Friday, February 28, 2014

" लालू हो गए लाल , बोले अब होगा लठबन्धन " ये तो होना ही था - पीताम्बर दत्त शर्मा ( विश्लेषक )

मित्रो होशियारी चालाकी कमीनगी थोड़ी देर ही चलती है जीवन में , धीरे-धीरे सबको पता चल जाता है कि ये आदमी विश्वसनीय नहीं है ! जो लोग कुछ समय तलक उसे बर्दाश्त कर रहे होते हैं दरअसल में वो लोग उसका प्रयोग करके कोई अपना ही हित साध रहे होते हैं !! और फिर  जैसे ही सामने वाले का हित सधता है, वो उस चालाक  कमीने और बेईमान आदमी को अपने घर से लात मार कर बाहर का रास्ता दिखा देता है !!
               " सेकुलर " नाम का झुनझुना कोंग्रेस ने 1975 के बाद बनाया और आज तलाक उसे खूब बजाया , और भरपूर फायदा उठाकर वो सत्ता में रही और मलायी खायी !! इसके लिए उसने कई छुटके नेताओं का प्रयोग किया ,जिनमे कॉमरेड , समाजवादी और अन्य छोटे-मोटे नेता थे ! आज जब उसे लगा कि अब ये नारा और ये छुटके नेता अपना महत्त्व खोते जा रहे हैं तो उसने इन सबको ऐसे निकाल बाहर किया जैसे कोई " दूध में से मख्खी बाहर निकालकर" अपनी अंगुली झटकता है !!
                  अब मायावती , पासवान , ममता , अजित सिंह , मुलायम जयललिता जैसे नेता अंदर से बड़े गुस्से में हैं तभी तो कोई अन्ना जी का विज्ञापन बनवा रहा है  तो कोई तीसरा मोर्चा बना रहा है !! कई छूट भैये  नेता " आप " पार्टी में घुसकर अपने आपको दमदार बताने में लगे हुए हैं ! और सोच रहे हैं कि जनता एक बार फिर क्या पता बेवकूफ बन जाए !!!!???


                 लेकिन ऐसा होता दिखायी नहीं देता इसी लिए लालू जी ने नए गठबंधन की बात करी है , जिसका नाम उन्होंने रख्खा है " लठ्ठबंधन " !! क्या अब जनता को ये सब लठ्ठों से पीटेंगे ?? उस से पहले जनता इनका भुर्ता बना देगी मोदी जी को जीता कर दीख लेना आप !! मैं तो यही कहूंगा मित्रो कि _ - - -
                   " धर्म की जय हो !! अधर्म का नाश हो !! विश्व का कल्याण हो !! प्राणियों में सद्भावना हो !! हर - हर - हर महादेव !!! 
                       
आपका क्या कहना है साथियो !! अपने विचारों से तो हमें भी अवगत करवाओ !! ज़रा खुलकर बताने का कष्ट करें !! नए बने मित्रों का हार्दिक स्वागत-अभिनन्दन स्वीकार करें !

जिन मित्रों का आज जन्मदिन है उनको हार्दिक शुभकामनाएं और बधाइयाँ !!"इन्टरनेट सोशियल मीडिया ब्लॉग प्रेस "
" फिफ्थ पिल्लर - कारप्शन किल्लर "
की तरफ से आप सब पाठक मित्रों को आज के दिन की
हार्दिक बधाई और ढेर सारी शुभकामनाएं
ये दिन आप सब के लिए भरपूर सफलताओं के अवसर लेकर आये , आपका जीवन सभी प्रकार की खुशियों से महक जाए " !!
जो अभी तलक मेरे मित्र नहीं बन पाये हैं , कृपया वो जल्दी से अपनी फ्रेंड-रिक्वेस्ट भेजें , क्योंकि मेरी आई डी तो ब्लाक रहती है ! आप सबका मेरे ब्लॉग "5th pillar corruption killer " व इसी नाम से चल रहे पेज , गूगल+ और मेरी फेसबुक वाल पर हार्दिक स्वागत है !!
आप सब जो मेरे और मेरे मित्रों द्वारा , सम - सामयिक विषयों पर लिखे लेख , टिप्प्णियों ,कार्टूनो और आकर्षक , ज्ञानवर्धक व लुभावने समाचार पढ़ते हो , उन पर अपने अनमोल कॉमेंट्स और लाईक देते हो या मेरी पोस्ट को अपने मित्रों संग बांटने हेतु उसे शेयर करते हो , उसका मैं आप सबका बहुत आभारी हूँ !
आशा है आपका प्यार मुझे इसी तरह से मिलता रहेगा !!आपका क्या कहना है मित्रो ??अपने विचार अवश्य हमारे ब्लॉग पर लिखियेगा !!
सधन्यवाद !!

प्रिय मित्रो , आपका हार्दिक स्वागत है हमारे ब्लॉग पर " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " the blog . read, share and comment on it daily plz. the link is -www.pitamberduttsharma.blogspot.com., गूगल+,पेज़ और ग्रुप पर भी !!ज्यादा से ज्यादा संख्या में आप हमारे मित्र बने अपनी फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज कर !! आपके जीवन में ढेर सारी खुशियाँ आयें इसी मनोकामना के साथ !! हमेशां जागरूक बने रहें !! बस आपका सहयोग इसी तरह बना रहे !! मेरा इ मेल ये है : - pitamberdutt.sharma@gmail.com. मेरे ब्लॉग और फेसबुक के लिंक ये हैं :-www.facebook.com/pitamberdutt.sharma.7
www.pitamberduttsharma.blogspot.com
मेरे ब्लॉग का नाम ये है :- " फिफ्थ पिलर-कोरप्शन किल्लर " !!
मेरा मोबाईल नंबर ये है :- 09414657511. 01509-222768. धन्यवाद !!
आपका प्रिय मित्र ,
पीताम्बर दत्त शर्मा,
हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार,
R.C.P. रोड, सूरतगढ़ !
जिला-श्री गंगानगर।
" आकर्षक - समाचार ,लुभावने समाचार " आप भी पढ़िए और मित्रों को भी पढ़ाइये .....!!!
BY :- " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " THE BLOG . READ,SHARE AND GIVE YOUR VELUABEL COMMENTS DAILY . !!
Posted by PD SHARMA, 09414657511 (EX. . VICE PRESIDENT OF B. J. P. CHUNAV VISHLESHAN and SANKHYKI PRKOSHTH (RAJASTHAN )SOCIAL WORKER,Distt. Organiser of PUNJABI WELFARE SOCIETY,Suratgarh (RAJ.)

" सरकार अगर अकेली भाजपा की बनेगी तो कुछ भला हो सकता है अन्यथा गठबंधन बना तो फिर गुड-गोबर हो जाएगा " !! - पीताम्बर दत्त शर्मा ( विश्लेषक )

हमारे परम मित्र श्री पुण्य प्रसुन वाजपेयी जी भी यही कह रहे हैं , आप भी पढ़िए उनका ये लेख जो हैम साभार आपके लिए पेश कर रहे हैं !!
                     

                                         मोदी के तीन इक्के हर दाग धो देंगे !

रामविलास पासवान। रामदास आठवले और उदितराज। मोदी के लिये अब यही वह तिकड़ी है जो देश भर में बीजेपी के मंच पर खडे होकर दलित वोट बैंक में सेंध लगायेगी। संघ परिवार के लिये भी अपने राजनीतिक स्वयंसेवक को पीएम पद पर पहुंचाने के लिये यह अपने तरीके की पहली राजनीतिक बिसात होगी जब हिदुत्व की प्रयोगशाला के लिये जाने जाने वाले नरेन्द्र मोदी और आरएसएस की विचारधारा में दलित वोट बैंक साधने की राजनीति बीजेपी के मंच से होगी। दरअसल, बीजेपी को इसकी जरुर क्यों पड़ी या मोदी के पीएम बनने के रास्ते में दलित कार्ड कैसे सीढ़ी का काम कर सकता है। इसके लिये बीजेपी को लेकर देश के मौजूदा हालात और दलित वोट बैंक को लेकर बीजेपी की कुलबुलाहट को को समझना जरुरी है। अभी तक बीजेपी को धर्म के आधार पर वोट बैंक बांटने वाला माना गया। जो यह मिथ इस तिकड़ी के आसरे तोड़ा जा सकता है। बीजेपी को मुस्लिम वोट बैंक के सामानांतर दलित वोट बैंक चाहिये। क्योंकि देश के कुल वोटों का 17 फीसदी दलित समाज से जुड़ा है। दलित वोटरों के 50 फीसदी वोट क्षेत्रीय दलों के खाते में चले जाते हैं। और बीजेपी के खाते में दलित वोटरों के 12 फीसदी वोट आते हैं। जो बीजेपी को मिलने वाले कुल वोट का महज 2 फीसदी हैं। तो बीजेपी का दलित नेताओ की तिकड़ी से पहला टारगेट तो यही है कि 2 फिसदी से बढ़कर दलित समाज का वोट प्रतिशत 7-8 फीसदी तक बढ़ जाये। अगर ऐसा होता है तो मतलब साफ है कि संघ के हिन्दुत्व राष्ट्रीयता के सामानांतर दलितों की मौजूदगी बीजेपी को नयी मान्यता दे सकती है। और इसके लिये इस तिकडी का चुनाव प्रचार में इस्तेमाल बिहार, यूपी और महाराष्ट्र के अलावा झारखंड, मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ में भी होगा। इन दौरों में बीजेपी पासवान को दलितों के बड़े नेता के तौर पर। तो उदितराज को पूर्व नौकरशाह और आठवले को दर्जन भर दल में बंटी आरपीआई का सबसे बडे नेता के तौर पर बताया जायेगा। दरअसल इस तिकडी के आसरे नरेन्द्र मोदी की निजी सियासत को भी लाभ होगा। क्योंकि मोदी गुजरात दंगों के दायरे से बाहर खडे है यह पासवान ने बताया। मोदी हिदुत्व प्रयोगशाला के कठघरे से बाहर है यह उदितराज का मैसेज है। और आठवले आंबेडकर की उस लकीर को मिटायेंगे, जिसके आसरे दलित का सवाल हिदुत्व राष्ट्रीयता से इतर माना गया।
जाहिर है यह सारी परिस्थितियां मोदी की अगुवाई में बीजेपी के साथ ना खड़े होने पाने वाले दलो के लिये खड़े होने का रास्ता बनायेगी। लेकिन बाकी दलों के सामने मुश्किल क्या है और वह कौन सी परिस्थितियां हो सकती है, जब नरेन्द्र मोदी की बिसात भी अटल बिहारी वाजपेयी के दौर वाले गठबंधन के समूह की तरह दिखे। तो सात क्षत्रप और सात राज्य तो सीधे ऐसे हैं, जहां कांग्रेस और बीजेपी आनमे सामने नहीं है। या कहें बीजेपी की हैसियत जिन सात राज्यों में है ही नहीं तो बीजेपी हर हाल में इन सात राज्यों को टटोलेगी ।

तो यूपी, बिहार,सीमांध्र, तेलगाना,तमिलनाडु, बंगाल, उड़ीसा की कुल 263 सीटें हैं, जहां बीजेपी और कांग्रेस आमने सामने नहीं है। यानी इन राज्यों के क्षत्रपों के सामने कांग्रेस और बीजेपी दोनो कमजोर हैं। तो चुनावी मैदान में टकराने के सामानांतर चुनावी रणनीति का गणित साधना भी दोनो के लिये जरुरी है। और पहली बाजी मोदी ने मारी है। यूपी की 80 सीटों पर दलित चेहरे के जरीये सेंध लगाने का पहला प्रयास अगर उदितराज के जरीये हुआ तो भविष्य के संकेत मायावती के लिये भी बीजेपी ने खुले रखे हैं। क्योंकि मायावती की टक्कर यूपी में मुलायम से है और मौलाना मुलायम जिस छवि के आसरे सियासत कर रहे हैं, उसमें मायावती चुनाव के बाद कौन सी चाल चलेगी इसका इंतजार तो करना ही पड़ेगा। वहीं, बिहार में मोदी को पासवान का साथ मिल चुका है। सीमांध्र में जगन रेड्डी जिस तरह कांग्रेस से खार खाये बैठे हैं और आंध्र बंटवारे के बाद अपनी सीमटी राजनीति का ठीकरा कांग्रेस की पहल को अलोकतांत्रिक बता कर फोड़ रहे हैं, उसने भविष्य में जगन रेड्डी के मोदी के साथ जाने के संकेत मिल रहे हैं। बीते दिनों राजनाथ से खुली मुलाकात ने भी इस यारी की पुष्टी की थी। जबकि तेलंगाना में खिलाड़ी के तौर पर चन्द्रबाबू को जगन की तरह घाटा तो नहीं हुआ है लेकिन चन्द्रबाबू सिमटे जरुर हैं। मगर चन्द्र बाबू खुले संकेत दे चुके हैं कि गठबंधन के लिये उनके कदम बीजेपी की तरफ ही बढेंगें। तो मोदी को लाभ यहां भी मिलेगा। तमिलनाडु में जयललिता की टक्कर करुणानिधी से ही होनी है। और कांग्रेस या बीजेपी उनके लिये कोई चुनौती नहीं है। तो तीसरा मोर्चा जेसे ही फेल होता है या फिर मोदी को जरुरत अगर जयललिता की पड़ेगी तो जयललिता से मोदी की निकटता रंग दिखा सकती है यानी तमिलनाडु की 39 सीटो में से सबसे ज्यादा जीत के बावजूद जयललिता मोदी के साथ खड़े होने में कतरायेंगी नहीं। बंगाल में तृणमूल काग्रेस और वामंपथी आमने सामने हैं। कांग्रेस और बीजेपी हाशिये पर हैं।

मुस्लिम वोट बैंक खासा बड़ा है तो चुनाव से पहले ममता किसी का साथ जा नहीं सकती लेकिन चुनाव के बाद अगर ममता की राजनीतिक हैसियत बड़ी होती है तो बंगाल के लिये विशेष पैकेज से लेकर तमाम लाभ के लिये मोदी के साथ जाने में ममता को कोई परेशानी होगी नहीं। वही उड़ीसा में नवीन पटनायक के सामने कांग्रेस खड़ी है और चुनाव के बाद अगर राज्य के विकास के लिये केंद्र से मदद का सवाल उठता है और उसकी एवज में नवीन पटनायक को मोदी के साथ जाना पड़े तो तो इस गठबंधन से भी कोई इंकार नहीं कर सकेगा। जबकि गठबंधन के इस सियासत में राहुल गांधी की हथेली खाली है। यूपी में किसी के साथ जा नहीं सकते। बिहार में लालू यादव के अलावे नीतीश कुमार हैं जरुर लेकिन गठबंधन का साथ मोदी के असर को कितना बेअसर कर पायेगा। यह दूर की गोटी है। ध्यान दें तो जगन रेड्डी,चन्द्रबाबू नायडू, जयललिता-करुणानिधी, ममता, प्रकाश करात,नवीन पटनायक,मुलायम ,मायावती में से कोई चेहरा ऐसा नहीं है जो राहुल गांधी के साथ गठबंधन करे। कांग्रेस के लिये एकमात्र चेहरा चन्द्रशेखर राव या टीआरएस का है। जो तेलंगाना में कांग्रेस के साथ खड़ा हो सकता है । तो सवाल यही है कि 263 सीट जहां कांग्रेस और बीजेपी को सीधे नही टकराना है, वहां मोदी गठबंधन का राग छेड़ चुके हैं। जो उनके 272 के मिशन के फेल होने के बावजूद मोदी का नाम लेकर पीएम के पद तक पहुंचा सकता है। तो पासवान के जिस तेजी से सियासी चाल चली और उससे कही ज्यादा तेजी बीजेपी ने दिकायी वैसे ही यह तय हो गया कि अब सवाल 2014 की बिसात पर प्यादे और वजीर बनकर खड़े पासवान और मोदी कही आगे देख रहे हैं। और दोनों की जरुरत सिर्फ सीट के बंटवारे तक ही नहीं रुकेगी। क्योंकि माना यह भी जा रहा है कि पासवान की दोस्ती तीसरे मोर्चे के तहत आने वाले लगभग सभी दलों से है। ऐसे में चुनाव के बाद अगर बीजेपी को सरकार बनाने के लिए 30-40 सीटों की जरुरत होगी तो पासवान अच्छे मध्यस्थ की भूमिका निभाते हुए पार्टियों को एनडीए के पाले में ला सकते हैं। यानी वाजपेयी सरकार के दौर में जो भूमिका एनडीए के पूर्व साथी जेडीयूए के शरद यादव ने निभायी थी उसी भूमिका में मोदी के काल में पासवान निभायेंगे। याद कीजिये तो शरद यादव एनडीए के संयोजक थे। अब यही भूमिका पासवान निभा सकते हैं। यानी दृश्य बदल रहा है। प्यादे बदल रहे है। वजीर के चेहरे भी बदल रहे है। लेकिन चाल वहीं पुरानी है। और भ्रष्टाचार या ईमानदारी की राजनीति इस सियासी गठबंधन में ताक पर है।


                                     आपका क्या कहना है साथियो !! अपने विचारों से तो हमें भी अवगत करवाओ !! ज़रा खुलकर बताने का कष्ट करें !! नए बने मित्रों का हार्दिक स्वागत-अभिनन्दन स्वीकार करें !

जिन मित्रों का आज जन्मदिन है उनको हार्दिक शुभकामनाएं और बधाइयाँ !!"इन्टरनेट सोशियल मीडिया ब्लॉग प्रेस "
" फिफ्थ पिल्लर - कारप्शन किल्लर "
की तरफ से आप सब पाठक मित्रों को आज के दिन की
हार्दिक बधाई और ढेर सारी शुभकामनाएं
ये दिन आप सब के लिए भरपूर सफलताओं के अवसर लेकर आये , आपका जीवन सभी प्रकार की खुशियों से महक जाए " !!
जो अभी तलक मेरे मित्र नहीं बन पाये हैं , कृपया वो जल्दी से अपनी फ्रेंड-रिक्वेस्ट भेजें , क्योंकि मेरी आई डी तो ब्लाक रहती है ! आप सबका मेरे ब्लॉग "5th pillar corruption killer " व इसी नाम से चल रहे पेज , गूगल+ और मेरी फेसबुक वाल पर हार्दिक स्वागत है !!
आप सब जो मेरे और मेरे मित्रों द्वारा , सम - सामयिक विषयों पर लिखे लेख , टिप्प्णियों ,कार्टूनो और आकर्षक , ज्ञानवर्धक व लुभावने समाचार पढ़ते हो , उन पर अपने अनमोल कॉमेंट्स और लाईक देते हो या मेरी पोस्ट को अपने मित्रों संग बांटने हेतु उसे शेयर करते हो , उसका मैं आप सबका बहुत आभारी हूँ !
आशा है आपका प्यार मुझे इसी तरह से मिलता रहेगा !!आपका क्या कहना है मित्रो ??अपने विचार अवश्य हमारे ब्लॉग पर लिखियेगा !!
सधन्यवाद !!

प्रिय मित्रो , आपका हार्दिक स्वागत है हमारे ब्लॉग पर " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " the blog . read, share and comment on it daily plz. the link is -www.pitamberduttsharma.blogspot.com., गूगल+,पेज़ और ग्रुप पर भी !!ज्यादा से ज्यादा संख्या में आप हमारे मित्र बने अपनी फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज कर !! आपके जीवन में ढेर सारी खुशियाँ आयें इसी मनोकामना के साथ !! हमेशां जागरूक बने रहें !! बस आपका सहयोग इसी तरह बना रहे !! मेरा इ मेल ये है : - pitamberdutt.sharma@gmail.com. मेरे ब्लॉग और फेसबुक के लिंक ये हैं :-www.facebook.com/pitamberdutt.sharma.7
www.pitamberduttsharma.blogspot.com
मेरे ब्लॉग का नाम ये है :- " फिफ्थ पिलर-कोरप्शन किल्लर " !!
मेरा मोबाईल नंबर ये है :- 09414657511. 01509-222768. धन्यवाद !!
आपका प्रिय मित्र ,
पीताम्बर दत्त शर्मा,
हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार,
R.C.P. रोड, सूरतगढ़ !
जिला-श्री गंगानगर।
" आकर्षक - समाचार ,लुभावने समाचार " आप भी पढ़िए और मित्रों को भी पढ़ाइये .....!!!
BY :- " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " THE BLOG . READ,SHARE AND GIVE YOUR VELUABEL COMMENTS DAILY . !!
Posted by PD SHARMA, 09414657511 (EX. . VICE PRESIDENT OF B. J. P. CHUNAV VISHLESHAN and SANKHYKI PRKOSHTH (RAJASTHAN )SOCIAL WORKER,Distt. Organiser of PUNJABI WELFARE SOCIETY,Suratgarh (RAJ.)

" थाली के बेंगन " लुढ़कने को तैयार हैं , बस टिकेट और मंत्री की कुर्सी देदो !! - पीताम्बर दत्त शर्मा ( विश्लेषक )

             मित्रो देश में लोकसभा चुनाव जैसे-जैसे नज़दीक आते जा रहे हैं, वैसे-वैसे वो लोग बेचेनी महसूस कर रहे हैं !अपनी-अपनी पार्टियों में जिनको पिछले पांच वर्षो से उनकी पार्टी ने उन्हें कोई महत्त्व नहीं दिया !! इसलिए वो लोग अपने और अपने       " बच्चों " के उज्जवल भविष्य हेतु किसी ऐसी जगह पर जाना चाहते हैं जहां अच्छे से " गुज़र-बसर " हो सके !!
                      ज्यादातर ये वाले " बैंगन " उधर ही जाते हैं जिधर सत्ता रुपी शहद का पतीला ज्यादा भरता हुआ दिखायी दे रहा हो !! इनकी दृष्टि बड़ी " पारखी " होती है !! कई तो ऐसे भी होते हैं जो अपनी ही नयी दूकान खोल कर बैठ जाते हैं और कई " नंग " मिलकर अपनी " सर्कस " ही बना लेते हैं !! कौन फायदे में रहा कौन घाटे में , ये तो नतीजे आने के बाद ही पता चलता है !!


                     ये लोग जनता को यही कहते हैं कि हमने ये काम ( जो किसी" शहादत " से कम नहीं बताया जाता ) देशहित , समाजहित और जातिहित हेतु किया है ! और फिर शुरू होते हैं पत्रकार भाई , कोई उसे जायज़ ठहरने में लग जाता है तो कोई उसे अधर्म बताता है ! बड़े-बड़े " वास्ते " दिए जाते हैं किसी को मूर्ख और किसी को समझदार बताकर ही इतिश्री कर लेते हैं ! पत्रकारों को भी इतना टाइम कंहाँ  होता है कि वो विस्तार से एक मुद्दे पर चर्चा करें !! उनको भी किसी और नए मुद्दे की तलाश रहती है !! चॅनेल की टी. आर. पी. का जो सवाल होता है !! ?
                 भाजपा आजकल बड़ी प्रसन्न नज़र आ रही है क्योंकि उनके साथ कईलोग तैयार बैठे हैं जुड़ने को !! श्री उदित राज , श्री अठवाल जी और श्री पासवान जी तो एन. डी. ए .में शामिल हो ही चुके हैं और कई महापुरुष भी इसी फिराक में हैं जैसे चार सांसद जेडीयू के और पांच सांसद कोंग्रेस के !! बस शुभ मुहूर्त देखा जा रहा है !!
                 क्या पिछला इतिहास फिर दोहराया जाएगा ??? क्या अटल जी की मजबूरियाँ भूल गयी भाजपा मैं ये सवाल उठाना चाहता हूँ मित्रो !! क्या इसबार फिर भाजपा अपने विशेष मुद्दे त्याग देगी ?? या इन नेताओं को बता दिया गया है हम राम मंदिर बनाएंगे तो आप नहीं बोलोगे विरोध में !! हम धरा 370 हटाएंगे तो आप गठबंधन नहीं तोड़ोगे !! हम भारत में एक जैसा क़ानून लागू करेंगे तो आप हमारा समर्थन करोगे !! ये दोनों पक्षों को पहले ही जनता को बताना चाहिए !! अन्यथा जनता का जो मोदी जी के प्रति ये विशवास जग रहा है वो सरकार बनने के चन्द महीनों के बाद सप्त हो जाएगा और फिर कोई " टॉनिक " भाजपा को भारत की राजनीति में ऊपर नहीं ला पायेगा !! समाप्त हो जाएगी भाजपा और एनडीए !! फिर कोई नया ही कोई क्रांतिकारी जनम लेगा और भारत में राम-राज्य लाएगा !!
                      भाजपा के कर्णधारों को बहुत ही सोच समझ कर कदम उठाने होंगे !! कोशिश उसे केवल अपने दम पर ही 272 +सीटें संसद में जीतनी होंगी !! अन्यथा कोंग्रेस फिर से  एनडीए गठबंधन को तोड़ने में सफल हो जायेगी !! खुद खैर करे !! आमीन !!
                          
आपका क्या कहना है साथियो !! अपने विचारों से तो हमें भी अवगत करवाओ !! ज़रा खुलकर बताने का कष्ट करें !! नए बने मित्रों का हार्दिक स्वागत-अभिनन्दन स्वीकार करें !

जिन मित्रों का आज जन्मदिन है उनको हार्दिक शुभकामनाएं और बधाइयाँ !!"इन्टरनेट सोशियल मीडिया ब्लॉग प्रेस "
" फिफ्थ पिल्लर - कारप्शन किल्लर "
की तरफ से आप सब पाठक मित्रों को आज के दिन की
हार्दिक बधाई और ढेर सारी शुभकामनाएं
ये दिन आप सब के लिए भरपूर सफलताओं के अवसर लेकर आये , आपका जीवन सभी प्रकार की खुशियों से महक जाए " !!
जो अभी तलक मेरे मित्र नहीं बन पाये हैं , कृपया वो जल्दी से अपनी फ्रेंड-रिक्वेस्ट भेजें , क्योंकि मेरी आई डी तो ब्लाक रहती है ! आप सबका मेरे ब्लॉग "5th pillar corruption killer " व इसी नाम से चल रहे पेज , गूगल+ और मेरी फेसबुक वाल पर हार्दिक स्वागत है !!
आप सब जो मेरे और मेरे मित्रों द्वारा , सम - सामयिक विषयों पर लिखे लेख , टिप्प्णियों ,कार्टूनो और आकर्षक , ज्ञानवर्धक व लुभावने समाचार पढ़ते हो , उन पर अपने अनमोल कॉमेंट्स और लाईक देते हो या मेरी पोस्ट को अपने मित्रों संग बांटने हेतु उसे शेयर करते हो , उसका मैं आप सबका बहुत आभारी हूँ !
आशा है आपका प्यार मुझे इसी तरह से मिलता रहेगा !!आपका क्या कहना है मित्रो ??अपने विचार अवश्य हमारे ब्लॉग पर लिखियेगा !!
सधन्यवाद !!

प्रिय मित्रो , आपका हार्दिक स्वागत है हमारे ब्लॉग पर " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " the blog . read, share and comment on it daily plz. the link is -www.pitamberduttsharma.blogspot.com., गूगल+,पेज़ और ग्रुप पर भी !!ज्यादा से ज्यादा संख्या में आप हमारे मित्र बने अपनी फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज कर !! आपके जीवन में ढेर सारी खुशियाँ आयें इसी मनोकामना के साथ !! हमेशां जागरूक बने रहें !! बस आपका सहयोग इसी तरह बना रहे !! मेरा इ मेल ये है : - pitamberdutt.sharma@gmail.com. मेरे ब्लॉग और फेसबुक के लिंक ये हैं :-www.facebook.com/pitamberdutt.sharma.7
www.pitamberduttsharma.blogspot.com
मेरे ब्लॉग का नाम ये है :- " फिफ्थ पिलर-कोरप्शन किल्लर " !!
मेरा मोबाईल नंबर ये है :- 09414657511. 01509-222768. धन्यवाद !!
आपका प्रिय मित्र ,
पीताम्बर दत्त शर्मा,
हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार,
R.C.P. रोड, सूरतगढ़ !
जिला-श्री गंगानगर।
" आकर्षक - समाचार ,लुभावने समाचार " आप भी पढ़िए और मित्रों को भी पढ़ाइये .....!!!
BY :- " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " THE BLOG . READ,SHARE AND GIVE YOUR VELUABEL COMMENTS DAILY . !!
Posted by PD SHARMA, 09414657511 (EX. . VICE PRESIDENT OF B. J. P. CHUNAV VISHLESHAN and SANKHYKI PRKOSHTH (RAJASTHAN )SOCIAL WORKER,Distt. Organiser of PUNJABI WELFARE SOCIETY,Suratgarh (RAJ.)

Wednesday, February 26, 2014

"अधर्म की बारिश इस कदर है चारों ओर, तुमको गोवर्धन उठाना ही होगा महाभारत युद्ध से भी बदतर हैं हालात, कान्हा तुमको आना ही होगा " -

- पीताम्बर दत्त शर्मा (विश्लेषक )

पांडव भी अब कौरव हो गए भूलकर आपसी द्वेष
सत्य की बातें तुम ही जानो, यहाँ झूठ रह गया शेष
पांडवों को उनका कर्तव्य, दुनिया को सच का महत्त्व समझाना ही होगा
महाभारत युद्ध से भी बदतर हैं हालात, कान्हा तुमको आना ही होगा

गरीबी कालिया नाग की तरह फन फैलाए खड़ी है
भ्रष्टाचारी रुपी कंश की समस्या उससे भी बड़ी है
कंश का वध करके, अन्नपूर्णा का साम्राज्य देश में लाना ही होगा
महाभारत युद्ध से भी बदतर हैं हालात, कान्हा तुमको आना ही होगा

हर तरफ द्रोपदी का चीर खींचा जा रहा है, और
दुशासनो के झूठ और मक्कारी को सींचा जा रहा है
झूठ, मक्कारी को मिटाकर, दुशासनो को जड़ से मिटाना ही होगा
महाभारत युद्ध से भी बदतर हैं हालात, कान्हा तुमको आना ही होगा..
Photo: अधर्म की बारिश इस कदर है चारों ओर, तुमको गोवर्धन उठाना ही होगा
महाभारत युद्ध से भी बदतर हैं हालात, कान्हा तुमको आना ही होगा

पांडव भी अब कौरव हो गए भूलकर आपसी द्वेष
सत्य की बातें तुम ही जानो, यहाँ झूठ रह गया शेष
पांडवों को उनका कर्तव्य, दुनिया को सच का महत्त्व समझाना ही होगा
महाभारत युद्ध से भी बदतर हैं हालात, कान्हा तुमको आना ही होगा

गरीबी कालिया नाग की तरह फन फैलाए खड़ी है
भ्रष्टाचारी रुपी कंश की समस्या उससे भी बड़ी है
कंश का वध करके, अन्नपूर्णा का साम्राज्य देश में लाना ही होगा
महाभारत युद्ध से भी बदतर हैं हालात, कान्हा तुमको आना ही होगा

हर तरफ द्रोपदी का चीर खींचा जा रहा है, और
दुशासनो के झूठ और मक्कारी को सींचा जा रहा है
झूठ, मक्कारी को मिटाकर, दुशासनो को जड़ से मिटाना ही होगा
महाभारत युद्ध से भी बदतर हैं हालात, कान्हा तुमको आना ही होगा... [ सोमेश खरे ]

                                                    कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक देश की हालत एक है ...सभी जगह भ्रष्ट लोग (अफसर और नेता) ...ईमानदार पर हावी है ...
इन भ्रष्ट लोगो की बात चीत और काम करने के तरीके से ...तनिक भी अहसास नहीं होता की ....हमारे देश में लोकतंत्र है ...कानून का राज है ....
हमारे देश में दो तरह के Executive है
एक Selected Executives (IAS) दूसरे Elected Executives (नेता मंत्री) ....
Selected Executives (IAS) की बाग़ डोर ...Elected Executives (नेता मंत्री) के हाँथ होती है ....और Elected Executives की बाग़ डोर ....जनता के हाँथ होती है ....
तो इस हिसाब से .....जनता ही है जो सर्वोपरि है ....और इसीलिए इसे लोकतंत्र कहा जा सकता है ....

हमारे देश में Selected Executives के लिए Selection process कड़ा है ....पर Elected Executives ने ..election process को इतना कमजोर कर दिया है ...और इस election process को कमजोर करने के लिए किया क्या है ?....इन्होने देश को ...देश की जनता को ...जाति धर्म और भाषा के नाम पर बाँट दिया है ..ताकि लोकतंत्र की जो सर्वोपरि ताकत है ....जनता ...वो आपस में लडती रहे ...और ये Elected Executive मिल झूल कर देश पर राज करते रहे ....देश की संम्पति को लूटते रहे ...और ...Selected Executive का अपने फायदे के लिए दोहन /शोषण करते रहे ...

ये Selected Executive परमानेंट है ....जबकि Elected Executive temporary ....पर फिर भी हकीकत ये है ....की हमारे देश में जितने पद Selected Executive के नहीं है ...उससे कहीं ज्यादा पद Elected Executive के है ...

Elected Executive है तो temporary पर ...होते ये परमानेंट से ही है क्यों ?...दो कारण है
1. ये Elected Executive के पद ज्यादा है ..और एक व्यक्ति कई कई पदों पर आसीन है ...एक दो छूट भी जाए तो क्या ...कुछ नहीं
2. हमारे देश के संविधान में कोई प्राविधान ही नहीं जिसके द्वारा इन Elected Executive को उनका कार्यकाल ख़त्म होने से पहले हटाया जा सके ...
यही कारण है की ...ये निरंकुश हो जाते है ....और यधि कोई Selected Executive इनके स्वार्थ पूर्ती के अलावा अगर ....जनहित के लिए काम करता है तो ...ये उसे निलंबित या ट्रान्सफर कर देते है ....

और जनता या Selected Executive के पास ऐसा कोई अधिकार ही नहीं जिससे इन Elected Executive पर कोई दबाव बनाया जा सके .....इसीलिए ...इसीलिए ...हमारे देश की व्यवस्था सड चुकी है ....और कुछ लोगो के हाँथ का खिलौना बन चुकी है ....

और यही वो कारण है ....जिसकी वजह से ...देश की जनता के पास ...Right to Reject और Right to Recall होना ही चाहिए,....
क्या कहते हो आप ????......
जब तक ऐसा कोई अमूल चूर परिवर्तन नहीं होगा देश की व्यवस्था में इनकी तानाशाही को नहीं रोक जा सकता .....इसीलिए अन्ना और अरविन्द जी के नेतृत्व में देश की जनता ...आन्दोलन रत है ...की व्यवस्था में परिवर्तन हो ...
पर आज की व्यवस्था में ....कोई परिवर्तन सिर्फ और सिर्फ Elected Executive ही कर या करवा सकते है .....

और इनको ये पता है की .....ये सारे चोर चोर मौसेरे भाई ...मिलकर कभी कोई ऐसा कानून बन्ने ही नहीं देंगे ...जिससे इनके ऊपर किसी तरह का दबाव बनाया जा सके ...और कानून सिर्फ यही बनायेंगे ....

इसका मतलब साफ़ है ...और ये बता भी चुके है ...की अगर कोई परिवर्तन चाहिए तो संसद में आना पड़ेगा ...व्यवस्था को चैलेंज व्यवस्था में रह कर करना होगा ....जनता की ये नहीं सुनेगे ....और इसी वजह से ...अरविन्द ने अपनी क्रांति को ...व्यावहारिक रूप से मोडते हुए ....संसद तक पहुँचाने का बीड़ा उठाया ....और आपकी पार्टी ...आम आदमी पार्टी का प्रादुर्भाव किया

अब ये जनता के हाँथ है ...की ऐसे लोगो को संसद विधान सभा भेजे जो ....ऐसे परिवर्तन ला सके जिससे Elected और Selected Executive दोनों पर सीधे जनता का दबाव हो .....और इसी व्यवस्था को नाम दिया जा सकता है ...."स्वराज".....
यही होगा सच्चा लोकतंत्र .....
और इसके लिए देश की जनता को जुड़ना होगा .....जाति धर्म भाषा से ऊपर उठाना होगा ....
रास्ते दो ही है ...
या तो निजी स्वार्थ से ऊपर उठ ...व्यवस्था परिवर्तन के लिए लड़ो ...
या फिर ...आज़ाद देश में .....भ्रष्ट नेता / अफसर का गुलाम बन कर रहो ....

चुनना आपको है ....क्योंकि ..करना भी आप को ही है ...किसी और को नहीं .....

पर चुनने से पहले ये देख लो ...और सोंच लो ....
की जो अशोक खेमका के साथ हुआ .....जो दुर्गा शक्ति के साथ हुआ ....वही अंत नहीं है इस कड़ी का ....
इन घटनाओ के बाद भी जारी है ....
जैसलमेर में क्या हुआ 2 दिन पहले ..इमानदार अफसर को ...एक हिस्ट्री शीटर के लिए हटा दिया ...
कल दिल्ली में क्या हुआ ...एक अफसर को इसलिए हटा दिया गया क्योंकि उसने खाने में .....कबाब नहीं ....सैंडविच मंगवाई ....और इस महिला अधिकारी का ...6 साल में 11 तबादला है ....
अगर ऐसे ही चलता रहा तो ....कोई ताज्जुब मत करना ...की ये अशोक खेमका के 21 साल में 44 transfer को बौना बना दे ...वैसे ये है भी कोई बड़ा नहीं ....
एक RTI से पता चला है की ....सिर्फ और सिर्फ उत्तर प्रदेश में 43 ऐसे अधिकारी है जिनके 40 से ज्यादा तबादले हुए ....

ऐसे तबादले और निलंबन ही असहनीय है ...
पर सीमा पार तब होगी जब पता चलेगा की कितने .....सतेन्द्र दुबे ....शहीद हुए ?.....

क्यों लजाते हो देश को ....जनता को ...क्यों नहीं जुड़ जाते ....क्यों लड़ते नहीं ....बदलने के लिए ..
इस व्यवस्था और अजीब तरह की लोकतान्त्रिक तानाशाही को ........?.....क्यों ?...
.
पर बदल सिर्फ तब पाओगे ...जब सही और गलत सोंचोगे ...मंदिर मस्जिद या जाति भाषा नहीं ......और ये नेता आपको बरगलाते रहेंगे ....क्योंकि इसी में इनकी जीत है ....
इनको पता है ..की आपकी,.. हमारी ...जनता की तैयारी पूरी हो चुकी है .....
बस जनता का जुड़ना बांकी है ......
इधर जनता समझी नहीं ...की उधर "स्वराज - सच्चा लोकतंत्र" आया ....राईट तो रिजेक्ट /रिकॉल आया ...जनलोकपाल आया ...

भ्रष्ट नेताओं ने तो सारी ताकत लगा रख्खी है ....की ऐसा ना हो ....पर जनता अभी जागी नहीं ....जब जाग जायेगी ..तो क्या ...चाहे selected हो ...या elected हो ....सब की चाभी ...जनता के पास ....यही तो होगा लोकतंत्र ..है की नहीं ...!!

                                      
1
                         आपका क्या कहना है साथियो !! अपने विचारों से तो हमें भी अवगत करवाओ !! ज़रा खुलकर बताने का कष्ट करें !! नए बने मित्रों का हार्दिक स्वागत-अभिनन्दन स्वीकार करें !

जिन मित्रों का आज जन्मदिन है उनको हार्दिक शुभकामनाएं और बधाइयाँ !!"इन्टरनेट सोशियल मीडिया ब्लॉग प्रेस "
" फिफ्थ पिल्लर - कारप्शन किल्लर "
की तरफ से आप सब पाठक मित्रों को आज के दिन की
हार्दिक बधाई और ढेर सारी शुभकामनाएं
ये दिन आप सब के लिए भरपूर सफलताओं के अवसर लेकर आये , आपका जीवन सभी प्रकार की खुशियों से महक जाए " !!
जो अभी तलक मेरे मित्र नहीं बन पाये हैं , कृपया वो जल्दी से अपनी फ्रेंड-रिक्वेस्ट भेजें , क्योंकि मेरी आई डी तो ब्लाक रहती है ! आप सबका मेरे ब्लॉग "5th pillar corruption killer " व इसी नाम से चल रहे पेज , गूगल+ और मेरी फेसबुक वाल पर हार्दिक स्वागत है !!
आप सब जो मेरे और मेरे मित्रों द्वारा , सम - सामयिक विषयों पर लिखे लेख , टिप्प्णियों ,कार्टूनो और आकर्षक , ज्ञानवर्धक व लुभावने समाचार पढ़ते हो , उन पर अपने अनमोल कॉमेंट्स और लाईक देते हो या मेरी पोस्ट को अपने मित्रों संग बांटने हेतु उसे शेयर करते हो , उसका मैं आप सबका बहुत आभारी हूँ !
आशा है आपका प्यार मुझे इसी तरह से मिलता रहेगा !!आपका क्या कहना है मित्रो ??अपने विचार अवश्य हमारे ब्लॉग पर लिखियेगा !!
सधन्यवाद !!

प्रिय मित्रो , आपका हार्दिक स्वागत है हमारे ब्लॉग पर " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " the blog . read, share and comment on it daily plz. the link is -www.pitamberduttsharma.blogspot.com., गूगल+,पेज़ और ग्रुप पर भी !!ज्यादा से ज्यादा संख्या में आप हमारे मित्र बने अपनी फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज कर !! आपके जीवन में ढेर सारी खुशियाँ आयें इसी मनोकामना के साथ !! हमेशां जागरूक बने रहें !! बस आपका सहयोग इसी तरह बना रहे !! मेरा इ मेल ये है : - pitamberdutt.sharma@gmail.com. मेरे ब्लॉग और फेसबुक के लिंक ये हैं :-www.facebook.com/pitamberdutt.sharma.7
www.pitamberduttsharma.blogspot.com
मेरे ब्लॉग का नाम ये है :- " फिफ्थ पिलर-कोरप्शन किल्लर " !!
मेरा मोबाईल नंबर ये है :- 09414657511. 01509-222768. धन्यवाद !!
आपका प्रिय मित्र ,
पीताम्बर दत्त शर्मा,
हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार,
R.C.P. रोड, सूरतगढ़ !
जिला-श्री गंगानगर।
" आकर्षक - समाचार ,लुभावने समाचार " आप भी पढ़िए और मित्रों को भी पढ़ाइये .....!!!
BY :- " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " THE BLOG . READ,SHARE AND GIVE YOUR VELUABEL COMMENTS DAILY . !!
Posted by PD SHARMA, 09414657511 (EX. . VICE PRESIDENT OF B. J. P. CHUNAV VISHLESHAN and SANKHYKI PRKOSHTH (RAJASTHAN )SOCIAL WORKER,Distt. Organiser of PUNJABI WELFARE SOCIETY,Suratgarh (RAJ.)

Tuesday, February 25, 2014

" साभार श्री श्रीश सप्रे " " भविष्य-चिंतक वीर सावरकर के सपनों का भारत "

                        हिंदूराष्ट्र के उद्‌गाता वीर सावरकर न केवल एक महान हिंदूसंगठक थे, जिन्होंने अंडमान के कारागार में ही शुद्धि यज्ञ का सूत्रपात किया था अपितु, एक महान साहित्यकार भी थे, जिन्होंने कालकोठरी में ही रहते 'कमला" जैसे महाकाव्य का सृजन किया था, मुंबई मराठी साहित्य सम्मेलन के अध्यक्ष पद से 1938 में 'लेखनियां तोडो और बंदूक हाथ में लो" का क्रांतिकारी वक्तव्य देकर खलबली मचा दी थी। वे क्रांतिमंत्र के उद्‌गाता, जो जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में क्रांतिकारी रहे; जिनका कहना था प्रत्येक क्रांति एक प्रयोग होता है, विज्ञाननिष्ठ, तर्कसिद्ध सर्वकालिक हिंदुत्व के प्रवक्ता, द्रष्टा-भविष्यचिंतक भी थे। अंडमान के तट को दूर से देखते ही, जहां उन्हें दो कालापानी का दंड भुगतने के लिए लाया जा रहा था, उनके मन में विचार उठे थे अरे! यह तो हिंदुस्थान के समुद्र का पूर्व की ओर का द्वार ही है, जहां भविष्य में भारतीय नौ-सेना का एक बलिष्ठ सैनिकी अड्डा स्थापित होगा, जो पूर्व की ओर से होनेवाले किसी भी आक्रमण का प्रथम प्रत्याघात कर देश की रक्षा करेगा। उनका यह स्वप्न सुन कारागार के अधीक्षक ने उपहास करने के लिए उनसे कहा - 'यह देखो सावरकर, इस अंडमान के तुम्हारे भावी जलदुर्ग के योद्धा इधर-उधर पहरा दे रहे हैं। देखो!" सावरकरजी ने इस पर हंसकर कहा, 'यह तुम्हें और मुझे कदाचित्‌ दिख न सकेंगे परंतु, अपने बच्चे बहुधा यहां आएंगे।" वीर सावरकर का यह स्वप्न सिद्ध हुआ। वे द्रष्टा ठहरे। 10 मई 1973 को लोकसभा में रक्षामंत्री ने पोर्टब्लेअर पर नौ-सेना का अग्रगामी अड्डा स्थापित करने के सरकार के निर्णय की घोषणा की। 

वीर सावरकर के हिंदुत्व-हिंदूराष्ट्रवाद को संकुचित समझनेवाले समझते रहें परंतु, उनका हिंदुत्व ग्रंथ जो 1921 के अंत और 1922 के प्रारंभ में गुप्तरुप से लिखकर अंडमान के कारागार से बाहर भेजा गया था वह 1923 में 'मराठा" इस सार्थ नाम से प्रकाशित हुआ था। और 1925 के प्रारंभ में हिंदूमहासभा के बेलगांव अधिवेशन में डॉ. मुंजे, लाला लाजपतराय, लाला हंसराज, बॅ. जयकर, तात्यासाहेब केलकर, बाबू राजेन्द्रप्रसाद जैसे बडे-बडे नेता उपस्थित थे में सावरकरजी द्वारा इस ग्रंथ में 'हिंदुत्व" की दी गई व्याख्या बतलाई गई थी। इस 'हिंदुत्व" ग्रंथ को जो कोई भी पढ़ेगा वह निःशंक होकर स्वीकारेगा कि सावरकरजी का हिंदुत्वाभिमान अंधधर्मांधता न होकर सांस्कृतिक स्वाभिमान था। हिंद्वेत्तर धर्मांधों को मुंहतोड उत्तर देनेवाला स्वाभिमानभरा संकल्प था। परंतु, जो बिना पढ़े ही उन्हेें और हिंदुत्ववादियों को धर्मांध और सांप्रदायिक ठहराना चाहते हैं। उन्हें अब क्या कहें?

'हिंदूराष्ट्र" की कल्पना को संकुचित कहनेवालों को उनके द्वारा दिया गया उत्तर था - हिंदूराष्ट्र की कल्पना संकुचित नहीं। क्योंकि, यदि इस प्रकार से कहा गया तो हिंदीराष्ट्र की कल्पना भी मानवता की विशाल कल्पना के सामने संकुचित ही ठहरेगी। 
  
वीरसावरकर भी हिंदूराष्ट्र का सपना देखा करते थे का उल्लेख कर हिंदुत्ववादियों का उपहास कर हिंदुत्व एवं हिंदुत्ववादियों के प्रति अनर्गल प्रलाप करनेवाले जिन्हें परंपरागत रुप से ही 'हिंदुत्वद्वेष" प्राप्त हुआ है वस्तुतः जानते ही नहीं कि वीर सावरकर अपने सपने के भारत के बारे में क्या विचार रखते थे। वीर सावरकर के शब्दों में ही - ''मेरे सपनों का भारत एक लोकतंत्रीय राज्य है, जिसमें सभी रुप धर्मों और मत-मतांतरों के अनुगामियों के साथ पूर्ण समानता का व्यवहार किया जाएगा। किसीको दूसरे पर आधिपत्य जमाने का अवसर न रहेगा। जब तक कोई व्यक्ति हिंदुओं की इस पुण्यभूमि तथा मातृभूमि हिंदुस्थान को एक राज्य मानकर इसके प्रति अपने दायित्वों का निष्ठा सहित पालन करेगा, जो आसिंधु-सिंधु पर्यंत विस्तीर्ण है, एक ओर अविभाज्य है तब तक उसे नागरिकता के पूर्ण अधिकार प्राप्त होंगे। हिंदू एक जातिविहीन और संगठित आधुनिक राष्ट्र का रुप ग्रहण करेंगे। विज्ञान और टैक्नोलोजी को बढ़ावा मिलेगा, जिसमें सभी भूमि राज्य की होगी और कोई भी जमींदार न होगा। सभी महत्वपूर्ण उद्योगों का राष्ट्रीयकरण होगा तथा भारत खाद्यान्न, वस्त्र और प्रतिरक्षा की दृष्टि से पूर्णतः आत्मनिर्भर होगा। मेरे स्वप्नों के भारत का वसुधैव कुटुम्बकम के महान आदर्श में विश्वास होगा। सैनिक दृष्टि से सबल अखंड हिंदुस्थान की विदेश नीति होगी तटस्थता और शान्ति की। शक्तिशाली और अखंड हिंदुस्थान ही विश्व में स्थाई शान्ति और समृद्धि की दिशा में प्रभावी योगदान दे सकता है।""

हिंदुत्व पर होनेवाले आक्रमणों एवं कुप्रचार से तथा गिरती नैतिकता देखकर निराश होनेवाले हिंदुत्ववादियों के लिए सावरकरजी के ये वचन निश्चय ही गौर करने लायक होकर उनके लिए सम्बल प्रदान करनेवाले हैं - ''स्वतंत्रता के 18 वर्ष (वर्तमान में 66) उपरान्त भी हम लोगों को निराश, हताश, विक्षुब्ध और नैतिकता से गिरता हुआ देख रहे हैं। आज जनसाधारण जो पेट की रोटी और अस्तित्व के लिए संघर्ष कर रहे हैं, बडी योजनाओं ने उनको तनिक भी प्रभावित नहीं किया है। किन्तु इतने पर भी एक क्षण के लिए भी यह सोचना कि यह देश खंड-खंडित हो जाएगा, पागलपन ही होगा। एक ऐसा देश जिसने चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य, शालिवाहन, चाणक्य और शिवाजी जैसे महान राजनीतिज्ञों को गोदी में खिलाया है, वह कभी भी राजनैतिक दृष्टि से दिवालिया नहीं हो सकता। सहस्त्रों वर्षों के इतिहास में हिन्दुस्थान पर जब-जब संकट के घन घहराए हैं तब ही किसी-न-किसी महापुरुष ने इसका नेतृत्व कर राष्ट्र को सम्बल दिया है। जैसा अतीत में हुआ है भविष्य में भी ऐसे लोग होते रहेंगे जो देश का दिशा निर्देशन करेंगे, इसकी सेवा के लिए ही जिएंगे और मरेंगे।""

जिस प्रकार से उनके 'हिंदुत्व" के प्रति अनेक भ्रांतियां व्याप्त हैं उसी प्रकार से उनकी धर्म संबंधी भूमिका, मान्यताओं के बारे में भी अनेकानेक भ्रांतियां फैली हुई हैं। धर्म संबंधी उनके विचार थे - ''क्या धर्म अर्थात्‌ पारिमार्थिक चर्चा द्वैत, अद्वैत का वाद-विवाद या चेतन-अचेतन की खोज है? या केवल भावना है जो व्यक्ति शून्य हो? नहीं विशेष रुप से हमारा धर्म महान होने से हम धर्म को ही राष्ट्र कहते हैं। हमारा इतिहास ही धर्म है। इतना ही नहीं परंतु हमारा दैनिक व्यवहार जो इतिहास समाज और राष्ट्र को पुष्ट करता है वही हमारा धर्म है। धर्म की यह परिभाषा निधर्मी स्टालिन से कम्युनिस्टों को भी माननी पडी थी। धर्म की इस परिभाषा से यह स्पष्ट होता है कि कोई भी व्यक्ति धर्मातीत रह ही नहीं सकता। अमरीका का राष्ट्रपति बाइबल हाथ में लिए बिना राष्ट्रपति पद की शपथ ग्रहण नहीं कर सकता; इंग्लैंड का सम्राट यदि प्रोटेस्टन्ट न हो तो उसे राज्य पद से त्यागपत्र देना पडता है। यदि छोटे से छोटे पाश्चात्य देश में भी हम गए तो हमें यही दिखाई देगा कि यह राष्ट्र किसी-न-किसी धर्म का अनुयायी होगा। हम हिन्दू हैं और हमने दुनिया देखी है? देश इतिहास और व्यवहार के विशुद्ध न्यायपूर्ण बरताव को ही हम धर्म कहते हैं। इसलिए धर्म में महान शक्ति होती है। हम, हमारा देश, इतिहास और व्यवहार हिंदुस्थान के वैभव को बढ़ानेवाला है। इस प्रकार व्यक्तिगत और सामाजिक भावनाओं में व्याप्त प्रेरणा को ही हम धर्म कहते हैं। धर्म की इस परिभाषा से यह बात स्पष्ट हो जाती है कि हिंदुस्थान का धर्म हिंदू है।""

इस हिंदूधर्म को और अधिक विस्तृत रुप से समझने के पूर्व उनके द्वारा दी गई हिंदू की परिभाषा जो उनकी प्रतिभा दर्शाती है को समझना अनिवार्य है। उनकी व्याख्या के अनुसार 'आसिंधु-सिंधु-पर्यन्ता, यस्य भारतभूमिका। पितृभूः पुण्यभूश्चैव स वै हिंदुरिति स्मृतः।।" सिंधुस्थान ही जिनकी केवल पितृभूमि ही नहीं तो पुण्यभूमि भी है वह हिंदू। सावरकरजी की 'हिंदू" शब्द की यह व्याख्या अतिव्याप्ति और अव्याप्ति इन दोनो ही प्रकार के दोषों से मुक्त है। इस व्याख्या के अनुसार वैदिक धर्मानुयायी, सिक्ख और भारतीय बौद्ध, जैन, लिंगायत, नास्तिक, ब्राह्मोसमाजी, गिरीजन, वनवासी आदि का समावेश 'हिंदू" में होता है। चीनी बौद्धों का समावेश हिंदुओं में नहीं होता। क्योंकि, हिंदुस्थान उनकी पुण्यभूमि होने पर भी पितृभूमि नहीं है।
                     

 'हिंदूधर्म" यह नाम किसी एक विशिष्ट धर्म अथवा पंथ विशेष का न होकर जिन अनेक धर्मों और पंथों की यह भारतभूमि ही पितृभू और पुण्यभू है उन सारों का समावेश करनेवाले धर्मसंघों का हिंदूधर्म सामुदायिक अभिधान है। बहुसंख्य हिंदुओं के धर्म को सनातन धर्म अथवा श्रुति-स्मृति-पुराणोक्त धर्म अथवा वैदिक धर्म इस प्राचीन एवं मान्य संज्ञाओं से संबोधित किया जाता है। अन्य हिंदुओं के धर्मों को उनके उनके मान्य नामों से जैसे सिक्ख धर्म अथवा आर्यधर्म अथवा जैन धर्म अथवा बौद्ध धर्म संबोधित किया जा सकता है। जब इन सारे धर्मों को एकत्रित नाम देने की आवश्यकता होगी तब हिंदूधर्म यह व्यापक नाम देना उचित होगा। इसके कारण अर्थहानि तो होगी ही नहीं, परंतु वह अचूक और निःसंदिग्ध जरुर होगी और अपने छोटे समाज के संदेह और बडे समाज का क्रोध दूर कर अपने समान वंश और समान संस्कृति दर्शानेवाले अपने प्राचीन ध्वज तले पुनः एक बार सभी हिंदुओं के एकत्रित करेगा। इसी प्रकार से हमारे यहां एक ही धर्म पुस्तक न होने का लाभ बतलाते हुए सावरकरजी इस संबंध में अपने विचार प्रकट करते हुए कहा इससे अपना धर्मविकास थमा नहीं। हमारे धर्मतत्त्व भी किसी पुस्तक के दो पुट्ठों में समा नहीं सकते। इस विश्व के दो पुट्ठों में जितना सत्य और ज्ञान विस्तृत फैला हुआ है उतनी हमारी धर्म पुस्तक विस्तृत होगी। अंत में उनका कहना था कुछ भी हो तो भी बुद्धिवाद की दृष्टि से देखा जाए तो कुल मिलाकर सभी धर्मों में ग्राह्यतम धर्म यदि कोई हो सकता है तो वह है हिंदूधर्म।

सावरकर हिंदुत्ववादी थे किंतु उसकी अपेक्षा अधिक 'सेक्यूलर" भी थे। परंतु उनके सेक्लूरिजम को भी उनके विरोधियों ने विकृत कर जनता के सामने प्रस्तुत किया और उनके अनुयायियों ने भी उसे कभी जनता के सामने ठीक ढ़ंग से प्रस्तुत नहीं किया। 'सेक्यूलिरिजम" यानी शासन की धर्म संबंधी भूमिका। इस संबंध में वीर सावरकरजी की भूमिका इस प्रकार की थी, धर्म से संबंधित विषय पारलौकिक और आध्यात्मिक स्वरुप का माना जाना चाहिए। लौकिक विषयों में धर्म का अधिकार मान्य नहीं होना चाहिए। उनका कहना था - धर्म शब्दनिष्ठा और श्रद्धा का प्रांत है और परलोक उसका विषय; इहलोक यानी कानून, व्यवहार होकर प्रत्यक्षनिष्ठ प्रयोग का क्षेत्र! वहां धर्म नहीं चलेगा। धर्म अलग। कानून अलग। धर्मग्रंथ को बंद कर अगर बुद्धिवाद से विचार किया जाए तो ही ऐहिक जीवन के प्रश्न हल हो सकते हैं। अतः मानव जीवन का ऐहिक और पारलौकिक इस प्रकार का विभाजन कर धर्म को केवल पारलौकिक विषयों तक ही मर्यादित रखना और ऐहिक जीवन के सारे विषय बुद्धिवाद के या उपयुक्ततावाद के हवाले करना इस प्रकार की उनकी सेक्यूरिजम संबंधी भूमिका थी। इहलौकिक जीवन से धर्म को दूर कर उसे केवल पारलौकिक जीवन तक का मर्यादित माने बगैर ऐहिक मानवी जीवन के निर्णय बुद्धि के आधार पर लिए नहीं जा सकेंगे, ऐसा उनका कहना था। 'अरबी संस्कृति का उच्चाटन" इस निबंध में उन्होंने इस संबंध में बिल्कूल सुस्पष्ट विचार प्रस्तुत किए हैं। तुर्कस्थान के कमालपाशा ने इस्लाम को पारलौकिक जीवन तक मर्यादित कर डाला था। ऐहिक जीवन में इस्लाम के हस्तक्षेप का अधिकार गैरकानूनी कर डाला था। राजनीति, सामाजिक नीति, अर्थनीति, शिक्षा, रक्षा, भाषा, कानून आदि सारे ऐहिक विषय उन्होंने शासन के, विधिमंडल के बुद्धिवादी क्षेत्रतले ले लिए थे। ऐहिक क्षेत्र से धर्म का साफ उच्चाटन कर डाला था। 

सावरकरजी को भारत में यही भूमिका लेनी थी। भारत का संविधान और कामकाज पूरी तरह से बुद्धिवाद पर आधारित रहेगा; वह वेद, गीता, कुरान, बाइबल इस प्रकार के किसी भी धर्मग्रंथ पर आधारित नहीं रहेगा इस प्रकार की उन्होंने घोषणा ही की हुई थी।  धर्मग्रंथ आज कालबाह्य हो गए हैं; आज हम किस प्रकार से रहें; व्यवहार करें यह कहने का अधिकार धर्मग्रंथों को नहीं; धर्मग्रंथों पर आधारित सामाजिक संस्थाओं को खडा करने के दिन गए; आज हमें जो सामाजिक संस्थाएं खडी करनी हैं वे धर्मग्रंथ पर न होकर विज्ञानग्रंथों पर, बुद्धिवाद पर खडी करनी हैं इस प्रकार की उनकी भूमिका थी। सावरकरजी के सेक्यूलरिजम की यह भूमिका हिंदू-मुस्लिम समस्या सहित अनेक राष्ट्रीय और सामाजिक समस्याओं पर रामबाण उपाय जैसी थी। उन्हें मालूम था कि, संसार की धर्मों संबंधी अधिकांश समस्याएं, धर्म जो मनुष्य के इहलौकिक जीवन मेें प्रभावी होता है से पैदा होती हैं। उदाहरणार्थ सामाजिक विषमता की समस्या को लें तो धर्म ने जीवन के विषय में कही हुई आज्ञाओं में से ही वह पैदा हुई हैं। इहलौकिक जीवन पर के धर्म के अधिकार को ही निकाल लिया जाए तो धर्मप्रणीत सामाजिक विषमता का आधार ही उखड जाता है। मुस्लिमों का स्वतंत्र राष्ट्र यानी इहलौकिक रहनेवाले राजनैतिक क्षेत्र में धर्म का उपयोग। धर्म का विषय परलोक तक का मर्यादित कर दिया जाए तो सारा इहलौकिक मानवी जीवन धर्म के नियंत्रण से मुक्त हो जाता है और धर्मसंबंधी सारी समस्याएं समाप्त हो जाती हैं, इस प्रकार की उनकी भूमिका थी। इस भूमिका के कारण हिंदुओं पर होनेवाला अन्याय भी समाप्त होनेवाला था, मुस्लिमों का प्रश्न भी हल होनेवाला था; धर्म का राजनैतिक आधार भी समाप्त होनेवाला था; सामाजिक सुधार और आधुनिकता का मार्ग भी खुला होनेवाला था। जिसे परलोक में या अध्यात्म में श्रद्धा होगी वह उस विषय तक का मर्यादित अपने धर्म का पालन कर सकेगा। पारलौकिक और आध्यात्मिक अर्थ का धर्म केवल मानसिक और आत्मिक संतुष्टि तक का सीमित होने के कारण उसका किसी भी तरह का दुष्परिणाम समाज पर और राष्ट्र पर नहीं होगा। सेक्यूलरिजम की इस प्रकार की भूमिका रखनेवाले होने के बावजूद सावरकरजी के  धर्म संबंधी विचारों के बारे में भ्रांतियां फैलाना, उन पर मिथ्या दोषारोपण करना इस अज्ञान को या जानबूझकर किए जानेवाले भ्रामक प्रचार को क्या कहा जाए?

" लालू की लालटेन करने लगी है - जग-बुझ " तेल कंहीं से नहीं मिल पा रहा ! ???? - पीताम्बर दत्त शर्मा ( विश्लेषक )

              लोकसभा चुनाव से ठीक पहले बिहार में लालू प्रसाद यादव को तगड़ा झटका लगा है. लालू की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल के 13 विधायकों ने बगावत कर दी है. आरजेडी के 22 में से 13 विधायकों ने विधानसभा सचिव को पत्र लिखकर सदन में अलग से बैठने की व्यवस्था करने की मांग की है.
इन 13 विधायकों में अब्दुल गफूर, सम्राट चौधरी, राघवेंद्र प्रताप सिंह, ललित यादव, इनाम उल हक, दुर्गा प्रसाद सिंह, चंद्रशेखर के नाम सामने आ रहे हैं. सूत्रों के मुताबिक ये 13 विधायक पार्टी से अलग होना चाहते हैं और इसी को लेकर इन्होंने विधानसभा के अध्यक्ष को अलग बैठने के इंतजाम के लिए पत्र लिखा है.lalu-prasad-yadav-nn1

इस वक्त बिहार विधानसभा में नीतीश कुमार की पार्टी के 116 विधायक हैं. इन बागी विधायकों में से एक सम्राट चौधरी का दावा है कि विधानसभा अध्यक्ष ने सदन में उनके आरजेडी से अलग बैठने की मांग को मान लिया है. सम्राट चौधरी का दावा है कि उनके साथी जेडीयू में शामिल होना चाहते हैं.
आरजेडी के बागी विधायक सम्राट चौधरी ने कहा कि नीतीश को छोड़ बिहार में सेकुलरिज्म का झंडा बुलंद करने वाला अब कोई नहीं है. इसलिए हम जनता दल यूनाइटेड में विलय चाहते हैं. लालू से हम इसलिए नाराज हैं क्योंकि जिस व्यक्ति ने अध्यादेश फड़वाकर(राहुल गांधी) लालू जी को जेल भेजने का काम किया था, लालू जी उसी की गोद में बैठ गए हैं. बिहार में आरजेडी अब सिर्फ कांग्रेस की बी टीम बनकर रह गई है.
आरजेडी के बागी विधायक जावेद इकबाल ने कहा कि हमने विधानसभा अध्यक्ष को चिट्ठी लिखी थी और हमारी मांग मान ली गई है. जिस व्यक्ति ने लालू जी को जेल भिजवाया, लालू जेल से छूटने के बाद हमसे या बिहार की जनता से बात करने के बजाय उसी व्यक्ति से हाथ मिलाने दिल्ली पहुंच गए. लालू जी अब नाकाम हो गए हैं. ये अब वो लालू नहीं हैं जिन्हें पूरे देश का मुसलमान आशा की नजर से देखता था.

                                " लालू की लालटेन करने लगी है - जग-बुझ " तेल कंहीं से नहीं मिल पा रहा ! ????
                
लालू प्रसाद यादव को लगा तगड़ा झटका......!!
      
लेकिन आज लालू जी के प्रताप से नौ  आ गये हैं जिससे उनका हौसला सातवें आसमान पर फिर पंहुच गया है ! रोड शो करते हुए वो पहले विधानसभा अध्यक्ष के घर जायेंगे और फिर राजयपाल जी के सामने सभी विधायकों की ना केवल परेड करवाएंगे बल्कि नितीश सरकार अल्पमत मैं है ये भी दवा करेंगे और उनसे कहेंगे कि नितीश सरकार को बर्ख्वस्त किया जाए !                अब देखना ये है कि लालू जी को अपनी राजनीती की लालटेन जगाने हेतु तेल कँहा से मिलता है !! ??
                    
खिलाडी पुराने हैं सिर्फ इक्के पर ही सामने वाले के बड़े पत्ते फिकवा सकते हैं !!गज़ब का हौसला है उनमे !!              मैं तो यही कहूंगा मित्रो कि - धर्म की जय हो !! अधर्म का नाश हो !! प्राणियों में सद्भावना हो !! विश्व का कल्याण हो !! हर हर हर महादेव !!!!!!                                       
आपका क्या कहना है साथियो !! अपने विचारों से तो हमें भी अवगत करवाओ !! ज़रा खुलकर बताने का कष्ट करें !! नए बने मित्रों का हार्दिक स्वागत-अभिनन्दन स्वीकार करें !


जिन मित्रों का आज जन्मदिन है उनको हार्दिक शुभकामनाएं और बधाइयाँ !!"इन्टरनेट सोशियल मीडिया ब्लॉग प्रेस "
" फिफ्थ पिल्लर - कारप्शन किल्लर "
की तरफ से आप सब पाठक मित्रों को आज के दिन की
हार्दिक बधाई और ढेर सारी शुभकामनाएं
ये दिन आप सब के लिए भरपूर सफलताओं के अवसर लेकर आये , आपका जीवन सभी प्रकार की खुशियों से महक जाए " !!
जो अभी तलक मेरे मित्र नहीं बन पाये हैं , कृपया वो जल्दी से अपनी फ्रेंड-रिक्वेस्ट भेजें , क्योंकि मेरी आई डी तो ब्लाक रहती है ! आप सबका मेरे ब्लॉग "5th pillar corruption killer " व इसी नाम से चल रहे पेज , गूगल+ और मेरी फेसबुक वाल पर हार्दिक स्वागत है !!
आप सब जो मेरे और मेरे मित्रों द्वारा , सम - सामयिक विषयों पर लिखे लेख , टिप्प्णियों ,कार्टूनो और आकर्षक , ज्ञानवर्धक व लुभावने समाचार पढ़ते हो , उन पर अपने अनमोल कॉमेंट्स और लाईक देते हो या मेरी पोस्ट को अपने मित्रों संग बांटने हेतु उसे शेयर करते हो , उसका मैं आप सबका बहुत आभारी हूँ !
आशा है आपका प्यार मुझे इसी तरह से मिलता रहेगा !!आपका क्या कहना है मित्रो ??अपने विचार अवश्य हमारे ब्लॉग पर लिखियेगा !!
सधन्यवाद !!

प्रिय मित्रो , आपका हार्दिक स्वागत है हमारे ब्लॉग पर " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " the blog . read, share and comment on it daily plz. the link is -www.pitamberduttsharma.blogspot.com., गूगल+,पेज़ और ग्रुप पर भी !!ज्यादा से ज्यादा संख्या में आप हमारे मित्र बने अपनी फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज कर !! आपके जीवन में ढेर सारी खुशियाँ आयें इसी मनोकामना के साथ !! हमेशां जागरूक बने रहें !! बस आपका सहयोग इसी तरह बना रहे !! मेरा इ मेल ये है : - pitamberdutt.sharma@gmail.com. मेरे ब्लॉग और फेसबुक के लिंक ये हैं :-www.facebook.com/pitamberdutt.sharma.7
www.pitamberduttsharma.blogspot.com
मेरे ब्लॉग का नाम ये है :- " फिफ्थ पिलर-कोरप्शन किल्लर " !!
मेरा मोबाईल नंबर ये है :- 09414657511. 01509-222768. धन्यवाद !!
आपका प्रिय मित्र ,
पीताम्बर दत्त शर्मा,
हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार,
R.C.P. रोड, सूरतगढ़ !
जिला-श्री गंगानगर।
" आकर्षक - समाचार ,लुभावने समाचार " आप भी पढ़िए और मित्रों को भी पढ़ाइये .....!!!
BY :- " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " THE BLOG . READ,SHARE AND GIVE YOUR VELUABEL COMMENTS DAILY . !!
Posted by PD SHARMA, 09414657511 (EX. . VICE PRESIDENT OF B. J. P. CHUNAV VISHLESHAN and SANKHYKI PRKOSHTH (RAJASTHAN )SOCIAL WORKER,Distt. Organiser of PUNJABI WELFARE SOCIETY,Suratgarh (RAJ.)

Sunday, February 23, 2014

" फिर वो ही राजनितिक " गोबर " इकठ्ठा करना क्यों ज़रूरी है भाजपा हेतु " - पीताम्बर दत्त शर्मा

         देशवासियों और सभी राज नेताओं को ये भलीभांति ज्ञान है कि कुछ नेता " अवसरवादी " हैं , खुराफाती हैं बे-ईमान हैं और विदेशी एजेन्सियों की  कठपुतलियां मात्र हैं, तो क्यों भाजपा का हाई-कमाण्ड  ऐसे नेताओं से या दलों से चर्चा कर रहा है आगामी सरकार में हिस्सेदार बनाने को !! क्या भाजपा वाले अटल जी के साथ हुई " दुर्गति " को भूल गये !! क्या सत्ता पाना ही हमारा उद्देश्य है !! अगर जनता नहीं मौका देती तो हम सबको राजनीति  से ही त्यागपत्र दे देना चाहिए और अपने अपने घरों में बैठ जाना चाहिए संन्यास लेकर !
                    यही नियम बना दिया जाना चाहिए कि  एक बार चुनाव हार गया वो दोबारा चुनाव लड़ ही ना पाये ! अपने आप वंशवाद  समाप्त हो जाएगा !! अगर ऐसा सम्भव नहीं है तो दल व्यवस्था को समाप्त करके हर कोई अलग-अलग चुनाव लड़े और बाद में प्रधानमंत्री या मुख्यमंत्री चुना जाए !! लेकिन इन नेताओं ने सारी  व्यवस्था को ही अपनी सुविधानुसार ढाल दिया है !!
                        इसी का असर ये हो गया है कि चाहे वो मेधा पाटकर हो या केज़रीवाल , अन्ना जी हों या फिर कोई विचारक-पत्रकार सबको इन राजनितिक दलों की छतरी के नीचे आना ही पड़ता है ! फिर इनसे सरकारें चलती नहीं पुलिस-अफसर और बाबूलोग इनको धकियाते हैं तो ये लोग कुछ दिनों में ही स्तीफा देने को मजबूर हो जाते हैं !! ये हम सब देख ही चुके हैं !!
                         मेरा तो यही मानना है कि ये भी प्रयोग कर लिया जाना चाहिए कि अगर कोई शरीफ नेता बचा हो या कोई दल बचा है तो वो जनता से ये कहकर सदन से बाहर बैठ जाए कि जनता अगर हमें नहीं चाहती तो हम इस प्रक्रिया से ही बाहर हो जाते हैं !! तब देखना जी जनता को भी अकल आ जायेगी और फिर शुद्ध बहुमत एक ही दल को मिला करेगा !


                   ये बार बार उन्ही परखे हुए लोगों से जुड़ कर विकल्प पेश करना न्याय संगत सही हो सकता !! जैसे तीसरा मोर्चा अब जनता नहीं चाहती वैसे ही ये पासवान और अजित सिंह जैसे बिकाऊ लोगों के लिए भी  N.D.A. में कोई जगह नहीं होनी चाहिए !!इन्होने कभी चोर को चोर नहीं कहा तो  जिन्हे हम कोसते रहे , उन्हें अब हम अपना साथी कैसे मानलें यारो !!! है कि नहीं ?????
              बोलिये सब मेरे साथ -
धर्म की जय हो !! अधर्म का नाश हो !! प्राणियों में सद्भावना हो !! विश्व का कल्याण हो !! हर- हर- हर- महादेव !!!
                       
आपका क्या कहना है साथियो !! अपने विचारों से तो हमें भी अवगत करवाओ !! ज़रा खुलकर बताने का कष्ट करें !! नए बने मित्रों का हार्दिक स्वागत-अभिनन्दन स्वीकार करें !


जिन मित्रों का आज जन्मदिन है उनको हार्दिक शुभकामनाएं और बधाइयाँ !!"इन्टरनेट सोशियल मीडिया ब्लॉग प्रेस "
" फिफ्थ पिल्लर - कारप्शन किल्लर "
की तरफ से आप सब पाठक मित्रों को आज के दिन की
हार्दिक बधाई और ढेर सारी शुभकामनाएं
ये दिन आप सब के लिए भरपूर सफलताओं के अवसर लेकर आये , आपका जीवन सभी प्रकार की खुशियों से महक जाए " !!
जो अभी तलक मेरे मित्र नहीं बन पाये हैं , कृपया वो जल्दी से अपनी फ्रेंड-रिक्वेस्ट भेजें , क्योंकि मेरी आई डी तो ब्लाक रहती है ! आप सबका मेरे ब्लॉग "5th pillar corruption killer " व इसी नाम से चल रहे पेज , गूगल+ और मेरी फेसबुक वाल पर हार्दिक स्वागत है !!
आप सब जो मेरे और मेरे मित्रों द्वारा , सम - सामयिक विषयों पर लिखे लेख , टिप्प्णियों ,कार्टूनो और आकर्षक , ज्ञानवर्धक व लुभावने समाचार पढ़ते हो , उन पर अपने अनमोल कॉमेंट्स और लाईक देते हो या मेरी पोस्ट को अपने मित्रों संग बांटने हेतु उसे शेयर करते हो , उसका मैं आप सबका बहुत आभारी हूँ !
आशा है आपका प्यार मुझे इसी तरह से मिलता रहेगा !!आपका क्या कहना है मित्रो ??अपने विचार अवश्य हमारे ब्लॉग पर लिखियेगा !!
सधन्यवाद !!

प्रिय मित्रो , आपका हार्दिक स्वागत है हमारे ब्लॉग पर " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " the blog . read, share and comment on it daily plz. the link is -www.pitamberduttsharma.blogspot.com., गूगल+,पेज़ और ग्रुप पर भी !!ज्यादा से ज्यादा संख्या में आप हमारे मित्र बने अपनी फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज कर !! आपके जीवन में ढेर सारी खुशियाँ आयें इसी मनोकामना के साथ !! हमेशां जागरूक बने रहें !! बस आपका सहयोग इसी तरह बना रहे !! मेरा इ मेल ये है : - pitamberdutt.sharma@gmail.com. मेरे ब्लॉग और फेसबुक के लिंक ये हैं :-www.facebook.com/pitamberdutt.sharma.7
www.pitamberduttsharma.blogspot.com
मेरे ब्लॉग का नाम ये है :- " फिफ्थ पिलर-कोरप्शन किल्लर " !!
मेरा मोबाईल नंबर ये है :- 09414657511. 01509-222768. धन्यवाद !!
आपका प्रिय मित्र ,
पीताम्बर दत्त शर्मा,
हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार,
R.C.P. रोड, सूरतगढ़ !
जिला-श्री गंगानगर।
" आकर्षक - समाचार ,लुभावने समाचार " आप भी पढ़िए और मित्रों को भी पढ़ाइये .....!!!
BY :- " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " THE BLOG . READ,SHARE AND GIVE YOUR VELUABEL COMMENTS DAILY . !!
Posted by PD SHARMA, 09414657511 (EX. . VICE PRESIDENT OF B. J. P. CHUNAV VISHLESHAN and SANKHYKI PRKOSHTH (RAJASTHAN )SOCIAL WORKER,Distt. Organiser of PUNJABI WELFARE SOCIETY,Suratgarh (RAJ.)

Saturday, February 22, 2014

" 15 वीं लोक सभा का विदाई समारोह , भावुक हुए नेता , लेकिन सच में " विदा " कितने सांसद होंगे असल में " - पीताम्बर दत्त शर्मा ( विश्लेषक )

एक हिंदी कॉमेडी फ़िल्म का डायलॉग था कि " बापू पैदा होने में तो 9 महीने लगे और मरने में 90 साल लगाएगा क्या "?? कई बार असल जीवन में भी ऐसा आभास होने लगता है कि ये अब चले ही जाएँ तो सबके हित में हैं !! इसी तरह से जब टीवी एंकर कल समाचारों में ये बता रहे थे कि आज लोक सभा का अंतिम दिन था , 15वीं  लोक सभा में जितने सांसद चुन कर आये थे अब आगे उनमे से कौन कौन नेता 16 वीं लोक सभा में आ सकेंगे , ये कोई नहीं जानता !
                      करमचारी 60 साल की उम्र में रिटायर हो जाता है लेकिन ये नेता मरते दम तक " साथ " नहीं छोड़ते !! काम करते ही रहते हैं , किसके हित हेतु ये पता नहीं चल पाता !! किसीको !!पहले वाले नेता तो राजनीती को देश सेवा मानकर शासन चलाते  थे अब  वाले नेता तो अनाप-शनाप कमाने हेतु " व्यपार " समझ कर राजनीति करते हैं !
                   हमारे अडवाणी जी को तो " फादर आफ हॉउस " की उपाधि भी दे दी गयी !! जिससे वो भावुक हो गए , ये सोचकर कि U.P.A.वाले उन्हें कितना मान दे रहे हैं , लेकिन भोले आडवाणी जी ये नहीं समझ रहे कि केंद्र में सरकार के साथ ज्यादा " तालमेल " रखने से ही दिल्ली के बड़े भाजपा नेताओं के हाथ से " प्रधानमंत्री " पद की दावेदारी उनके हाथ से निकल गयी !!  अब तो ये तथाकथित बड़े नेता सिर्फ मंत्री ही बन सकेंगे !!


                    अब भी मुझे तो यही डर  सता रहा है कि आने वाले चुनावों में भी हमारे नेताओं को सद्बुद्धि आएगी या नहीं !! क्योंकि भाजपा के बड़े नेता मोदी जी का  मन से साथ नहीं दे रहे हैं !! भाजपा 272 + सीट जितने की जो आस लगाये बैठी है वो तब तक पूरी नहीं हो सकती जब तक सारे संगठन एक जुट होकर काम नहीं करते !! भाजपा के लिए भी ये अब आखिरी चुनाव हैं अबकी बार उसे बहुमत मिला तो ठीक अन्यथा भाजपा के नाम से आगे कभी सत्ता के दर्शन उसे नहीं हो पाएंगे !!
                       इन लोगों के खर्चे चलाने  हेतु  चंदे मांगते-मांगते तो हम बूढ़े हो गये ! इंटर नेशनल फ़कीर बन गये  लेकिन ये सत्ता तक पंहुचने में कामयाब ही नहीं हो पाये , फूटे भाग हमारे !! रोते ही रहते हैं कि " 64 साल के शासन में हमने तो केवल 7 साल ही शासन किया " !! जनता का भला नहीं कर पाये ये नहीं निकलता इनके मुंह से !!
                   दे दो !! दे दो  देशवासियो !! अबकी बार मौका मोदी जी को भी !! आप वालों को आगे कभी परख लेंगे हम !!! माया-ममता-जयललिता -लालू-मुलायम-नितीश-रामविलास और करूणानिधि तो हमारे देखे-परखे हैं कामरेडों के साथ ये लोग कई बार हनीमून मना चुके हैं " ससुर  के नाती " !!
    धर्म की जय हो !! अधर्म का नाश हो !! प्राणियों में सद्भावना हो !! विश्व का कल्याण हो !! हर - हर - हर - महादेव !!!!!!!!!!!!!! सनातन धाम की - जय हो !
                          
आपका क्या कहना है साथियो !! अपने विचारों से तो हमें भी अवगत करवाओ !! ज़रा खुलकर बताने का कष्ट करें !! नए बने मित्रों का हार्दिक स्वागत-अभिनन्दन स्वीकार करें !


जिन मित्रों का आज जन्मदिन है उनको हार्दिक शुभकामनाएं और बधाइयाँ !!"इन्टरनेट सोशियल मीडिया ब्लॉग प्रेस "
" फिफ्थ पिल्लर - कारप्शन किल्लर "
की तरफ से आप सब पाठक मित्रों को आज के दिन की
हार्दिक बधाई और ढेर सारी शुभकामनाएं
ये दिन आप सब के लिए भरपूर सफलताओं के अवसर लेकर आये , आपका जीवन सभी प्रकार की खुशियों से महक जाए " !!
जो अभी तलक मेरे मित्र नहीं बन पाये हैं , कृपया वो जल्दी से अपनी फ्रेंड-रिक्वेस्ट भेजें , क्योंकि मेरी आई डी तो ब्लाक रहती है ! आप सबका मेरे ब्लॉग "5th pillar corruption killer " व इसी नाम से चल रहे पेज , गूगल+ और मेरी फेसबुक वाल पर हार्दिक स्वागत है !!
आप सब जो मेरे और मेरे मित्रों द्वारा , सम - सामयिक विषयों पर लिखे लेख , टिप्प्णियों ,कार्टूनो और आकर्षक , ज्ञानवर्धक व लुभावने समाचार पढ़ते हो , उन पर अपने अनमोल कॉमेंट्स और लाईक देते हो या मेरी पोस्ट को अपने मित्रों संग बांटने हेतु उसे शेयर करते हो , उसका मैं आप सबका बहुत आभारी हूँ !
आशा है आपका प्यार मुझे इसी तरह से मिलता रहेगा !!आपका क्या कहना है मित्रो ??अपने विचार अवश्य हमारे ब्लॉग पर लिखियेगा !!
सधन्यवाद !!

प्रिय मित्रो , आपका हार्दिक स्वागत है हमारे ब्लॉग पर " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " the blog . read, share and comment on it daily plz. the link is -www.pitamberduttsharma.blogspot.com., गूगल+,पेज़ और ग्रुप पर भी !!ज्यादा से ज्यादा संख्या में आप हमारे मित्र बने अपनी फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज कर !! आपके जीवन में ढेर सारी खुशियाँ आयें इसी मनोकामना के साथ !! हमेशां जागरूक बने रहें !! बस आपका सहयोग इसी तरह बना रहे !! मेरा इ मेल ये है : - pitamberdutt.sharma@gmail.com. मेरे ब्लॉग और फेसबुक के लिंक ये हैं :-www.facebook.com/pitamberdutt.sharma.7
www.pitamberduttsharma.blogspot.com
मेरे ब्लॉग का नाम ये है :- " फिफ्थ पिलर-कोरप्शन किल्लर " !!
मेरा मोबाईल नंबर ये है :- 09414657511. 01509-222768. धन्यवाद !!
आपका प्रिय मित्र ,
पीताम्बर दत्त शर्मा,
हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार,
R.C.P. रोड, सूरतगढ़ !
जिला-श्री गंगानगर।
" आकर्षक - समाचार ,लुभावने समाचार " आप भी पढ़िए और मित्रों को भी पढ़ाइये .....!!!
BY :- " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " THE BLOG . READ,SHARE AND GIVE YOUR VELUABEL COMMENTS DAILY . !!
Posted by PD SHARMA, 09414657511 (EX. . VICE PRESIDENT OF B. J. P. CHUNAV VISHLESHAN and SANKHYKI PRKOSHTH (RAJASTHAN )SOCIAL WORKER,Distt. Organiser of PUNJABI WELFARE SOCIETY,Suratgarh (RAJ.)

Friday, February 21, 2014

प्रस्तुतकर्ता - सूबेदार जी पटना - " मखतब-मदरसों से भारतीय संस्कृति और राष्ट्रवाद को होता खतरा " -----------!



               देश आज़ादी के पश्चात् देश में मदरसों की संख्या नगण्य थी १९७७-७८ में यह संख्या बढ़कर ५८ से सौ तक थी यह सरकारी आकड़ा है ९० के दसक में यह संख्या बढ़कर २० हज़ार हो गयी जब हम इसका विश्लेषण करते है कि इन सबका बढ़ाना भारतीय परिवेश में कितना महगा पडेगा --! इसका विचार तो करना चाहिए, क्या भारतीय संस्कृति समाप्त करने पर तुले है ये मदरसे-! फिर राष्ट्रीयता पर इसका क्या प्रभाव पड़ रहा है! भारतीय मीमाशंकों के लिए यह विचारणीय विषय है।
           क्या है भारतीय संस्कृति-? सनातन काल से चली आयी ऋषियों-मुनियों द्वारा हजारों-लाखों वर्षो की तपश्चर्या के पश्चात इस मानवतावादी संस्कृति का निर्माण हुआ जिसे हम हिन्दू संस्कृति, हिन्दू धर्म अथवा सनातन धर्म कहते हैं, हमारी भारतीय संस्कृति का निर्माण नदियों के किनारे जंगलों व हिमालय की कंदरावों मे ऋषियों-मुनियों ने बड़ी योजना पूर्वक किया, एक अरब सत्तानवे करोङ पचासी लाख वर्ष पूर्व हमारे वेदों को भगवान ने हमे दिया जो ऋषि विश्वामित्र, अगस्त, लोमहर्षिनी, लोपमुद्रा, दीर्घतमा, ऐलुष, जमदग्नि, ऋचिक और परसुराम जैसे ऋषियों के कंठो मे आकर इनहोने इसके दर्शन किए यानी इस पर सोध किया भगवान राम, श्रीक़ृष्ण जैसे महापुरुषों ने इन आदर्शों पर चलकर हमारा मार्गदर्शन किया, चाणक्य व आदि शंकराचार्य ने इस संस्कृति के आधार पर राष्ट्र निर्माण किया, चन्द्रगुप्त और पुष्यमित्र शुंग जैसे प्रतापी राजाओं ने इस महान राष्ट्र को आधार बना सम्पूर्ण आर्यावर्त का राजनैतिक स्वरूप का निर्माण किया जिनकी महान गाथाओं के आधार पर हम गौरवान्वित होते रहते हैं।

         आज की स्थित पर जब हम विचार करते है तो क्या पाते है ? जहां प्रातः काल मंदिरों पर आरती व पूजा, घंटा -घरियाल के आवाज़ सुनाई देती थी मठ, मंदिरों मे वेद मंत्रो की गूंज सुनाई देती थी वहाँ मस्जिदों पर मक्का-मदीना की आवाज सुनाई दे रहा है खेत-खलिहानों मे धोती कुर्ता दिखाई देता था वहाँ लुंगी दिखाई दे रहा है, परिस्थितियों मे बहुत-कुछ बदल चुका है यदि समय रहते हिन्दू समाज नहीं सचेत हुआ तो परिणाम यह होगा की भारतीय संस्कृति कहानियों मे ही सुनने को मिलेगा, जहां 70 के दशक के पहले मस्जिदों पर ध्वनि विस्तारक की आवाज सुनाई नहीं देती थी वहीं बिना किसी परमिसन किसी सूचना के इतनी तेज आवाज़ ! बच्चो की पढ़ाई मे ब्यवधान हो रहा है कोई सुनने वाला नहीं स्थिति यहाँ तक बिगड़ गयी है कि एक सर्वे के अनुसार 77-78 तक मदरसों की कुल संख्या 88 थी जो सन 2000 तक बढ़कर 20000 हो गयी उसका परिणाम क्या हुआ ? आज इस्लामी टोपी लगाने वाले, अध-कटा पैजामा पहनने वाले, कठमुल्ला दाढ़ी रखने वाले तो हर गली मुहल्ले मे दिखाई ही नहीं दे रहे हिन्दू समाज के प्रति घृणा भी फैला रहे हैं सरस्वती जी की पूजा हो अथवा दुर्गा जी की मूर्ति का विसर्जन का विषय हो हर स्थानो पर विबाद खड़ा करने का प्रयास, सरकारी जमिनो पर मज़ारों के नाम पर कब्जा जहां बड़े पुल, हास्पिटल, सैनिक छावनी, रेलवे स्टेशन अथवा कोई महत्वपूर्ण सरकारी संस्थान सभी स्थानों पर मज़ार बना एक 'आईएसआई' का एजेंट मुल्ला के रूप मे बैठा दिया जा रहा है, बग्लादेशियों की घुसपैठ इतनी हो गयी है की बिहार के किशनगंज, पूर्णिया, अररिया, कटिहार, भागलपुर, झारखंड का पाकुड़, सहबगंज, देवघर इत्यादि जिलों मे हिन्दुओ का रहना दूभर हो गया है उसकी बहन-बेटी सुरक्षित नहीं इतना ही नहीं सामान्य हिन्दू यदि मर जाता है तो उसे फूकने नहीं देते जबर्दस्ती उसे दफनवा देते हैं सभी हिन्दुओ को दबाव पूर्बक इस्लामी पद्धति से लूँगी लगाना पड़ता है प्रत्येक हिन्दू भय के कारण लोटा न रखकर इस्लामी बधना रखता है धीरे-धीरे ये इस्लामी अरबी संस्कृति की ओर बढ़ता देश दिखाई देता है इन मदरसों मे लव जेहाद का बकायदे प्रशिक्षण दिया जाता है यह परिणाम सन2000 तक के 20000 मदरसों का है।
          वर्तमान मे मदरसों की संख्या 35 हज़ार है कुछ लोगो का मानना है की ये संख्या एक लाख है इस समय दस लाख मुल्ला -मौलबी एक करोण इस्लामी क्षात्र, दस साल बाद ये जब भारतीय नगरों, गावों मे आएगे तो उनके स्वच्छंद स्वभाव को कौन रोकेगा ? कौन सेना लड़ेगी इनसे ? क्यों की ये तो इस्लामिक सैनिक है जिसे यह आदेश हैं हिंदुओं की बहन -बेटियो को उठा लाओ, मंदिरो को तोड़ो, मूर्तियों को नष्ट करो, प्रत्येक हिन्दू पहचान से घृणा करो इसलिए हिन्दुओ सोचो-समझो और विचार करो, भारतीय राष्ट्र मठ, मंदिर और गुरुद्वारों के रास्ते से होकर गुजरता है न की मखतब, मदरसों के रास्ते इसलिए हे हिन्दुओ आगे आओ भारतीय संस्कृति और राष्ट्र को बचाओ नहीं तो यह स्मृति ही रह जाएगी। 



                                      what IS this .......?? who is SHE ......?? IS THIS STORY TRUE ...???
रॉबर्ट और प्रियंका की शादी सन 1997 में हुई थी .लेकिन अगर कोई रॉबर्टको ध्यान से देखे तो यह बात सोचेगा कि सोनिया ने रॉबर्ट जैसे कुरूप और साधारण व्यक्ति से प्रियंका की शादी कैसे करवा दी?

क्या उसे प्रियंका के लिएकोई उपयुक्त वर नहीं मिला ,
और यह शादी जल्दी में और चुप चाप क्यों की गयी . ???
वास्तव में सोनिया ने रॉबर्ट से प्रियंका की शादी अपनी पोल खुलने के डर से की थी .
क्योंकि जिस समय सोनिया इंगलैंड में एक कैंटीन में बारगर्ल थी . उसी समय उसी जगह रोबट की माँ मौरीन (Maureen) भी यही कामकरती थी .??

मौरीन को सोनिया और माधव राव की रास लीला की बात पता थी ,
जबवह उसी कैंटीन सोनिया उनको शराब पिलाया करती थी .
मौरीन यह भी जानती थी कि किन किनलोगों के साथ सोनिया के अवैध सम्बन्ध थे .
जब सोनिया राजिव से शादी करके दिल्ली आ गयी ,
तो कुछ समय बाद मौरीन भी दिल्ली में बस गयी .

मौरीन जानती थी कि सोनिया सत्ता के लिए कुछ भी कर सकती है ,
क्योंकि जो भी व्यक्ति उसके खतरा बन सकता था सोनिया ने उसका पत्ता साफ कर दिया ,
जैसे संजय , माधव राव , पायलेट ,जितेन्द्र प्रसाद , योगी , यहाँ तक लोग तो यह भी शक है कि राजीव की हत्या में सोनिया का भी हाथ है ,

वर्ना वह अपने पति केहत्यारों को माफ़ क्यों कर देती ?

चूँकि मौरीन का पति और रॉबर्ट का पिता राजेंदर वडरा पुराना जनसंघी था ,

और सोनिया को डर था कि अगर अपने पति के दवाब ने मौरीन अपना मुंहखोल देगी तो मुझे भारत पर हुकूमत करने और अपने नालायक कु पुत्र राहुल को प्रधानमंत्री बनाने में सफलता नहीं मिलेगी .
इसीलिए सोनिया ने मौरीन के लडके रॉबर्ट की शादी प्रियंका से करवा दी .

............शादी के बाद-की कहानी -..........

राजेंद्र वडरा के दो पुत्र , रिचार्ड और रॉबर्ट और एक पुत्री मिशेल थे .
और प्रियंका की शादी के बाद सभी एक एक कर मर गए या मार दिएगए .
जैसे , मिशेल ( Michelle )सन 2001 में कार दुर्घटना मेंमारी गयी ,
रिचार्ड ( Richard )ने सन 2003 में आत्मह्त्या कर ली .

और प्रियंका के ससुर सन 2009 में एक मोटेल में मरे हुए पाए गए थे .

लेकिन इनकी मौत के कारणों की कोई जाँच नहीं कराई गयी ,

और इसके बाद सोनिया ने रॉबर्ट को राष्ट्रपति और प्रधान मंत्री केबराबर का दर्जा इनाम के तौर पर दे दिया .
तब इस अधिकार को परजिस रॉबर्ट को कोई पडौसी भी नहीं जानता था ,

उसने मात्र आठ महीनों में करोड़ों की संपत्ति बना ली ,और कई कंपनियों का मालिक बन गया , साथ ही सैकड़ों एकड़ कीमती जमीने भी हथिया ली"दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी अच्छी लगे तो प्लीज शेयर करना न भूले .. ....!!
खुदा - खैर - करे - !! आमीन !!
आपका क्या कहना है साथियो !! अपने विचारों से तो हमें भी अवगत करवाओ !! ज़रा खुलकर बताने का कष्ट करें !! नए बने मित्रों का हार्दिक स्वागत-अभिनन्दन स्वीकार करें !

जिन मित्रों का आज जन्मदिन है उनको हार्दिक शुभकामनाएं और बधाइयाँ !!"इन्टरनेट सोशियल मीडिया ब्लॉग प्रेस "
" फिफ्थ पिल्लर - कारप्शन किल्लर "
की तरफ से आप सब पाठक मित्रों को आज के दिन की
हार्दिक बधाई और ढेर सारी शुभकामनाएं
ये दिन आप सब के लिए भरपूर सफलताओं के अवसर लेकर आये , आपका जीवन सभी प्रकार की खुशियों से महक जाए " !!
जो अभी तलक मेरे मित्र नहीं बन पाये हैं , कृपया वो जल्दी से अपनी फ्रेंड-रिक्वेस्ट भेजें , क्योंकि मेरी आई डी तो ब्लाक रहती है ! आप सबका मेरे ब्लॉग "5th pillar corruption killer " व इसी नाम से चल रहे पेज , गूगल+ और मेरी फेसबुक वाल पर हार्दिक स्वागत है !!
आप सब जो मेरे और मेरे मित्रों द्वारा , सम - सामयिक विषयों पर लिखे लेख , टिप्प्णियों ,कार्टूनो और आकर्षक , ज्ञानवर्धक व लुभावने समाचार पढ़ते हो , उन पर अपने अनमोल कॉमेंट्स और लाईक देते हो या मेरी पोस्ट को अपने मित्रों संग बांटने हेतु उसे शेयर करते हो , उसका मैं आप सबका बहुत आभारी हूँ !
आशा है आपका प्यार मुझे इसी तरह से मिलता रहेगा !!आपका क्या कहना है मित्रो ??अपने विचार अवश्य हमारे ब्लॉग पर लिखियेगा !!
सधन्यवाद !!

प्रिय मित्रो , आपका हार्दिक स्वागत है हमारे ब्लॉग पर " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " the blog . read, share and comment on it daily plz. the link is -www.pitamberduttsharma.blogspot.com., गूगल+,पेज़ और ग्रुप पर भी !!ज्यादा से ज्यादा संख्या में आप हमारे मित्र बने अपनी फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज कर !! आपके जीवन में ढेर सारी खुशियाँ आयें इसी मनोकामना के साथ !! हमेशां जागरूक बने रहें !! बस आपका सहयोग इसी तरह बना रहे !! मेरा इ मेल ये है : - pitamberdutt.sharma@gmail.com. मेरे ब्लॉग और फेसबुक के लिंक ये हैं :-www.facebook.com/pitamberdutt.sharma.7
www.pitamberduttsharma.blogspot.com
मेरे ब्लॉग का नाम ये है :- " फिफ्थ पिलर-कोरप्शन किल्लर " !!
मेरा मोबाईल नंबर ये है :- 09414657511. 01509-222768. धन्यवाद !!
आपका प्रिय मित्र ,
पीताम्बर दत्त शर्मा,
हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार,
R.C.P. रोड, सूरतगढ़ !
जिला-श्री गंगानगर।
" आकर्षक - समाचार ,लुभावने समाचार " आप भी पढ़िए और मित्रों को भी पढ़ाइये .....!!!
BY :- " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " THE BLOG . READ,SHARE AND GIVE YOUR VELUABEL COMMENTS DAILY . !!
Posted by PD SHARMA, 09414657511 (EX. . VICE PRESIDENT OF B. J. P. CHUNAV VISHLESHAN and SANKHYKI PRKOSHTH (RAJASTHAN )SOCIAL WORKER,Distt. Organiser of PUNJABI WELFARE SOCIETY,Suratgarh (RAJ.)
Posted by PITAMBER DUTT SHARMA

अगर कोई मोदी को गालियाँ दे रहे है ... तो वह महाशय अवश्य इन लिस्ट में से एक है : ---------------------- . 1. नम्बर दो की इनकम से प्रॉपर्...