Wednesday, February 6, 2013

" दुनिया...पागल है, या फिर मैं ...दीवाना " .....!!!!??

       " दुनिया को पागल समझने वाले" मेरे सभी मित्रों को पीताम्बर दत्त शर्मा का हार्दिक नमस्कार !! दुनिया को पागल समझने वाले ही सच्चाई पर चलने वाले होते हैं और लोग उन्हें " दीवाना " कहकर अपना उल्लू सीधा कर लेते हैं ! जीवन भर ऐसा ही चलता है !! लेकिन जब वो सच्चा आदमी स्वर्ग-सिधार जाता है तो अगली पीढियां उसे " ईसामसीह,बुल्लेशाह,फरीद,कबीर,नानक और मीरां देवी आदि-आदि के नाम से याद करती है !!!! 
                      स्वार्थ के वशीभूत होकर इन्सान " सच " को भी झूठ साबित कर देता है ! क्योंकि उस के साथ सभी तरह के बदमाश मिले हुए होते हैं ! ऐसे लोग " सत्ता " के भी करीब होते हैं ! अल्लाह जाने क्या होगा आगे...., के मौला जाने क्या होगा आगे......!!! इब्तिदाए इश्क है, रोता है क्या...! आगे आगे देखिये , होता है क्या......???????//////////
 " दुनिया...पागल है, या फिर मैं ...दीवाना " .....!!!!??
 क्यों मित्रो !! आपका क्या कहना है ,इस विषय पर...??
प्रिय मित्रो, ! कृपया आप मेरा ये ब्लाग " 5th pillar corrouption killer " रोजाना पढ़ें , इसे अपने अपने मित्रों संग बाँटें , इसे ज्वाइन करें तथा इसपर अपने अनमोल कोमेन्ट भी लिख्खें !! ताकि हमें होसला मिलता रहे ! इसका लिंक है ये :-www.pitamberduttsharma.blogspot.com.

आपका अपना.....पीताम्बर दत्त शर्मा, हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार , आर.सी.पी.रोड , सूरतगढ़ । फोन नंबर - 01509-222768,मोबाईल: 9414657511

1 comment:

  1. बहुत सत्य लिखा है |
    आशा

    ReplyDelete

"मीडिया"जो आजकल अपनी बुद्धि से नहीं चलता ? - पीताम्बर दत्त शर्मा {लेखक-विश्लेषक}

किसी ज़माने में पत्रकारों को "ब्राह्मण"का दर्ज़ा दिया जाता था और उनके कार्य को "ब्रह्मणत्व"का ! क्योंकि इनके कार्य समाज,द...