Tuesday, August 13, 2013

" विश्वास के देवता " ये हमारे राजनितिक दल , हाय मैं मर जावाँ। ......! ! !

 आज के समय में , विश्वास करने वाले , भोले मित्रों  को मेरा सादर चरण-स्पर्श !!!
                   R.T.I.क़ानून के तहत आने से डरने वाले सभी राजनितिक दलों के प्रवक्ता का T.V. चेनलों पर बहस करते हुए डर भी रहे थे , धमका भी रहे थे और अपने आपको एवं अपनी पार्टी को ऐसी संस्था बता रहे थे ,जिन पर कार्यकर्ता ,व्यापारी और देश की जनता इतना विश्वास करते हैं कि वो जब भी रूपये मांगते हैं , सब उन्हें इस विश्वास के तहत रूपये दे देते हैं की ये पैसा उस पार्टी की " पवित्र-विचारधारा " को बढ़ाने हेतु काम आएगा !! या उसी कार्य हेतु खर्च होगा जिस कार्य हेतु माँगा गया है !! लेकिन वो दानदाता हमसे पूछे ना की वो पैसा कंहा खर्च हुआ !! इसी लिए कल देश की सभी राजनितिक पार्टियों के नेता फेविकोल से जुड़े

दिखे जब इस से संबंधित विधेयक सदन में पेश हुआ !!
                  न्यायालय ने दूसरा विषय भी उठाया , वो ये कि जो " सज्जन " दो वर्ष की सज़ा भुगत चुका  हो या जेल में हो वो चुनाव नहीं लड़ सकता !! इस बात पर भी सभी पार्टियों के नेता एक जुट हैं !! कह रहे हैं इतना बड़ा अत्याचार कोई हम जैसे " सीधे-साधे " नेताओं पर भला कैसे कर सकता है ?? मुक्क्दमे हम जैसे शरीफ नेताओं पर राजनितिक षड्यंत्र के तहत होते ही रहते हैं !! नेता बनने के पश्चात कोई हमें  " करोड़-पति " भी पता नहीं कौन बना जाता है ? विश्व की अमीर महिलाओं में किसी नेता महिला का नाम पता नहीं कैसे जुड़ जाता है ??राम - मंदिर हम आज बनाये या सौ साल बाद कोई हमें पूछ थोड़े ही सकता है !! हम तो जेल में बैठे-बैठे ही चुनाव जीत जाते हैं इसलिए ये क़ानून भी हमें मंज़ूर नहीं ! ! !

                          ऐसे पवित्र विचारों और संस्कारों वाले नेताओं से क्या हिसाब नहीं माँगा जाना चाहिए ??? क्या इन्हें R.T.I. के तहत नहीं आना चाहिए ?? सभी पार्टियों का एक हो जाना क्या देश के साथ गद्दारी नहीं ??? क्या पवित्र विचारधारा वाले संगठन भी ऐसी ही मानसिकता रखते हैं ??? वो चुप क्यों हैं ??? पवित्र विचारों के साथ जुदा कार्यकर्त्ता आज अपने दिमाग में संघर्ष कर रहा है !! वो निर्णय नहीं कर पा रहा कि वो अपनी पार्टी के साथ जुड़ा  रहे या अलग होकर इन बेईमान नेताओं के खिलाफ संघर्ष करे !!
                       आप ही बताइए मित्रो आपका क्या कहना है इस विषय पर !!!!!????? अपनी महत्व पूर्ण राय नीचे लिखे पते पर या मोबाईल नंबर पर फोन करके अवश्य बताएं !! देश के कोने-कोने में इस मुद्दे को जोर-शोर उठाने का प्रयास करें !! इन नेताओं और इनकी पार्टियों को पारदर्शी बनाने हेतु विचारधारा के प्रति निष्ठावान कार्यकर्ताओं को अब आगे आना ही होगा !! इन्होने तो अपना " असली-चेहरा " दिखा ही दिया है !! भाजपा के लोसन को कुछ जयादा ही महसूस हो रहा है क्योंकि जो पार्टी विद डिफ़रेंस थी वो अब " काले - कौए " जैसी हो गयी है !! डूब - मरो - बेशरमो !!
                         
प्रिय मित्रो , आपका हार्दिक स्वागत है हमारे ब्लॉग पर " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " the blog . read, share and comment on it daily plz. the link is - www.pitamberduttsharma.blogspot.com., गूगल+,पेज़ और ग्रुप पर भी !!ज्यादा से ज्यादा संख्या में आप हमारे मित्र बने अपनी फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज कर !! आपके जीवन में ढेर सारी खुशियाँ आयें इसी मनोकामना के साथ !! हमेशां जागरूक बने रहें !! बस आपका सहयोग इसी तरह बना रहे !! " फिफ्थ पिल्लर - कोरप्शन किल्लर " की रिपोर्टें आप हमारे ब्लॉग और समाचार पत्रों के इलावा इस ब्लॉग और संचालक टीम के संयोजक श्री पीताम्बर दत्त शर्मा की फेसबुक , गूगल+, और उनके पेज पर भी पढ़ सकते हैं !! उनका लिंक ये है www.facebook.com/pitamberdutt.sharma.7 और ब्लॉग लिंक ये है :- www.pitamberduttsharma.blogspot.com. है !!
अपने अनमोल विचारों को हमारे ब्लॉग " 5th pillar corruption killer " पर आकर अवश्य टाईप करें ! क्योंकि आपके विचारों पर ही हमारी हिम्मत बढती है जी !! ब्लॉग का लिंक ये है :- www.pitamberduttsharma.blogspot.com. रोज़ाना हमारे ब्लॉग पर पधारें ,आप भी पढ़ें ,अपने सभी मित्रों को भी पढ़ायें और अपने कोमेंट्स भी जरूर लिखें !!
आपका मित्र ,
पीताम्बर दत्त शर्मा (राजनितिक -समीक्षक ),
हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार ,
पंचायत समिति कार्यालय के सामने ,
सूरतगढ़ ,राजस्थान ,09414657511

No comments:

Post a Comment

प्रेस की स्वतंत्रता के नाम पर अपराधियों के संरक्षण का अड्डा बनता जा रहा है प्रेस क्लब! प्रेस क्लब (PCI) की कुछ प्रेसवार्ताओं, बैठकों, गत...