Thursday, November 24, 2011

"सरदार" ने मारा .." थप्पड़ " " सरदार " के " कृषि मंत्री "को , क्यों निंदनीय है ये " महान कार्य " ?

ऐतिहासिक कार्य करने और देखने वाले मित्रो , करारा नमस्कार ! आज देश में एक और ऐतिहासिक घटना घट  गयी | आज एक सरदार ने हमारे देश के प्रधान मंत्री सरदार मनमोहन सिंह जी के कृषि मंत्री श्री मन शरद पवार जी को एक " करारा  थप्पड़ जड़ दिया है | दिखा तो वो ये रहा था की वह सर्कार की नीतियों से पीड़ित हो कर ऐसा कर रहा है लेकिन वास्तव में वो किसी के बहकावे में आकर भावुक हो गया और ये कर बैठा ?? उसी तरह थप्पड़ खाने वाले मंत्री जी अब कह रहे हैं दिखाने  के लिए की " मैंने समझा की किसी पत्रकार का झटका मुझे लगा है , ऐसे झटके तो रोज़ हम जैसे मीडिया से घिरे लोगों को लगते ही रहते हैं "??? और ये भी दिखावे के लिए ही कहा की " इसे सब इतनी गंभीरता से मत लें " | ?? प्रणब डा कह रहे हैं की " पता नहीं देश कान्हा जा रहा है "??? है  भाई वन्ही तो जा रहा है जन्हा आप जैसे नेता ले जा रहे हैं ?? अभी ४दिन पहले हमारे राहुल बाबा ने u.p. में जा कर जनता से पुछा था की भाइयो आपको " गुस्सा " क्यों नहीं आता ???? लो आ गया गुस्सा !! यशवंत सिन्हा जी ने तो कल ही भविष्य वाणी कर दी थी की " संभल जाओ " पता नहीं कान्हा गुस्सा फूट जाये ?? अब कांग्रेस विपक्ष को , और विपक्ष सर्कार को दोषी ठहरा रहे हैं ?? सांप गुज़र गया और लकीर पीट रहे हैं ??? यानि थप्पड़ खाने के बाद भी ससुरे  नेता सही बात पर नहीं आ रहे ??? किसी पर जूते चल गए कोई काबिन में पिट  गया लेकिन कोई फर्क नहीं पड़ता  ??  मैं कहता हूँ संभल जाओ नेताओं !!  कंही जूतों से सेवा न करदे जनता ???? सब इसको निंदनीय कार्य बात रहे हैं ?? मैं कहता हूँ की क्यों है ये निंदनीय कार्य ............आप ही बातें ....????जब कोई ढीठ पुणे की हद्द ही पार कर जाए तो जनता बेचारी क्या करे ......??

No comments:

Post a Comment

" परेशान है हर कोई " क्यों ? - पीताम्बर दत्त शर्मा {लेखक-विश्लेषक}

भारत ,जिसकी संस्कृति में ही ये सिखाया जाता है कि अपने आप से ज्यादा दूसरों की चिंता करो ! दूसरों पर दया करो !अपने हिस्से के भोजन में से किसी...