Thursday, September 5, 2013

" गुरु जी कहिन - बबुआ !! " बोए पेड़ बबूल का, तो आम कंहा से होए " ?????

" सभी शिष्य मित्रों " को मेरा सादर नमस्कार !!
                             आज एक टीवी चेनेल के एंकर के मुंह से निकल ही गया कि " आज सभी बुरी ख़बरें प्राप्त हो रही है " !! मेरे मन में आया कि आप लोग अच्छी बातों को खबर मानते ही कब हो ??? हर तरफ देह शोषण , बलात्कार , झूठ - फरेब , चोरी-डकैती आदि आदि और ना जाने क्या क्या हो रहा है !!?? लचर शिक्षा व्यवस्था , अश्लील साहित्य , पोर्न फ़िल्में ,टूटती परिवार प्रणाली , भद्दे - नाटक और भ्रष्ट लोकतंत्र के स्तंभों ने आज की युवा पीढ़ी और अधेड़ों को पूरी तरह से पथ-भ्रष्ट करके  है !! आज कोई भी देश का दुश्मन बड़ी ही आसानी से किसी को भी इन उपरोक्त बुराइयों का लालच देकर कोई भी गलत काम करवा सकता है !!

                          चाहे वो हिन्दू हो या मुस्लिम , अफसर हो या नेता , जज हो या वकील, अध्यापक हो या छात्र आदि-आदि सब शिकार हो रहे हैं !! उससे भी बुरी बात ये है कि जिन पर ये सब बातों को नहीं होने देने की जिम्मेदारी  है, वो ही इन सब बुरे कार्यों को प्रोत्साहित करते फरते हैं !! ना जाने क्यों ??? क्या वे भी हमारे इस भारत के दुश्मन हैं ???
                          हमारा भी बहुत दोष है इसमें , क्योंकि हम भी अपने साथ वाले पर तो विश्वास करते नहीं हैं लेकिन दूर बैठे व्यक्ति जो आकर्षक प्रचार व्यवस्था करवाकर अपने आपको या अपने उत्पाद को हमारे सामने प्रस्तुत करता है उस पर हम आँखें बंद करके ना केवल विश्वास कर लेते हैं , बल्कि उसे अपना भगवन मानने लग जाते हैं !! बाद में जब उसकी " पोल " खुलती है तो हम निंदा करने लग जाते हैं !!
                            आज शिक्षक दिवस है , इसलिए सभी शिक्षकों को नमन करते हुए के एक दोहे की लायीं प्रस्तुत कर रहा हूँ, जो मुझे आज याद आ गयीं , " बोया पेड़ बाबुल का तो आम कान्हा से होए " ???
                         प्रिय मित्रो , सादर नमस्कार !! आपका इतना प्रेम मुझे मिल रहा है , जिसका मैं शुक्रगुजार हूँ !! आप मेरे ब्लॉग, पेज़ , गूगल+ और फेसबुक पर विजिट करते हो , मेरे द्वारा पोस्ट की गयीं आकर्षक फोटो , मजाकिया लेकिन गंभीर विषयों पर कार्टून , सम-सामायिक विषयों पर लेखों आदि को देखते  पढ़ते हो , जो मेरे और मेरे प्रिय मित्रों द्वारा लिखे-भेजे गये होते हैं !! उन पर आप अपने अनमोल कोमेंट्स भी देते हो !! मैं तो गदगद हो जाता हूँ !! आपका बहुत आभारी हूँ की आप मुझे इतना स्नेह प्रदान करते हैं !!नए मित्र सादर आमंत्रित हैं !!  मेरा इ मेल ये है : - pitamberdutt.sharma@gmail.com. मेरे ब्लॉग और फेसबुक के लिंक ये हैं :- www.facebook.com/pitamberdutt.sharma.7
www.pitamberduttsharma.blogspot.com
 मेरे ब्लॉग का नाम ये है :- " फिफ्थ पिलर-कोरप्शन किल्लर " !!
 मेरा मोबाईल नंबर ये है :- 09414657511. 01509-222768. धन्यवाद !!
                                   आपका प्रिय मित्र ,
                                     पीताम्बर दत्त शर्मा,
                                       हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार,
                                         R.C.P. रोड, सूरतगढ़ !
                                          जिला-श्री गंगानगर।
  

No comments:

Post a Comment

" परेशान है हर कोई " क्यों ? - पीताम्बर दत्त शर्मा {लेखक-विश्लेषक}

भारत ,जिसकी संस्कृति में ही ये सिखाया जाता है कि अपने आप से ज्यादा दूसरों की चिंता करो ! दूसरों पर दया करो !अपने हिस्से के भोजन में से किसी...