Saturday, November 7, 2015

करियर के पहले संपादक ने सिखाया , “पत्रकारिता जीने का तरीका है”

मौजूदा दौर में पत्रकारिता करते हुये पच्चीस-छब्बीस बरस पहले की पत्रकारिता में झांकना और अपने ही शुरुआती करियर के दौर को समझना शायद एक बेहद कठिन कार्य से ज्यादा त्रासदियों से गुजरना भी है। क्योंकि 1988-89 के दौर में राजनीति पहली बार सामाजिक-आर्थिक दायरे को अपने अनुकूल करने के उस हालात से गुजर रही थी और पत्रकारिता ठिठक कर उन हालातों को देख-समझ रही थी , जिसे इससे पहले देश ने देखा नहीं था । भ्रष्टाचार के कटघरे में राजीव गांधी खड़े थे । भ्रष्टाचार के मुद्दे के आसरे सत्ता संभालने वाले वीपी सिंह मंडल कमीशन की थ्योरी लेकर निकल पड़े और सियासत में साथ खड़ी बीजेपी ने कमंडल थाम कर अयोध्या कांड की बिसात बिछानी शुरु कर दी । और इसी दौर में नागपुर से हिन्दी अखबार लोकमत समाचार के प्रकाशन लोकमत समूह ने शुरु किया । जिसका वर्चस्व मराठी पाठकों में था । और संयोग से छब्बीस बरस पहले भी मेरे जहन में नागपुर की तस्वीर तीन कारणों से बनी थी । पहली , संघ का हेडक्वार्टर नागपुर में था । दूसरा बाबा साहेब आंबेडकर के सामाजिक-राजनीतिक प्रयोग की जमीन नागपुर थी और तीसरा आंध्रप्रदेश से निकलकर महाराष्ट्र के विदर्भ में नक्सलवाद की आहट पीपुल्सवार ग्रुप के जरीये सुनायी दे रही थी । तीनो हालात वक्त के साथ कही ज्यादा तीखे सवाल समाज को भेदेंगे। यह मेरे जहन में दिल्ली से नागपुर के लिये निकलते वक्त भी था । लेकिन उस वक्त एक सवाल जहन में जरुर था कि दिल्ली की पढाई बीच में छोड़कर अगर नागपुर में लोकसमत समाचार से जुड़ने जा रहा हूं तो फिर उस अखबार का संपादक खासा मायने रखेगा । क्योंकि संपादक की समझ का दायरा आने वाले वक्त को किस रुप में देखता समझता है और कैसे हर दिन की रिपोर्टिग को एक बडे कैनवास में समझ पाता है । यह कितना जरुरी है यह ट्रेनिंग तो पटना-दिल्ली की खाक छानते हुये पढ़ाई के दौर में ही हो चली थी । इसलिये नागपुर में लोकमत समाचार से जुड़ते ही पहली नजर संपादक की तरफ गई । एस एन विनोद । कमाल है यह तो संपादक नहीं लगते । मेरी पहली प्रतिक्रया नागपुर से दिल्ली लौटने के बाद अपने दोस्तों के बीच यही थी । कि कोई संपादक किसी रिपोर्टर की तरह खबरों को लेकर किस तरह बैचेन हो सकता है यह मेरे लिये नया था। क्योंकि संपादक को विचार-विमर्श के दायरे में चिंतनशील ही ज्यादा माना गया या कहे बनाया गया या फिर मेरे जहन में यही तस्वीर थी । और किसी रिपोर्टर की तरह संपादक के तेवर से दो दो हाथ करने की असल शुरुआत भी नागपुर से ही हुई । जो दिखायी दे रहा है । दिखायी देने के बाद जो सवाल आपके जहन में है । उन्हीं सवालो को पन्नों पर उकेरना सबसे कठिन काम होता है। और अगर वह सवाल रिपोर्ट की तर्ज पर छापे जायें तो कहीं ज्यादा मुश्किल होता है लिख पाना। 


यही तभी संभव है जब आपके सरोकार लोगों से हों। लगातार समाज में जो घट रही है उससे आप कितने रुबरु हो रहे हैं। कोई जरुरी नहीं है कि किसी घटना के घटने के बाद ही घटना पर रिपोर्ट करने के वक्त आप वहा जाकर घटना की बारीकियों को समझें। और उसके बाद लिखें। अगर आप रोज ही लोगों से मिल रहे हैं या कहें आप पत्रकारिता को जीवन ही मान चुके हैं तो फिर आपका दिमाग हर वक्त पत्रकार को ही जीयेगा। और जब कोई घटना होगी उसको कितने बडे कैनवास में आप कैसे रख सकते हैं या फिर आपकी रिपोर्ट ही घटना स्थल पर जायजा लेने ना जा पाने के बावजूद बेहतरीन होगी । क्योंकि हालात को कागजों पर उभारते वक्त आप रिपोर्टर नहीं होते बल्कि अक्सर घटना को महसूस करने वाले एक आम व्यक्ति हो जाते हैं । पत्रकारिता की यह ऐसी ट्रेनिंग थी जो अखबार यानी लोकमत समाचार निकलने से पहले या कहें निकालने की तैयारी के दौर संपादक एसएन विनोद के साथ रहते हुये सामान्य सी बातचीत में निकलती चली गई । और मेरे जैसे शख्स के लिये पत्रकारिता जीने का तरीका बनती चली गई । लोकमत समाचार का प्रकाशन तो 14 जनवरी 1989 से शुरु हुआ लेकिन पटना-दिल्ली से निकल कर नागपुर जैसे नये शहर को समझने के लिये अक्टूबर 1988 से ही सभी ने नागपुर में डेरा जमा लिया था । खुद संपादक ही अपनी कार से अगर शहर घुमाने-बताने निकल पड़े तो संवाद बनाने और संपादक को दोस्त की तरह देखने-समझने में देर नहीं लगती। कई बार यह भूल भी साबित होती है लेकिन संपादक के हाथ अगर अखबारों के मालिक मजबूत किये रहते हैं तो फिर संपादक भी कैसे नये नये प्रयोग करने की दिशा में बढ सकता है यह मैंने बाखूबी एसएन विनोद के साथ करीब पांच बरस काम कर जान लिया । क्योंकि संघ हेडक्वार्टर में सरसंघचालक देवरस के साथ बैठना-मुलाकात करना । कई मुद्दों पर चर्चा करना । दलितों के भीतर के आक्रोश को अपनी पत्रकारीय कलम में आग लगाने जैसे अनुभव को सहेजना । दलित युवाओ की टोली के दलित रंगभूमि के निर्माण को उनके बीच बैठकर बारीकी से समझना । और नक्सलियों के बीच जाकर उनके हालातों को समझने का प्रयास । सबकुछ नागपुर में कदम रखते ही शुरु हुआ । हो सकता है कोई दूसरा संपादक होता तो रोकता । शायद अपनी सोच को लादकर रास्ता बताने का भी प्रयास करता । लेकिन एसएन विनोद ने ना रोका । ना बताया । सिर्फ सुना । और जो मैंने लिखा उसे छापा । कमाल के तेवर थे उस दौर में । आडवाणी की रथयात्रा नागपुर से गुजरे तो संघ हेडक्वार्टर की हलचल । और बाबरी मस्जिद ठहाने के बाद नागपुर के मुस्लिम बहुल इलाके मोमिनपुरा में पुलिस गोलीबारी में 13 लडकों की मौत । रिपोर्टिंग का सिरा कैसे सामाजिक तानेबाने को गूंथते हुये राजनीतिक हालातों को पाठकों के सामने रख सकता है यह एसएन विनोद की संपादकीय की खासियत थी । शंकरगुहा नियोगी की हत्या के बाद खुद ब खुद ही रायपुर और दिल्ली-राजहरा की कादोने के चक्कर लगाकर लौटा तो एनएन विनोद ने सिर्फ इतना ही कहा कि पूरा एक पन्ना नियोगी पर निकालो । जो भी देख कर आये कागज पर लिखो । और मेरे सीनियर को यही हिदायत दी कि व्यारकण ठीक कर देना । विचार नहीं । और जब पूरा पेज शंकरगुहा नियोगी पर निकला और उसे मैंने जनसत्ता के संपादक प्रभाष जोशी को भेजा तो दिल्ली में मुलाकात के वक्त उन्होंने इतना ही कहा । हमारे लिये भी ऐसे मौकों पर लिख दिया करो । हौसला बढ़ा तो उसके बाद दिल्ली के अखबार को ध्यान
में रखकर भी लिखना और मुद्दों को समझना शुरु किया ।

नक्सलवाद शब्द पत्रकारिता में सनसनाहट पैदा करता है, यह मुझे तब भी लगा और आज भी लगता है । लेकिन मैंने नक्सलवाद के मद्देनजर जब विदर्भ के आदिवासियों के हालात को समझना शुरु किया तो जो तथ्य उभरे उसने पहली बार राज्य के आतंक और नक्सलवाद को ढाल बनाकर कैसे योजनाओं के नाम पर करोड़ों के वारे न्यारे होते है उसके मर्म को पकड़ा । टाडा जैसे कठोर आतंकी कानून के दायरे में कैसे 8 बरस से लेकर 80 बरस का आदिवासी फंसाया गया । इसकी रिपोर्टिंग की तो बिना किसी लाग-लपेट उसे जगह दी गई । और एसएन विनोद ने मुझे उकसाया भी कि इसके बडे फलक को पकड़ो । जरुरी नहीं कि पत्रकारिता नागपुर में कर रहे हो तो नागपुर के अखबार में ही छपे । फलक बड़ा होगा तो मुंबई-दिल्ली के अखबार में भी जगह मिलेगी । और हुआ भी यही । 30 जुलाई 1991 में वर्धा नदी से आई बाढ़ में नागपुर जिले का मोवाड डूब गया । फिर लातूर में भूकंप आया ।  फिर चन्द्रपुर-गढचिरोली में नक्सली हिसा में मरने वालो की तादाद बढ़ने लगी । पहली बार नागपुर में सिर्फ नक्सल मामलों के लिये कमीश्नर पद के पुलिस अफसर को नियुक्त किया गया । यानी घटनाओं को कवर करने का एक तरीका और घटना से प्रभावित सामाजिक-आर्थिक हालातो को समझने-समझाने की अलग रिपोर्टिंग । यह बिलकुल अलग नजरिया रिपोर्टिंग का था जिसे संपादक एसएन विनोद ने उभारा । यानी सिर्फ घूमने के तौर पर घटना स्थल पर घटना घटने के दिन-चार दिन बाद जाईये और समझने की कोशिश किजिये कि जमीनी हालात है क्या । लोगो के जीने के सामाजिक-आर्थिक परिस्थितियों में कितना अंतर आया है । जो महसूस किजिये उसे पन्ने पर उकेर दिजिये । हर वक्त खबरो में जीने की तड़प । अखबार के
ले-आउट से लेकर न्यूज प्रिंट की कीमत तक पर चर्चा । सामाजिक तौर पर बतौर संपादक से ज्यादा एक आम शख्स के तौर पर शहर की हर सरगर्मी में शरीक । चाहे वह साहित्य की गोष्ठी हो या रईसो की चुलबुलाहट । या फिर राजनेताओं की गली-पॉलिटिक्स । यानी संपादक ही हर जगह मौजूद रहना चाहे तो रिपोर्टर को मुश्किल होती है । लेकिन रिश्ता अगर रिपोर्टर के लिये संपादक की गाड़ी में सफर करने के मौके से लेकर संपादक को अपने नजरिये से समझाने का हो जाये तो फिर रिपोर्ट के छपने से लेकर संपादक के कैनवास से भी रुबरु होने का मौका मिलता है। दरअसल पत्रकारिता कुछ इस लहजे में होने लगे जो आपको जीने का एहसास भी कराये और मानसिक तौर पर आराम भी दें तो फिर कैसे चौबिसो घंटे और तीन सौ पैसठ दिन काम करते हुये भी छुट्टी उसी दिन महसूस होती है जब कोई बडी रिपोर्ट फाइल हो । शायद वह एसएन विनोद की शुरुआती ट्रेनिंग ही रही जिसके बाद आजतक मैंने पत्रकारिता की लेकिन नौकरी नहीं की और पत्रकारिता से छुट्टी पर कभी नहीं रहा।  क्योंकि पत्रकारिता जीने का तरीका है यह पाठ एसएन विनोद ने ही सिखाया ।

No comments:

Post a Comment

"क्या तीन तलाक़ से तलाक़ हो पायेगा"? - पीताम्बर दत्त शर्मा (लेखक-विश्लेषक)

ना जाने किसकी प्रेरणा मुस्लिम महिलाओं को मिली , तीन तलाक़ से पीड़ित कई महिलाएं न्यायालय की शरण में चली गयीं !पीड़ित तो वे कई  समस्याओं से भी व...