Wednesday, June 22, 2011

" KRIYA" - " OSAMA " " PRATIKRIYA " - "ASEEMA" NAND "

" राम मिलायी जोड़ी ,एक अँधा ,एक कोहडी "| एक "ओसामा"और दूसरा " असीमा" नन्द |एक ने जिहाद के नाम पर खून बहाया तो दुसरे ने बदले के नाम पर , लकिन मारा तो " इंसान " ही ??? रोये तो दोनों के रिश्तेदार ??? जिनका आसरा ही लुट गया वो क्या कर रहे होंगे ??? चौरासी लाख योनियों  के बाद मानव जीवन मिलता है | कैसे हम किसी का जीवन बर्बाद कर देने का अधिकार इन दोनों तरह के कातिलों को दे सकते हैं ??? ऐसा कौन सा जुलम हुआ जो जेहाद शुरू करने की नोबत आ गयी ???किसी ने जनता को बताया ??? या फिर जनता भूल गयी ??? अगर जुलम हुआ तो वहाँ की सरकारें क्या कर रही थीं ??? क्यों नहीं संतुष्ट कर पाई अपनी जनता को ???गोलियों से हम कितने जेहादियों और प्रतिक्रिया वादियों को मार सकेंगे या जेलों में डालेंगे ??? इस विश्व व्यापी समस्या हेतु दुनिया के समझदार लोग कुछ दिनों के लिए सारी गतिविधियाँ बंद करके जेहादियों की समस्या नहीं सुन सकती ???? और फिर उचित हल नहीं निकल सकता ??? प्रतिकिरिया तो अपने आप बंद हो जाएगी ????? इच्छा शक्ति की जरूरत है | राजनितिक स्वार्थ छोड़ कर सचे मन से लगने की जरूरत है ???? कौन करे ये शुरुआत ????? जो विश्व शक्ति है या वो जो विश्व शक्ति बनना चाहता है ????

No comments:

Post a Comment

2014 की कॉरपोरेट फंडिग ने बदल दी है देश की सियासत !!

चुनाव की चकाचौंध भरी रंगत 2014 के लोकसभा चुनाव की है। और क्या चुनाव के इस हंगामे के पीछे कारपोरेट का ही पैसा रहा। क्योंकि पहली बार एडीआर न...