Saturday, September 15, 2012

" एक झूठी खबर जो सच्ची लगती है " !!??

मनमोहन ने 'कोलगेट' में पटेल को लपेटा, सोनिया ने बढ़ाई दूरी

               प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह अब पूरी तरह से फॉर्म में आ गए हैं। स्वभाव से सौम्य माने जाने वाले मनमोहन ने बेहद बोल्ड तेवर दिखाते हुए कोयला ब्लॉक आवंटन में सोनिया गांधी के खासमखास अहमद पटेल को लपेट लिया है। हमारे सहयोगी अखबार 'मुंबई मिरर' के मुताबिक मनमोहन सिंह ने सोनिया गांधी से मुलाकात कर उन्हें साफ-साफ बताया कि कोयला आवंटन के फैसले उनके पॉलिटिकल सेक्रेटरी अहमद पटेल की सिफारिश पर लिए गए थे। इसे मनमोहन का अब तक का सबसे बोल्ड पॉलिटिकल मूव माना जा रहा है।


गौरतलब है कि अहमद पटेल सोनिया गांधी के बेहद खास हैं।वह सन् 2000 से सोनिया के पॉलिटिकल सेक्रेटरी भी हैं। पटेल सोनिया के कितने करीबी हैं इसका पता इसी से चलता है कि पार्टी के हर बड़े फैसले उनसे सलाह लेकर लिए जाते हैं। अब बताया जा रहा है कि सोनिया ने भी पटेल से दूरी बना ली है।

बताया जाता है कि तेहरान में गुटनिरपेक्ष सम्मेलन से 31 अगस्त को लौटने के बाद मनमोहन सिंह ने सोनिया गांधी से मुलाकात की। सिंह बीजेपी लीडर सुषमा स्वराज के 'मोटा माल' वाले बयान से बेहद व्यथित थे। उन्होंने सोनिया को साफ-साफ बताया कि उनके ऑफिस ने कोल ब्लॉक आवंटन पर फैसले अहमद पटेल की सिफारिश पर किए थे।
                           

कोयला घोटाले में अपना नाम घसीटे जाने से दुखी होकर मनमोहन को पहली बार सोनिया को इस तरह खरी-खरी सुनानी पड़ी। उन्होंने सोनिया गांधी को साफ किया कोल ब्लॉक आवंटन में उनका कोई लेना-देना नहीं है। इसमें किसको फायदा होने जा रहा है, इसमें भी उनकी कोई दिलचस्पी नहीं थी।

सिंह ने बताया कि उनके तत्कालीन मुख्य सचिव टीके नायर ने अहमद पटेल की सलाह पर यह फैसले किए। उधर, नायर और पटेल ने इस पर अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।


" 5th pillar corrouption killer " the link is :-www.pitamberduttsharma.blogspot.com.
Posted by PD SHARMA, 09414657511 (EX. . VICE PRESIDENT OF B. J. P. CHUNAV VISHLESHAN and SANKHYKI PRKOSHTH (RAJASTHAN )SOCIAL WORKER,Distt. Organiser of PUNJABI WELFARE SOCIETY,Suratgarh 

No comments:

Post a Comment

"मीडिया"जो आजकल अपनी बुद्धि से नहीं चलता ? - पीताम्बर दत्त शर्मा {लेखक-विश्लेषक}

किसी ज़माने में पत्रकारों को "ब्राह्मण"का दर्ज़ा दिया जाता था और उनके कार्य को "ब्रह्मणत्व"का ! क्योंकि इनके कार्य समाज,द...