Thursday, October 13, 2011

" चिठ्ठी "आई है ,आई है .."मनमोहन" की चिठ्ठी आई है....???

स्वर्गीय जगजीत सिंह जी के निधन से दुखी मित्रो , नमस्कार ! हमारे प्रिय प्रधान मंत्री जी ने आखिर "अन्ना मंत्रिमंडल " को "जन - लोकपाल  नहीं ,प्रभावी लोकपाल संशोधन लाने की चिठ्ठी लिख कर भेज ही दी ?? इनके डाकिये भी स्पेशल होते हैं जी बड़े लोग जो ठहरे ?? हमारी चिठ्ठी तो सुसरी ३० किलोमीटर का सफ़र भी ७ दिनों में तय करती है ( वैसे रिकार्ड तो और भी बड़ा है )इनकी चिठ्ठी तो देल्ही  से रालेगन सिटी १दिन में ही पंहुच जाती है ....?ग़ज़ल की दुनिया के बड़े सितारे को हम अपनी श्रधान्जली देने के पश्चात् हम आपको ये बतादें की अन्ना अगर कांग्रेसियों पर विश्वास नहीं कर पा रहे हैं तो ये गलत भी नहीं  है |क्योंकि कांग्रेस उन्हें एक हाथ से मार रही है तो दुसरे  से पलोस रही है तीसरे हाथ से मज़ाक उड़ा रही है तो चोथे हाथ से अपना मुंह दबा  कर डर को छुपा  भी  रही  है ...???  मुस्कुरा कर कल्लोल भी कर  रही है| आर .एस.एस. ने सिर्फ  चले  हुए आन्दोलन को सिर्फ इसलिए समर्थन दिया क्योंकि ये भ्रष्टाचार से सम्बंधित था ,ऐसा ही बी.जे.पी.ने  किया  तो कांग्रेसियों ने शोर मचा दिया कि  देखो - देखो ये तो आन्दोलन ही साम्प्रदायिक ताकतों का था ...?? क्या आज से पहले जितनी रैलियाँ,प्रदर्शन और आन्दोलन हुए किसी ने जांच की कि उसमे कौन - कौन शामिल हुआ था ...? अगर आज भी इस बात की जांच करवाई जाए तो सारी पार्टियाँ मुसीबत में पड़ जाएगी ...??इलेक्ट्रोनिक मिडिया वाले भी बहस दिखाते और करते वक्त एक  -दो वक्ता ऐसे बुला लेते हैं जो छिपे रूप से कांग्रेस का ही समर्थन करते हैं ...??किसके पीछे कौन है  या किसका हाथ  है,  ये देश की सुरक्षा एजेंसियों को हमेशा चेक करते  रहना चाहिए ..? मुझे एक बात समझ नहीं आती कि " राम मंदिर के ताले खुलवाए कांग्रेस ने , पूजा  शुरू करवाई कांग्रेस ने , मस्जिद तुडवाने में सहयोग किया कांग्रेस प्रधान - मंत्री ने , शिला पूजन राहुल गाँधी के सहयोग से हुआ, और तो और राम नवमी का अवकाश भी अपने मनमोहन सिंह जी ने घोषित किया ..??? क्या लाल्लू,क्या द्विगविजय जी , सब समय - समय पर तांत्रिकों के  आगे माथा निवाते आये हैं तो साम्प्रदायिक शक्तियां कौन हैं ??कांग्रेस  वाले या आर.एस.एस.,बी.जे.पी. वाले ...??? सच्चे मन से  नेताओं को राजनीती करनी चाहिए और सच्चे मन से ही हम सबको श्रधान्जली देनी चाहिए ....? बोलिए कृष्ण  कन्हैया  लाल  की  ......जय  !!आप कहेंगे की हमेशा तो राम जी की  जय  बुलाते हो , तो आज क्रिशन जी की जय क्यों ..?? वो इस लिए क्योंकि राजनीती के देवता वही हैं  और प्रेम के भी ...? तो जय श्री कृष्णा......!!   

No comments:

Post a Comment

"क्या तीन तलाक़ से तलाक़ हो पायेगा"? - पीताम्बर दत्त शर्मा (लेखक-विश्लेषक)

ना जाने किसकी प्रेरणा मुस्लिम महिलाओं को मिली , तीन तलाक़ से पीड़ित कई महिलाएं न्यायालय की शरण में चली गयीं !पीड़ित तो वे कई  समस्याओं से भी व...