Posts

Showing posts from August, 2011

" SHAALINTA -- SAANSAD -- OR -- SHABAD - GYAAN "

Image
शब्द ज्ञानी दोस्तों , नमस्कार ! अन्ना जी के आन्दोलन में जनता के बीच में श्री मति किरण बेदी और अपने प्रिय अदाकार ओम पुरी जी ने हमारे सांसदों , मंत्रियों और नेताओं को कुछ खरी - खरी नमक - मिर्च लगाकर सुनादी , तो हमारे नेता भड़क गए कहने लगे , कि संसद का अपमान हो गया , वगेरह - वगेरह | दोनों वक्ताओं में से एक तो पंजाबी पुलिस वाली अधिकारी है , तो दूसरा ग्रामीण  पंजाबी संस्कृति का, दोनों भले ही डिग्री धारक हों परन्तु शब्द - ज्ञानी तो बिलकुल नहीं हैं | प्रयाय्वाची तो बिलकुल नहीं जानते | बल्कि दोनों भूतकाल में भारी भरकम " गालियों " के ज्ञाता और वक्ता अवश्य रहे होंगे | उन्होंने जो शब्द प्रयोग किये वो उन लोगों के लिए तो उचित नहीं हैं जो ईमानदारी से अपना कार्य करते हैं , चाहे वो किसी भी दल से क्यों न हो ? लकिन जो शुद्ध भ्रष्टाचारी हैं उनके लिए तो ये शब्द बहुत शालीनता से भरे हुए हैं , क्योंकि आम जनता तो उनसे भी गंदे संबोधनों से पुकारती है ? जो शायद उन नेताओं के कानो में नहीं पंहुचते | अब कोई आपको " कुत्ता , कमीना , चोर बदमाश और हरामी कहना चाहे , आपके कार्यों के कारन और उसे इनके प्रया…

" AB - HONE WALE - HAR CHUNAVON MAIN - JAATI - ILAKA - DHARAM - PARTY- LALCH - SABH - CHODHNA - HOGA , OR NAYA - M.P. - MLA. DHOONDHNA - HOGA." .

Image
सरकार और विपक्ष के लटकों - झटकों में फंसे दोस्तों ! नमस्कार !! सभी भारत वासी पिछले १२ दिनों से सरकार - विपक्ष और मिडिया के लटके - झटके देख रहे हैं , समझ रहे हैं | कैसे - कैसे नाटक कर रहे हैं , " लालू, बंसल , प्रणब, राहुल,मायावती,आदि - आदि | जनता समझ भी रही है , और सोच भी रही है कि क्या किय जाए ? नेता चेलेंज कर रहे हैं कि हिम्मत है तो २०१४ में चुनाव लड्लें , अपनी सरकार बनालें और " बिल " पास करवालें ? सरकार संसद में तो ये दिखा रही है कि वो " जन्लोकपाल " के कुछ - कुछ पक्ष में है | विपक्ष दिखा रहा है कि वो " ज्यादातर " पक्ष में है " लेकिन दोनों कि शह पर " माया - लल्लू असली भाषा बोल रहे हैं "| बेशर्मी की हद हो गयी है ? पुराने संसद - सदस्य या मंत्री होने का " दंभ " लगातार बढ़ रहा है | जिसका इलाज आवश्यक है , और इस बीमारी की डाक्टर " जनता " ही है | आज हम सबको ये "प्रण" करना है कि अब चाहे जो भी चुनाव आये , चाहे छोटा हो या बड़ा , तब हमने किसी लालच में नहीं फंसना , जाती , धरम , इलाका और पार्टी के बन्धनों में नहीं फंस…

" B A D M A S H - NETA , -- GARIB JANTA --, SACHCHA --ANNA "

Image
प्यारे देशवासियों , नमस्कार ! नेताओं ने सर्वदलीय मीटिंग में जो तय हुआ उसका सार ये है की " जन - लोकपाल " पर विचार तो होगा पर " श्रेय " कंही " अन्ना " जी की टीम को नहीं चला जाए , ये नहीं होगा | अब सवाल ये पैदा होता है कि " क्या इन नेताओं को संसदीय प्रणाली की चिंता है ?" या ये जिद है की हमारी चले ? मौजूदा सांसदों का चरित्र जनता को समझ आ गया है चाहे वो किसी भी पार्टी का है ? अभी आखरी बात प्रणब जी के साथ होने वाली है मुझे नहीं लगता कि कोई हल निकलेगा ? फिलहाल " जन्लोकपाल - बिल " विचारार्थ स्वीकार हो जायेगा और अनशन समाप्त हो जायेगा ? लकिन क्या जनता " चुनावों " के समय तक सब भूल जाएगी या ये संघर्ष याद रखेगी ? मेरा तो यही मत है कि जनता को आज ये प्रण कर लेना चाहिए कि अगले चुनावों में न तो कोई "पुराना  सांसद जीतना चाहिए और न ही कोई पुराना विधायक जीतना चाहिए " ? " अन्ना " जी की टीम को अभी से " इमानदार " लोग ढूँढने का कार्य शुरू कर देना चाहिए ? ताकि जनता को निर्णय करने में कोई परेशानी न हो ? जनता को ये भी प्रण…

" AB - PATA - CHALA - KYON NAHI PRINT HOTA NOTON PAR "AZAAD"?"

Image
" अन्ना " और " कृष्णा " के रस में डूबे दोस्तों ! ! जय -जय श्री राधे कृषण ..! !कुछ समय पहले कई देश भगतों के भगतों ने ये आवाज़ लगायी थी कि महात्मा गाँधी जी की ही फोटो " नोटों " पर क्यों छापी जाती है ? किसी दूसरे देश भगत की क्यों नहीं नोटों पर फोटो छापी जाती | जैसे :- भगत सिंह , चंदर शेखर आज़ाद , सुभाष चंदर बोस , सरदार उधम सिंह आदि - आदि | आज जब अन्ना जी का आन्दोलन देखा ,तो समझ आया कि शांति दूत , राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी जी का ही चित्र नोटों पर छापना उचित था | देश की आज़ादी की लड़ाई में उपरोक्त देश भगतों का महत्वपूरण योगदान था जिसे देशवासी हमेशां याद रखेंगे | लेकिन शांतिपूर्वक आन्दोलन चलाने का एक अपना ही महत्व है | आशा है ऐसे सभी देश भगतों के समर्थक भी समझ गए होंगे ? जो किसी और देश भगत का नाम भारतीय नोटों पर छपवाना चाहते हैं | आज हमने देखा " श्री मनीष तिवाड़ी " अपना मुंह छुपाते घूम रहे हैं , सरकार जनान्द्दोलन के आगे झुक गयी है | श्री संजय निरुपम ने अन्ना की " टोपी " पहन ली है |चोर दुबक कर बैठ गए हैं | कोई ऐसा शहर या गॉंव नहीं जंहा से अन्…

" 2014 main ek bhi "saansad ya vidhayak " purana chunkar nahi jana chahiye"

Image
अनशन पर बैठे दोस्तों , और समर्थन दे रहे मित्रो !नमस्कार !! देश ने " अन्ना " जी के नेत्रित्व में " अंगडाई  " ले ली है | देश में फैले भ्रस्टाचार और कुव्यवस्था के खिलाफ | सभी वर्ग के लोग न केवल इसमें शामिल हैं बल्कि पक्के इरादे के साथ "खम्बा " गाढ़ दिया है | कल संसद में " निरुपम " जी ने जब ये कहाकि "जनता" हम सबको " बेईमान " समझती है , दर्शकों ने यही कहा होगाकि आप सही हो " निरुपम " जी | आज कोई भी जनप्रतिनिधि बिना " हेराफेरी " के जीत सकता है क्या ??? मैं कहता हूँ की बिलकुल नहीं ! अब लड़ाई " आर - पार " की है | ये  हम सब जानते हैं इसीलिए इतना जन - समर्थन इस अनशन को मिल रहा है | सरकार कहती है कि अन्ना जी "जिद" कर रहे हैं, मैं कहता हूँ कि यही तो " इच्छा - शक्ति " है , जो सरकार में नहीं पाई जाती | " मक्कार " , "ढीठ", " कमीने", " झूठे "और बेईमानो से भरी पड़ी है हमारी संसद और विधानसभाएँ | इसलिए सभी भारत वासियों से निवेदन है कि इस " अनशन " …

" M U R A K H - - - - - - - - J A N T A - - OR -- YE " ULLU - KE - PATHTHE " ?

Image
मुर्ख  दोस्तों, सलाम ! लो जी सभी कान्ग्रेस्सी  भाई आज चिल्ला - चिल्ला कर कह रहे हैं कि जनता उस समय मुर्ख बन जाती है जिस समय वोट  पड़ रहे होते हैं | कोई तो उस समय किसी पार्टी का " पक्का " कार्यकर्त्ता बन जाता है,तो कोई किसी जाती विशेष का नेता ? कोई किसी भाषा का प्रेमी बन जाता है तो कोई किसी इलाके का खामखाह अपने आप को समझने लगता है ?ऐसे षड्यंत्र रच कर ये नेता ही हमें मुरख बनाते हैं , और अब यही लोग कह रहे हैं कि जब आपने हमें ५ सालों के लिए चुन लिया तो अब क्यों " रो " रहे हो ? अब तो हम जैसे भी देश चलायें हम नेताओं कि मर्ज़ी ? हम नेताओं को कोई नहीं रोक सकता ? ये " अन्ना " और " राम देव " " किस खेत की मूली हैं " ? कंही पेंशन न मिलने का डर है तो कंही खुद की ही चोरी न पकड़ में आ जाए इसलिए संसद में विपक्ष के सारे नेता चुप हैं ?रशीद मियां तो यह भी कहते हैं कि जनता चुनावों के समय पैसा भी लेती है और शराब भी पीती है ? जो २०% सही है ? अनशन, कैसा , कब , क्यों , कंहाँ और किसलिए होना या नहीं होना चाहिए इसका फैसला तो अब संसद या सुप्रीम - कोर्ट को कर देना…

" RAKSHA - BANDHAN - - - - KARE RAKSHA - SWTANTRTA - DIWAS KI "

Image
भाइयो और बहनों एवं प्य्रे दोस्तों , रक्षा - बंधन और स्वतंत्रता - दिवस की हार्दिक बधाई स्वीकार करें ! त्यौहार है इसलिए बधाई तो देनी ही पड़ेगी , लेकिन हालात नहीं है देश के बधाई देने वाले | सोना ,चांदी,हीरे ,मोती,पीतल ,ताम्बा,लोहा,कांच को तो छोड़ो , बाज़ार दाल सब्जी और फल लेने जाना पड़े तो " नानी याद आ जाती है" | इन अफसरों , मंत्रियों और बाबुओं की तनख्वाह इतनी है की इन्हें तो १००/- रूपये कुछ भी नहीं लगते | मध्यम निम्न दर्जे का आदमी जाए तो कंहा जाए | न तो वो बी.पी.एल. बन सकता और न वो अमीर बन सकता | दो पाटन में पिसना ही उसकी किस्मत है | नेता लोग इंग्लिश में आंकड़े सुनाकर जनता को बरगला रहे हैं | पत्रकार बहस कराके अपना पल्ला झाड रहे हैं | विपक्ष शोर मचा रहा है |  सोनिया जी राम जाने कैसी बीमारी से जूझ रही हैं,वो परिवार सहित विदेश चली गयी हैं | भगवान उन्हें जल्दी ठीक करे ,  वैसे " डर " भी एक बीमारी होती है | मंत्री अकड़े पड़े हैं | ऐसे में मुझे भी ये डर सता रहा है कि कंही हमारा देश फिरसे गुलाम न हो जाए ? क्योंकि सरकार की नीतियाँ ही ऐसी हैं | बाबू काबू में नहीं | मुझे तो एक …

" KISKI DAADHEE ----------- KISKE HAATH ".........? ? ? ? ? ? ? ? ? ?

Image
दाढ़ी वाले दोस्तों  , साफ़ सुथरा नमस्कार !!संसद मैं कांग्रेस के प्रवक्ता और सांसद मनीष तिवाड़ी ने सभी सांसदों से हाथ जोड़ कर अपील करी कि " कृपया आप अपनी दाढ़ी कोर्ट के हाथ में मत जाने दें | नहीं तो अनर्थ हो जायेगा " ?????? ग्यानी लोग इसका अलग - अलग मतलब निकाल रहे हैं | सभी ने देखा की वो साथ मैं हाथ भी जोड़ रहे थे | ऐसा करते वक्त वो विपक्ष की तरफ बड़ी "आशा भरी " नज़रों से देख रहे थे | मुझे जो लगा वो ये कि वो ये  कहना चाहते थे कि बईमानी तो हम भी कर रहे हैं और मौका मिलने पर आप भी नहीं चूकोगे , तो एक हो जाओ नहीं तो ये "जज" लोग , और ये कमेटियों वाले हमें जीने नहीं देंगे | इस तरह के प्रयास  की जितनी निंदा की जाए , उतनी कम है .क्योंकि ये शरेआम भ्रष्टाचार का नंगा नाच है | मैं तो कहता हूँ कि " लोकतंत्र की यही सबसे बड़ी खूबी है कि यंहा एक की दाढ़ी - दुसरे के हाथ में है " |" विधायिका " की "न्यायपालिका" के हाथ में ," न्यायपालिका " की " राष्ट्रपति " के हाथ में , " राष्ट्रपति " की फिर "प्रधानमंत्री "…

" D A D A - K I - S A Z A - P O T E - K O - - - " AARAKSHANN "..? ? ? ?

Image
" आरक्षण का प्रसाद पाए , या मार खाए दोस्तों " !!नमस्कार !!! इस देश दुनिया में बहुत से मानवाधिकार आयोग बने हुए हैं , और न जा ने कितनी एन.जी.ओ. संस्थाएं हैं जो ये दावा करती हैं की वो मानव जाति के मूल अधिकारों हेतु लड़ रही हैं | लेकिन फिर भी देश - दुनिया में अन्याय होता ही जा रहा है | जिसमे से एक है " आरक्षण " | १९४७ में जब देश आज़ाद हुआ तब ये महसूस किया गया कि भूतकाल में छोटे " काम " करने वाली कई जातियां इस वजह से पिछड़  गयी हैं | इसलिए इन्हें कुछ समय हेतु "आरक्षण " दिया जाए , ताकि ये बड़ी जातियों के बराबर आ सकें | लेकिन वो " कुछ देर " आज तक ख़तम नहीं हुई |क्योंकि बीच में " राजनीती " जो आ गयी | नतीजा ये हुआ कि " जो पाप दादा - पड़दादा  ने किया या नहीं किया पता नहीं " लेकिन उस कि सजा उसके " पोतों - पड़पोतो " को दी जा रही है | न कोई न्यायालय बोल रहा है , और नाही कोई " मानवाधिकार आयोग " | सारे एन.जी .ओ. भी चुप है , और " साले "सारी , सारे नेता तो वोट बैंक बना रहे हैं | कोई क़त्ल भी कर देता है …

" kya manmohan sarkaar ne " vipaksh ko black - mail " kiya hai ...? ? ?

Image
नमस्कार दोस्तों ! संसद के मान सून सत्र से पहले पी.एम्. ने एक ब्यान दिया कि " विपक्ष के भेद भी खोले जायेंगे " जिसे सुन कर सभी हैरान हो गए कि इसका क्या मतलब है ? सब ने यही सोचा कि चलो पी. एम्.ने सदन में विपक्ष कंही ज्यादा हल्ला न मचाये इसलिए बोल दिया होगा ?लेकिन बाद में जब बी.जे.पी. ने समझोता किया और लालू , मुलायम,मायावती,जैसी अन्य सारी पार्टियां चुप्पी साध गयीं , और कामरेडों ने वाकाउट किया उससे जनता में ये शक घर कर गया है कि अबकी बार संसद में सांसदों को समर्थन के लिए पैसा नहीं दिया गया है बल्कि पार्टियों को " ब्लैकमेल "किया गया है ?" खोजी पत्रकारों " को  इस विषय पर काम शुरू कर देना चाहिए | क्योंकि जिस प्रकार से विशेषकर कांग्रेसी सांसदों कि भाषा बदली हुई है ,वो भी ध्यान देने योग्य है | वो कह रहे हैं हम चुन कर आये हैं इसलिए हम जो कानून बनायें वो ही सही है ,जनता कि तरफ से नातो कोई समाज सेवी बोले और नाही कोई पत्रकार बोले | आप को बिल बनाना है तो पहले चुनाव जीत कर आइये | आज स्थिति ये हो गयी है कि लगभग सभी पार्टियों के ज्यादातर नेता "ढीठ ", " चोर &…

" RISHTEDARIYAAN ---- MIDEA ----- KI ------ KAISI ------ KAISI-----???????"

Image
रिश्तेदार बनने वाले दोस्तों ! नमस्कार ! दोस्त और रिश्तेदार बनने तथा दोस्ती और रिश्तेदारी निभाना कोई गलत कार्य नहीं है |लेकिन अगर चोर - पोलिस आपस में दोस्त या रिश्तेदार बन जाए  तो अचम्भा होता है ? जब से यह  देश आज़ाद हुआ है तभी से इसे कमज़ोर करने हेतु सभी तरीकों से  वार देश के दुश्मनों द्वारा  किये जा रहे हैं |विदेशी ताकतों ( मुस्लिम,इसाई व अन्य संगठन और विदेशी दुश्मन सरकारें ) ने भारत के हर क्षेत्र में इतनी गहरी पैठ बना ली है कि पता ही नहीं चलता कि किस रूप में दुश्मन हम पर वार कर जाए ? "वार" होने के बाद हम ढूंढते हैं कि दुश्मन किस भेष में बैठा था | वो मिल जाता है तो लाखों उसकी रक्षा करने,केस लड़ने,और इलाज करने में लग जाता है | हमारी सुरक्षा एजेंसियां पता नहीं कंहाँ सो रही हैं ? पकिस्तान को गलत लिस्ट दे देती है उग्रवादियों कि ,जिस से किरकिरी हो जाती है देश की | देश की पढ़ी - लिखी जनता देश के हालात " मिडिया  " से ही जान पाती है | हम सब यही समझते थे कि "मिडिया " सब कुछ सही बताता है | जब कि ऐसा है नहीं | पिछले कुछ वर्षों से ये देखने में आ रहा है कि "मिडि…