Wednesday, July 25, 2012

" आसाम , केरल , राजस्थान और काश्मीर - किसके भरोसे "......????

     " भरोसेदार " मित्रो  को मेरा  प्रणाम ! !                                                                                                                            भरोसा भी एक अजीब " चीज़ " है ,हो  जाये तो किसी गैर पर हो जाता है, ना हो तो " सगे वाले " पर भी    नहीं होता चाहे फिर कोई लाख कोशिशें करले ! ! कोई सुन्दर सी लड़की टेलिविज़न पर किसी " नए " साबुन से नहाती हुई दिखाई जाती है और हम भाग कर बाज़ार से वही साबुन लाने हेतु दौड़ पड़ते हैं !! कोई हमारे शहर मेंआकर बढ़िया सा शोरूम खोल कर चंद दिनों में धन दोगुना  करदेने का कहता है तो हम अपना सारा धन उसे दे आते हैं !!सगा भाई चाहे सही  जरूरत हेतु लाख मिन्नतें करले  ,लेकिन उस पर    हमें भरोसा नहीं होता ,सोचा है कभी की ऐसे क्यों होता है हमारे साथ  ?????                      
                    इसी तरह से हमअपने  नेता, समाजसेविओं, शिक्षकों और धर्म गुरुओं पर इतना भरोसा कर लेते हैं की पूछो मत !! बाद में दहाड़ें मार - मार कर रोते हैं !! ?? ऐसा हीभरोसा हम अपनी सरकार, पत्रकारों, डाक्टरों, जजों, और सरकारी संस्थाओं पर करते हैं !! हालात ये हो गए हैं कि हम इतना धोखा खा चुके हैं कि ऐसा लगता है जैसे अब विश्वास करना ही पाप हो गया है !! ?? 
                      " सोशल - मिडिया " प्रिंट - मिडिया और इलेक्ट्रोनिक - मिडिया सब भारत के हिंदी भाषी राज्यों तक ही अपनी बात पंहुचा पाते हैं , व्यवस्था को सुधारने वाले आन्दोलन भी पूरे देश को कवर नहीं पाते या जान बूझ कर नहीं करते पता नहीं .. राम - जाने !!??? लेकिन हमारी सरकार को तो सब जानना चाहिए कि नहीं ???? 
                         4 दिनपहले आसाम में दंगे हो गए , और हमारी सरकार जी को कल पता चला क्यों?? एक तरफ हम चाँद पर जाने की तैयारी में हैं और हमारी सुरक्षा एजंसियां आधुनिक तकनीक से लैस नहीं हो पायीं, किसका दोष है ये ????
                     अतिसंवेदनशीलराज्यों को " राम - भरोसे " छोड़ दिया गया है !! अब राम करे , ऐसा हो जाए कि कोई ठोस इच्छाशक्ति वाला देश- भक्त हमारे भारत का शासक बन जाए और भारत माता का माथा गर्व से ऊँचा हो सके !! 
                          आप क्या  कहते हैं ????? जवाब लिखने हेतु आज ही लोग आन करें...www.pitamberduttsharma.blogspot.com. जिससे खुलेगा आपका पसंदीदा ब्लॉग... जिसका नाम है :- " 5th pillar corrouption killer " !! आपके अनमोल कोमेंट्स सादर आमंत्रित हैं ....!!! जय - हिंद !!

                                        आपका 
                                पीताम्बर दत्त शर्मा

                                          (समाज  - सेवक )

No comments:

Post a Comment

प्रेस की स्वतंत्रता के नाम पर अपराधियों के संरक्षण का अड्डा बनता जा रहा है प्रेस क्लब! प्रेस क्लब (PCI) की कुछ प्रेसवार्ताओं, बैठकों, गत...