Thursday, February 10, 2011

HE BHAARAT MAATA TERE KITNE DUSHMAN ?? ?? ?? ??

प्यारे मित्रो ,मुस्कराहट भरी नमस्कार  !! आज दैनिक पंजाब केसरी में पढ़ा कि "पहले भारत में एक रबड़ स्टाम्प हुआ करती थी,आज दो हैं,प्रधानमंत्री व राष्ट्रपति अपने द्वारा किये गए किसी कार्य के लिए जिम्मेदार नहीं होते,कलमाड़ी कि करनी के कैसे होंगे"ये शब्द फेस बुक कमेंट्स आफ दा डे में एक युवा अमित मल्होत्रा ने लिखे हैं !इस मुख्यखबर के जवाब में कि"प्रधानमंत्री -राष्ट्रपति के कार्यक्रम को मुझसे जोड़ना गलत"-कलमाड़ी,!! में सोचता ही रह गया कि इतने छोटे बच्चे ने इतनी बड़ी बात कह दी,तो बड़ों को समझ क्यों नहीं आती !! या वे जानबूझ कर देश को लूटने के लिए ऐसा कह रहे हैं ?? तभी में सोचने पर मजबूर हुआ कि हे भारत माता तेरे कितने                               दुश्मन?? ?? ??     कोई वेदों,ग्रंथों और सदाचार से भरे साहित्य को पढने से युवाओं का ध्यान तरह-तरह से हटा रहा है ,तो कोई महिलाओं को आधुनिकता व अधिकारों के नाम पर भड़का रहा है,कोई धर्मों-जातियों में बाँट रहा है,तो कोई आरक्षण का  जहर घोल कर भाई-भाई फूट डाल रहा है,कोई पैसे की भूख बढ़ा रहा है,तो कोई मनोरंजन के नाम पर रिश्तों में जहर घोल रहा है !! दुश्मनों के एजेंट ऐसी ऐसी पदवियों और समाजसेवियों के चोलेपहन कर आते हैं कि हमारे रक्षक ही उन्हें टी.वी.पर बिठा कर देश हित के सवाल पूछते हैं ,और वो कहते हैं कि भारत इतना कमजोर देश नहीं कि छोटी मोटी बातों से टूट जाये  हमें आज़ाद विचारों वाला बनना चाहिए वगेरह वगेरह !! ऊपर से लेकर नीचे तक हर जगह हर भेष में देश के दुश्मन बैठे हैं !!जरूरत है ढूंढ -ढूंढ कर मारने की!!  !!  !!क्रान्ति आनी चाहिए , क्रांति लानी चाहिए ,और क्रांति आएगी ---------आएगी --------आएगी  !!     !!!     !!!!!   आमीन   !!!   !!!      

No comments:

Post a Comment

"क्या तीन तलाक़ से तलाक़ हो पायेगा"? - पीताम्बर दत्त शर्मा (लेखक-विश्लेषक)

ना जाने किसकी प्रेरणा मुस्लिम महिलाओं को मिली , तीन तलाक़ से पीड़ित कई महिलाएं न्यायालय की शरण में चली गयीं !पीड़ित तो वे कई  समस्याओं से भी व...