Posts

Showing posts from December, 2013

असलियत केज़रीवाल जी की वास्तव में है क्या ???? क्या विदेशी कम्पनियों से जुड़े N.G.O.गद्दार हैं ???

Image
कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की अध्यक्षता वाली एनजीओ गिरोह ‘राष्ट्रीय सलाहकार परिषद (एनएसी)’ ने घोर सांप्रदायिक ‘सांप्रदायिक और लक्ष्य केंद्रित हिंसा निवारण अधिनियम’ का ड्राफ्ट तैयार किया है। एनएसी की एक प्रमुख सदस्य अरुणा राय के साथ मिलकर अरविंद केजरीवाल ने सरकारी नौकरी में रहते हुए एनजीओ की कार्यप्रणाली समझी और फिर ‘परिवर्तन’ नामक एनजीओ से जुड़ गए। अरविंद लंबे अरसे तक राजस्व विभाग से छुटटी लेकर भी सरकारी तनख्वाह ले रहे थे और एनजीओ से भी वेतन उठा रहे थे, जो ‘श्रीमान ईमानदार’ को कानूनन भ्रष्‍टाचारी की श्रेणी में रखता है। वर्ष 2006 में ‘परिवर्तन’ में काम करने के दौरान ही उन्हें अमेरिकी ‘फोर्ड फाउंडेशन’ व ‘रॉकफेलर ब्रदर्स फंड’ ने 'उभरते नेतृत्व' के लिए ‘रेमॉन मेग्सेसाय’ पुरस्कार दिया, जबकि उस वक्त तक अरविंद ने ऐसा कोई काम नहीं किया था, जिसे उभरते हुए नेतृत्व का प्रतीक माना जा सके। इसके बाद अरविंद अपने पुराने सहयोगी मनीष सिसोदिया के एनजीओ ‘कबीर’ से जुड़ गए, जिसका गठन इन दोनों ने मिलकर वर्ष 2005 में किया था।
अरविंद को समझने से पहले ‘रेमॉन मेग्सेसाय’ को समझ लीजिए!
अमेरिकी नीतियों को प…

क्यों दिल्ली की सत्ता संभालने में बेखौफ हैं केजरीवाल?

Image
दिल्ली की सरकार को लेकर एक सस्पेंस है। जो किसी को डरा रहा है। किसी को सुख की अनुभूति दे रहा है। किसी को नौसिखिये का खेल लग रहा है। किसी को बदलती सियासी बिसात की खूशबू आ रही है। सस्पेंस में ऐसा है क्या और क्या वाकई दिल्ली की राजनीति समूचे देश को प्रभावित कर सकती है। यह ऐसे सवाल हैं, जिनके जवाब भविष्य के गर्भ में हैं। लेकिन परिस्थितियों को पढ़ें तो कांग्रेस के माथे की शिकन भाजपा की सियासी उड़ान पर लगाम और केजरीवाल की मासूम मुस्कुराहट सस्पेंस को लगातार बढ़ा भी रही है और रास्ता भी दिख रही है। ध्यान दें तो समूची राजनीति का शोध मौजूदा वक्त में गवर्नेंस के उस सच पर आ टिका है जो पारंपरिक आंकड़ों के डिब्बे में बंद है। इसलिये बिजली बिल में पचास फीसदी की कमी और सात सौ लीटर मुफ्त पानी देने के केजरीवाल के वादे को पूरा करने या ना करने पर ही दिल्ली सरकार का पहला सस्पेंस टिका है। जाहिर है आंकड़ों के लिहाज से बिजली-पानी की सुविधा परोसने के केजरीवाल के वादे को परखें तो हर किसी को लगेगा कि यह असंभव है। सब्सिडी पर ही संभव है, लेकिन वह भी कब तक। हजारों-करोड़ों रुपये का खेल हर किसी को नजर आने लगेगा। और फि…

" वर्ष २०१४ आप सब के लिए भरपूर सफलताओं के अवसर लेकर आये , आपका जीवन सभी प्रकार की खुशियों से महक जाए " !!

Image
" गूगल+,ब्लॉग , पेज और फेसबुक " के सभी दोस्तों को मेरा प्यार भरा नमस्कार ! !
                      नए बने मित्रों का हार्दिक स्वागत-अभिनन्दन स्वीकार करें !
                    जिन मित्रों का आज जन्मदिन है उनको हार्दिक शुभकामनाएं और बधाइयाँ !!
                    जो अभी तलक मेरे मित्र नहीं बन पाये हैं ,  कृपया वो जल्दी से अपनी फ्रेंड-रिक्वेस्ट भेजें , क्योंकि मेरी आई डी तो ब्लाक रहती है ! आप सबका मेरे ब्लॉग "5th pillar corruption killer " व इसी नाम से चल रहे पेज , गूगल+ और मेरी फेसबुक वाल पर हार्दिक स्वागत है !!
                      आप सब जो मेरे और मेरे मित्रों द्वारा  , सम - सामयिक विषयों पर लिखे लेख , टिप्प्णियों ,कार्टूनो और आकर्षक , ज्ञानवर्धक व  लुभावने समाचार पढ़ते हो , उन पर अपने अनमोल कॉमेंट्स और लाईक देते हो या मेरी पोस्ट को अपने मित्रों संग बांटने हेतु उसे शेयर करते हो , उसका मैं आप सबका बहुत आभारी हूँ !
                   आशा है आपका प्यार मुझे इसी तरह से मिलता रहेगा !!
प्रिय मित्रो , आपका हार्दिक स्वागत है हमारे ब्लॉग पर " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER &q…

" षड्यंत्रकारी सरकार के मक्कार सलाहकार ", क्या बेड़ा पार लगा पाएंगे अपने राहुल गांधी का। ..??

Image
एक गलती को छुपाने के लिए सौ झूठ बोलने  पड़ते हैं , ये सयाने लोग कहा करते हैं लेकिन जिनको कोई काम नहीं करना होता या फिर कोई गलत काम करना होता है वो लोग षड्यंत्र का सहारा लिया करते हैं !!
                      मित्रो !! जबसे राजनितिक दलों ने अपनी-अपनी विचारधाराओं को त्याग कर एक दुसरे से अनैतिक संबन्ध बनाकर तीसरा-मोर्चा ,u.p.a. n.d.a.और न जेन क्या-क्या नाम के गठबंधन बनाने शुरू किये हैं तबसे ही ऐसे काण्ड  देखने को मिल जाते हैं जिनको छिपाने के लिए इन घाघ नेताओं को षड्यंत्र रचने पड़ते हैं ! जो लोग इन षड्यंत्रों को पहचान कर उनका विरोध करते हैं , उनको नाजायज़ तरीकों से दबाने कि कोशिशे होती रहती हैं !!
                  R.T.I.कार्यकर्ता हों या राजनितिक कार्यकर्त्ता , कर्मचारी हो या फिर कोई अफसर सब समय-समय पर इनके शिकार होते ही रहते हैं ! सेकुलर प्रकृति के नेता ही ज्यादातर ऐसा करते पाये गये हैं या फिर दुसरे शब्दों में कहें तो सेकुलर ही षड्यंत्र रचने में ज्यादा माहिर होते हैं !! आजकल अन्ना टीम , केजरीवाल कि आप पार्टी और कई बाबा इसके शिकार हो रहे हैं !!

             भाई नरेंद्र मोदी जी तो ऐसे लोगों के …

क्या बात है ??? इतनी सख्त हमारी सरकार कब से हो गये ??

Image
नया इंडिया, 19 दिसंबर 2013 : हमारी बाबुओं की सरकार में इतनी हिम्मत अचानक कहां से आ गई? उसने बुलडोजर भेज दिए और चाणक्यपुरी के अमेरिकी दूतावास के आस-पास लगी सीमेंट की बाड़ गिरा दी। उसने अमेरिकी वाणिज्य-दूतावास के अधिकारियों के वे ‘पास’ भी वापस मंगा लिए, जिन्हें दिखाकर वे हवाई अड्डों पर विशेष सुविधाओं के हकदार बन जाते थे। इससे भी बड़ी बात यह कि अमेरिकी दूतावास में काम कर रहे स्थानीय कर्मचारियों के वेतन और भत्तों की जांच भी शुरु कर दी गई है। भारत सरकार अब यह मालूम करेगी कि उन कर्मचारियों को कितनी तनखा मिलती है? अमेरिका में जितनी मिलती है, कहीं उससे कम तो नहीं मिलती है? अमेरिकी कूटनीतिज्ञों के परिवारजन में कौन-कौन हैं? वे समलैंगिक तो नहीं हैं? इतना ही नहीं, लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार शिवशंकर मेनन, विदेश सचिव सुजाता सिंह, गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री सुशील शिंदे और राहुल गांधी ने अमेरिकी सांसदों के प्रतिनिधिमंडल से भी मिलने से मना कर दिया। हमारी विदेश सचिव ने अमेरिकी राजदूत नैंसी पावेल को बुलाकर शिकायत ! …

देश के महान कार्टूनिस्टों की नज़र में देश के हालात कुछ इस तरह के हैं !!

Image
ये है कार्टून भाषा में लिखे गये लेख , जो पढ़ने के साथ-साथ देखे भी जाते हैं ! आप भी इन्हें देख कर पढ़ कर हालातों को जानिये , मनन कीजिये और फिर चर्चा कीजिये हज़ूर           ********









SWAGAT AAP SABKA !!
" आकर्षक - समाचार ,लुभावने समाचार " आप भी पढ़िए और मित्रों को भी पढ़ाइये .....!!!
BY :- " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " THE BLOG . READ,SHARE AND GIVE YOUR VELUABEL COMMENTS DAILY . !!
प्रिय मित्रो , सादर नमस्कार !! आपका इतना प्रेम मुझे मिल रहा है , जिसका मैं शुक्रगुजार हूँ !! आप मेरे ब्लॉग, पेज़ , गूगल+ और फेसबुक पर विजिट करते हो , मेरे द्वारा पोस्ट की गयीं आकर्षक फोटो , मजाकिया लेकिन गंभीर विषयों पर कार्टून , सम-सामायिक विषयों पर लेखों आदि को देखते पढ़ते हो , जो मेरे और मेरे प्रिय मित्रों द्वारा लिखे-भेजे गये होते हैं !! उन पर आप अपने अनमोल कोमेंट्स भी देते हो !! मैं तो गदगद हो जाता हूँ !! आपका बहुत आभारी हूँ की आप मुझे इतना स्नेह प्रदान करते हैं !!नए मित्र सादर आमंत्रित हैं !!HAPPY BIRTH DAY TO YOU !! GOOD WISHES AND GOOD - LUCK !! प्रिय मित्रो , आपका हार्दिक स्वागत है हमा…

" केन्द्र सरकार का अजीब कारनामा , ले बिल,दे बिल,ये बिल,वो बिल," !! भई क्या मजाक है ये ????

Image
पिछले एक वर्ष से भारत की केंद्र में स्थित U.P.A.सरकार अजीब सा व्यवहार करती दिखायी पद रही है ! ना जाने उसे किसका खौफ सता रहा है लेकिन जिसे देखो वोही जल्दी से जल्दी कुछ ऐसा कर दिखाना चाहता है ,जिससे जनता आईएस सरकार के पिछले सभी पापों को भूल जाए और बस इसी एक काम कि वजह से सब वाह-वाह करने लग जाएँ !!

          लेकिन अफ़सोस लाख कोशिशों के बावज़ूद ऐसा होता दिखायी नहीं दे रहा उलटे जो करते हैं वोही गलत हो जाता है !! केंद्र सरकार के धुरंधर योद्धा भी काम नहीं आ रहे ! सोनिया राहुल भी परेशान हैं कि इसी उधेड़बुन में कंही हमारा नाम भी पिट गया तो फिर क्या होगा ???
            मंत्रियों की तो छोड़िये प्रधानमंत्री तलक " कार्टून " बन कर रह गये हैं ! गरीबी का माप दंड हो या विदेश नीतियां हों , पकिस्तान,चाईना,श्रीलंका और बांग्लादेश कि सीमाओं कि सुरक्षा हो या व्यापार नीति ,भ्रष्टाचार को मिटाने की बात हो या बेरोज़गारी की सब क्षेत्रों में इस सरकार को मुंह की खानी पड़ी है !!सैनिकों के सर काटकर लेजाना , सीमाओं का उलंघन करना और भारतीय राजनीतिज्ञों कि अमेरिका के हवाई अड्डों पर दुर्व्यवहार होना भी इस सरकार कि बड़…

हालाँकि मैं भाजपा का कार्यकर्त्ता हूँ , लेकिन फिर भी चाहता हूँ कि " आप " के प्रति लोगों में जो विश्वास जगा है वो टूटने ना पाये ! !

Image
प्यारे विश्वासपात्र मित्रो , विश्वसनीय नमस्कार स्वीकार करें !! क्योंकि आजकल किसीको राम-राम करदें तो वो पहले तो दो बार सोचता है कि ये कौन है और इसने राम-राम कि है तो इसे क्या मतलब हो सकता है जिसके चलते इसने राम राम करी है ! जब वो आश्वस्त हो जाता है कि राम-राम करने वाले का कोई "स्वार्थ " नहीं है तो वो प्यार से राम-राम का जवाब देता है अन्यथा बड़े ही सूखे अंदाज में राम-राम के जवाब में राम-राम की जाती है !! 
            वैसे ही पिछले 65सालों में राजनीतिज्ञों ने ऐसा विश्वास खोया है कि विश्वास शब्द पर ही शक़ होने लगा है ! ऐसे-ऐसे करतब हमारे " माननीय " नेताओं ने कर दिखाए हैं कि पूछिए मत ! अभी आज ही लालू जी को चारा घोटाले से ज़मानत मिली है तो  श्रीमती राबड़ी देवी जी से पहले श्री मति सोनिया गांधी जी ने उनकी रिहाई पर प्रसन्नता दिखायी है !! इतना ही नहीं दो दिन पहले माननीय सर्वोच्च- न्यायालय ने " गे "प्रजाति पर जो निर्णय दिया है उस पर भी सोनिया जी दुखी हो गयीं थीं ! ऐसे क्रियाकलापों और भ्रष्टाचारों से नेताओं का दामन "छलनी " हुआ पड़ा है !! 

           चाहे अन्ना जी …