Thursday, June 19, 2014

सावधान हो जाइए........................!! अगर आप फेसबुक इस्तेमाल कर रहे हैं तो...........!!


अगर आप फेसबुक इस्तेमाल करते हैं तो यह खबर आपके लिए है. सोशल मीडिया का यह बड़ा प्लेटफॉर्म आपकी पूरी तरह से निगरानी कर रहा है. आप उसका कहां और कैसे इस्तेमाल करते हैं और आपका वहां व्यवहार कैसा है, यह सब वहां ट्रैक हो रहा है. यह खबर एक अंग्रेजी अखबार ने दी है.Damn batteries didn’t last long
उसके मुताबिक गूगल की ही तरह अब फेसबुक भी अपने यूजर की पसंदगी-नापसंदगी और उसका व्यवहार जानना चाहता है. इसके पीछे मंशा यह है कि आपके पेज पर आपकी रुचि और आपके स्वभाव के अनुसार ही विज्ञापन डाले जाएं. आप किसी भी वेबसाइट पर जाएंगे तो फेसबुक को पता चलता रहेगा कि आप कहां हैं. हालांकि इसके लिए आपको लाइक बटन एक बार दबाना होगा. आप किस तरह की वेबसाइट में जा रहे हैं और क्या पढ़ रहे हैं, यह फेसबुक जान जाएगा. वह आपके पढ़ने की आदतों को जान जाएगा. फेसबुक ने यह टेक्नोलॉजी एक ऑटोमेटिक फीचर के जरिये हासिल किया है. लेकिन एक्टिविस्ट का कहना है कि गूगल और फेसबुक को यूजर से संबंधित डेटा का इस्तेमाल उसकी अनुमति से ही करना चाहिए.
विज्ञापनदाताओं के लिए फेसबुक एक तरह से डेटा बैंक बना रहा है ताकि वह उपयुक्त लोगों के सामने विज्ञापन कर सकें. फेसबुक से प्राप्त डेटा को डेटा ब्रोकर कंपनियां प्रॉसेस कर लेती हैं और उन्हें यूजर के प्रोफाइल का पता चल जाता
इस डेटा को विज्ञापनदाताओं को दे दिया जाता है और वह अपने हिसाब से यूजर को टारगेट करती हैं.
यह काम कुछ इस तरह से होता है. मान लीजिए आप फैशन और एक्सेसरीज की साइट पर जाते रहते हैं. ऐसी हालत में माना जाएगा कि आप इनके शौकीन हैं और आपको फैशन का सामान बनाने वाली कंपनियां विज्ञापन बेहतर ढंग से दे पाएंगी. फेसबुक के लिए यह बड़ा बिजनेस होगा. इसके पहले गूगल ने इस तरह के डेटा के जरिए13 अरब डॉलर की कमाई की थी. फेसबुक इससे भी बड़ा बिजनेस करना चाहता है.
कुछ देशों खासकर यूरोप में यूजर की अनुमति के बगैर डेटा इकट्ठा करना गलत है और इसके लिए कानून बने हुए हैं. उनका मानना है कि यह निजता का हनन है. इसके लिए गूगल और फेसबुक के यूजर की अनुमति लेनी चाहिए. हालांकि फेसबुक ने ऑप्ट आउट की व्यवस्था कर रखी है लेकिन बहुत कम लोग इसके बारे में जानते हैं.
http://www.aboutads.info/choices/ आप इस साईट पर जाकर चेक कर सकते है कि आप कि इन्टरनेट गतिविधियों पर कौन कौन सी क्म्पानियां नजर रख रही है और आप “सबमिट” ऑप्शन यूज करके आपकी पसंदीदा क्म्पानियोको सिलेक्ट क
                                               ********************************************
                                                      
                                                      

                                               बबूल के पेड़ पर आम...........!!


फिल्मों की दीवानगी के दौर में कई साल पहले एक बार प्रख्यात गायिका लता मंगेशकर मेरे जिला मुख्यालय में कार्यक्रम देने आई, तो मेरे शहर के काफी लोग भी बाकायदा टिकट लेकर वहां कार्यक्रम देखने गए. लेकिन उनसे एक गड़बड़ हो गई. तब नामचीन कलाकारों के लिए किसी कार्यक्रम में तीन से चार घंटे लेट से पहुंचना मामूली बात थी. लिहाजा मेरे कुछ परिचितों ने सोचा कि क्यों न बहती गंगा में हाथ धोने की तर्ज पर कोई फिल्म भी देख ली जाए. कलाकार तो लेट आते ही हैं. समय का सदुपयोग हो जाएगा. लेकिन फिल्म देख कर निकलते समय उन्हें विपरीत दिशा से लौटती भीड़ नजर आई. पूछने पर पता चला कि लता मंगेशकर बिल्कुल निश्चित समय पर कार्यक्रम स्थल पर आई, और कुछ गाने गाकर लौट भी गई. यह जानकर फिल्म देख कर निकल रहे कलाप्रेमियों को मानो सांप सूंघ गया. उनकी टिकट बेकार गई और लोगों में जगहंसाई हुई, सो अलग.Preity-and-Ness-Wadia1
एक कलाकार की अनुशासनप्रियता के इस प्रसंग का उदाहरण मौजूदा दौर की फिल्म अभिनेत्री प्रीति जिंटा के संदर्भ में काफी महत्वपूर्ण हैं, जो इन दिनों एक अप्रिय घटना व विवादों के चलते चर्चा में है. यह नए जमाने का फंडा बन गया है कि तथाकथित बड़े लोग अपने लिए बिल्कुल उन्मुक्त और उच्श्रंखल जीवन चाहते हैं, लेकिन इसकी स्वाभाविक प्राप्ति होने पर आम इंसान की तरह बौखला भी उठते हैं.
यानी बबूल के पेड़ पर आम की तलाश करेंगे औऱ न मिलने पर हाय -तौबा मचाएंगे. क्या पता सब कुछ प्रचार पाने के लिए किया जाता हो. वैसे सच्चाई यही है कि प्रीति जिटा की कोई ज्यादा फिल्में नहीं चली. अपने कैरियर के शुरूआती दौर में प्रीति ने असम जाकर आतंकवादी संगठन उल्फा के खिलाफ कुछ बयान दे दिया, तो समाज के एक वर्ग ने उन्हें फौरन बहादुर लड़की का खिताब थमा दिया. एक सिगरेट कंपनी ने उन्हें बहादुरी का पुरस्कार भी दे डाला.
देश में होने वाली लोमहर्षक घटनाओं के दौरान प्रीति को मोमबत्ती लेकर चलते और मीडिया में बड़ी – बड़ी बातें करते हुए भी अक्सर देखा- सुना जाता है. वैसे उनकी चर्चा फिल्मों में अभिनय के लिए कम और अाइपीएल खेलों में उनकी भूमिका के लिए ज्यादा होती है. अपनी जीवन शैली से वे पेज थ्री कल्चर का खूब पोषण करती है. जिंटा विवाद के दूसरे पक्ष नेस वाडिया के साथ उनकी जो तस्वीरें मीडिय़ा में आ रही है, उससे पता चलता है कि उनके साथ प्रीति की कितनी नजदीकियां थी. एेसे में बदसलूकी का उनका आरोप रहस्यमय ही जान पड़ता है.
खैर रंगीन दुनिया के दूसरे विवादों की तरह जल्द ही यह मामला भी ठंडे बस्ते में चला जाएगा. लेकिन सच्चाई यही है कि प्रीति के अारोपों में सच्चाई होने या न होने के बावजूद इस प्रकरण से उन्हें जबरदस्त प्रचार जरूर मिल गया, जो समाज के लिए एक विडंबना ही है. क्योंकि तथाकथित सेलीब्रिटीज चर्चा में बने रहने के लिए गलत तरीके आजमाने लगे हैं. मी़डिया भी एेसे गाशिप्स को खूब हवा देता है. लेकिन मूर्ख तो बनती जनता ही है.
सबसे़ बड़ी बात यह कि यदि वाडिया ने सचमुच गलती की है तो यह गंभीर बात है और पुलिस इस मामले मे कारवाई करने में आखिर इतना समय क्यों ले रही है, क्या इसलिए कि मामला रईसजादे से जुड़ा है. क्या यही आरोप यदि किसी साधारण आदमी पर लगा होता तो क्या तब भी पुलिस कार्रवाई करने में इतना ही समय लेती. साधारण मामलो में तो पुलिस आरोपी पर तत्काल घरेलू हिसा या छेड़छाड़ का मामला दर्ज कर लेती है.
                                                        *****************************************

                         

मेरी पैदाइश की वजह मैं तो नहीं थी......................?????

                                       
मेरी पैदाइश की वजह मैं तो नहीं थी, जो मुझसे मेरा घर भी छीन लिया..
इस चित्र में दिखाई दे रही हर लडकी की यही सदा है..
मुंबई के कमाठीपुरा और पीला हाउस इत्यादि बदनाम इलाकों में बहुतेरी ऐसी लड़कियां हैं, जिन्हें ये भी नहीं पता कि उनका पिता कौन है..इन लड़कियों के बीच से निकली इन दस लड़कियों को महज़ इसलिए घर से निकाल फेंका गया है क्योंकि वे सेक्स वर्करों की लड़कियां हैं.. Find a safe home for teenage girls evicted in Mumbai
तेरह से उन्नीस साल की इन दस बच्चियों की सदा (आवाज़) आई है..
“I was thrown out of my house for no fault of mine.”
हम इनको इनके पिता से तो नहीं मिलवा सकते हैं, मगर इनकी आवाज़ में आवाज़ मिलाने के साथ साथ इनको समाज की मुख्यधारा में शामिल करने के प्रयत्न तो कर ही सकते है..
क्या हम सबको मिल कर सड़क पर फेंक दी गई इन दस बच्चियों की मदद करनी चाहिए..
यह लड़कियां एक याचिका के लिए हस्ताक्षर अभियान चला रहीं हैं.. इनकी मदद कीजिये अपना समर्थन देने के लिए.. इस याचिका पर हस्ताक्षर करें.. इसे समस्त हस्ताक्षरों सहित भारत की महिला और वाल विकास मंत्री मेनका गाँधी को भेजा जायेगा.. जानवरों से प्यार करने वाली मेनका इन ठुकराए हुए इंसानी बच्चों के साथ कैसा व्यवहार करती हैं ये देखना दिलचस्प रहेगा..
                                                    ******************************************

                    आपका क्या कहना है साथियो !! अपने विचारों से तो हमें भी अवगत करवाओ !! ज़रा खुलकर बताने का कष्ट करें !! नए बने मित्रों का हार्दिक स्वागत-अभिनन्दन स्वीकार करें !
जिन मित्रों का आज जन्मदिन है उनको हार्दिक शुभकामनाएं और बधाइयाँ !!
"इन्टरनेट सोशियल मीडिया ब्लॉग प्रेस "
" फिफ्थ पिल्लर - कारप्शन किल्लर "
की तरफ से आप सब पाठक मित्रों को आज के दिन की
हार्दिक बधाई और ढेर सारी शुभकामनाएं !!
ये दिन आप सब के लिए भरपूर सफलताओं के अवसर लेकर आये , आपका जीवन सभी प्रकार की खुशियों से महक जाए " !!
मित्रो !! मैं अपने ब्लॉग , फेसबुक , पेज़,ग्रुप और गुगल+ को एक समाचार-पत्र की तरह से देखता हूँ !! आप भी मेरे ओर मेरे मित्रों की सभी पोस्टों को एक समाचार क़ी तरह से ही पढ़ा ओर देखा कीजिये !! 
" 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " नामक ब्लॉग ( समाचार-पत्र ) के पाठक मित्रों से एक विनम्र निवेदन - - - !!
प्रिय मित्रो , 
सादर नमस्कार !!
आपका हार्दिक स्वागत है हमारे ब्लॉग ( समाचार-पत्र ) पर, जिसका नाम है - " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " कृपया इसे एक समाचार-पत्र की तरह ही पढ़ें - देखें और अपने सभी मित्रों को भी शेयर करें ! इसमें मेरे लेखों के इलावा मेरे प्रिय लेखक मित्रों के लेख भी प्रकाशित किये जाते हैं ! जो बड़े ही ज्ञान वर्धक और ज्वलंत - विषयों पर आधारित होते हैं ! इसमें चित्र भी ऐसे होते हैं जो आपको बेहद पसंद आएंगे ! इसमें सभी प्रकार के विषयों को शामिल किया जाता है जैसे - शेयरों-शायरी , मनोरंहक घटनाएँ आदि-आदि !! इसका लिंक ये है -www.pitamberduttsharma.blogspot.com.,ये समाचार पत्र आपको टविटर , गूगल+,पेज़ और ग्रुप पर भी मिल जाएगा ! ! अतः ज्यादा से ज्यादा संख्या में आप हमारे मित्र बने अपनी फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज कर इसे सब पढ़ें !! आपके जीवन में ढेर सारी खुशियाँ आयें इसी मनोकामना के साथ !! हमेशां जागरूक बने रहें !! बस आपका सहयोग इसी तरह बना रहे !! मेरा इ मेल ये है : - pitamberdutt.sharma@gmail.com. मेरे ब्लॉग और फेसबुक के लिंक ये हैं :-www.facebook.com/pitamberdutt.sharma.7
www.pitamberduttsharma.blogspot.com
मेरे ब्लॉग का नाम ये है :- " फिफ्थ पिलर-कोरप्शन किल्लर " !!
मेरा मोबाईल नंबर ये है :- 09414657511. 01509-222768. धन्यवाद !!
जो अभी तलक मेरे मित्र नहीं बन पाये हैं , कृपया वो जल्दी से अपनी फ्रेंड-रिक्वेस्ट भेजें , क्योंकि मेरी आई डी तो ब्लाक रहती है ! आप सबका मेरे ब्लॉग "5th pillar corruption killer " व इसी नाम से चल रहे पेज , गूगल+ और मेरी फेसबुक वाल पर हार्दिक स्वागत है !!
आप सब जो मेरे और मेरे मित्रों द्वारा , सम - सामयिक विषयों पर लिखे लेख , टिप्प्णियों ,कार्टूनो और आकर्षक , ज्ञानवर्धक व लुभावने समाचार पढ़ते हो , उन पर अपने अनमोल कॉमेंट्स और लाईक देते हो या मेरी पोस्ट को अपने मित्रों संग बांटने हेतु उसे शेयर करते हो , उसका मैं आप सबका बहुत आभारी हूँ !
आशा है आपका प्यार मुझे इसी तरह से मिलता रहेगा !!आपका क्या कहना है मित्रो ??अपने विचार अवश्य हमारे ब्लॉग पर लिखियेगा !!
सधन्यवाद !!
आपका प्रिय मित्र ,
पीताम्बर दत्त शर्मा,
हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार,
R.C.P. रोड, सूरतगढ़ !
जिला-श्री गंगानगर।
" आकर्षक - समाचार ,लुभावने समाचार " आप भी पढ़िए और मित्रों को भी पढ़ाइये .....!!!
BY :- " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " THE BLOG . READ,SHARE AND GIVE YOUR VELUABEL COMMENTS DAILY . !!
Posted by PD SHARMA, 09414657511 (EX. . VICE PRESIDENT OF B. J. P. CHUNAV VISHLESHAN and SANKHYKI PRKOSHTH (RAJASTHAN )SOCIAL WORKER,Distt. Organiser of PUNJABI WELFARE SOCIETY,Suratgarh (RAJ.) 
Posted by PITAMBER DUTT SHARMA  

1 comment:

  1. आपके एक पोस्ट में सभी तरह की जानकारियाँ थी ..बहुत खूब |

    ReplyDelete

2014 की कॉरपोरेट फंडिग ने बदल दी है देश की सियासत !!

चुनाव की चकाचौंध भरी रंगत 2014 के लोकसभा चुनाव की है। और क्या चुनाव के इस हंगामे के पीछे कारपोरेट का ही पैसा रहा। क्योंकि पहली बार एडीआर न...