Wednesday, October 7, 2015

"भारतीय संविधान के "शक्ति-पुंजो"इन नवरात्रों से अपनी शक्तियों का देश-हित में उपयोग करना शुरू कर दो न प्लीज़ "!! - पीताम्बर दत्त शर्मा (लेखक-विश्लेषक) मो. न. - 9414657511 .

        1950. में जब संविधान सभा ने भारत का संविधान बनाया तो उस समय के विद्वान महा-पुरुषों ने ये सोचा भी नहीं था कि इस देश में आज जैसे हालात भी पैदा हो सकते हैं !भारत में भारतीय संविधान की धाराओं को अक्षरशः लागू करवाना तो दूर अब तो यहाँ मानवता और नैतिकता भी खतरे में पड़ती नज़र आ रही हैं !चुनाव का समय तो नेताओं की बेशर्मी का सीज़न होता है ! जो चाहे वो बोल दो और जो चाहो वो कर दो ! चुनाव-आयोग तो कागज़ी-शेर भर बनकर रह गया है !
            कहने को तो इस देश में , मानवाधिकार आयोग, महिला आयोग और बाल सरंक्षण जैसी संस्थाएं भी हैं, जिनको भारतीय संविधान का आशीर्वाद भी प्राप्त रहता है ! और तो और इस देश में राष्ट्रपति,उपराष्ट्रपति,लोकसभाध्यक्ष,गवर्नर,लोकपाल और कैग जैसे पद भी बनाये गए हैं , जिनका काम ही यही है की ये सब उस वक़्त सक्रिय हों जब भारत में कोई संविधानीय संकट पैदा हो जाए !लेकिन हाय री किस्मत !! सक्रिय होना तो दूर , इनके कानों पर तो जूँ ही नहीं रेंगती !हर कोई अपनी इच्छानुसार इस  चलना चाहता है , क्योंकि यहाँ हर कोई केवल अपनेआप को काबिल और दुसरे को पागल समझता है जी !
                  इसलिए हे महामहिम जी ! अपनी महिमा दिखाओ !जय श्री राम बोलना पड़ेगा मित्रो ! क्योंकि आज के नेताओं के बयानों पर मैं चर्चा करने लायक भी नहीं समझता हूँ इसीलिए आज मैं जय हिन्द ! बोलकर ही अपनी लेखनी को विराम देना चाहूंगा !

 आइये मित्रो ! आपका स्वागत है !आपके लिए ढेर सारी शुभकामनाएं ! कृपया स्वीकार करें !फिफ्थ पिल्लर करप्शन किल्लर नामक ब्लॉग में जाएँ ! इसे पढ़िए , अपने मित्रों को भी पढ़ाइये शेयर करके और अपने अनमोल कमेंट्स भी लिखिए इस लिंक पर जाकर www.pitmberduttsharma.blogspot.com. है !इसे आप एक समाचार पत्र की तरह से ही पढ़ें !हमारी इ-मेल आई. डी. ये है - pitamberdutt.sharma@gmail.com. f.b.id.- www.facebook.com/pitamberduttsharma.7 . आप का जीवन खुशियों से भरा रहे !इस ख़ुशी के अवसर पर आपको हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !!
आपका अपना - पीताम्बर दत्त शर्मा -(लेखक-विश्लेषक), मोबाईल नंबर - 9414657511 , सूरतगढ़,पिनकोड -335804 ,जिला श्री गंगानगर , राजस्थान ,भारत ! इस पर लिखे हुए लेख आपको मेरे पेज,ग्रुप्स और फेसबुक पर भी पढ़ने को मिल जायेंगे ! धन्यवाद ! आपका अपना - पीताम्बर दत्त शर्मा , ( लेखक-विश्लेषक) मो. न. - 9414657511 

No comments:

Post a Comment

"कुछ नहीं ,है भाता ,जब रोग ये लग जाता".....!!! - पीताम्बर दत्त शर्मा (स्वतंत्र टिप्पणीकार) मो.न.+ 9414657511

वैसे तो मित्रो,! सभी रोग बुरे होते हैं !लेकिन कुछ रोग तो हमारा पीछा छोड़ देते हैं और कुछ आदमी की मौत तलक साथ देते हैं !पुराने जमाने में ऐसे ...