Friday, July 4, 2014

" न्यूज़ - माफिया " का संवाददाताओं , उद्घोषकों और अन्य कर्मचारियों पर अत्याचार और शोषण कोई नहीं देख रहा , नाही स्वयं पत्रकार आवाज़ उठा पा रहे है ! क्यों ?? - पीताम्बर दत्त शर्मा


टीवी एंकर के आरोपों पर मीडिया की चुप्पी..

इंडिया टीवी एंकर तनु शर्मा के आत्महत्या के प्रयास और इंडिया टीवी पर आरोपों के प्रकरण में खुद मीडिया की चुप्पी पर सवाल करते हुए बीबीसी हिंदी ने लिखा है कि इस मामले में मीडिया की खुद की चुप्पी सवाल खड़े करती है.. लगता है इस मामले में प्रतिद्वंदिता को दरकिनार करते हुये एक आपसी सहमति की स्थिति में दिख रहे हैं.. जिसमें एक दूसरे की गलतियाँ छिपाने का अलिखित समझौता किया गया है.. साथ ही बीबीसी ने मीडिया में पत्रकार या कर्मचारी यूनियन होने की ज़रूरत पर भी प्रकाश डाला है.. देखिये बीबीसी हिंदी की रिपोर्ट जिसमें तनु शर्मा प्रकरण की पड़ताल और मीडिया की चुप्पी को इंगित किया गया है..

दिल्ली से सटे नोएडा में एक टीवी एंकर की दफ़्तर के बाहर आत्महत्या की कोशिश वैसी सुर्ख़ी नहीं बन सकी, जैसा कि ऐसे दूसरे मामलों में बनती है. टीवी एंकर तनु शर्मा ने अपने एम्प्लॉयर पर प्रताड़ना का आरोप लगाया है, और इंडिया टीवी ने उन पर काम में कोताही का.
tanu_sharma_anchor_india_tv
इस मामले में पुलिस केस दोनों तरफ़ से दर्ज हुए हैं. इसकी मीडिया को ‘ख़बर’ तो है पर ‘कवरेज’ नहीं. समाचार चैनलों के दफ़्तरों के आसपास चाय-सुट्टा के ठीयों पर मीडियाकर्मियों की बातचीत में ज़रूर इसका ज़िक्र है कहीं बेबसी के साथ, कहीं ग़ुस्से और कहीं अविश्वास के साथ.
इस मामले के बारे में इसके अलावा कहीं कोई बात चल रही है, तो वह सोशल मीडिया और मीडिया पर नज़र रखने वाली वेबसाइट्स पर है. दो एक अंग्रेज़ी अख़बारों ने ज़रूर इस मामले को छापा.
मीडिया में काम की जगह पर प्रताड़ना के आरोपों से जुड़ा ये पहला मामला नहीं है. पर तहलका मैगज़ीन के संपादक तरुण तेजपाल के ख़िलाफ़ यौन हिंसा के आरोप को छोड़ दें, तो इससे पहले भी, मीडिया की मुख्यधारा ने अपने ही कर्मियों के साथ प्रताड़ना के किसी अन्य मामले को ख़बरों में जगह नहीं दी है.
बीबीसी ने इसी ख़ामोशी के पीछे की ‘कहानी’ टटोलने की कोशिश की.

तनु शर्मा बनाम इंडिया टीवी

उत्तर प्रदेश पुलिस के मुताबिक़ इंडिया टीवी की एंकर तनु शर्मा ने 22 जून को चैनल के दफ़्तर के आगे ज़हर खाकर आत्महत्या करने की कोशिश की. फ़ेसबुक पर एक ग़ुबार भरा स्टेटस लिखने के बाद.india_tv_screengrab_624x351_indiatv
दफ़्तर के लोगों और पुलिस ने ही उन्हें वक़्त रहते अस्पताल पंहुचाया. तनु बच गईं. अगले दिन घर लौटने पर पुलिस को दिए अपने बयान में तनु ने कहा कि इंडिया टीवी की एक वरिष्ठ सहयोगी ने उन्हें “राजनेताओं और कॉरपोरेट जगत के बड़े लोगों को मिलने” और “ग़लत काम करने को बार-बार कहा”. तनु के मुताबिक़, “इन अश्लील प्रस्तावों के लिए मना करने के कारण मुझे परेशान किया जाने लगा, इसकी शिकायत एक और सीनियर से की तो उन्होंने भी मदद नहीं की, बल्कि कहा कि ये प्रस्ताव सही हैं”. यह बात भी ग़ौर करने लायक़ है कि तनु ने जिन दो वरिष्ठ कर्मियों पर आरोप लगाया है, उनमें से एक महिला है.


तनु का आरोप है कि परेशान होकर उन्होंने एसएमएस के ज़रिए अपने बॉस को लिखा, “मैं इस्तीफ़ा दे रही हूं”, और कंपनी ने इसे औपचारिक इस्तीफ़ा मान लिया, और “इस सबसे मैं ज़हर खाने पर मजबूर हुई”.
इंडिया टीवी ने तनु के आरोपों को बेबुनियाद बताता है. बीबीसी को भेजे एक लिखित जवाब में इंडिया टीवी ने अपने वकील की मार्फ़त कहा है- “तनु ने चार महीने पहले इस चैनल में नौकरी की और वो शुरुआत से ही अपने काम में लापरवाही बरतती रहीं, इसके बारे में उन्हें समझाया गया तो अब वो उन्हीं वरिष्ठकर्मियों को नीचा दिखाने की कोशिश कर रही हैं.” इंडिया टीवी ने बीबीसी हिंदी को इस तरह के “ग़ैरक़ानूनी आरोपों” को प्लेटफ़ॉर्म देने से बचने की हिदायत भी दी.
इंडिया टीवी ने बीबीसी के सवालों के जवाब में कहा, “तनु के बर्ताव को देखते हुए उनके इस्तीफ़े को मंज़ूर करने में हमें कोई झिझक नहीं थी, और उनके कॉन्ट्रैक्ट में इस्तीफ़ा देने के किसी एक माध्यम की चर्चा भी नहीं है, इसलिए हमें एसएमएस भी मंज़ूर है.”
फ़िलहाल मीडिया की सुर्खि़यों से बाहर पुलिस मामले की तहक़ीक़ात कर रही है.
ज़हर खाने से पहले फ़ेसबुक पर तनु शर्मा का पोस्ट.

tanu_sharma_anchor_india_tv_facebook_post_624x351_facebook










मीडिया उद्योग में महिलाओं को ख़तरा?

साल 2013 में ‘इंटरनेशनल न्यूज़ सेफ़्टी इंस्टीट्यूट’ और ‘इंटरनेशनल वीमेन्स मीडिया फ़ाउंडेशन’ ने दुनियाभर की 875 महिला पत्रकारों के साथ सर्वे किया.
सर्वे के मुताबिक़ क़रीब दो-तिहाई महिला मीडियाकर्मियों ने काम के सिलसिले में धमकी और बदसुलूकी झेली है. ज़्यादातर मामलों में ज़िम्मेदार पुरुष सहकर्मी थे.
वरिष्ठ पत्रकार पामेला फ़िलीपोज़ के मुताबिक़ भारत में ये ख़तरा कहीं ज़्यादा है. पामेला कहती हैं, “इसके बारे में चर्चा ही नहीं होती, क्योंकि ख़ुद पत्रकार ही इस मुद्दे को उठाने से डरते हैं और ये चुप्पी मीडिया कंपनियों और उनके कर्मियों के बीच के असमान रिश्ते को दर्शाती है.”
प्रिंट मीडिया को नियमित करने के लिए 1978 में प्रेस काउंसिल ऑफ़ इंडिया की स्थापना की गई थी. पर इससे बिल्कुल अलग, टीवी मीडिया में जब तेज़ी से विस्तार हुआ तो साथ-साथ उसमें काम करनेवाले लोगों के लिए कोई क़ानून या नियम नहीं बनाए गए. पामेला के मुताबिक़ वो ऐसे क़ायदे बनाने में किसी की रुचि भी नहीं देखती हैं.
टेलीविज़न पत्रकारों का प्रतिनिधित्व करने के लिए हाल ही में ‘ब्रॉडकास्टिंग एडीटर्स एसोसिएशन’ बनाई गई लेकिन इस संगठन ने भी तनु शर्मा के मामले में अभी तक अपनी कोई राय ज़ाहिर नहीं की है. न ही संपादकों के संगठन ‘एडीटर्स गिल्ड ऑफ़ इंडिया’ की ओर से इस विषय पर कोई बयान आया है.


press_club_meet_anand_sahay_pamela_philipose_vinay_tewari_624x351_bbc









न्यूज़ चैनल या अपनी जागीर?

तनु शर्मा के आरोपों के सामने आने के बाद दिल्ली में पत्रकारों के संगठन ‘प्रेस क्लब ऑफ़ इंडिया’ और महिला पत्रकारों के संगठन ‘इंडियन वीमेन्स प्रेस कोर’ ने एक संयुक्त प्रेस वार्ता की और कहा कि, “ये मामला एक बार फिर याद दिलाता है कि मीडिया संस्थानों में युवा महिला पत्रकार ऐसे माहौल में काम कर रही हैं जो अच्छे नहीं कहे जा सकते.”
इसी वार्ता में बुलाए गए वरिष्ठ पत्रकारों में से एक, सीएनएन-आईबीएन/आईबीएन-7 के मैनेजिंग एडिटर, विनय तिवारी ने कहा कि टीवी न्यूज़ चैनलों में नेतृत्व की भूमिका निभा रहे कई लोग, “उन जगहों को सामन्ती विचारधारा के तहत अपनी जागीर की तरह चला रहे हैं.”
विनय तिवारी के मुताबिक़ पत्रकारिता जगत की दिक़्क़त प्रोसेस और परसेप्शन के फ़र्क़ में हैं. क्योंकि कोई ठोस और यूनीफ़ॉर्म प्रक्रिया भारतीय चैनलों में नहीं है, जिसकी समझ में जैसे आता है, चैनल चलाता है.
उन्होंने कहा, “ये समझ बहुत व्यक्तिगत होती है, इसलिए जो लोग फ़ैसले करने की भूमिका में हैं, उनके हाथ में बहुत ताक़त है. उस ताक़त का ग़लत इस्तेमाल होने की गुंजाइश बढ़ जाती है.“
ये ताक़त महिला ही नहीं पुरुष पत्रकारों के ख़िलाफ़ भी अक्सर इस्तेमाल होती है.
तहलका के पूर्व संपादक तरुण तेजपाल पर अपनी एक सहकर्मी के साथ यौन हिंसा करने का आरोप है.

tarun_tejpal_624x351_afp










अकेले खड़े पत्रकार

चौबीस घंटे दुनियाभर की ख़बरों को तेज़ी से प्रसारित करने की ज़रूरत के चलते टीवी न्यूज़ चैनलों में काम करने के तौर तरीक़े मुश्किल माने जाते हैं.
वरिष्ठ पत्रकार प्रभात शुंगलू ने भारतीय चैनलों में सालों काम करने के बाद एक उपन्यास भी लिखा है. शुंगलू के मुताबिक़ आम जनता की नज़र में न्यूज़ चैनलों के प्रति बहुत इज़्ज़त और विश्वास होता है और प्रताड़ना के आरोप उसे धूमिल करने की शक्ति रखते हैं.
बीबीसी से बातचीत में उन्होंने कहा, “कहीं ना कहीं टीवी न्यूज़ चैनलों में एकजुटता दिखती है, जिसके तहत वो एक-दूसरे के बारे में ऐसे आरोप या वारदातों को सामने नहीं लाना चाहते, ऐसी शिकायतों को नज़रअंदाज़ करने की एक अनकही सहमति दिखती है.”
अमरीका, ब्रिटेन जैसे अन्य देशों में आज भी पत्रकारों की प्रभावी यूनियन काम कर रही हैं. पर भारत में प्रेस मीडिया के अलावा रेडियो, टीवी जैसे नए माध्यमों में कोई पत्रकार संघ नहीं है.
दिल्ली यूनियन ऑफ़ जर्नलिस्ट्स की अध्यक्ष सुजाता मधोक के मुताबिक़ इस वजह से टीवी पत्रकार बिल्कुल अकेले पड़ जाते हैं, “जब आपका साथ देने के लिए कोई आपके साथ नहीं खड़ा है, तो आप अपने हक़ या समाज के हक़ के लिए कैसे लड़ सकते हैं?”
साथ ही वो मानती हैं कि कॉन्ट्रैक्ट पर नौकरी के चलन ने मौजूदा संघ को भी कमज़ोर किया है.
सुजाता कहती हैं कि तनु शर्मा के मामले में किसकी ग़लती है ये फ़ैसला अभी नहीं सुनाया जा सकता लेकिन ऐसी घटना अगर किसी और कंपनी में होती तो उसको सामने लाने में मीडिया ही आगे होती.
उनके मुताबिक़, “मीडिया में ऐसी सांठ-गांठ है कि एक-दूसरे पर वो निशाना नहीं साधते, एकदम चुप्पी इसी वजह से है.”
 साभार - मिडिया दरबार !!
                                                   **********************                  आपका क्या कहना है साथियो !! अपने विचारों से तो हमें भी अवगत करवाओ !! ज़रा खुलकर बताने का कष्ट करें !! नए बने मित्रों का हार्दिक स्वागत-अभिनन्दन स्वीकार करें !
जिन मित्रों का आज जन्मदिन है उनको हार्दिक शुभकामनाएं और बधाइयाँ !!
"इन्टरनेट सोशियल मीडिया ब्लॉग प्रेस "
" फिफ्थ पिल्लर - कारप्शन किल्लर "
की तरफ से आप सब पाठक मित्रों को आज के दिन की
हार्दिक बधाई और ढेर सारी शुभकामनाएं !!
ये दिन आप सब के लिए भरपूर सफलताओं के अवसर लेकर आये , आपका जीवन सभी प्रकार की खुशियों से महक जाए " !!
मित्रो !! मैं अपने ब्लॉग , फेसबुक , पेज़,ग्रुप और गुगल+ को एक समाचार-पत्र की तरह से देखता हूँ !! आप भी मेरे ओर मेरे मित्रों की सभी पोस्टों को एक समाचार क़ी तरह से ही पढ़ा ओर देखा कीजिये !! 
" 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " नामक ब्लॉग ( समाचार-पत्र ) के पाठक मित्रों से एक विनम्र निवेदन - - - !!
प्रिय मित्रो , 
सादर नमस्कार !!
आपका हार्दिक स्वागत है हमारे ब्लॉग ( समाचार-पत्र ) पर, जिसका नाम है - " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " कृपया इसे एक समाचार-पत्र की तरह ही पढ़ें - देखें और अपने सभी मित्रों को भी शेयर करें ! इसमें मेरे लेखों के इलावा मेरे प्रिय लेखक मित्रों के लेख भी प्रकाशित किये जाते हैं ! जो बड़े ही ज्ञान वर्धक और ज्वलंत - विषयों पर आधारित होते हैं ! इसमें चित्र भी ऐसे होते हैं जो आपको बेहद पसंद आएंगे ! इसमें सभी प्रकार के विषयों को शामिल किया जाता है जैसे - शेयरों-शायरी , मनोरंहक घटनाएँ आदि-आदि !! इसका लिंक ये है -www.pitamberduttsharma.blogspot.com.,ये समाचार पत्र आपको टविटर , गूगल+,पेज़ और ग्रुप पर भी मिल जाएगा ! ! अतः ज्यादा से ज्यादा संख्या में आप हमारे मित्र बने अपनी फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज कर इसे सब पढ़ें !! आपके जीवन में ढेर सारी खुशियाँ आयें इसी मनोकामना के साथ !! हमेशां जागरूक बने रहें !! बस आपका सहयोग इसी तरह बना रहे !! मेरा इ मेल ये है : - pitamberdutt.sharma@gmail.com. मेरे ब्लॉग और फेसबुक के लिंक ये हैं :-www.facebook.com/pitamberdutt.sharma.7
www.pitamberduttsharma.blogspot.com
मेरे ब्लॉग का नाम ये है :- " फिफ्थ पिलर-कोरप्शन किल्लर " !!
मेरा मोबाईल नंबर ये है :- 09414657511. 01509-222768. धन्यवाद !!
जो अभी तलक मेरे मित्र नहीं बन पाये हैं , कृपया वो जल्दी से अपनी फ्रेंड-रिक्वेस्ट भेजें , क्योंकि मेरी आई डी तो ब्लाक रहती है ! आप सबका मेरे ब्लॉग "5th pillar corruption killer " व इसी नाम से चल रहे पेज , गूगल+ और मेरी फेसबुक वाल पर हार्दिक स्वागत है !!
आप सब जो मेरे और मेरे मित्रों द्वारा , सम - सामयिक विषयों पर लिखे लेख , टिप्प्णियों ,कार्टूनो और आकर्षक , ज्ञानवर्धक व लुभावने समाचार पढ़ते हो , उन पर अपने अनमोल कॉमेंट्स और लाईक देते हो या मेरी पोस्ट को अपने मित्रों संग बांटने हेतु उसे शेयर करते हो , उसका मैं आप सबका बहुत आभारी हूँ !
आशा है आपका प्यार मुझे इसी तरह से मिलता रहेगा !!आपका क्या कहना है मित्रो ??अपने विचार अवश्य हमारे ब्लॉग पर लिखियेगा !!
सधन्यवाद !!
आपका प्रिय मित्र ,
पीताम्बर दत्त शर्मा,
हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार,
R.C.P. रोड, सूरतगढ़ !
जिला-श्री गंगानगर।
" आकर्षक - समाचार ,लुभावने समाचार " आप भी पढ़िए और मित्रों को भी पढ़ाइये .....!!!
BY :- " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " THE BLOG . READ,SHARE AND GIVE YOUR VELUABEL COMMENTS DAILY . !!
Posted by PD SHARMA, 09414657511 (EX. . VICE PRESIDENT OF B. J. P. CHUNAV VISHLESHAN and SANKHYKI PRKOSHTH (RAJASTHAN )SOCIAL WORKER,Distt. Organiser of PUNJABI WELFARE SOCIE TY,Suratgarh (RAJ.) 
********
                         

No comments:

Post a Comment

"अब कि बार कोई कार्यकर्ता ही हमारा जनसेवक (विधायक) होगा"!!

"सूरतगढ़ विधानसभा क्षेत्र की जनता ने ये निर्णय कर लिया है कि उसे अब अपना अगला विधायक कोई नेता,चौधरी,राजा या धनवान नहीं बल्कि किसी एक का...