Saturday, November 10, 2012

"अगली सरकार बुद्धिजीवियों और पत्रकारों की हो जाये तो क्या हो "....???

 सरकार बनाने वाले सभी मतदाताओं को  मेरा अधिकार भरा प्यारा सा नमस्कार !! 
                    आज मेरे एक मित्र ने मुझसे पुछा कि आने वाली सरकार किस दल की बनेगी ? मैंने कहा कि सरकार किसी एक दल की नहीं , बल्कि वोही चूं-चूं का मुरब्बा बनेगा !! वो बोला नहीं भाई साहिब अब्किबार सारे बुद्धिजीवी और पत्रकार पीछे पड़े हैं कुछ न कुछ अवश्य अंतर आएगा , आप देख लेना !! अख़बार वाले पत्रकार सख्ती से नेताओं की कारगुजारियां छाप रहे हैं , टीवी एंकर सख्त सवाल पूछ रहे हैं , नेता बेशर्मी से हंस रहे हैं , जनता सब देख रही है , अबकी बार अवश्य बदलाव आएगा !!!!!
                      मैं सब बोला हे मेरे भोले " मतदाता " तू अभी सच्चाई नहीं जानता और नाही इन " नेताओं-पत्रकारों व बुद्धिजीवियों को जानता है !! ये साक्षात्कार लेने के बाद , टीवी पर बहस के बाद " उन्हीं " नेताओं के साथ क्या - क्या बातें करते हैं अगर कोई अन्य आदमी सुनले तो सच्चाई का पता चले !!! अभी कल की ही तो बात है - " जिंदल साहिब कह रहे थे कि हमने स्टिंग-आपरेशन किया था और ज़ी टीवी वाले कह रहे थे कि हमने किया " ??? अब दोनों चुप हैं क्यों ????? कोई नहीं पूछ रहा ,ओए कोई न्यायालय में भी नहीं जा रहा !! आजकल सर्वोच्च-न्यायलय ने भी अपने आप " प्रसंज्ञान " लेना भी छोड़ दिया है.......!!! ना जाने क्यों ??? राम-जाने.... !!!

                         हमारे     ऋषि-मुनियों ने " वर्ण-व्यवस्था " ऐसे ही नहीं बनाई !! ब्राह्मण ज्ञान दे सकता है , मैदान में जाकर लड़ नहीं सकता !! आजकल पत्रकारिता " पंडिताई " करने जैसा ही है !! इसीलिए तो हमारे नेता लोग धड़ल्ले से कहते हैं कि                                 " हिम्मत है तो चुनाव जीतकर दिखाओ " !! क्योंकि वो भली-भांती जानते हैं कि इन तथाकथित " बुद्धिजीवियों- पत्रकारों और टीवी एंकरों के पास सिर्फ बोलने व सवाल पूछने की ही कला है !!
                                  जोआदमी जिस काम हेतु बना है, वो,वोही कार्य कर सकता है !! इसलिए इन्ही नेताओं के सर पर बन्दूक लगाकर ही देश-हित के कार्य करवाए जा सकते हैं ...?? अब शायद और कोई रास्ता नहीं बचा है !! सभी राजनीतिज्ञों को दिल्ली के नेहरु स्टेडियम में सभी राज्यों के नेताओं , अफसरों, वकीलों और बुद्धिजीवियों के साथ तब तलक बंद करके रख्खा जाए , जब तलक हर उस बात का हल ना निकल जाए , जिससे देश को कोई दिक्कत है !!
                        प्रिय मित्रो, आपका क्या कहना है ...इस विषय पर ......???? अपने विचार आप मेरे ब्लॉग पर , जिसका नाम है..:- " 5th pillar corrouption killer " जाकर लिख सकते हैं !! जिसको खोलने का लिंक ये है...www.pitamberduttsharma.blogspot.com. आप मेरे ये लेख फेसबुक , गूगल+ , ग्रुप और मेरे पेज पर भी पढ़ सकते हैं !!! आप मुझे अपना मित्र भी बना सकते हैं और मेरे ब्लॉग को ज्वाईन , शेयर और कंही भी प्रकाशित भी कर सकते हैं !!!!

आपका अपना
पीताम्बर दत्त शर्मा
हेल्प-लाईन- बिग- बाज़ार
आर. सी.पी. रोड, पंचायत समिति भवन के सामने, सूरतगढ़ ! ( श्री गंगानगर )( राजस्थान ) मोबाईल नंबर :- 9414657511. फेक्स :- 1509 - 222768.

No comments:

Post a Comment

सचमुच भारत का समाज एक अजीब समाज है। ********* ज्यादा दिन नहीं हुए, कोई तीन-साढ़े तीन साल पहले जब उस समय के शासक लूट के अनेक नए आयाम गढ़ ...