Tuesday, August 7, 2012

"अडवानी जी अब - संभावित राष्ट्रपति हो सकते हैं " ???

 " सम्भावना" तलाशते रहने वाले मित्रों को,मेरा सादर नमस्कार !!
                       अगर जीवन से आशा और सम्भावना समाप्त हो जाए तो जीने का आनंद ही ख़त्म हो जाता है !! राजनीति में तो विशेष रूप से ये आवश्यक हो जाता है अन्यथा आप " लाइन " में नहीं रह पाते !! सन 2009 के चुनावों में भाजपा ने उनको संभावित प्रधानमंत्री मान लिया था लेकिन कोई क्या करता , संसद में उतनी सीटें ही नहीं मिल पायीं !!N.D.A. के घटक दल भीं  बेचारे क्या कर सकते थे ???
                        अब जनता के दिल में नरेंदर मोदी जी विराजमान हो चुके हैं !भाजपा उन्हें चाहे चुनावों से पहले अपना संभावित प्रधानमंत्री घोषित करे या बाद में ,ये उसके नेत्रित्व को सोचना है ! केंद्रीय भाजपा नेता सब अब सिर्फ केंद्र में मंत्री बन्ने के काबिल ही रह गए हैं !! या फिर राज्यपाल,चाहे वो सुषमा जी हों या जेटली जी,ये सबको समझना होगा !! और अगर भाजपा ऐसा नहीं करती तो अडवानी जी का कथन सत्य साबित हो जाएगा !!! भाजपा को घटक दलों से ये स्पष्ट कह देना चाहिए की चुनावों के बाद चर्चा करेंगे !!
                         अगर ऐसा नहीं होता , तो अन्ना टीम और बाबा रामदेव जी को मोदी जी के साथ खुलकर आ जाना चाहिए !! क्योंकि आज के समय में मनमोहन सिंह व राहुल के सामने " मोदी " से बढ़िया कोई " विकल्प " नहीं है !!!??? आज के समय की मांग है की हिंदुस्तान में कोई तो हिन्दुओं के पक्ष में खुल कर आये......!!! सभी मुसलमानों को 65 सालों से अपना घर जलाकर खुश करने में लगे हैं !! मगर वो आज तक " खुश " नहीं हुए !!!
                    इलज़ाम तो भाजपा पर हिन्दू -समर्थक होने का लगता ही है ,तो बन जाओ अबकी बार " हिन्दू पार्टी " देख लेंगे सबको बाद में ...!!
                      आप भी अपने विचार हमें लिख भेजिए हमारे ब्लॉग और ग्रुप में, जिसका नाम है "5TH PILLAR CORROUPTION KILLER " और इसका लिंक है :- www.pitamberduttsharma.blogspot.com. 
                  कर   दो " कल्याण " !!!!

No comments:

Post a Comment

"मीडिया"जो आजकल अपनी बुद्धि से नहीं चलता ? - पीताम्बर दत्त शर्मा {लेखक-विश्लेषक}

किसी ज़माने में पत्रकारों को "ब्राह्मण"का दर्ज़ा दिया जाता था और उनके कार्य को "ब्रह्मणत्व"का ! क्योंकि इनके कार्य समाज,द...