Saturday, June 24, 2017

"तड़प"उनकी ,जो पलते हैं दूसरों की फेंकी हुई बोटियों पर"!!- पीताम्बर दत्त शर्मा (लेखक-विश्लेषक)

आजकल देश में एक अस्थिरता का माहौल नज़र आ रहा है!कोई gst को गलत बता रहा है , तो कोई दलितों पर बहुत अत्याचार हो रहे हैं ,ये कह रहा है ! किसी को इस देश में केवल किसान मरते नज़र आ रहे हैं तो कोई पाकिस्तान के साथ फौरन युद्ध चाहता है !कई नयी जातियां आरक्षण कीमांग के साथ तोड़-फोड़ -आगज़नी करती नज़र आ रही हैं , तो कई अलग प्रदेश की मांग करते अपने ही देश के एक हिस्से में लोगों को मरवा रहे हैं !यहां तलक कि इस देश के अंदर विभिन्न रूपों की आड़ में छिपे हुए देश के गद्दार आवारा युवाओं को पैसों का लालच देकर ,बलात्कार,लूटमार,राहजनी और छेड़खानियां चोरियां भी करवा रहा है !क्या आप जानते हैं की ये क्यों हो रहा है ???????
                    केवल इसलिए कि मोदी जी की सरकार और भाजपा की प्रदेश सरकारें ऐसे दुश्मनों की चालों को नाकाम करने वाले काम कर रहीं हैं !ये लोग विश्व में भाजपा की सरकारों को बदनाम करना चाहते हैं क्योंकि जो विश्व के बड़े देश मोदी जी का कहना मान कर उनके मुताबिक निर्णय ले रहे हैं , वो बंद हो जाएँ !भारत की जनता को जागरूक बनना होगा !किसी भी हड़ताल, धरने,जलूस आदि में तब तलक शामिल ना हों जब तलक आप स्वयं उस विषय के बारे में पूरी तरह से ना जानकारी रखते हों ! तोड़फोड़ करना तो बिलकुल भी नहीं चाहिए !क्योंकि आखिर वो हमारा ही नुक्सान होता है !
                  हमें अपने द्वारा चुनी हुई सरकार पर विश्वास होना चाहिए ! हमें किसी भी राजनेता,पत्रकार टीवी चेनेल के एंकर के बहकावे में नहीं आना है !अगर ये सरकार बुरे काम करेगी तो हम अगले चुनावों में इसे हरा देंगे !किसी और अच्छे दल को चुन लेंगे , लेकिन इन कोंग्रेसियों,कॉमरेडों,लालू,माया की पार्टियों को चुनना ही कोई आवश्यक थोड़े ही है !!
जोश में तो रहो ,लेकिन होश भी हमें नहीं खोना है !समझना है दुश्मन की चालों को !




प्रिय "5TH पिल्लर करप्शन किल्लर"नामक ब्लॉग के पाठक मित्रो !सादर प्यारभरा नमस्कार ! वो ब्लॉग जिसे आप रोजाना पढना,शेयर करना और कोमेंट करना चाहेंगे !
link -www.pitamberduttsharma.blogspot.com मोबाईल न. + 9414657511.
इंटरनेट कोड में ये है लिंक :- https://t.co/iCtIR8iZMX.
मेरा इ मेल ये है -: "pitamberdutt.sharma@gmail.com.

No comments:

Post a Comment

" परेशान है हर कोई " क्यों ? - पीताम्बर दत्त शर्मा {लेखक-विश्लेषक}

भारत ,जिसकी संस्कृति में ही ये सिखाया जाता है कि अपने आप से ज्यादा दूसरों की चिंता करो ! दूसरों पर दया करो !अपने हिस्से के भोजन में से किसी...