Tuesday, May 8, 2012

" यु.पी.ऐ.और एन.डी.ऐ.अमेरिका की कठपुतली बनाना चाहते हैं क्या भारत को "..??

" कठपुतली " को जानने-पहचानने वाले मेरे सभी मित्रों को मेरा नमस्कार !! बचपन में मनोरंजन का एक बड़ा साधन हुआ करता था , कठपुतली का खेल !! उसमे परदे के पीछे से दो कलाकार अपनी कला का अभूतपूर्व प्रदर्शन किया करते थे ! सामने से देखने वाले को तो खिलोने सजीव दिखाई देते थे लेकिन वास्तविकता में पीछे वाले कलाकार ही गाते और बजाते थे !! कई तरह के मनोरंजन से भरपूर कहानिया दिखायीं और सुनाई जातीं थी !! वक्त के साथ - साथ ये कहावत भी बन गयी की फलाना तो फलाने की कठपुतली मात्र है जी !! 

पिछले 18. सालों से भारत में जिसकी भी सरकार बनी है , वो अपने दिमाग से काम नहीं कर रही बल्कि यूरोपीय देशों के कहने के मुताबिक निर्णय ले रही है !! पहले पहले तो ये आर्थिक सुधार सुनने में और लागू करने में बड़े ही अच्छे लग रहे थे ! लेकिन अब देश इसका दुष्प्रभाव भी देख रहा है !! देश में लाखों टन अनाज सढ रहा है लेकिन गरीब भूखा सो रहा है क्यों ...? आदमी की आमदन 30,000/- से कम नहीं , लेकिन घर में फिर भी कमियाँ हैं , क्यों ..?? बेरोज़गारी बढ़ रही है क्यों ? हमारे किसके साथ कैसे सम्बन्ध हों ये भी अमेरिका तय कर रहा है , और हम क्या खाए , क्या पहने और कन्हा से खरीदें , ये भी अमेरिका ही तय करता है क्यों .? अमेरिका की विदेश मंत्री श्री मति हिलेरी क्लिंटन जी सीधे ममता जी से मिली क्योंकि वो मनमोहन जी से मानी नहीं थी , बंगला देश के साथ नदी समझोता करने और अमेरिका के बड़े माल खोलने हेतु , क्या ये उचित है ? केंद्र के साथ बातचीत क्यों नहीं हुई ? प्रधान मंत्री चाहते तो ममता जी को बुलाकर बातचीत में साथ बिठा सकते थे परन्तु ये बिलकुल उचित नहीं कहा जा सकता !!हमारे सात पडोसी हैं उनके साथ हमारे सम्बन्ध अच्छे नहीं क्यों ? इरान से हम तेल खरीदें या नहीं ये भी हमें अमेरिका बताये जी ..क्यों ?? देश में मिडिया क्या खबर दे और कितनी बढ़ा - चढा कर दे ये भी अमेरिका और उसके एजेंट u.p.a.और n.d.a.के नेता ही अपने चमचे n.g.o.और मिडिया से तय करवाते हैं क्यों ?? देश की जनता को पेड़ न्यूज और व्यूज़ के ज़रिये मुर्ख बनाया जा रहा है क्यों ? ये तो भला हो सोशल मिडिया का की कुछ सच बाहर आ रहा है नहीं तो ये देश द्रोही देश को कबका बेच कर खा जाते !! फेसबुक को धन्यवाद !! 
           मेरा तो सभी देश भक्त लोगों से निवेदन है की चाहे वो किसी भी फील्ड में काम कर रहे हों अगर किसी ऐसी घटना का पता चले तो फ़ौरन उजागर करें और अपना कार्य पूरी इमानदारी से करें !! देश को इस वक्त इमानदारों ,की बहुत सख्त आवश्यकता है जी !! 
             हमेशां की तरह " 5th pillar corrouption killer " को आप पढ़ते रहिये , अपने मित्रों को भी शेयर करके पढवाते रहिये , साथ - साथ अपने अनमोल विचारों से अवगत करवाते तहिये जी !! आज ही लाग आन करें :- www.pitamberduttsharma.blogspot.com. 
               dhanywad !! 

No comments:

Post a Comment

प्रेस की स्वतंत्रता के नाम पर अपराधियों के संरक्षण का अड्डा बनता जा रहा है प्रेस क्लब! प्रेस क्लब (PCI) की कुछ प्रेसवार्ताओं, बैठकों, गत...