Thursday, December 30, 2010

nav warsh mangalmya ho ! ! ! !

प्रिय पाठक मित्रो ,प्यार भरा नमस्कार  ! आप सब को नया साल मुबारक हो  ! कष्ट अगर नहीं हो तो खुशियों का आनंद नहीं आता ! इसलिए मेरी परमात्मा से विनती है कि कष्ट हमें उतने ही देना जितना हम सह सकें खुशियाँ हमें इतनी देना जितनी हम सब में बाँट सके  !! हम सब आशावादी बने ,यही मेरी कामना है !कोई भूखा पेट नहीं सोये !                                 फिर मिलेंगे                                                                                 धन्यवाद् !  पीताम्बर दत्त शर्मा                                                                                                                            

No comments:

Post a Comment

अभिषेक मनु सिंघवी का हाथ जैसे ही उस अर्द्धनग्न महिला के कमर के उपर पहुँचा ,  महिला ने बड़ी अदा व बड़े प्यार से पूछा - "जज कब बना रहे ह...