Tuesday, February 17, 2015

" युवाओं को ऐसे भ्रामक प्रचार से बरगलाया जाना क्या उचित है "??-(पीताम्बर दत्त शर्मा-लेखक-विश्लेषक -09414657511 )

 प्रिय मित्रो , सादर नमस्कार ! आज मैं आपके सामने एक ऐसा विषय ला रहा हूँ , जिसके द्वारा चालाक और फ्रॉड कंपनियां नवयुवक एवं नवयुवतियों को ज्यादा पगार + रहने+और खाने का लालच देकर अपने मायाजाल में फंसा लेते हैं ! और फिर उनको " दौड़ो इंटरव्यू के लिए " के नाम पर ऐसा टारगेट दे देते हैं , साथ ही उनको टारगेट हासिल करने के बाद और " सुहावने-सपने " दिखाकर उनका शोषण करते हैं ! भोले माँ-बाप की भोली संताने जो निम्न-माध्यम वर्ग से आते हैं ऐसी कम्पनियों के शिकार हो जाते हैं !
                             मित्रो आज जब मैं घर से अपने प्रतिष्ठान की तरफ जा रहा था ,तो बाजार के मुख्यस्थान इस विज्ञापन से भरे पड़े थे ! जो मुझे बड़े अखरे ! मैंने एक परचा जो उखड़ा हुआ सा था उसे साथ ही ले लिया ! प्रतिष्ठान पहुंचकर मैंने दिए हुए नम्बर पर डायल किया तो कई बार फोन व्यस्त चल रहा था ! ये भी ऐसे लोगों की प्लान का एक हिस्सा ही होता है !काफी कोशिश करने के बाद एक लड़की की आवाज़ सुनाई पड़ी ! मैंने उस से बा अदब पूछा कि  " क्या ये विज्ञापन उसी " सैमसंग कम्पनी " द्वारा दीवारों पर चस्पा किया गया है जो इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पाद तैय्यार करती है !?? तो वो एक डैम " उखड़ती हुई बोली कि आप इतने खाली हैं जो ये जानने हेतु फोन किया है "!? उसकी इतनी बात सुन कर मैं भी हथ्थे से उखड गया , मैं बोला " मैडम ! आप इस तरह के झूठे विज्ञापन  देकर जनता के साथ खिलवाड़ नहीं कर सकते "!किसी भी  विज्ञापन में विज्ञापन दाता का पूरा नाम और पता होना चाहिए !और विषयवस्तु की पूरी जानकारी उसमे होनी चाहये की नहीं !मैंने अपनी बात को और वज़नी बनाते हुए ये भी जोड़ दिया कि आप शहर में पर्चे ऐसे नहीं चिपका सकते यहाँ नगर पालिका का सालाना ठेका होता है और हर विज्ञापन या होर्डिंग  लगाने वाले को पैसे देने पड़ते हैं !!
                 वो बोली कि आप नॉएडा आ कर अपने पैसे ले जाइए ", ऐसा कहते हुए उसने फोन काट दिया !यानी नॉएडा की कोई कम्पनी राजस्थान में कर्मचारी ढूंढ रही है , ये और भी अचरजवाली बात है ! मैंने पहले सोचा कि प्रशासन को एक विज्ञापन देकर इसकी जांच करवाई जाए या न्यायालय में इस्तगासा किया जाए !  लेकिन हमारे यहाँ कल मोदी जी और कई बड़े नेता आ रहे हैं ,तो मैंने सोचा , पहले ये माध्यम  अपनाते हैं जागरूक  करने हेतु !
                     तो मित्रो !! अगर आपको ये  की मैं सही चल रहा हूँ तो आप इसे शेयर करें अवश्य,अवश्य और अवश्य !! ताकि ठगी बंद हो जाए !

No comments:

Post a Comment

"कुछ नहीं ,है भाता ,जब रोग ये लग जाता".....!!! - पीताम्बर दत्त शर्मा (स्वतंत्र टिप्पणीकार) मो.न.+ 9414657511

वैसे तो मित्रो,! सभी रोग बुरे होते हैं !लेकिन कुछ रोग तो हमारा पीछा छोड़ देते हैं और कुछ आदमी की मौत तलक साथ देते हैं !पुराने जमाने में ऐसे ...