Thursday, November 10, 2011

" भारत -- के -- भस्मासुर " ये -- " कान्ग्रेस्सी "...? ?

भारत प्रेमी मित्रो , प्यारा सा नमस्कार !! कल हमारे अर्थ - शास्त्री प्रधान - मंत्री जी ने पता नहीं कौन सा "अर्थ " निकालते हुए पकिस्तान के खूबसूरत प्रधान - मंत्री जी को " शांतिदूत " की उपाधि से नवाज़ दिया ?? सारे देश वासी हैरान - परेशान हो गये और लगे एक दुसरे से पूछने की ये क्या बात हुई ? कौन सा ऐसा काम पाकिस्तान के प्रधान - मंत्री जी ने कर दिया , कोई तो बताओ ??सरकार के चमचे पत्रकार और नेता लगे बचाव करने ऊटपटांग ब्यान देकर !! पर जनता को ये सब हज़म नहीं हो रहा है !! सब से ज्यादा दुखी तो हमारे सेन्य अधिकारी थे ,उनका कहना था की पहले नेहरु जी ने कश्मीर का मामला बीच में रखवा दिया , फिर इंदिरा जी ने शिमला समझोते में जीता हुआ इलाका वापिस करवा दिया और अब " सरदार " जी ने दुश्मन को शांति दूत घोषित कर दिया ?? मरते तो युद्ध में भारत वासी हैं और ये नेता सब " घोल - मोल " कर देते हैं !! पता नहीं किस से डरते हैं ये राजनेता ??? लड़ाई से या अमेरिका से ?? जनता जानना चाहती है !! जनता इन नेताओं को चुन कर संसद में भेजती है , जहां इन्हें बेमिसाल अधिकार मिलते हैं जिनका उपयोग ये नेता अपने फायदे और जनता के ही नुकसान हेतु उपयोग करने लग जाते हैं ??? चाहे वो मंहगाई हो या भ्रष्टाचार , देश की तरक्की की योजनाएँ हो या विदेश निति सब जगह भस्मासुर की तरह शक्तियां प्रदान करने वाली जनता को ही नुकसान पंहुचने वाले कृत्य करते हैं ये " कांग्रेसी "?? जनता इनको हर चुनावों में भगाने का प्रयास करती है लकिन ये चुनावों के बाद " साम्प्रदायिकता का ऐसा राग गाते हैं की मोका परस्त छोटी पार्टियों के नेता अपनी जीभ लप - लापाते आ जाते हैं और इनकी सरकार बना देते हैं !! और जब ४ साल बीत जाते हैं तो वोही छोटी पार्टियों वाले नेता इन्हें गालियाँ निकाल कर फिर जीत जाते हैं ???? जनता फिर अपने आपको  ठगा हुआ सा महसूस करती है !! भगवान् करे तीन - चार सो " भंवरी - देवियाँ " और पैदा हो जाएँ और एक " महिपाल " की तरह बाकी नेता भी जनता के सामने नंगे हो जाएँ , जैसा की राजस्थान में हुआ है !! भस्मासुर को भी तो भगवन ने मोहिनी का रूप धर कर ही मारा था !! इन भ्रष्ट नेताओं से भी ऐसे ही हमें मुक्ति मिलेगी !! क्या ये नेता चाहते हैं की यंहा भी पकिस्तान की तरह सेना सत्ता संभल ले जनता के समर्थन से !! हर चीज़ की कोई " हद्द " होती है ???/ न जाने कब अकल आएगी इन " कर्ण - धारों " को ?? जय शंकर की बोलना पड़ेगा जी , क्योंकि भस्मासुर को शक्तियां उन्होंने ही दी थी और मुक्त विष्णु जी ने करवाया था इसलिए सब बड़े ही प्रेम से बोलिए जय -- शंकर KI....!! और जय लक्ष्मी - नारायण ....!!

1 comment:

"क्या तीन तलाक़ से तलाक़ हो पायेगा"? - पीताम्बर दत्त शर्मा (लेखक-विश्लेषक)

ना जाने किसकी प्रेरणा मुस्लिम महिलाओं को मिली , तीन तलाक़ से पीड़ित कई महिलाएं न्यायालय की शरण में चली गयीं !पीड़ित तो वे कई  समस्याओं से भी व...