" 1947.से आज तक ,किसी को " हिन्दू " मरता नज़र क्यों नहीं आता " ...??

मेरे सभी " जिन्दा - इंसान " मित्रों को मेरा सलाम !!
                 जो पैदा हुआ है वो समय आने पर मरता भी है , प्रकृति का नियम है यह । डरपोक रोज़ मरता है और दिलेर सिर्फ एक बार मरता है । याद दोनों तरह के आदमी रहते हैं हमें और इतिहास को !सज्जन व्यक्ति अच्छे काम करके मरता है और दुर्जन बुरे ! लेकिन आजकल कुछ इस तरह के मनुष्य भी इस संसार में पाए जाते हैं जो  मनुष्यों से ही खेलते हैं , मनुष्यों से ही काम करवाते हैं , मनुष्यों का ही शोषण करते हैं , मनुष्यों को ही खा जाते हैं और मनुष्यों पर ही राज करते हैं ...!!?? ऐसे लोगों को " नेता ,ठेकेदार , सरकारी अफसर , अमीर पत्रकार ,पूंजीपति ,धार्मिक महंत ,और सामाजिक कार्यकर्ता भी कहा जाता है !! ये सब किसी ना किसी राक्षसी प्रवृति के व्यक्ति या सगठन से जुड़े होते हैं । ये सिर्फ उसी के अनुसार चलते हैं । उस मुख्य व्यक्ति के साथ - साथ इनका भी कोई न कोई हित इन पाशविक कार्यों में जुदा होता है !! ये समाज के हर क्षेत्र में पाए जाते हैं !!
                                   ऐसे ही कुछ पाशविक प्रवृति के लोग पिछले तीन सो सालों से हमारे हिन्दुस्तान के पीछे पड़े हैं ...न जाने क्यों ...?? इनका एक ही लक्ष्य है की " हिंदी , हिन्दू और हिन्दुस्तान " को कैसे नुक्सान पंहुचाएं ?? कभी अफगानी मुस्लिम लुटेरे , कभी अँगरेज़ , और कभी पाकिस्तानी - खालिस्तानी ,नक्सली , आदि - आदि बन कर ये अपना काम कर रहे थे हैं और करते रहेंगे ..! जब तलक इनका सम्पूर्ण संघार नहीं किया जाता तब तलक ये समस्या हल नहीं होगी !!
                             ये लोग किसी भी छोटी या बड़ी जाती के छोटे से छोटे दुःख को भी पूरा प्रचारित करते हैं और कंही अगर वो दुर्घटना वश मर जाए तब तो सब इस प्रकार के कौए कांव - कांव करने लग जाते हैं !! लेकिन किसी भी हिन्दू के मरने या जानबूझ कर सेंकडों की गिनती में ही क्यों न मारे जाएँ इनकी आँख में कभी आंसू नहीं दिखाई देते !! 
                         गुजरात के दंगों में कई हिन्दुओं और मुसलमानों सहित एक सांसद भी मारा गया तो ये जिसने उनको मारा उसको कुछ नहीं कह रहे लेकिन नरेंद्र मोदी को फांसी की सज़ा दिलाने की कोशिश में जी - जान से लगे हुए हैं क्यों ...?? क्यों इन्हें काश्मीर का , पंजाब का और गोधरा का हिन्दू मरता दिखाई नहीं देता .....!! हिन्दू अपने ही देश में अल्पसंख्यक बना दिया गया ...क्यूं ...???


                              उनकी बात आने पर सब एक लाइन बोलते हैं की क़ानून अपना काम करेगा ....!! तो आज जब न्यायालय ने नरेंद्र मोदी जी को निर्दोष साबित कर दिया है तो ये सब क्यों मामले को भड़काने में लगे हैं " व्याख्या या चर्चा " के नाम पर !                         मित्रो आप अपने अनमोल विचार हमारे ब्लॉग पर जाकर आज ही टाईप करें www.pitamberduttsharma.blogspot.com.          ब्लाग का नाम है " 5th pillar corrouption killer "  

Comments

Popular posts from this blog

बुलंदशहर बलात्कार कांड को यह ‘मौन समर्थन’ क्यों! ??वरिष्ठ पत्रकार विकास मिश्रा - :साभार -सधन्यवाद !

आखिर ये राम-नाम है क्या ?..........!! ( DR. PUNIT AGRWAL )

भगवान के कल्कि अवतार से होगा कलयुग का अंत !!! ????