Tuesday, January 15, 2013

" हथियार-ड्रग-शराब और भू माफिया था, अब आया राजनितिक दल माफिया "....!!!!???

 माफिया और काफिया प्रेमी मित्रो, सादर नमस्कार !
 भारतमें यदि रहना होगा,इनका प्रेमी बनना होगा...!! क्योंकि ये भाई लोग अब सब जगह पहुँच चुके हैं । मशहूर खलनायकों का प्रिय डायलाग होता था कि " अपने चारों ओर नज़रें घुमा कर देख लो .......मेरे आदमियों ने तुम्हे चारों और से घेर रख्खा है...!! अपने हथियार फैंक दो ....!!! उसी तरह से आजकल राजनितिक दलों में भी " माफिया " ने                                                               निष्ठावान कार्यकर्ताओं को चारों ओर से घेर रख्खा है !! आजकल राजनितिक दलों के पद , जनप्रतिनिधियों की टिकटें भी बोली लगाकर बेचीं जातीं हैं । सच्चा और निष्ठावान कार्यकर्त्ता " भ्रम " में ही रहता है की अगलीबार मेरा नंबर आएगा लेकिन कभी नहीं आता उसका नंबर क्योंकि चालबाज़-नम्बरी लोग उस ख़ास समयपर ऐसा जाल बिछाते हैं कि " प्रभारी " लोग बगलें झाँकने लगते हैं और इसी दरम्याँ " माफिया " अपना काम कर जाता है!!
                     आज    राजस्थान-पत्रिका के मशहूर व्यंगकार " राही " जी ने बड़ा ही सुन्दर व्यंग लिखा है जो हम जैसे छोटे-मोटे लेखकों पर बिलकुल फिट बैठता है......!! आप भी पढियेगा...!! 
                    प्रिय मित्रो, सादर  नमस्कार !! कृपया  आप  मेरा  ये ब्लाग " 5th pillar corrouption killer " रोजाना पढ़ें , इसे अपने अपने मित्रों संग बाँटें , इसे ज्वाइन करें तथा इसपर अपने अनमोल कोमेन्ट भी लिख्खें !! ताकि हमें होसला मिलता रहे ! इसका लिंक है ये :- www.pitamberduttsharma.blogspot.com.
             आपका     अपना.....पीताम्बर दत्त शर्मा, हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार , आर.सी.पी.रोड , सूरतगढ़ । फोन नंबर - 01509-222768,मोबाईल: 9414657511

No comments:

Post a Comment

"मीडिया"जो आजकल अपनी बुद्धि से नहीं चलता ? - पीताम्बर दत्त शर्मा {लेखक-विश्लेषक}

किसी ज़माने में पत्रकारों को "ब्राह्मण"का दर्ज़ा दिया जाता था और उनके कार्य को "ब्रह्मणत्व"का ! क्योंकि इनके कार्य समाज,द...