Posts

Showing posts from July, 2014

ऐ कांग्रेस वालो ज़रा सोच के चलो - !! कांग्रेस यानी गांधी परिवार का रास्ता किधर जायेगा ? साभार - पुण्यप्रसून वाजपेयी

Image
खांटी कांग्रेसी नटवर सिंह ने कांग्रेस का मतलब ही गांधी परिवार के उस मर्म पर हमला किया है, जहां से खड़ा होने के लिये गांधी परिवार को ही व्यूहरचना करनी होगी। छाती पर शहीदी तमगा और विचार के तौर पर त्याग का मुकुट लगाकर ही सोनिया गांधी ने कांग्रेस को खडा किया। सत्ता तक पहुंचाया । लेकिन नटवर सिंह ने जिस तरह राजीव गांधी की हत्या के साथ श्रीलंका को लेकर राजीव गांधी की फेल डिप्लोमेसी और सोनिया गांधी के त्याग के पीछे बेटे राहुल गांधी को मा के मौत का खौफ के होने की बात कही है, उसने गांधी परिवार के उस औरे को भी खत्म किया है जिसके आसरे कांग्रेस हमेशा से खड़ी रही है और कांग्रेस की उस राजीनिति में भी सेंध लगा दी है जो बीते दस बरस से तमाम राजनीतिक दलों के नेताओं की तुलना में सोनिया गांधी को अलग खड़ा करती रही। ऐसे में तीन सवाल काग्रेस और गांधी परिवार के सामने है । पहला, कांग्रेस के सामने अब राजनीतिक रास्ता क्या है। गांधी परिवार का औरा कैसे लौटेगा। सोनिया की राजनीतिक साख कैसे खड़ी होगी। जाहिर है कांग्रेस के सामने मुश्किल यह है कि कटघरे में खड़ा करने वाला शख्स मौजूदा कांग्रेसियों की तुलना में सबसे पुरान…

" अल्लाह के बन्दे ! आजकल अल्लाह छुट्टी पर है " !!

Image
अल्हा छुट्टियों पर है। ​​                                         आजकल मुसलिम देशों मे हर दिन एक नया संकट उभर रहा है। मुसलिम देशो का हाल कुछ-कुछ उत्तर प्रदेश की अखिलेश सरकार के जैसा हो गया है। जिस तरह उत्तर प्रदेश में रोज एक के बाद एक बलात्कार हो रहे है उसी तरह मुसलिम देशो में हर आये दिन युद्ध हो रहा है। ट्विटर पर अंग्रेजों के देवता ने कह दिया कि मुसलिम देशों की देखभाल करना उनके बस मे नहीं है और ना ही ए उनके अधिकार क्षेत्र मे है। अंग्रेजों के देवता के खुद के राज्य में इतनी परेशानिया है की उन्हें रोज कई चक्कर तो मानवधिकार न्यायलय के लगाने पड़ते है। जिस की विश काबुल न करो वो ही एक मुकदमा ठोक देता है।

हिन्दूओ के भगवान को तो भारत से ही फुरसत नही है। भारत में प्रतिदिन धर्म के नाम पर इतनी समस्याओ का समाधान करते करते वो थक जाते है। उसमे से तो कई केस ऐसे होते जिसके लिए उन्हें मुसलमान और ईसाई थानो मे चक्कर लगाने पड़ते है। और यदि गलती से कुछ समय बच गया तो उन्हें उसे उत्तर प्रदेश के व्यवस्था के तरफ लगाना पड़ता है, नहीं तो उसका हाल और बदत्तर हो जायेगा। उत्तर प्रदेश को छोड़कर भी यदि भारत में गरीबी और भ…

" कल शाम , जब मैं , मर गया "....??- पीताम्बर दत्त शर्मा ( लेखक-विश्लेषक-विचारक )

Image
बिना कोई पेन्शन-टेन्शन लिए,बिना किसी दंगे की ज़द में आये, बिना आत्महत्या किये,बिना किसी डॉक्टर के पास गए , बिना किसी एनकाउंटर हुए और बिना अपनी पत्नी के सताए कल शाम को 4 बजे जैसे ही मैंने चाय पी , कप नीचे रख्खा और सोचने लगा कि अगर भगवान मुझे थोड़ा और धन दे दे तो मैं यात्रा कर आऊँ !! इतना सोचा ही था की मेरे सामने दो यमदूत आकर खड़े हो गए !! वो दहाड़ कर हँसे और बोले - कमबखत अभी योजना ही बना रहा है ?? चल अब हम तुम्हें फ्री की यात्रा करवाते हैं , सीधे यमलोक ही लिए चलते हैं !! मैं रोया - चिल्लाया , परन्तु उनपर कोई असर नहीं हुआ ! मैंने अपने ताल्लुकात भी गिनवाए और कुछ लेने - देने की बात भी करी ! परन्तु ना कोई असर होना था और ना ही हुआ !! मुझे रस्सी से बाँध कर दोनों ने , ज़ोर लगाके हईशा !! बोलते हुए उठाया और धम से भैंसे पर डालकर  वो चल पड़े !! मेरा रोना धोना कोई काम नहीं आया !!
              इधर मेरे घर में मुझे 2 घंटे तक तो किसी ने संभाला ही नहीं , तभी पत्नी आई और मुझे ओंधे मुंह पड़ा देख , मुझे हिलाया-डुलाया , कोई हरकत देख वो चिल्लाने लगी ! शोर सुनकर पुत्रवधु और आ गए ! फिर जिसे - जिसे सूचना मिलती गयी स…

"क्या हुआ जब वो "बगदादी"से मिल कर आये "??? आप ही पढ़ लीजिये हमारे मित्र अशोक मिश्र जी की रचना !!

Image
बगदादी से मुलाकात - अशोक मिश्र -: उस्ताद गुनहगार घबराए हुए से मेरे घर में घुसे और मेरे प्रणाम को नजरंदाज करते हुए बोले, यह बताओ, सीआईए वाले जब किसी को पकड़ते हैं, तो क्या बहुत मारते हैं? पहले टॉर्चर करते हैं, उसके बाद गोली मारते हैं या फिर सीधे गोली मार देते हैं? मारने से पहले कुछ खिलाते-पिलाते हैं या खाली पेट ही इस दुनिया-ए-फानी से विदा कर देते हैं?
मैंने कहा, उस्ताद! सीआईए वाले मारते कम और घसीटते ज्यादा हैं। वैसे बात क्या है? दुआ न सलाम, आते ही बंदूक तान दी।
उस्ताद गुनहगार ने इधर-उधर देखते हुए कहा, क्या बताएं, मेरी मति ही मारी गई थी, जो दुनिया के मोस्ट वांटेड अबू बकर अल बगदादी से यों ही टहलते हुए मुलाकात करने जा पहुंचा। खुदा झूठ न बुलवाए, उसने खातिरदारी भी बहुत की। उसके एक चेले ने तो बड़े अदब से हम दोनों की एक तस्वीर भी खींची। लेकिन जब से मालूम हुआ है कि उसे अमेरिका वाले खोज रहे हैं, तब से मुझे दस्त आ रहे हैं। कई तरह की आशंकाएं घेरे हुए हैं। मेरी पत्नी तो अपनी सहेलियों और मोहल्ले की औरतों को भी मुलाकात गाथा सुना आई हैं। अब समझ में नहीं आ रहा है कि क्या करूं? जब सीआईए पूरी दुनिया में बग…

" पुरुष-प्रधान समाज में क्या पुरुष की चलती भी है "??? एक महानुभाव का अनुभव पढ़िए फिर कहिये !!'नो सेक्स' पर पत्नी के बहानों की लिस्ट बना डाली !!!!

Image
पत्नी ने जब-जब सेक्स न करने का बहाना बनाया, सेक्शुअली फ्रस्ट्रेटेड हज्बंड उसे नोट करता गया... लंदन
पत्नी ने जब-जब सेक्स न करने का बहाना बनाया, सेक्शुअली फ्रस्ट्रेटेड हज्बंड उसे नोट करता गया। हफ्तों चले इस 'खेल' में पति ने पत्नी के बहानों की पूरी लिस्ट ही तैयार कर ली।

हफिंगटन पोस्ट की खबर के मुताबिक, आपसी झगड़े के बाद यह लिस्ट रेडिट डॉट कॉम पर अपलोड कर दी गई, हालांकि इसे अब लॉक पोस्ट में बदल दिया गया है।

तीन कॉलम में लिखे बहानों कि यह लिस्ट दिखाती है कि 6 हफ्ते में पत्नी ने सेक्स ना करने के लिए क्या-क्या बहाने बनाए।
                            पहले कॉलम 'ए' में पति ने तारीख, दूसरे कॉलम 'बी' में रिऐक्शन जबकि तीसरे कॉलम 'सी' पति ने पत्नी के बहाने को नोट किया।
लिस्ट बताती है कि पत्नी ने कभी ज्यादा ड्रिंक तो कभी ज्यादा खाने का बहाना बनाकर पति को सेक्स के लिए 'ना' कहा।

सोशल साइट पर शेयर किए गए इस डॉक्यूमेंट में और भी कई तरह के बहाने दर्ज हैं। 'मैं फिल्म देखने की कोशिश कर रही हूं', 'मैं अभी जिम से आई हूं', पति की जिद पर पत्नी ने ऐसे भी बहाने …

"सामान्य-महिला घोषित होने पर ,सूरतगढ़ के नेता लगे मनाने , अपनी पत्नियों को पार्षद-चुनाव हेतु "!!- पीताम्बर दत्त शर्मा(लेखक-विचारक-विश्लेषक)

Image
" दिल के अरमाँ , " लॉटरी " में बह गए , हम सामान्य वर्ग के मर्द चेयर-मैन बनने से रह गए."....!!
            सूरतगढ़ के पाठक मित्रो ! प्यार भरा नमस्कार स्वीकार कीजिये !! यहां के सभी राजनितिक दलों के लगभग 3दर्जन नेता आस लगाए बैठे थे कि हम ही चेयरमैन बनेंगे ! कुछ मेरे मित्र तो इतने उत्साह में थे कि लोग उनके सामने तो नहीं , उनकी पीठ के पीछे से बातें किया करते थे कि देखो !! ये मित्र नेता कितना उतावला है ! अभी तो चैयरमैन की लॉटरी खुलनी है , फिर वार्डों का सीमांकन होना है, फिर वार्डों के आरक्षण की भी लॉटरी खुलेगी , फिर टिकेट मिले या ना मिले , फिर जनता हमें जीते या ना जिताये और फिर पार्टी हमारी को बहुमत मिले या ना मिले तथा पार्टी हमें चेयरमैन का दावेदार बनाये या नहीं तब जाकर हम उस पद तलक पंहुचते हैं ! 
           अब जब सूरतगढ़ की चेयरमैन एक सामान्य वर्ग की महिला ही बनेगी , ये सरकार द्वारा जयपुर में निकाली गयी लॉटरी में साफ़ हो चुका है तो अब भी हमारे मित्रों ने  मानी है !! कल रात से ही वो अपनी पत्नियों को मनाने में लग गए हैं कि भगवान मान जाओ !! तुम तो बस फ़ार्म भरकर हाथ जोड़ कर वार्…

"गाज़ा का बजे बाजा - तो हमें क्यों आये मज़ा " ?? - अन्याय कहीं भी नहीं होना चाहिए ! - पीताम्बर दत्त शर्मा ( विचारक-लेखक-विश्लेषक )

Image
आज माननीय चन्द्र बाबू नायडू जी ने इज़राईल द्वारा गाज़ा पट्टी पर जो हमले किये जा रहे हैं, उन पर अपना विरोध जताया है ! पता नहीं किसके सामने ?!उन्होंने " अरबी ड्रैस में अपनी फोटो भी लगवायी है समाचार पत्रों में ! मैं तो देख कर दंग रह गया !
           यारो पहले भारत में हो रहे अत्याचारों पर अफ़सोस तो प्रकट करलो , जंहाँ आपकी चलती है और कोई सुनता भी है ! आप कोई रूस-अमेरिका-जापान या फ्रांस तो हो नहीं जी आपके निंदा करने से कोई " प्रतिबन्ध " लग जाएंगे , और नहीं मानने पर आप अपने देश के युद्ध पोत रवाना कर दोगे !आदमी को मुंह उतना ही खोलना चाहिए जितना उसका साइज़ हो !! समझे क्या ??
           पता नहीं ये तथाकथित सेकुलर लीडरों की क्या समस्या है !! ना जाने कौन से अपने बॉस को दिखाने के लिए ये अपने ऐसे उलटे सीधे बयान और राजनितिक ढकोंसले  अक्सर करते रहते हैं ,और इनको क्या इनाम में मिलता है , ये हम नहीं समझ पाये आज तक ! अगर इनको धन मिलता है तो क्या वो इतना जरूरी हो गया इनके लिए कि ये देश को भी कुछ नहीं समझते ??
           देश में रह रहे ऐसे मक्कारों का कोई पुख्ता इलाज होना ही चाहिए ! सुरक्षा एजेंस…