Sunday, October 21, 2012

" खप गयी - - खाप "....???


 एक थी खाप
एक दिन

हुकुम हुआ
बेटियां ब्याह दी जाएँ
सोलह वर्ष से पूर्व

जनक ने सुना
स्वयंवर रचा
हजारों में
महापराक्रमी राम को चुना
और सोलह वर्ष से पूर्व
ब्याह दी गयी सीता
"फिर भी"
हरण/अग्निपरीक्षा/वन गमन
(अंत में भूमिगत ही होना पड़ा)

एक थे द्रुपद
उन्होंने ने सुना
स्वयंवर रचा
और सौंपी अपनी पुत्री
पांच महापराक्रमी पुरुषों की सुरक्षा में
फिर भी
चीरहरण?..............(क्या पहना था द्रौपदी ने उस समय कहीं मिनी स्कर्ट तो नहीं?)

एक थी अहिल्या............
..................................
..................................

अरे त्रेता के धोबियों
कलयुग में फिर से आ गए
नेता बनकर??
-मृदुला शुक्ला


                                                                                 
प्यारे दोस्तो,सादर नमस्कार !!
आप जो मुझे इतना प्यार दे रहे हैं, उसके लिए बहुत बहुत धन्यवाद-शुक्रिया करम और मेहरबानी ! आपकी दोस्ती और प्यार को हमेशां मैं अपने दिल में संजो कर रखूँगा !! आपके प्रिय ब्लॉग और ग्रुप " 5th pillar corrouption killer " में मेरे इलावा देश के मशहूर लेखकों के विचार भी प्रकाशित होते है !! आप चाहें तो आपके विचार भी इसमें प्रकाशित हो सकते हैं !! इसे खोलने हेतु लाग आन आज ही करें :-www.pitamberduttsharma.blogspot.com. और ज्यादा जानकारी हेतु संपर्क करें :- पीताम्बर दत शर्मा , हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार, पंचायत समिति भवन के सामने, सूरतगढ़ ! ( जिला ; श्री गंगानगर, राजस्थान, भारत ) मो.न. 09414657511.फेक्स ; 01509-222768. कृपया आप सब ये ब्लॉग पढ़ें, इसे अपने मित्रों संग बांटें और अपने अनमोल कमेंट्स ब्लाग पर जाकर अवश्य लिखें !! आप ये ब्लॉग ज्वाईन भी कर सकते हैं !! धन्यवाद !! जयहिंद - जय - भारत !! आप सदा प्रसन्न रहें !! ऐसी मेरी मनोकामना है !!

1 comment:

  1. नौ सौ चूहे खाय के, बिल्ली हज को जाय ।
    मांसाहारी मना क्या, जब हलाल की खाय ।
    जब हलाल की खाय, गडकरी बिगड़ा बच्चा ।
    जिद जमीन कर जाय, दिला सब देते चच्चा ।
    सत्ता मैया हाथ, जांच क्यूँ नहीं कराया ?
    मंत्री पुत्र दमाद, नहीं क्यूँ नंबर आया ??

    उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।


    ReplyDelete

"मीडिया"जो आजकल अपनी बुद्धि से नहीं चलता ? - पीताम्बर दत्त शर्मा {लेखक-विश्लेषक}

किसी ज़माने में पत्रकारों को "ब्राह्मण"का दर्ज़ा दिया जाता था और उनके कार्य को "ब्रह्मणत्व"का ! क्योंकि इनके कार्य समाज,द...