Tuesday, June 9, 2015

"केजरीवाल की सरकार हो या फिर देश का दुश्मन , सीमाओं का ज्ञान अगर ना हो तो उसे ज्ञान करवाना आवश्यक हो जाता है जी "!-पीताम्बर दत्त शर्मा ( लेखक-विश्लेषक )- 9414657511

प्यारे पाठक मित्रो ! पिछले सप्ताह में कई अहम घटनाएँ देश के अंदर बाहर घटी हैं जिन पर आपके साथ विचार साँझा करना अति आवश्यक है !दिल्ली में भारी बहुमत के साथ जीतकर आये केजरी वाल जी की सरकार को नित नया ज्ञान हो रहा है कि दिल्ली "राष्ट्रिय-क्षेत्र " होने के कारण उनके पास ये भी पावर नहीं है और वो भी पावर नहीं है !चुनावों में उन्होंने जनता के साथ वादे कर लिए बड़े-बड़े और अब वो निभाए नहीं जा रहे तो केजरीवाल सरकार और उनके पत्रकार मित्र लोग सड़कों से ज्यादा टीवी पर शोर मचाने में लगे हैं ! उनको लगता है कि टीवी पर आकर हमने और हमारे मित्र एंकरों ने जो बोल दिया , बस ! वही हो जाएगा !छोटे चोरों को अगर पोलिस पकड़ती है तो ये पत्रकार लोग चिल्लाने लगते हैं कि सरकार   " मगरमच्छों " को नहीं पकड़ती ! अब अगर पोलिस ने बड़े हेराफेरी करने वाले नक़ली डिग्री धारक , दिल्ली के मंत्री तोमर जी को पकड़ लिया और न्यायालय ने "जाँच"कर रिमांड पर भेज दिया तो पुण्य प्रसुन वाजपेयी और रविश कुमार जैसे "तोते" ,
" रट "लगाये बैठे हैं कि देश में क्या इतने ही बेईमान लोग हैं ?ऐसे लोगों को भी इनकी सीमा का ज्ञान करवाना आवश्यक है !
                             " सीमा "की बात इसलिए भी हो रही है क्योंकि हमारे प्रधानमंत्री जी बांग्ला देश जाकर उनको भी सीमा का ज्ञान करवा आये हैं और ममता जी को भी अपना "असर"दिखा कर आये हैं ! तीसरी घटना मणिपुर में हुई जिसमे हमारे 18 सैनिक शहीद हो गए ! तो मोदी जी ने अपने बलपर ,रक्षामंत्री, विदेशमंत्री,म्यांमार के राजनयिकों और हमारी पराक्रमी सेना के साथ प्रभावी योजना बनाकर उन शहीदों के दोषियों को ऐसा सबक सिखाया कि आज सारा देश हमारी सेना की और हमारे मोदी जी की तारीफ़ कर रहा है !हमारे सैनिकों ने दुश्मनों के घर जाकर उनको मौत के घाट उतार कर उनको उनकी सीमा का ज्ञान करवाया !
                            जी हाँ ! मित्रो ! झगड़ा तभी बढ़ता है जब हम अपनी सीमाओं को भूल जाते हैं या फिर अपनी सीमाओं को जरूरत से ज्यादा बढ़ाना चाहते हैं !अगर हम अपनी सीमा में अनुशासन के साथ रहकर जीना सीख लें तो हम भी सुखी और दुसरे भी सुखी हो जाएँ !ये भगवान की माया है जी कुछ लोग धन-बल और सत्ता के बल को पचा नहीं पाते और अपने आपको बस ,"भगवान" समझने लग जाते हैं ! जैसे कि श्री मनीष सिसोदिया जी जो तोमर के पकडे जाने पर प्रेस कांफ्रेंस करके जनता से पूछ रहे हैं कि "क्या उन्होंने(तोमर), बम फोड़ा था "???
                                अब आप ही बताइये पाठक मित्रो !! आपका क्या कहना है इस बारे में ??? अपने अनमोल विचार अवश्य बताइयेगा हमारे ब्लॉग में जाकर लिखियेगा !और अगर आपको हमारा ये लेख पसंद आया हो तो अपने मित्रों के साथ इसे शेयर भी अवश्य करियेगा ! मित्रो !!"5TH PILLAR CORRUPTION KILLER",नामक ब्लॉग रोज़ाना अवश्य पढ़ें,जिसका लिंक - www.pitamberduttsharma.blogspot.com. है !इसे अपने मित्रों संग शेयर करें और अपने अनमोल विचार भी हमें अवश्य लिख कर भेजें !इसकी सामग्री आपको फेसबुक,गूगल+,पेज और कई ग्रुप्स में भी मिल जाएगी !इसे आप एक समाचार पत्र की तरह से ही पढ़ें !हमारी इ-मेल ईद ये है - pitamberdutt.sharma@gmail.com. f.b.id.-www.facebook.com/pitamberduttsharma.7 . आप का जीवन खुशियों से भरा रहे !इस ख़ुशी के अवसर पर आपको हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !!
आपका अपना - पीताम्बर दत्त शर्मा -(लेखक-विश्लेषक), मोबाईल नंबर - 9414657511 , सूरतगढ़,पिनकोड -335804 ,जिला श्री गंगानगर , राजस्थान ,भारत !

                                                                


1 comment:

  1. सुन्दर व सार्थक रचना प्रस्तुतिकरण के लिए आभार..
    मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका इंतजार...

    ReplyDelete

"अब कि बार कोई कार्यकर्ता ही हमारा जनसेवक (विधायक) होगा"!!

"सूरतगढ़ विधानसभा क्षेत्र की जनता ने ये निर्णय कर लिया है कि उसे अब अपना अगला विधायक कोई नेता,चौधरी,राजा या धनवान नहीं बल्कि किसी एक का...