Thursday, April 21, 2011

EK TO KRELA WO BHI 50\- RS. K.g.

नमस्ते इंडिया,और संसार के बढ़िया दोस्तों,  !! कहावत है की "एक तो करेला ,ऊपर से नीम चढ़ा" |भारत में सब्जियां पहले मुफ्त मिलती थीं, फिर वस्तुओं का आदान-प्रदान शुरू हुआ |आजकल रुपयों से मिलती है,ये सारी प्रकिर्या ७० वर्षों में पूरी हुई |आजकल तो करेला,भिन्डी,शिमला मिर्च और तोरी ५० रूपये किलो मिलरही है |लहसुन २५०\ - तक बिक चुका,फलों का तो भाव सुनते ही रक्तचाप बढ़ जाता है |भाव तो भाव,खाने वाली वस्तुओं का आकार,स्वाद भी असली नहीं है |उपरसे किसी पर पोलिश हुई होती है तो कोई स्टोर किया होता है |इतना ही नहीं फलों को पकाने व मीठा करने हेतु कई जहरीली दवाइयों और रंगों का इस्तेमाल किया जाता है |खानेपीने की कोई वस्तु बची होगी जिसमे किसी प्रकार की मिलावट न हो |क्या ये भ्रष्टाचार नहीं,इसे कौन रोकेगा ???? क्या ये विज्ञान की गलती है ???? सोचिये !!!!!!!!!!!!!!!!!!!

No comments:

Post a Comment

2014 की कॉरपोरेट फंडिग ने बदल दी है देश की सियासत !!

चुनाव की चकाचौंध भरी रंगत 2014 के लोकसभा चुनाव की है। और क्या चुनाव के इस हंगामे के पीछे कारपोरेट का ही पैसा रहा। क्योंकि पहली बार एडीआर न...