Wednesday, December 12, 2012

INTERNET SOCIAL MEDIA BLOG - PRESS . "5TH PILLAR CORROUPTION KILLER "की पेशकश...!!!!

*"कार्यकर्त्ता सम्मेलन - व - विचार  गोष्ठी * 
  ******************************   विषय-:कार्यकर्त्ता-संगठन और नेता में आपसी तालमेल,इनका धर्म-कर्म व फल क्या हो??
        ****************** 
          सूरतगढ़ विधानसभा क्षेत्र के सभी राजनितिक दलों के नए-पुराने कार्यकर्त्ता,बहनों और भाइयो,सादर नमस्कार !!
                आज,हम सब ये महसूस कर रहे हैं कि,हमारी पार्टियां और उसके नेता हमें तो "विचारधारा-सिद्धांत"के नाम पर हमारा "शोषण" करती आ रहीं हैं और स्वयं हमारे नाम पर मलाई खाती आ रही हैं !!
     मौकापरस्तों,चापलूसों,ठेकेदारों, मक्कारों और हरामखोरों ने हर पार्टी में अपना एक महत्वपूर्ण स्थान बना लिया है !!
         सभी राजनितिक दलों के कर्णधारों ने "व्यक्तिवाद"को ही महत्व दिया है !
  आज के निष्ठावानकार्यकर्त्ता की भावनाओं को जानने,मुश्किलों को पहचानने और उसके निदान हेतु एक कार्यकर्त्ता-विचार-गोष्ठी का आयोजन किया गया है !!
                  इसीलिए सभी राजनितिक दलों के नए व पुराने कार्यकर्ताओं से अनुरोध है कि जिसने भी अपने जीवन में                      कभी,किसी राजनितिक दल हेतु कार्यकर्त्ता  बनकर निष्ठा से सेवा की है, और वो किसी कारणवश शिथिल होकर अपने घर बैठ    गया हो,वो, निम्नलिखित समयानुसार इस विचार-गोष्ठी और कार्यकर्त्ता सम्मेलन में पंहुचकर अपने अनमोल विचारों से हमें अवगत कराएँ, और " घाघ " नेताओं को चेतायें !!
               ***                  नोट-:कृपया नेता और उनके"भगत"न पधारें!!

     ****** कार्यक्रम-विवरण ******

दिनांक-:  23दिसंबर,रविवार,प्रातः 11-00बजे

स्थान-:   अग्रवाल धर्मशाला 
               *** 
      "वक्ता"समय से पहले पधार कर अपना नाम नोट कराएँ !!

    ***********निवेदक************
  
                 पीताम्बर दत्त शर्मा 
               हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार                आर.सी .पी.रोड,पंचायत समिति भवन के सामने,सूरतगढ़ !!
 "5th pillar corrouption killer " 
www.pitamberduttsharma.blogspot.com.
 मोबाईल नंबर :- 9414657511

No comments:

Post a Comment

" परेशान है हर कोई " क्यों ? - पीताम्बर दत्त शर्मा {लेखक-विश्लेषक}

भारत ,जिसकी संस्कृति में ही ये सिखाया जाता है कि अपने आप से ज्यादा दूसरों की चिंता करो ! दूसरों पर दया करो !अपने हिस्से के भोजन में से किसी...