Wednesday, April 11, 2012

" वाह !! क्या ......सिग्नेचर है "..???

" सिग्नेचर " के जान कार सभी मित्रों को मेरा रसीला नमस्कार !! स्वीकार कीजिये !!
                     आज के लेख का विषय बिलकुल रानीतिक नहीं है लेकिन राजनीती सहित सब क्षेत्रों से सम्बंधित अवश्य है । इसलिए इसे ले लिया की चलो आज सभी मित्रों, चाहे वो लेडीज़ हों या जेंट्स  कईयों  का प्रिय है ये " सिग्नेचर ब्रांड " ?????
      जब हम बचपन से जवानी की तरफ अपने कदम बढ़ा रहे थे तब हमें पहली बार इस सिग्नेचर का चस्का पडा और हम क्या स्कूल में और क्या घर बस ........रोज़,बढ़िया दिखाई देने वाले " सिग्नेचर " लिखने में जुट जाते फिर अपने मित्रों भाई - बहनों को दिखाते की देखो इनमे से कोन  से ऐसे हस्ताक्षर हैं जिनके करने से हम देखने वाले को बड़े अफसर जान पड़ें !! कई बार और कई दिनों की म्हणत के बाद हमने इंग्लिश में पी.डी. शर्मा लिख कर ही अपने " सिग्नेचर " पास किये जो आज तलक चल रहे हैं 
                           अब आते हैं उस सिग्नेचर " की तरफ जो आप समझ रहे थे ....!! क्या कहा नहीं ...? चलो जाने दीजिये मैं अपनी बात ही कहता हूँ .. वो सिग्नेचर की बोतल जिसमे सोम - रस होता है उसका भी स्वाद हम ने कई बरस तक चखा है क्योंकि शायर लोग कहते थे की जो देवदास नहीं बना वो प्यार क्या करेगा और निभाएगा क्या ..??? हमें भी एक साथ पढने वाली कन्या से पहला - पहला प्यार हो गया जो बाद में उसके पापा ने उतार दिया और हमारे एक बड़े मित्र जो हमसे दो कक्षा आगे पढता था , ने हमें इस " सिग्नेचर " नामक सोम -रस से परिचित करवा दिया ....और इस तरह से हम भी ...देवदास बन गए और 2010 की 31 दिसंबर तक बने रहे !! जब हरे घर पुत्रवधू आने का कार्यक्रम बना तब त्यागी ये ससुरी सुरा !!

                       आप कहोगे ये सब तो ठीक है , पर ये लेख का विषय क्यों बना ...?? तो मित्रो अब हम आज के विषय की तरफ आते हैं !! आज मैंने जब समाचार - पत्र खोला तो उसमे एक विज्ञापन पढ़ा की " सिग्नेचर " कम्पनी ने अब ऐसे परफ्यूम तैयार किये हैं जो भारतीय " राशियों " के अनुसार हैं ...!! यानी अब पंडित जी के पास जाने की कोई जरूरत नहीं ...बस ! " सिग्नेचर " कम्पनी का बना अपनी राशि के मुताबिक सैंट लगाओ और अपना भविष्य सही रखो ..!! बोलिए है न ये आज का मनोरंजक विषय !! बस ..!! इसी लिए हमने इस पर विचार लिख दिए ....इसी तरह से आप भी अपने अनमोल विचार हमारे ब्लॉग पर टाईप कीजिये और इस लेख को अपने सभी मित्रों संग शेयर कीजिये ...भगवन आपका भला करे ......!!आज ही लोगआन  करें हमारा ब्लॉग जिसका नाम है " 5TH PILLAR CORROUPTION KILLER " www.pitamberduttsharma.blogspot.com.  

No comments:

Post a Comment

" परेशान है हर कोई " क्यों ? - पीताम्बर दत्त शर्मा {लेखक-विश्लेषक}

भारत ,जिसकी संस्कृति में ही ये सिखाया जाता है कि अपने आप से ज्यादा दूसरों की चिंता करो ! दूसरों पर दया करो !अपने हिस्से के भोजन में से किसी...