Saturday, May 19, 2012

" जुआ - शराब - शबाब और कबाब की सहेली ,-- ये क्रिकेट "...!!??

सभी रंगीन मिजाजी दोस्तों और सहेलियों , आदाब !!
                      पिछले कुछ दिनों से देश में हो रही आई. पी. एल. के कुछ अलग ही रंग लोग देख रहे हैं !! उन रंगों को देख कर , वो ही लोग ज्यादा हाय - तौबा मचा रहे हैं , जो वैसे रंगों को देखने और " भोगने " के आदि रहे हैं , चाहे वो मीडिया के लोग हों , नेता लोग हों या कार्पोरेट जगत के लोग हों , पता नहीं क्यों .....??? क्या ये भी एक प्रायोजित प्रचार मात्र है जिसमे मिडिया जनता को मुर्ख बना रहा है ...?? आई . पी . एल . के संस्थापक  श्री ललित मोदी जी ने तो यंहा तक कह दिया की ऐसा कोई भी काम नहीं हुआ है जो " ये लोग " पहले नहीं करते हो !! ये लोग - यानी , क्रिकेट से सम्बंधित सभी श्रेणी के लोग , इनमे सभी पार्टियों के " माननीय " नेता गण भी शामिल हैं !!
                       आम जनता तो केवल मात्र " मूक दर्शक सी बनी हुई है !! छोटा - मोटा चोर उचक्का ,ठग और बेईमान जब कोई हेरा - फेरी करता है तो छोटा मोटा हवालदार और आम जनता भी उसकी तुरंत पिटाई करके तुरंत फैसला करदेती है बाद में न्यायालय पंहुचाया जाता है वन्ही जब कोई "बड़ा आदमी " कोई अपराध करता है तो वो मिडिया के सामने अपनी सफाई देने लग्जता है और तरह - तरह की जांच की बात होने लगती है फिर सुनवाई और फिर कंही 20.- 30. सालों बाद ये निर्णय आता है की वो व्यक्ति दोषी है या नहीं !! तब कंही जाकर सज़ा की बात होती है !! 
                           आम जनता इसी कानूनी - सामाजिक दोगले पण की मारी हुई है !! सतयुग हो या त्रेता , द्वापर हो या कलयुग जनता यूँही राक्षसों और देवताओं के द्वन्द में पिस रही है ..!! सरकार भी मजबूर  है , मंत्री गिडगिडा रहे हैं की घपला हो रहा है !! पता नहीं सरकार की क्या मजबूरी है कोई एक्शन ही नहीं लिया जा रहा !! मेरा तो ये मानना है की पूरे विश्व का क्रिकेट प्रबंधन ही माफिया है जिसने सभी देशों की सरकारों को बंधक बना रख्खा है और जनता कोसट्टे का आदि बना दिया है !! 


         क्यों मित्रो ...??? क्या आप भी ऐसी रंगीनियाँ देखना चाहते हो या वास्तव में एक सच्चा खेल चाहते हो !!  अपनी राय हमेशां की तरह हमारे ब्लॉग , जिसका नाम है " 5th pillar corrpuotion killer " पर  जा  कर  अवश्य  लिखें !! लिखने हेतु लाग आन करें www.pitamberduttsharma.blogspot.com. अगर आपको हमारा ये लेख पसंद आये तो अपने मित्रों संग अवश्य शेयर करें !!...........धन्यवाद !! प्रेम से बोलिए ... धर्म की जय हो !! अधर्म का नाश हो !! प्राणियों में सद्भावना हो !! और विश्व का कल्याण हो !! हर - हर - हर ...महादेव .....!!!!! 

No comments:

Post a Comment

"मीडिया"जो आजकल अपनी बुद्धि से नहीं चलता ? - पीताम्बर दत्त शर्मा {लेखक-विश्लेषक}

किसी ज़माने में पत्रकारों को "ब्राह्मण"का दर्ज़ा दिया जाता था और उनके कार्य को "ब्रह्मणत्व"का ! क्योंकि इनके कार्य समाज,द...