" BHARAT -- RATAN "------ " HAQDAAR - KOUN - KOUN " ? ? ? ? ? ? ? ?

भारत के रत्नों , कीमती प्यार कबूल हो !! जब से ये नया समाचार आया है की अपनी सरकार अब खिलाडियों को भी " भारत - रतन " का पुरूस्कार देगी , तो खिलाडियों में भूचाल आ गया कि " शुरुआत " कंहा से होगी ,गुज़रे खिलाडियों के बच्चों ने अपने बुजुर्गों और महान खिलाडियों के नाम का प्रस्ताव रखा जो उचित भी है | और जो रिटायर जीवन व्यतीत कर रहे हैं ,उन्होंने ने भी अपने नाम कि लोबिंग शुरू करवादी | मौजूदा खिलाडियों में से सबसे ज्यादा नाम " सचिन " का ही आ रहा है , बल्कि ये कहा जाए तो ज्यादा उचित होगा कि सचिन के लिए ही सरकार ने ऐसा करना सोचा है |वैसे तो ये भी विचार सामने आया था कि नए खिलाडी तो ज्यादा धन पाकर  , और अन्य सन्मान पाकर  सन्मानित हो चुके हैं | सिर्फ गुज़रे हुए लोगों को ही ये सन्मान मिलना चाहिए | ताकि सिफारिशों का झन्झट ही ख़तम हो जाए | नए खिलाडी तो पेप्सी भी बेचते हैं , तो क्या पेप्सी बेचने वाला भारत रतन हो सकता है , ये भी सोचने वाली बात है जी | मेरे  पास बैठा मेरा कर्मचारी बोला साहिब खिलाडी ही क्यों सब काम करने वालों को " भारत - रतन " मिलना चाहिए जब बड़े व्यपारी को ये सन्मान मिल सकता है तो पेप्सी बेचने वाले को क्यों नहीं ???? भारत का हर २०० वाँ व्यक्ति भारत रतन का हकदार है | इतना हुनर है अपने " भारत " में जी | और अगर कंही सरकार रूपए लेकर  शहर - रतन , जिला - रतन और प्रांत -रतन और देना शुरू करदे तो सरकार का खज़ाना भी भर जायेगा और हम जैसे लोग भी प्रसन्न हो जायेंगे ???    

Comments

Popular posts from this blog

बुलंदशहर बलात्कार कांड को यह ‘मौन समर्थन’ क्यों! ??वरिष्ठ पत्रकार विकास मिश्रा - :साभार -सधन्यवाद !

आखिर ये राम-नाम है क्या ?..........!! ( DR. PUNIT AGRWAL )

भगवान के कल्कि अवतार से होगा कलयुग का अंत !!! ????