Saturday, April 16, 2011

VIDESHEE TUKDON PAR PALNE WALE N. G. O.KYA DESH BHAGAT HAIN ??

राम-राम, दोस्तों, समाजसेवी भी कई तरह के होते हैं | कोई देसी तो कोई विदेशी ,देसी समाज्सेविओं को तो अपने आसपास से धन इकठ्ठा करके ,दानदाताओं के अनुसार समाजसेवा के कार्य करवाने होते हैं| विदेशी समाजसेवी विदेशों के धन पर उनके अनुसार समाजसेवा के कार्य करते हैं| विदेशी सरकारें उसमे अपना हित भी साधती हैं| इसी तरह के समाजसेवी भारत में भी भारी मात्रा में पाए जाते हैं| सच तो ये है कि भारत विरोधी ताकतों के एजेंट हर कार्यक्षेत्र में इस तरह से घुलमिल गए हैं कि उन्हें पहचानना मुश्किल है | हर पार्टियों के नेताओं,सरकारी कर्मचारियों,पत्रकारों,सुरक्षाबलों और आम जनता तक में वे घुलमिल चुके हैं कि पता ही नहीं चलता |भारत कि माटी में जन्मे,भारत की कमाई से पलने,बढ़ने,और समाजसेवा करनेवालों अपने चारों और ध्यान से देखो ,कंहींहम ऐसे गद्दारों के इशारों पर तो नहीं नाच रहे | भारतीयों, ढूंढो , और नंगा करो ऐसे लोगों को | जांच होनी चाहिए उन समाजसेविओं की जिन्हें विदेशी सरकारों से इनाम पा चुके हैं |चाहे वो मेधा पाटेकर हो या अन्ना हजारे,मल्लिका साराभाई,हो या स्वामी अग्निवेश,शबाना आज़मी हो या बरखा दत्त,महेश भट हो या आमिर खान,आदि-आदि| नजाने कितने हैं और किन-किन वेशों में हैं | इनकी संस्थाओं को चंदा देने वालों की भी पूरी जाँच होनी चाहिए ,पर सवाल ये पैदा होता है कि जाँच करेगा कौन ? सब जगह तो दुश्मन विराजमान है |सभी अधिकार प्राप्त संसद कमेटी ही ये कर पायेगी | है ये काम बड़ा जरूरी |    

No comments:

Post a Comment

2014 की कॉरपोरेट फंडिग ने बदल दी है देश की सियासत !!

चुनाव की चकाचौंध भरी रंगत 2014 के लोकसभा चुनाव की है। और क्या चुनाव के इस हंगामे के पीछे कारपोरेट का ही पैसा रहा। क्योंकि पहली बार एडीआर न...