Monday, January 17, 2011

wah bhai wah ! ! ! ! s.montek singh aahluwaliya ji ------------------- ! ! !

प्यारे पाठक मित्रो ,  नमस्ते जी ,   योजना आयोग के उपाध्यक्ष सरदार मोंटेक सिंह आहलुवालिया जी ने फ़रमाया है कि गरीब लोग पेट भरकर और अछा खाने लग्गये हैं इसलिए मंहगाई बढ़ गयी है !अब मैं क्या करूँ इन नीलीआसमानी  पगड़ी वाले गुलामों का ? इन की बुधि पर तरस आता है !भारत की जनता पर दया आती है !मध्यम दर्जे के लोग पिस रहे है और उच्च मध्यम दर्जे के लोग मस्त हैं उन्हें न तो मंहगाई दिखती है और न ही भ्रष्टाचार नज़र आता है ! बड़े स्तर पर न तो विपक्षी पार्टियाँ विरोध कर रहीं हैं और न ही मीडिया कोई क्रांति ला प् रहा है !क्योंकि मिडिया को टी . आर . पी . की फिकर है और सांसदों को अपनी पेंशन की ! ! !स्वार्थ के बिना कोई कार्य नहीं होता यही तो कलयुग की रीत है !ऐसे ही तो नहीं कहते कि सारा आवा ही उत  है   !!  !! !! ---------

No comments:

Post a Comment

"क्या तीन तलाक़ से तलाक़ हो पायेगा"? - पीताम्बर दत्त शर्मा (लेखक-विश्लेषक)

ना जाने किसकी प्रेरणा मुस्लिम महिलाओं को मिली , तीन तलाक़ से पीड़ित कई महिलाएं न्यायालय की शरण में चली गयीं !पीड़ित तो वे कई  समस्याओं से भी व...