हम हन्दुस्तानी "पल में तोला पल में माशा"हो जाते हैं !! - पीताम्बर दत्त शर्मा (लेखक-विश्लेषक) मो. न. - +9414657511 .

वाह जी वाह !! हमारा भी जवाब नहीं जी ! इतिहास गवाह है हमारा , हम " हिन्दुस्तानी और पाकिस्तानीयों "का क्योंकि वो भी तो पुराने हन्दुस्तानी ही हैं ! अल्लामा-इक़बाल भी तो लिखकर गए हैं कि " सारे जहां से अच्छा , हिन्दुस्तान हमारा " , क्या हुआ वो अगर बाद में पाकिस्तान चले गए तो उन्होंने कुछ और भी लिख दिया ?? कवि लोग तो भावुक होते ही हैं !?"फितरत" तो नहीं बदलती हमारी ! अब मुझे ही देखलो ! मैं भी उर्दू के शब्दों को वैसे ही प्रयोग करता हूँ जैसे हिंदी या किसी अन्य भाषा के !उसी तरह से ये भी हमारी फितरत का ही एक अहम हिस्सा है की हम पल में किसी को इतना प्यार करने लग जाते हैं कि , फिर हमें उससे प्यारा कोई और नज़र ही नहीं आता , जबकि कुछ ही समय पहले हम उसे मारने हेतु अपना 56 इंच का सीना दिखा रहे होते हैं !
                       हमें आशावान होना ही सिखाया गया है !! क्योंकि हर कष्ट सिर्फ "आशा" नामक "दवाई " से ही सही हो सकता है !किसी गोली तलवार या बम्ब से नहीं !और तर्क तो हम हर किसी हालात के अनुरूप गढ़ने में माहिर तो हैं ही ! इसीलिए हमें हर उस कदम का स्वागत ही करना चाहिए जिससे हमारा भविष्य उज्जवल हो और हमारी आनेवाली पीढ़ियां सुखी रह सकें !हिंदुस्तान में चाहे सोनिया जीते या केजरीवाल ,उधर पाकिस्ताम में नवाज़ जीतें या इमरानखां ! प्रजा दोनों देशों की खुश रहनी चाहिए बस ! और मैं ये दावे के साथ कह सकता हूँ की मोदी जी के काम से दोनों देशों की जनता ना सिर्फ खुश है बल्कि पाकिस्तानी जनता तो अब भारतीय सेकुलरों द्वारा बनायीं-दिखाई गयी मोदी जी की और भाजपा की छवि की असलियत समझने लगे हैं !
                         मोदी जी ने भारत के अंदरुनी दुश्मनों की गन्दी चालों को असफल कर दिया है जिसके लिए उनको बधाई !! छिपाकर कार्यक्रम बनाना आतंकवादियों स भी बचाव कर गया और दोनों देशों के अंदरुनी दुश्मनों से भी ! जय हिन्द !!जय भारत !
  " आकर्षक - समाचार ,लुभावने समाचार " आप भी पढ़िए और मित्रों को भी पढ़ाइये .....!!!

मेरा मोबाईल नंबर ये है :- 09414657511. 01509-222768. धन्यवाद !!
आपका प्रिय मित्र ,
पीताम्बर दत्त शर्मा,
हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार,
R.C.P. रोड, सूरतगढ़ !
जिला-श्री गंगानगर।

Posted by PD SHARMA, 09414657511 (EX. . VICE PRESIDENT OF B. J. P. CHUNAV VISHLESHAN and SANKHYKI PRKOSHTH (RAJASTHAN )SOCIAL WORKER,Distt. Organiser of PUNJABI WELFARE


Comments

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (27-12-2015) को "पल में तोला पल में माशा" (चर्चा अंक-2203) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

बुलंदशहर बलात्कार कांड को यह ‘मौन समर्थन’ क्यों! ??वरिष्ठ पत्रकार विकास मिश्रा - :साभार -सधन्यवाद !

आखिर ये राम-नाम है क्या ?..........!! ( DR. PUNIT AGRWAL )

भगवान के कल्कि अवतार से होगा कलयुग का अंत !!! ????