं !! इस कार्य में भागिदार बनने के इच्छुक मित्र हमसे शीघ्र संपर्क करें !
पीताम्बर दत्त शर्मा, हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार , सूरतगढ़ . फोन न. -01509-222768,मो.+919414657511.
आप सबको ढेर सारी शुभकामनाएं !!सदा प्रसन्न रहें !! नए मित्र शीघ्र अपनी फ्रेण्ड-रिक्वेस्ट भेजें !!

Sunday, May 19, 2013

" ईमानदार को तो कोई कुत्ता भी नहीं पूछता "???

सभी " ईमानदार " मित्रों को मेरा दण्डवत प्रणाम !
               कल मैंने टीवी पर एक फिल्म का ट्रेलर  देखा , जिसमे एक कलाकार आखिर में बोलता है कि "ईमानदार को तो कोई कुत्ता भी नहीं पूछता "??? इस वाक्य के साथ ही ट्रेलर तो ख़त्म हो गया ,अगला प्रोग्राम क्या चला, मुझे पता नहीं, जबकि मेरी आँखें तो टीवी की तरफ ही थीं लेकिन दिमाग में वो ही लाईन बार बार गूँज रही थी कि 
                   "ईमानदार को तो कोई कुत्ता भी नहीं पूछता "??? मेरे ज़हन में बारी बारी से वो सारी घटनाएँ गुजरने लगीं जिनमे मैंने ईमानदारी से काम किया था लेकिन समाज के कपटियों ने मेरी एक ना चलने दी थीं !!



                   बस वो ही कहावत सही लागू हो रही थी कि     " जिसकी लाठी उसकी भैंस " !! एक बात मैंने और नोट की कि उन कपटियों में गज़ब की एकता थी !!जैसे " एकता में बल है " वाली कहावत को केवल उनकी ही समझ में आई हो ???? ईमानदार लोग तो हमेशा अलग - अलग दिशा में ही सोचते , बोलते और चलते हैं !!
                            कपटियों का केवल एक ही लक्ष्य होता है कि बस " खाओ और खिलाओ " !! शायद इसीलिए "ईमानदार को तो कोई कुत्ता भी नहीं पूछता "??? बेइमान लोग तरक्की पर तरक्की करते जाते हैं .....??? और ईमानदार लोग " सब्जी " के भाव तय करते हुए बहस करते नज़र आते हैं हमें ......!!!
                   आप का क्या कहना है मित्रो ,इस विषय पर ...???????
           
इंटरनेट के सभी माध्यमों पर लिखते - पढ़ते कब 4वर्ष पूरे हो गए पता ही नहीं चला !! आप मेरे ब्लॉग "5th pillar corruption killer"जिसका लिंक ये है :-www.pitamberduttsharma.blogspot.com. को इतना महत्त्व दे रहे हैं कि मैं आप के प्यार में अभिभूत हुआ पाता हूँ अपने आपको !! मैं अपने मित्रों की रचनाएँ भी पसंद आने पर आप सबके संग ब्लॉग के साथ साथ गूगल +,मेरे पेज़, फेसबुक और उसके कई ग्रुप्स में भी शेयर करता हूँ !! जिन्हें आप सेंकडों की गिनती में रोज़ाना पढ़ते है , लाईक करते हैं और अपने अनमोल कोमेन्ट्स भी लिखते हैं !! जिन्हें मैं आपके आशीर्वाद के रूप ग्रहण कर दिशा निर्देश पाता हूँ !! मुझे आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि आपका प्यार ता उम्र मुझे इसी प्रकार से मिलता रहेगा !!
हम इस अपने ब्लॉग में आन - लाईन चेनेल और न्यूज़ वेबसाइट भी शुरू करना चाहते हैं !! इस कार्य में भागिदार बनने के इच्छुक मित्र हमसे शीघ्र संपर्क करें !
पीताम्बर दत्त शर्मा, हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार , सूरतगढ़ . फोन न. -01509-222768,मो.+919414657511.
आप सबको ढेर सारी शुभकामनाएं !!सदा प्रसन्न रहें !! नए मित्र शीघ्र अपनी फ्रेण्ड-रिक्वेस्ट भेजें !!

Friday, May 17, 2013

" कि आप मुझे अच्छे लगने लगे ".....! !

" प्रिय बन्धुओ और बांध्वियो,"
                    सादर नमस्कार !!
इंटरनेट के सभी माध्यमों पर लिखते - पढ़ते कब 4वर्ष पूरे हो गए पता ही नहीं चला !! आप मेरे ब्लॉग "5th pillar corruption killer"जिसका लिंक ये है :-www.pitamberduttsharma.blogspot.com. को इतना महत्त्व दे रहे हैं कि मैं आप के प्यार में अभिभूत हुआ पाता हूँ अपने आपको !! मैं अपने मित्रों की रचनाएँ भी पसंद आने पर आप सबके संग ब्लॉग के साथ साथ गूगल +,मेरे पेज़, फेसबुक और उसके कई ग्रुप्स में भी शेयर करता हूँ !! जिन्हें आप सेंकडों की गिनती में रोज़ाना पढ़ते है , लाईक करते हैं और अपने अनमोल कोमेन्ट्स भी लिखते हैं !! जिन्हें मैं आपके आशीर्वाद के रूप ग्रहण कर दिशा निर्देश पाता हूँ !! मुझे आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि आपका प्यार ता उम्र मुझे इसी प्रकार से मिलता रहेगा !!
         हम इस अपने ब्लॉग में आन - लाईन चेनेल और न्यूज़ वेबसाइट भी शुरू करना चाहते हैं !! इस कार्य में भागिदार बनने के इच्छुक मित्र हमसे शीघ्र संपर्क करें !
  पीताम्बर दत्त शर्मा, हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार , सूरतगढ़ . फोन न. -01509-222768,मो.+919414657511.
आप सबको ढेर सारी शुभकामनाएं !!सदा प्रसन्न रहें !! नए मित्र शीघ्र अपनी फ्रेण्ड-रिक्वेस्ट भेजें !!

Thursday, May 16, 2013


" एक सपना - चन्द भावुक हिन्दुओं का " क्या कभी पूरा हो पायेगा ????
                   सपने देखने वाले सभी मित्रों को मेरा " चाँद - तारों " वाला नमस्कार !!
 एक भावुक मित्र ने ये सपना अपना मुझे सुनाया है , आप भी पढ़िए :- 
                          यदि 2014 में श्री नरेन्द्र मोदी की जीत होती है तो- 

ब्रेकिंग न्यूज़ - सीबीआई ने गिरफ्तार किये सभी यूपीए के समय रहे सभी केन्द्रीय मंत्रियों को, दिग्विजय सिह को पाकिस्तान से पकड़ा गया

ब्रेकिंग न्यूज़- पाक अधिकृत कश्मीर में सेना का ओपरेशन, मारे गए सैंकड़ो आतंकी, भारतीय सेना ने लाहौर तक पहुंची लाहौर पर कब्ज़ा कर तिरंगा फैहराया 

ब्रेकिंग न्यूज़ - भारत की सीमा चारो और से सील, चीन हटा पीछे ..

ब्रेकिंग न्यूज़ -पूरे भारत में अस्त्र, शस्त्र बनाने के लिए फैक्ट्री खोली गई.. बड़े पैमाने पर युवाओं की सेना में भर्ती, रक्षा अनुसन्धान के लिए क़ानून पारित

ब्रेकिंग न्यूज़ - नरेन्द्र मोदी ने कालेधन को राष्ट्रीय संपत्ति घोषित किया...भारत को शुरू में 100 लाख करोड़ रूपया मिला वापस अधिकतर कालाधन कांग्रेस वालों का और उनके चेले उनसे पोषित लोगों का 

ब्रेकिंग न्यूज़- पेट्रोल 40 रूपए सस्ता हुआ, डीज़ल सरकार खुद बनाएगी, नहीं होगा आयात, मिलेगा 10 रूपए में

ब्रेकिंग न्यूज़ - भारत में पहली बार ..योग्यता अनुसार रोजगार का अधिकार कानून पारित

ब्रेकिंग न्यूज़ - सब्सिडी समाप्त, गरीबो को मुफ्त ही मिलेगी Gas, मध्यम वर्ग के लिए बनाए जाएंगे बायो Gas प्लांट ...

ब्रेकिंग न्यूज़- पूरे भारत में गौ हत्या निषेध कानून लागू, गौ हत्या करने वाले को फाँसी की सजा, सरकार द्वारा गौ रक्षा के लिए विशेष टीम गठित, हर जिले में एक सरकारी गौ शाला खोली जाएगी जहाँ गौ विज्ञान, गौ अर्थ परामर्श भी दिया जाएगा 

ब्रेकिंग न्यूज़ - विदेशी कंपनियों से वापस लिए गए कोयला भण्डार ... अब बन सकेगी सस्ती बिजली, बाद में दी जाएगी मुफ्त !!

ब्रेकिंग न्यूज़- प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी ने दिया स्वदेशी अपनाओ देश बचाओ का नारा, विदेशी वस्तुओं से बचने की सलाह दी, स्वदेशी उद्योग को दिया बढ़ावा - स्वदेशी उद्योग लगाने के लिए के लिए सरकार करेगी आर्थिक मदद 

ब्रेकिंग न्यूज़- युवाओं के स्किल डेवेलोपमेंट के लिए हर जिले में खोले जायेंगें सरकारी संस्थान 

ब्रेकिंग न्यूज़- अंग्रेजी कानूनों को ख़त्म कर भारतीय स्वदेशी कानून लागु किये जाएँगे

ब्रेकिंग न्यूज़- लुटेरे अंग्रेजों के नाम से बने सभी शहर, नगर, गली, कॉलोनी के नाम बदलकर भारत के आदर्श - ऋषि मुनीयों, शहीदों, वीर- वीरांगनाओं के नाम से रखे जायेंगें - गुलामी की सभी निशानियों को मिटाया/ ख़त्म किया जायेगा 

ब्रेकिंग न्यूज़- ब्रिटैन से लूट का हिसाब माँगा जायेगा कि हमें गुलाम बनाकर उन्होंने हमें कितना लूटा और वो कब हमारा धन वापस लौटा रहे हैं 

ब्रेकिंग न्यूज़- भारतीय शिक्षा व्यवस्था में बदलाव फिर से गुरूकुलिये शिक्षा पद्धति को लागू किया जायेगा जहाँ एक बार फिर कृष्ण-सुधामा एक साथ पढ़ सकेंगे वो भी बिलकुल निशुल्क, गुरूकुल, स्कूल, कॉलेजों में अब शास्त्रों के साथ साथ शास्त्र का ज्ञान लेना अनिवार्य होगा 

ब्रेकिंग न्यूज़ – भारतीय आयुर्वैदिक चिकित्सा को दिया जाएगा बढ़ावा, गरीबों के लिए निशुल्क चिकित्सा व्यवस्था 

ब्रेकिंग न्यूज़ -बंगलादेशियो को भगाया जाएगा वापस, हिन्दू धर्म परशोध के लिए कमेटी गठित

ब्रेकिंग न्यूज़ -संस्कृत भारत की राष्ट्र भाषा घोषित, संस्कृत विद्वानों का पेनल गठित, किया जाएगा सरलीकरण !! सभी भारतीय भाषाओ को मिलेगा अंग्रेजी से ज्यादा सम्मान !! ....... !!

मित्रो ये तो एक छोटा सा प्रस्तुती करण है ...2014 के बाद भारत का इतिहास सदैव के लिए बदल जाएगा !! ऊपर जाएगा या नीचे...ये भारत की जनता के कर्मो और वोटिंग वाले दिन किये जाने वाले निर्णय पर निर्भर करता है !!
इसके अलावा आप भी मोदी राज में और क्या-क्या देखना चाहते हो अपनी राय नीचे लिखें-

साभार- दीपक देश पाण्डे और रामेश्वर आर्य
                                                            CURRENT- AFFAIRES WRITER , " 5TH PILLAR CORROUPTION .KILLER" 
क्यों मित्रो !! आपका क्या कहना है ,इस विषय पर...??
प्रिय मित्रो, ! कृपया आप मेरा ये ब्लाग " 5th pillar corrouption killer " रोजाना पढ़ें , इसे अपने अपने मित्रों संग बाँटें , इसे ज्वाइन करें तथा इसपर अपने अनमोल कोमेन्ट भी लिख्खें !! ताकि हमें होसला मिलता रहे ! इसका लिंक है ये :-www.pitamberduttsharma.blogspot.com.

आपका अपना.....पीताम्बर दत्त शर्मा, हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार , आर.सी.पी.रोड , सूरतगढ़ । फोन नंबर - 01509-222768,मोबाईल: 9414657511
" ये क्या हो रहा है ???? ये क्या हो रहा है" ???
                  
विज्ञान तरक्की पर-प्रकृति संतुलन पर:

हर तरफ सौन्दर्य बिखरा, प्रकृति की गोद में
आदमी मगर लगा है, प्रकृति के शोध में

शोध करके प्रकृति में, करता है ये उलट-फेर
रोज़ उलझनें सुलझाये, फिर भी उलझनों का ढेर

प्रकृति से, प्रकृति को, जन्म हुआ आदमी का
पर ये खुराफाती हुआ, रूप छोड़ा सादगी का

क्रिया-प्रतिक्रिया खोजी, पर नहीं ये समझ पाया
विश्व उँगली तले लिया, क्यों नहीं फिर चैन आया

बम एटम का बनाकर, विश्व में है मर्द बना
सोचता अब, रखूं कहाँ, ये तो है सिर दर्द बना .....?

मशीनी दुनिया बनाकर, खुद मशीन बन गया है
अकेला रहकर वो जिए, रिश्तों में घुन लग गया है

न्यूज़ चेनल बताते हैं, विश्व मुट्ठी में लिया अब
पडौसी मर गया अपना, पता चला तेरहवीं जब

खाली बैठी पत्नी, 'कुकिंग रेंज' में बनाकर खाना
बदन थुलथुला हुआ, और 'बोर हो गई' देती ताना

बदन को स्लिम बनाने, हेल्थ क्लब में अब वो आती
समय तो कुछ बचा नहीं, फालतू में फीस जाती

श्रम और समय बचाने को, सभी ये यंत्र बने
उबला खाओ ज़िम में जाओ, डाक्टरों के मन्त्र बने

संतुलन प्रकृति रखती, हमेशा हर हाल में
खुश रहो और प्यार बाँटो , मत फँसो जंजाल में
(कवि अशोक कश्यप)
                   
          
-:- .............. जागो ग्राहक जागो .............. -:-
सब "बकवास" है, सब "झूठ" है ! कौन है ये उपभोक्ता ?
ज़रा गौर करे ..
च्वनप्राश में सोना चांदी, पान मसाले में सोना चांदी 
(जिसे खा कर थूक देते है)
शर्बत में "केसर बादाम", कांच की "बोतल" में है आम
साल भर (बारह महीने हाज़िर)
फेसपैक में पपीता सेब बादाम, साठ रूपये का एक रुमाल
और भैया "कपडे धोने" का "पाउडर" में " नींबू " की ताजगी
यहाँ "नकली" मिलती है दवा और चिप्स के पैकट में भरी हवा
यहाँ साबुन में दूध मलाई मिलती है और दूध में सल्फर, सलेरी
सत्यानाश हो तुम्हारा ManKind`s वालो 'निरोध' में भी अब
चाकलेट और स्टाबरी "फलेवर" ! .....
MANKIND'S MANFORCE CONDOMS (STRAWBERRY FLAVOUR)
         कुछ तो आदमी के खाने के लिए भी छोड़ दो ..
                        
                            CURRENT- AFFAIRES WRITER , " 5TH PILLAR CORROUPTION .KILLER" 
क्यों मित्रो !! आपका क्या कहना है ,इस विषय पर...??
प्रिय मित्रो, ! कृपया आप मेरा ये ब्लाग " 5th pillar corrouption killer " रोजाना पढ़ें , इसे अपने अपने मित्रों संग बाँटें , इसे ज्वाइन करें तथा इसपर अपने अनमोल कोमेन्ट भी लिख्खें !! ताकि हमें होसला मिलता रहे ! इसका लिंक है ये :-www.pitamberduttsharma.blogspot.com.

आपका अपना.....पीताम्बर दत्त शर्मा, हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार , आर.सी.पी.रोड , सूरतगढ़ । फोन नंबर - 01509-222768,मोबाईल: 9414657511
Posted by PD SHARMA, 09414657511 (EX. . VICE PRESIDENT OF B. J. P. CHUNAV VISHLESHAN and SANKHYKI PRKOSHTH (RAJASTHAN )SOCIAL WORKER,Distt. Organiser of PUNJABI WELFARE SOCIETY,Suratgarh (RAJ.)

"आई.पी.एल.कौन करवा रहा , कौन खा रहा "......?????

प्रिय मित्रो नमस्कार !! 
                  खेल मन्त्री परेशान हैं ! कुछ कर भी नहीं पा रहे !! उन्होंने भी " मौन " धारण किया हुआ है !!?? मौत से सबको डर लगता है मित्रो !!
            IPL में आज स्पॉट फिक्सिंग में 3 खिलाडियों की गिरफ़्तारी हुई | जीनमें से एक श्रीसंथ है जो अनेको अंतराष्ट्रीय मैच भी खेल चुके है | अब सबसे बड़ा सवाल तो यह है की IPL किया ही क्यों जा रहा है ? क्या इसमें किसी प्रकार की देशभक्ति की भावना खिलाडी दिखा रहे है ? नहीं ! बल्कि यह तो प्रांतवाद को बढ़ावा दे रहा है | पुरे विश्व से आये खिलाडी इसमें भाग ले रहे है और अलग अलग शहरो ने अपनी टीम बना ली है | इसका अर्थ क्या है ? 

जब अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की बात होती है तो यह समझा जा सकता है की एक देश के खिलाडी दूसरे देश के साथ खेल रहे है और अपनी देशभक्ति की भावना को लेकर खेल रहे है | लेकिन IPL का आयोजन किया ही क्यों गया ? आखिर देश में क्या जरुरत थी इसकी | जरुरत सिर्फ एक थी जो आज सामने आ गयी |फिक्सिंग के तार दुबई तक बताये जा रहे है | कह रहे है पाकिस्तान के रास्ते मैच फिक्स हुआ | 

अरे ये क्यों नहीं कहते की दाऊद ने मैच फिक्स किया | दाऊद इब्राहीम यह IPL करवा रहा है, यह क्यों नहीं कहते ? दाऊद इब्राहीम का पैसा IPL से लेकर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में लगता है, यह क्यों नहीं बताते ? आज कह रहे है 40 करोड का सट्टा लगा हुआ है, तो इसे बंद क्यों नहीं करते ?

आखिर IPL की देश में जरुरत क्या है | पुरे विश्व के खिलाडियों को क्यों खरीदते हो और ये सारा पैसा कहा से आता है और कहा जाता है कुछ नहीं
पता | अगर IPL में इतना ही दो नंबर का पैसा लग रहा है और देश का नुकशान हो राह है तो इसे तुरंत बैन कर देना चाहिए | 


इस देश में ऐसे खेलो की कोई जरुरत नहीं है जिनसे देश का नुकशान हो | खेल खेलो, किसने मना किया है, मगर खेल को खेल की भावना से खेलो | आज भावना नहीं है सिर्फ पैसा है |

कौन नहीं जानता की क्रिकेट के सबसे ज्यादा पैसा अंडरवर्ल्ड का लगता है | गली गली में लोग है जो सट्टा लगते है | आज कोई भी स्वाभिमानी देश क्रिकेट नहीं खेलता | केवल वही देश क्रिकेट खेलते है जो कभी ना कभी अंग्रेजो के गुलाम रहे और जिनका स्वाभिमान मर चूका है |
                  "तवायफ फिर भी अच्छी है इन, नेताओँ से बदन बेचती है वतन नहीँ"॥
उफ़ ये भोले भले भारतीय क्रिकेट खिलाडी ..
इतना पैसा होने के बावजूद बेईमानी ??
                                                   CURRENT- AFFAIRES WRITER , " 5TH PILLAR CORROUPTION .KILLER" 
क्यों मित्रो !! आपका क्या कहना है ,इस विषय पर...??
प्रिय मित्रो, ! कृपया आप मेरा ये ब्लाग " 5th pillar corrouption killer " रोजाना पढ़ें , इसे अपने अपने मित्रों संग बाँटें , इसे ज्वाइन करें तथा इसपर अपने अनमोल कोमेन्ट भी लिख्खें !! ताकि हमें होसला मिलता रहे ! इसका लिंक है ये :-www.pitamberduttsharma.blogspot.com.

आपका अपना.....पीताम्बर दत्त शर्मा, हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार , आर.सी.पी.रोड , सूरतगढ़ । फोन नंबर - 01509-222768,मोबाईल: 9414657511

"अब कि बार कोई कार्यकर्ता ही हमारा जनसेवक (विधायक) होगा"!!

"सूरतगढ़ विधानसभा क्षेत्र की जनता ने ये निर्णय कर लिया है कि उसे अब अपना अगला विधायक कोई नेता,चौधरी,राजा या धनवान नहीं बल्कि किसी एक का...