"हे नेताओ !!अब "राम"को राजनीती से विदा कर ही दो"!! - पीताम्बर दत्त शर्मा (स्वतन्त्र टिप्पणीकार) मो.न. +9414657511

जब भी भारत में कोई हिन्दु इस संसार से विदा होता है तो सभी कहते हैं कि "राम नाम सत्य है , सत्य बोलने से ही गति है "! मुझे ये तो पता नहीं कि जिस दिन वास्तव में राम जी इस संसार से अपने सारे काम निपट गए समझ कर विदा हो रहे थे तो लोगों ने क्या बोला था ! लेकिन ये अवश्य जानता हूँ कि वो सारी समस्याओं का निराकरण करके नहीं गए थे ! इसीलिए हमें अपने झगडे माननीय न्यायालय के समक्ष लेकर जाने पड़ते हैं !वो "तारीख पर तारीख "देते देते जब तलक थक जाते हैं ,तब तलक या तो "मुद्दई"की राम नाम सत्य हो जाती है या सम्बन्धित किसी और पक्ष की !तब सच्चाई भी अपने आप किसी ना किसी के श्रीमुख से बाहर आ ही जाती है !और फैसला हो जाता है !
                        बहुत से मुद्दे अदालत के बाहर ही निपट जाते हैं !वो लोग बुद्धिमान होते हैं जो ऐसा करके अपना समय,स्वास्थ्य और धन बचा लेते हैं !लेकिन कइयों को "लटकने"वाली स्थिति "फायदा"भी पहुंचाती है !तो वो अदालतों में केस चलने देते हैं और "मज़े"करते करते अल्लाह को प्यारे हो जाते हैं !राम जी के मामले में भी ये दूसरी बात सही साबित बैठती है जी ! जो "पुजारी और मौलवी "वहाँ से अपनी"गुज़र-बसर"चलाते थे वे दोनों पक्ष तो अदालत का निर्णय सुनने से पहले ही खुद को पएरे हो गए !लेकिन जिनकी ये "सत्ता की सीढी"बन गयी थी ,वो अपनी फोटुएं खिंचवाकर , हाथ में खिलोने नुमा चक्कु-त्रिशूल पकड़ कर "अपना जलूस"निकालकर कोंग्रेसियों,कॉमरेडों,और पत्रकारों की मदद से विश्व में "हिन्दू-आतंकवादी"बन गए !वो लोग आज भी दुखी हैं कि माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने इस केस को "आपसी राय"से सुलटा लेने को क्यों कह दिया ?
                          मुस्लिम मोलवी,वकील और नेता भी चिल्ला-चिल्ला कर नए नए नुक्ते ढूंढ कर लाएंगे !और हर मुद्दे पर एक अच्छी लाईन बोलने के बाद "अगर,मगर और लेकिन से झूठे सवाल खड़े करने की कलाकारी जान्ने वाले लोग उनकी मदद करेंगे !ताकि उनकी ये "सत्ता प्राप्त करने में सहायक सीढी "कहीं टूट ना जाए !
                           मेरा सभी ऐसे "महान नेताओं"से अनुरोध है कि आप कृपया राम को अब माफ़ करें !अपनी सत्ता के लिए कोई और "हूरें"ढूंढ लीजिये !जनता अब इस मामले से बड़ी "ऊब"चुकी है जी !वो आप लोगों के व्यवहार से भी बड़ी दुखी है !आज योगी जी ने ठीक ही कहा है कि संसद के बाहर आपलोग चाहे कितने ही गले मिलो,भाईचारा निभाओ ,लेकिन जनता आपको चोर,भृष्ट और बदमाश मानती है !आप लोग हारने के बाद भी नहीं मानते हो ,दोबारा से फिर चुनाव लड़ने आ जाते हो ! शर्म भी नहीं आती आपको ! कुछ नयी "चॉइस"तो देवें प्लीज़ !!सभी राजनितिक दाल भी अपना दोबारा से "नामकर्णसँस्कार"करवा लेवें और अपनी विचारधारा को भी "दुरुस्त"कर लेवें !भारत के संविधान को भी "आधुनिक"बना देवें जी !
                        ताकि जनता को भी कुछ नया "राजनितिक-स्वाद" चखने का मौका मिले !
                       "मेरी राय में उस पवित ज़मीं पर एक तरफ से मंदिर के स्तम्भ बनते हुए बड़े सारे हाल का निर्माण हो तो उसी हाल के दुसरे सिरे से मस्जिद से सम्बन्धित स्तंभों का निर्माण करते हुए बड़े  का निर्माण हो ! फर्श पर बैठ कर आधे हिस्से में लोग राम जी की आरती करें और दुसरे आधे हिस्से से मुस्लिम भाइयों की अज़ान की अव्व्ज़ सुनाई दे "! 
सभी पाठक मित्र इस लेख को जितना ज्यादा हो सके अपने मित्रों संग शेयर करें !ताकि एकता का माहौल बने !भारतीय इंजिनियर ऐसा कोई कमाल बाखूबी से करके दिखा सकते हैं ऐसा मुझे पूर्ण विश्वास है !मोदी जी और योगी जी की जोड़ी ही ऐसा कमाल कर ! 







"5th पिल्लर करप्शन किल्लर", "लेखक-विश्लेषक एवं स्वतंत्र टिप्प्न्नीकार", पीताम्बर दत्त शर्मा ! वो ब्लॉग जिसे आप रोजाना पढना,शेयर करना और कोमेंट करना चाहेंगे ! link -www.pitamberduttsharma.blogspot.com मोबाईल न. + 9414657511. इंटरनेट कोड में ये है लिंक :- https://t.co/iCtIR8iZMX. "5th pillar corruption killer" नामक ब्लॉग अगर आप रोज़ पढ़ेंगे,उसपर कॉमेंट करेंगे और अपने मित्रों को शेयर करेंगे !तो आनंद आएगा !

Comments

Popular posts from this blog

बुलंदशहर बलात्कार कांड को यह ‘मौन समर्थन’ क्यों! ??वरिष्ठ पत्रकार विकास मिश्रा - :साभार -सधन्यवाद !

आखिर ये राम-नाम है क्या ?..........!! ( DR. PUNIT AGRWAL )

भगवान के कल्कि अवतार से होगा कलयुग का अंत !!! ????