Wednesday, January 16, 2013

" दुनिया में रहना है तो, काम करो प्यारे "..." चिंतन नहीं "...!!??

 " काम  " करने वाले सभी मित्रों को मेरा हार्दिक  नमस्कार !!
                      जब सरकार हमारी " जनहित " के कार्य कर-कर थक गयी ......तब उसे चिंतन करने का ध्यान आया है !! और अगर वो अब अगले चुनावों में अपनी जीत पक्की मानकर आगामी 5 वर्षों में कराये जाने वाले जनहित कार्यों हेतु " चिंतन " शिविर लगाये बैठी है, तो वो ज्यादा उतावलापन दिखा रही है !! क्योंकि पिछले 9 साल की मनमोहन सरकार के " कार्य " ही उसका " बेडा " आर- या - पार लगायेंगे , ये शिविर अब किसी काम नहीं आने वाला !! 
                       दरअसल में ये चिंतन शिविर कांग्रेस को आनेवाली मुश्किलों से कैसे बचाया जाए इसलिए है,नाकि जनहित हेतु...!! पिछले दो सालों से कांग्रेस " सोशल-मीडिया " से बड़ी परेशान है !! ये सारा " डिरामा " इसीलिए हो रहा है !! क्योंकि इस सरकार के सभी पवित्र कार्यों [ भ्रष्टाचार,घोटाले और सौदेबाज़ियाँ ] में यही सोशल-मिडिया ही बाधक बनता आया है !! कितने ही समाचार ऐसे हैं जिन्हें " प्रिंट और इलेक्ट्रोनिक " मिडिया छुपा रहा था , जिनसे कई मिडिया-ग्रुप नेताओं को बादमे ब्लैकमेल भी करते थे , वो सारे भेद इसी सोशल मिडिया ने ही खोले !! जिससे जनता जागी और जनता ने इन तीनों  " राक्षसों " को नंगा करदिया  है !
                       चिंतनअकेली कांग्रेस ही नहीं कर रही,बल्कि प्रिंट व इलेक्ट्रोनिक मिडिया भी कर रहा है क्योंकि उसके भी हित आहत हो रहे हैं इस सोशल मिडिया की बढती हुई लोकप्रियता से, तभी तो पिछले दिनों जब सरकार इसको दबाने-कुचलने का प्रयास कर रही थी तब इन दोनों माध्यमों का " मूक-समर्थन " सरकार को हासिल था..!!?? अब चेनलों पर ये बहस करायी जा रही है कि सोशल मिडिया कांग्रेस विरोधी ही क्यों है ????
        क्यों मित्रो, आपका क्या कहना है ;इस बारे में..
      कृपया आप मेरा ये ब्लाग " 5th pillar corrouption killer " रोजाना पढ़ें , इसे अपने अपने मित्रों संग बाँटें , इसे ज्वाइन करें तथा इसपर अपने अनमोल कोमेन्ट भी लिख्खें !! ताकि हमें होसला मिलता रहे ! इसका लिंक है ये :- www.pitamberduttsharma.blogspot.com.

No comments:

Post a Comment

"अब कि बार कोई कार्यकर्ता ही हमारा जनसेवक (विधायक) होगा"!!

"सूरतगढ़ विधानसभा क्षेत्र की जनता ने ये निर्णय कर लिया है कि उसे अब अपना अगला विधायक कोई नेता,चौधरी,राजा या धनवान नहीं बल्कि किसी एक का...