Friday, April 29, 2011

mantri --"dhpole shankh " or bade babu -- "chtur " to nahin ????? ????

ज्ञान के भण्डार देश के ज्ञानी सजनो ,ज्ञान भरा नमस्कार स्वीकार करें !!  कल रात मेरे मन में सोने से पहले विचार आया कि कंहीं हम अपने नेताओं को पहचानने में भूल तो नहीं कर रहे ? श्रीमती गोलमा देवी ,श्रीमती राबड़ी देवी जी जैसे कई पुरुष नेता इस बात के समर्थक होंगे |मंत्रियों को जैसे सचिव लोग गाइड करते हैं वैसे ही हमारे मंत्री लोग करते हैं | तभी तो लोग पी.एम्. को दोषी नहीं,पी. एम्. ओ. को दोषी मानते हैं | आरक्षण और गठबंधन कि मजबूरी  भी आड़े आ जाती है |नीरा राडिया और बड़े कार्पोरेट घरानों से भी संपर्क बनाकर रखने पड़ते हैं |मज़बूरी को समझो यारो !! पार्टी ने चुनावों में खर्चा पानी भी करना होता है |

No comments:

Post a Comment

2014 की कॉरपोरेट फंडिग ने बदल दी है देश की सियासत !!

चुनाव की चकाचौंध भरी रंगत 2014 के लोकसभा चुनाव की है। और क्या चुनाव के इस हंगामे के पीछे कारपोरेट का ही पैसा रहा। क्योंकि पहली बार एडीआर न...