Wednesday, April 4, 2012

"राम करे -ऐसा हो जाय,मेरी अनिद्रा तोहे मिल जाये " ....!!

रामजी द्वारा ही सबकुछ  करवाने वाले मेरे सभी प्रिय मित्रों को प्यारी - प्यारी ,राम - राम जी !!
                 मुकेश जी का बहुत ही प्यारा गीत था की " राम करे , ऐसा हो जाये , मेरी निंदिया तोहे मिल जाए मैं जागू , तू सो जाय !!...आजकल तो हम सब चाहते हैं की हम सोये रहें और हमारा काम कोई दूसरा या तीसरा कर जाए ......??? स्वयं के काम से लेकर घर के काम तक और ऑफिस के काम से लेकर देश के काम तक !! यंहा तक की हमारे नेता भी ऐसा ही सोचते हैं की उग्रवादियों को भी अमेरिका मारे , पाकिस्तान को भी अमेरिका समझाए और सभी समस्याओं से हमें कोई दूसरा देश ही  निजात दिलाये 
   ऐसी हमारी आदत सी हो गयी है !!
                                  ताज़ा घटना  जनवरी माह में घटी सेना की हलचल से है , जिसकी खबर कल " इंडियन एक्सप्रेस " ने प्रकाशित की डरते - डरते ! उसका सार ये था की ऐसी सम्भावना लगती थी की सेना दिल्ली पर शायद कब्ज़ा करके तख्ता पलट करदे " !! जो की भारत में संभव ही नहीं है क्योंकि हमारी सेना मैं भी तो हम जैसे ही भारती हैं ??? हाँ हमसे कुछ तंदरुस्त अवश्य हैं !! मैं बलिहारी जाऊं इन नेताओं के की सारे नेता एक दम घबरा गए !! भाजपा के तरुण विजय जी जो की एक पत्रकार भी हैं ने तो एक चेनल की बहस में ही बोल दिया की "आज कल नेताओं की इज्जत बिलकुल निम्न स्तर पर है और सेना की ज्यादा , कंही सच में दोबारा ये बातें सुनकर सेना दिल्ली की तरफ ना चली आये , इसलिए सभी पार्टियों को राजनीति छोड़ सिर्फ ऐसा ही ब्यान देना चाहिए की ये सच नहीं है "।। 
                            देश को ये नेता सच नहीं बताना चाहते बल्कि सभी पार्टियों के नेता जनता को सिर्फ " बेवकूफ " ही बनाना चाहते हैं । इसीलिए भारत के कई लोग जब संसद में आक्रमण हुआ था तो उन्होंने कहा था की " राम करे ..ये संसद पर हमला ...कामयाब हो जाए .....!! परन्तु भगवान् ऐसे लोगों की कम ही सुनता है ..जो दूसरों पर आश्रित रहते हैं ! राम जी सिर्फ उनकी ही सुनते हैं जो अपना काम स्वयं करने की क्षमता रखते हैं !! हम अपनी अनिद्रा दूसरों को नहीं देकर , दुसरे को चैन की नींद देने का प्रयास करें तभी सभी प्रसन्न रह सकेंगे !!
                            इस लोक तंत्र में  देश के नेताओं को सुधारने का यही तरीका है की जो नेता जनता को बेईमान लगे उसे , देखना,सुनना , उसका स्वागत करना और उसे " वोट " देना बंद करदें ....!! फिर देखो कैसे नेता ससुरे सुधारते हैं या नहीं ...??? परन्तु क्या यंहां सिर्फ नेता बेईमान हैं .....मास्टर,क्लर्क ,पुलिस,अफसर ,पटवारी ,व्यपारी ,स्वर्णकार ,वकील और पत्रकार आदि- आदि क्या सब शरीफ हैं .....उत्तर मिलेगा नहीं ...!! तो फिर आप ही बताइए मित्रो कौन किसको सुधारे ....यारो सुधारना तो हम सबको है ......." की मैं झूठ बोलिया ....कोइना बई कोयना ...!! आज ही हमारा ब्लाग और ग्रुप पढ़िए ! जिसका नाम है " 5th pillar corrouption killer "  इनमे प्रकाशित लेख आम जनता के हितों को देख कर बिलकुल सरल भाषा में लिखे जाते हैं !! इस लिए आप सब से निवेदन है की आपको अगर हमारा कोई लेख पसंद आये तो उसे अपने मित्रों को अवश्य बांटिये (शेयर ) कीजिये  और फिर हमारे ब्लाग पर जाकर उस पर अपने विचार भी लिखिए क्योंकि हम आपके अनमोल विचारों को सहेज कर रखना चाहते हैं ! आज ही लाग आन करें :- www.pitamberduttsharma.blogspot.com. आप चाहें तो हमारे किसी भी लेख को कंही भी प्रकाशित भी कर सकते हैं !! बिलकुल मुफ्त !                    

No comments:

Post a Comment

"मीडिया"जो आजकल अपनी बुद्धि से नहीं चलता ? - पीताम्बर दत्त शर्मा {लेखक-विश्लेषक}

किसी ज़माने में पत्रकारों को "ब्राह्मण"का दर्ज़ा दिया जाता था और उनके कार्य को "ब्रह्मणत्व"का ! क्योंकि इनके कार्य समाज,द...