"आदरणीय श्री श्री १००८ श्री स्वरूपानन्द जी जैसे संतोँ का ज्ञान परमात्मा की प्राप्ति करवा सकता है या भगत श्रोमणि धन्ना जाट की पूजा विधि बहुत है हमारे लिए"? - पीताम्बर दत्त शर्मा ( विचारक-विश्लेषक-लेखक )

स्वार्थ से भरे हुए हम भगत जनों को जीवन में  कभी - कभी परमात्मा की भी आवश्यकता पड़  जाती है ! ज्यादातर वो समय ऐसा होता है जब हम मुश्किलों में फंसे हुए या रोग ग्रस्त होते हैं ! तब हमें उसकी याद आती है , तब हम निकलते हैं परमात्मा की खोज में ...!!
          कइयों को तो भगवान पड़ोस में ही मिल जाता है , सत्संग करती हुई औरतों , व्रत कथा सुनाते हुए पुजारियों ,या फिर दूर-दराज़ डेरा जमाये बैठे बाबाओं से मिले ज्ञान से ! लेकिन कइयों को अपने धर्म से नहीं किसी दुसरे धर्म को अपना कर परमात्मा मिलने का रास्ता नज़र आता है , तो कोई क्या कर सकता है ?!
          आज कोई भी इस बहस में नहीं पड़ना चाहता कि किसका रास्ता सही है या कौन सा धर्म सच्चा है ! क्योंकि ये निर्णय करने हेतु हर धर्म का शुरू से आज तक का ज्ञान होना आवश्यक है , और वो ज्ञान आज किसी पत्रकार , नेता और धार्मिक बाबाओं को है नहीं क्योंकि कई बाबा तो राजनितिक दलों की गुप्त पैदाईश हैं ! तो सब " सट्टे मारे " जा रहे हैं !! 
           वास्तविकता ये है कि सब जनता को गुमराह कर रहे हैं ! आजकल नेता-व्यपारी -धनी -पत्रकार और संत की यही सोच है कि जैसे वो कहें , सारी दुनिया वैसे ही चले ! क्योंकि कुछ-कुछ ऐसा होने लगता है तो उनका होसला और बढ़ जाता है !
           मुझे याद है जब हम बचपन में अपने माता-पिता के साथ हरिद्वार ऋषिकेश घूमने गए थे तो वंहा हमें एक संत मिले , हमने उनसे पूछा बाबा क्या हम सारे आश्रमों को देखने हेतु जाएँ तो वो बोले - " डाकुओं  संतों में ज्यादा फर्क नहीं होता " इसलिए जिसके बारे में जानते नहीं उस आश्रम में ना जाने में ही  भलाई है " !! ये 1965 की बात है तो आज के संतों की विश्वसनीयता कितनी होगी ये आप स्वयं ही अनुमान लगा लीजिये !!
          इस लिए अगर भगवान को पाना है तो अपने अंदर " कोमलता,सौम्यता,अच्छे विचार और श्रद्धा को लाईये !! तो वो अपने आप आपके अंदर आ जाएंगे !! और अगर आपने ये जानना है कि कौन सा धर्म सच्चा है , तो भारत में सुलभ ग्रंथों का अध्ययन कीजिये , फिर उन पर मनन कीजिये तो अपने आप ही आपको ज्ञान हो जाएगा ! 
       मित्रो !! ये सब टीवी,चेनेल,अखबार वाले , नेता संत और ढेरों वाले आदि-आदि सब " दूकानदार " हैं , ये आपको क्यूँ सही रास्ता बताएँगे ??? हम आम आदमियों के बीच में हज़ारों ऐसे सद्पुरुष या सदमहिलाएं हैं जो वास्तव में परमात्मा को पा चुकीं हैं लेकिन हम उनको नहीं जानते क्योंकि हम अपने घरों से बाहर ही नहीं निकलते , ये जानने हेतु  विश्व में सच्चा भगत कौन है ??
           पहले संत लोग दुसरे संतों को मिलने हेतु यात्रायें किया करते थे ! एक बार श्री गुरु नानक देव जी दक्षिण में एक संतनि से मिलने हेतु गए ! उनकी प्रसिद्धि इतनी थी कि 500 मील दूर होने पर भी उनके गाँव पंहुचने में गुरु जी को कोई मुश्किल नहीं हुई ! जब वो गाँव में पंहुचे तो उन्होंने देखा कि एक ओरत अपने एक उपले की खातिर व्यपारी से लड़ रही है ! और नज़दीक जाने पर उन्हें पता चला की उसकी भाषा भी मद्रासी है लेकिन वो इतना जान गए उसके इशारों से और उसके लहज़े से कि व्यापारी के ढेर में एक उपला उसका है और वो व्यपारी सारे उपले अपने बता रहा है ! तब गुरु जी ने सोचा कि अपने को किसी के झगडे से क्या लेना ,उन्होंने पास खड़े एक सज्जन से पुछा की ये भगतनी कँहा रहती है ? तो उस सज्जन ने उसी ओरत की तरफ अपनी ऊँगली कर दी की यही वो संत महिला हैं ! 
           श्री गुरु नानक देव जी ने अपना माथा पकड़ लिया और सोचने लगे अष्षि यात्रा करायी भगवन तुमने , जो नारी एक उपले के लिए इतनी देर से लड़ रही है वो भला संत कैसे हो सकती है ?? फिर भी वो उस महिला के पास गए अपना परिचय देने ही लगे थे तभी वो महिला हिंदी में बोली आओ नानक ! कैसे आये ?? अभी अपने घर चलते हैं पहले इस पापी को मैं सबक सिखालूं ! गुरु जी भी अचंभित हो गए , कुछ भी बोल नही पाये !! वही महिला बोली मेरा एक उपला इसने बेईमानी से अपने देर में मिला लिया है जबकि तुम कान लगाकर सुनो  नाम की आवाज़ आ रही है , क्योंकि इसे मैंने " नाम " जपते हुए बनाया था ! गुरु जी ने वो उपला उठकर पहले अपने कान से लगाया , फिर उस व्यपारी के कान से लगाया तो उसे समझ में आया ! 

          तो मित्रो सच्चे भगत और सच्चा धर्म ये होता है !!  सालों से नाजाने हिन्दुस्तान में कितने संत बाबे - देवियाँ फ़क़ीर भगवान की तरह पूजे जा रहे थे , तब क्या ये शंकराचार्य जी और उनके अनुयायी सो रहे थे ?? आज जब बड़ी मुश्किल से मोदी जी की सरकार देश में बनी है ,और वो कांग्रेस के बिखेरे हुए कांटे देश की जनता पैरों से निकलने में लगी हुई है जिस से जनता को दर्द भी हो रहा है ,उस पर कांग्रेसी और उनके चमचे हंस-हंस कर हमसे पूछ रहे हैं " अच्छे दिन आ गए क्या " ?? क्या देश की जनता समझते नहीं है इन चालों को ?? कांग्रेसी मित्रों और अन्य सहयोगी दलों के मित्रों को शायद अभी और " सेवा " की ज़रुरत है !!        
                                आपका क्या कहना है साथियो !! अपने विचारों से तो हमें भी अवगत करवाओ !! ज़रा खुलकर बताने का कष्ट करें !! नए बने मित्रों का हार्दिक स्वागत-अभिनन्दन स्वीकार करें !
जिन मित्रों का आज जन्मदिन है उनको हार्दिक शुभकामनाएं और बधाइयाँ !!
"इन्टरनेट सोशियल मीडिया ब्लॉग प्रेस "
" फिफ्थ पिल्लर - कारप्शन किल्लर "
की तरफ से आप सब पाठक मित्रों को आज के दिन की
हार्दिक बधाई और ढेर सारी शुभकामनाएं !!
ये दिन आप सब के लिए भरपूर सफलताओं के अवसर लेकर आये , आपका जीवन सभी प्रकार की खुशियों से महक जाए " !!
मित्रो !! मैं अपने ब्लॉग , फेसबुक , पेज़,ग्रुप और गुगल+ को एक समाचार-पत्र की तरह से देखता हूँ !! आप भी मेरे ओर मेरे मित्रों की सभी पोस्टों को एक समाचार क़ी तरह से ही पढ़ा ओर देखा कीजिये !! 
" 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " नामक ब्लॉग ( समाचार-पत्र ) के पाठक मित्रों से एक विनम्र निवेदन - - - !!
प्रिय मित्रो , 
सादर नमस्कार !!
आपका हार्दिक स्वागत है हमारे ब्लॉग ( समाचार-पत्र ) पर, जिसका नाम है - " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " कृपया इसे एक समाचार-पत्र की तरह ही पढ़ें - देखें और अपने सभी मित्रों को भी शेयर करें ! इसमें मेरे लेखों के इलावा मेरे प्रिय लेखक मित्रों के लेख भी प्रकाशित किये जाते हैं ! जो बड़े ही ज्ञान वर्धक और ज्वलंत - विषयों पर आधारित होते हैं ! इसमें चित्र भी ऐसे होते हैं जो आपको बेहद पसंद आएंगे ! इसमें सभी प्रकार के विषयों को शामिल किया जाता है जैसे - शेयरों-शायरी , मनोरंहक घटनाएँ आदि-आदि !! इसका लिंक ये है -www.pitamberduttsharma.blogspot.com.,ये समाचार पत्र आपको टविटर , गूगल+,पेज़ और ग्रुप पर भी मिल जाएगा ! ! अतः ज्यादा से ज्यादा संख्या में आप हमारे मित्र बने अपनी फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज कर इसे सब पढ़ें !! आपके जीवन में ढेर सारी खुशियाँ आयें इसी मनोकामना के साथ !! हमेशां जागरूक बने रहें !! बस आपका सहयोग इसी तरह बना रहे !! मेरा इ मेल ये है : - pitamberdutt.sharma@gmail.com. मेरे ब्लॉग और फेसबुक के लिंक ये हैं :-www.facebook.com/pitamberdutt.sharma.7
www.pitamberduttsharma.blogspot.com
मेरे ब्लॉग का नाम ये है :- " फिफ्थ पिलर-कोरप्शन किल्लर " !!
मेरा मोबाईल नंबर ये है :- 09414657511. 01509-222768. धन्यवाद !!
जो अभी तलक मेरे मित्र नहीं बन पाये हैं , कृपया वो जल्दी से अपनी फ्रेंड-रिक्वेस्ट भेजें , क्योंकि मेरी आई डी तो ब्लाक रहती है ! आप सबका मेरे ब्लॉग "5th pillar corruption killer " व इसी नाम से चल रहे पेज , गूगल+ और मेरी फेसबुक वाल पर हार्दिक स्वागत है !!
आप सब जो मेरे और मेरे मित्रों द्वारा , सम - सामयिक विषयों पर लिखे लेख , टिप्प्णियों ,कार्टूनो और आकर्षक , ज्ञानवर्धक व लुभावने समाचार पढ़ते हो , उन पर अपने अनमोल कॉमेंट्स और लाईक देते हो या मेरी पोस्ट को अपने मित्रों संग बांटने हेतु उसे शेयर करते हो , उसका मैं आप सबका बहुत आभारी हूँ !
आशा है आपका प्यार मुझे इसी तरह से मिलता रहेगा !!आपका क्या कहना है मित्रो ??अपने विचार अवश्य हमारे ब्लॉग पर लिखियेगा !!
सधन्यवाद !!
आपका प्रिय मित्र ,
पीताम्बर दत्त शर्मा,
हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार,
R.C.P. रोड, सूरतगढ़ !
जिला-श्री गंगानगर।
" आकर्षक - समाचार ,लुभावने समाचार " आप भी पढ़िए और मित्रों को भी पढ़ाइये .....!!!
BY :- " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " THE BLOG . READ,SHARE AND GIVE YOUR VELUABEL COMMENTS DAILY . !!
Posted by PD SHARMA, 09414657511 (EX. . VICE PRESIDENT OF B. J. P. CHUNAV VISHLESHAN and SANKHYKI PRKOSHTH (RAJASTHAN )SOCIAL WORKER,Distt. Organiser of PUNJABI WELFARE SOCIE TY,Suratgarh (RAJ.) 

Comments

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शुक्रवार (04-07-2014) को "स्वप्न सिमट जाते हैं" {चर्चामंच - 1664} पर भी होगी।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

बुलंदशहर बलात्कार कांड को यह ‘मौन समर्थन’ क्यों! ??वरिष्ठ पत्रकार विकास मिश्रा - :साभार -सधन्यवाद !

आखिर ये राम-नाम है क्या ?..........!! ( DR. PUNIT AGRWAL )

भगवान के कल्कि अवतार से होगा कलयुग का अंत !!! ????