Monday, February 13, 2012

" बिन्नो " बनी स्टार --- " वेदांता " की !!!!

सभी " स्टार " मित्रों को चमकता हुआ नमस्कार !! आज कल एक विज्ञापन देश के सभी चेनलों पर छाया हुआ है । जिस से हमारी साधारण सी वेश भूषा वाली , हंसती खेलती और दौडती भागती , पढ़ती , " बिन्नो " बन गयी है , " स्टार " - - - " वेदांता " के  एक महत्वपूरण विज्ञापन की  !!!! जब भी वो विज्ञापन किसी चेनल पर दिखाया जाता है तो मन एक " अज्ञात " सी प्रसन्नता से खिल उठता है !! ज्यादातर चेनलों पर दिखाये जाने वाले विज्ञापन जब आते हैं तो हाथ स्वतः ही चेनल बदलने लग जाता है । सिर्फ दो प्रतिशत ही विज्ञापन ऐसे होते हैं जो यादगार बन जाते हैं !! ये विज्ञापन बताता है की किस तरह से इस कम्पनी की मदद से हमारी सरकार बच्चों को " दोपहर का भोजन दे पाती है जिसे सभी पार्टियों के नेता अपना काम बताकर जनता के वोट बटोर रहे थे !! क्या इसी तरह से लड़कियों को कोई कम्पनी " साईकिलें " और " किताबें " बाँट रही हैं और सरकारें अपनी पीठ थप - थापा रही हैं ????? या फिर ये भी कोई देश को लूटने की कोई नै चाल है की चलो इस तरह से ही देश को " रिश्वत " दे रहा है ??????? देश की सुरक्षा एजेंसियों को इस तरफ भी ध्यान देना चाहिए । अगर अदालते भी संज्ञान लेना चाहें तो भी बात की असलियत का पता चल जाएगा ???? मुझे एक पुराना गीत याद आ रहा है की ...." उस मुल्क की सरहद को कोई छु नहीं सकता , जिस मुल्क की सरहद की निगेहबान हैं ......"आँखें " ...!!!

No comments:

Post a Comment

"मीडिया"जो आजकल अपनी बुद्धि से नहीं चलता ? - पीताम्बर दत्त शर्मा {लेखक-विश्लेषक}

किसी ज़माने में पत्रकारों को "ब्राह्मण"का दर्ज़ा दिया जाता था और उनके कार्य को "ब्रह्मणत्व"का ! क्योंकि इनके कार्य समाज,द...