Wednesday, December 21, 2011

केंद्र सरकार , मानने को तैयार नहीं , की वो जनता की सेवक है ....???

सभी मित्रों  को प्यारी जिद्द भरा नमस्कार !! जिद्द भी कई तरह की होती है !! बच्चे की जिद , जो अच्छी लगती है ?? पत्नी या प्रेमिका की जिद , जो प्यारी लगती है ?? दोस्त की जिद्द , जिसपे कुर्बान जाने को दिल करता है ??लेकिन आज कल हमारे नेता गन भी जिद्द करने लग गये हैं !! की हम जीत  कर आये हैं , इसलिए जो हम करेंगे , वोही उचित होगा , बाकी अगर किसी को अपनी बात मनवानी है तो वो पहले लोक सभा का चुनाव जीत कर आये फिर हमें कुछ कहे , अन्यथा नहीं ?? u.p.a. की नेता श्री मति सोनिया गाँधी जी ने बड़े दिनों बाद अपना श्री मुख खोला है !!! वो बोली हैं की सरकार लोकपाल को लेकर अब लम्बी लड़ाई लड़ने को तैयार है ?? कोई पूछे भला किस् से ?? वो कहती हैं की अब जो बिल सरकार ने बनाया है वो फ़ाइनल है ....अन्ना या विपक्ष अब कुछ न बोले ...!!  केंद्र सरकार , मानने को तैयार नहीं , की वो जनता की सेवक है ....??? उन्हों ने जनता या अन्ना जी का नाम तो नहीं लिया लेकिन b.j.p. और विपक्ष का नाम ले कर ये कहा की ये अपनी हार स्वीकार नहीं कर पा रहे हैं !!सोनिया जी ने अपनी सरकार द्वारा पेश किये गए बिल की तारीफ में स्वयं ही पुल बाँध दिए हैं ???? मील का पत्थर भी बता दिया है ???साथ साथ वार्निंग भी दे दी है की अब जो सरकार ने लोकपाल बिल पेश किया गया है , उस पर अब कोई समझोता या वार्तालाप नहीं होगी !! यानि अब अगर अन्ना जी आन्दोलन करेंगे तो ........सरकार लम्बी लड़ाई हेतु तैयार है ??? उन्होंने ये भी कहा की विपक्ष और टीम अन्ना अब इसे चुपचाप मान ले ??? उन्होंने विपक्ष पर अडवांस में ये आरोप भी जड़ दिया की वो नहीं चाहता की लोकपाल बिल पास हो और देश में भ्रष्टाचार समाप्त हो ....??? उन्होंने अपने सांसदों को भी होसला दे दिया है की घबराने की कोई जरूरत नहीं है पार्टी 5. राज्यों में भी जीतेगी .......?????? कुल मिला कर बात वन्ही की वन्ही है !!!! केंद्र सरकार का मतिभ्रम न केवल बना हुआ है , बल्कि बढ़ भी गया है ??? की बस जो कुछ हैं , वो बस हम हैं .....??? जो चुनाव जीत गया ....वो सेवक नहीं ....राजा है ......? बस अब वक्त आ गया है .......जनता ....जाग ....जाये .....!!! सबक सिखाने को तैयार रहे ......इन नेताओं को ......!!!! bolo....जय ......श्री ......राम .....!!!!

No comments:

Post a Comment

सचमुच भारत का समाज एक अजीब समाज है। ********* ज्यादा दिन नहीं हुए, कोई तीन-साढ़े तीन साल पहले जब उस समय के शासक लूट के अनेक नए आयाम गढ़ ...