Saturday, May 26, 2012

" अब मेरा क्या होगा ....अडवाणी जी "...????

जिन मित्रों का अभी तक कुछ नहीं हुआ , उन सभी को मेरा दिलासा भरा नमस्कार !! कृपया स्वीकार करें और होसला रख्खें !! 
            जी हाँ मित्रो , कई लोग ऐसे भी होते हैं जो सारा जीवन संघर्ष में ही बिता देते हैं । उनका जीवन अपने परिवार के दुसरे सदस्यों को व्यवसथित करनें में ही गुज़र जाता है !! ना उन्हें ढंग के कपड़े मिलते हैं और न खाना ,कई लोग तो कुंआरे भी रह जाते हैं !! लगभग ऐसा ही राजनितिक जीवन में भी होता है ! हमने राजनितिक जीवन में आने के बाद ना जाने कितने , उपयुक्त अनुपयुक्त लोगों को ,पार्षद , विधायक और सांसद बन्वादिया !! इसके साथ साथ संगठन में भी कईयों को जिलाध्यक्ष और मंडल अध्यक्ष बन्वादिया !! सारी उम्र दूसरों हेतु ही जिंदाबाद - मुर्दाबाद करते रहे !!संगठन के प्रति निष्ठा पूर्वक कार्य करते रहे .. किन्तु किसी भलेमानुष ने हमारी किसी पद हेतु अनुशंसा नहीं की !                आज अडवाणी जी से मैं ये प्रश्न इस लिए पूछ रहा हूँ क्योंकि मिडिया में शोर है की मोदी जी के आगमन से अडवानी जी , सुषमा जी , जेटली जी आदि आदि बड़े नेता परेशान हैं और सोच रहे हैं की अब हमारा क्या होगा ??? जबकि ये सब बड़े - बड़े पदों पर विराजमान रह चुके हैं ! इन्होने बड़े - बड़े काम भी किये और बड़ा सुख भी भोगा है !! फिर भी अगर वो परेशान हैं तो हम जैसे कनिष्ठ कार्यकर्ता क्या करें ....????? श्री मति वसुंधरा जी , येदियुरप्पा जी और मोदी जी ने तो दबाव बना कर अपना स्थान सुरक्षित कर लिया ......अब कोई हम जैसे कार्यकर्ताओं को भी तो कोई अपनी गोदी  में बिठाओ यारो !!
                          फिर हम सब मिल कर जनता के सामने जाएँ ,उनको विश्वास दिलाएं की हम आपकी समस्याओं को अपना समझेंगे !! और उनसे जल्द एकमुश्त फैसले करके निजात दिलाएंगे !! मुझ जैसे अनेकों छोटे - छोटे कार्यकर्ताओं की गारंटी पर ही आप जैसे बड़े नेताओं को कोई पहचानेगा या पहचाना गया था ...??? इसलिए जब तलक मैं या मुझ जैसा छोटा कार्यकर्त्ता भटकता फिरेगा तब तक आप जैसों को भी चैन नहीं मिलेगा !!!??? ज़रा सोचने वाली बात है और कुछ ज्यादा गहरी बात है ....मनन कीजिये प्लीज़ ....!! 

                 तो मित्रो आपका क्या विचार है इस बारे में ...??? मैंने जो लिखा है , और जो सन्मान वश नहीं लिख पाया क्योंकि अमर्यादित भाषा का मैं प्रयोग नहीं करता !! उसे भी आप अनुभव करके अपने अनमोल विचार हमारे ....नहीं - नहीं अपने ब्लॉग और ग्रुप , जिसका नाम " 5th piller corrouption killer " है , में जाकर टाईप कीजिये , और अपने सभी फेस-बुक मित्रों को भी हमारे ये लेख शेयर कीजिये !!! आप सब का बहुत - बहुत ...धन्यवाद !! बोलो जय श्री राम !! 

No comments:

Post a Comment

"मीडिया"जो आजकल अपनी बुद्धि से नहीं चलता ? - पीताम्बर दत्त शर्मा {लेखक-विश्लेषक}

किसी ज़माने में पत्रकारों को "ब्राह्मण"का दर्ज़ा दिया जाता था और उनके कार्य को "ब्रह्मणत्व"का ! क्योंकि इनके कार्य समाज,द...