" सेक्स करना " हमारा " मौलिक - अधिकार है , आखिर " दिल तो बच्चा है जी " ...???

सभी " सेक्सी " मित्रों को मेरा , रमणीय नमस्कार !!
                          एक गीत बहुत मशहूर हुआ था की , " मेरी पेंट भी सेक्सी , मेरी शर्त  भी सेक्सी , मेरे बाल भी सेक्सी , मेरी चाल भी सेक्सी है .....", और न जाने क्या - क्या सेक्सी है इस गीत में आगे गीतकार ने लिखा था ... लेकिन वो एक चीज़ लिखना भूल गया ... की हमारा नेता भी सेक्सी है ....???? कोई बड़ी बात नहीं है भूल हो जाती है इंसान से अब संसार में इतनी चीज़ें सेक्सी हैं वो भी बेचारा किस - किसको लिखता ...??? मेरी एक मित्र एक दिन मुझसे बोली की तुम्हारा चश्मा बड़ा सेक्सी है ...!! अब आप ही बताओ की ये चश्मे में सेक्स कन्हा से घुस गया ...? राम ही जाने !! राम से याद आया की देश के एक मशहूर फिल्म निर्देशक , निर्माता और अभिनेता श्री राज कपूर साहिब ने एक फिल्म बनायीं थी , जिसका नाम था " राम तेरी गंगा मैली हो गयी " !! मेरी नानी ने जिद पकड़ ली की मुझे ये धार्मिक फिल्म दिखा कर लाओ , मैंने बहुत समझाया की नानी ...ये सिर्फ एक नाम है उस लड़की का जो पहाड़ों में रहती है लेकी नानी नहीं मानी फिल्म देखने पंहुच ही गयी !! और जब फिल्म शुरू हुई तो बोली की देखो गंगा मैया है तो सही मंदिर भी दिखा रहे हैं .... लेकिन थोड़ी ही देर बाद जब वंहा " म्क़न्दाकिनी जी स्नान करने पंहुची तो अम्मा लगी गालियाँ बकने ...सारा हाल फिल्म छोड़ कर नानी की गालियाँ सुनके उसे वंहा से हटाने हेतु कहने लगा और मैं अपनी नानी को सिनेमा - हाल से घर वापिस लाया । घर आकर नानी बोली अब कभी फिल्म नहीं देखूंगी ....???
                             ये कहानी आपको इसलिए सुनाई है क्योंकि आपको भी ये पता चले की सेक्स जीवन का एक अभिन्न अंग है और अति आवश्यक है , सभी ज्ञानीजन इस बात को भली भाँती जानते हैं लेकिन फिर भी न जाने क्यों इस "महान सांस्कृतिक - कार्य " को  एक गन्दा - कार्य समाज के ठेके दारों ने घोषित कर रखा है ???? हाँ कुछ नियम अवश्य हैं हम सबको उनका पालन अवश्य करना चाहिए क्योंकि वो नियम हमारे ही भले हेतु बनाये गए हैं !! दशकों - सेंकडो वर्षों के बाद इन नियमो में थोड़े बदलाव अवश्य आ जाते हैं लेकिन मूल - भावना वो ही रहती है क्योंकि सत्य कभी बदलता नहीं !!
                                   " डिस्कवरी  " चेनल देखने वाले दर्शक भली भाँती जानते हैं की सभी पशुओं और पक्षियों में भी विपरीत लिंगों में प्यार होता है , उस प्यार का बड़े ही सुन्दर ढंग प्रदर्शन भी होता है . और जब एक ही " वस्तु "के एक से ज्यादा आशिक हो जाते हैं तो फिर उनमे " युद्ध " होता है और फिर " विजयी " होने वाले को " इनाम मिलता है जी !!ऐसा ही मनुष्यों में भी होता है , बस अंतर केवल इतना है की मनुष्य अपनी बुध्धि के बलसे दूर से ही पहचान जाता है की ताकतवर कौन है ....और कमज़ोर आदमी बिना युद्ध के ही समर्पण कर देता है ।।
                      ऐसा ही समर्पण " राजस्थान में भंवरी बायीं ने किया एवं अब एक महिला वकील ने जज बन्ने हेतु ....कथित तोर पर कांग्रेस के नेता श्री अभिषेक मनु सिंघवी जी के समक्ष किया " । कईयों के पेट में बल पड गए ..?? अब बताइये की क्या वो महिलायें जानती नहीं थीं क्या वो क्या कर रही हैं ?? एक नर्स थी तो एक वकील अनजान तो अनपढ़ महिला भी नहीं होती .....?? तो फिर सज़ा केवल आदमी ही को क्यों .....बताइये - बताइये ...?? क्या केवल इस लिए की आदमी एक मशहूर नेता है ..?? क्या नेता को किसी के साथ राजा मंदी के साथ सेक्स करने की आज़ादी नहीं ...?? क्या वो एकांत में व्यस्क फिल्म नहीं देख सकता ....??? सरकार और सब तरह के कानूनों की जानकारी हेतु टी. वी. चेनलों में विज्ञापन दिखाती है तो इस बारे में चुप क्यों रहती है ???? क्यों पूरी कानूनी जानकारी सेक्स के बारे में नहीं बतायी जाती !! जब हमारी अदालतों ने " गे " मनुष्यों को एक साथ रह कर वो सब कुछ करने की छूट दे दी है तो दो विपरीत लिंग राजा मंदी से सेक्स का आनंद क्यों नहीं ले सकते ????
                       जब सबको विस्तृत इस बारे में जान कारी हो जाए गी , और सरकार इसमें संशोधन करके मनुष्यों को रजामंदी से सेक्स करने की छूट दे दे तो अपराध भी कम हो जायेंगे ...!! और जो बेचारे हमारे जैसे इस बुढापे में शेरो - शायरी का सहारा लेकर आशिकी करते हैं उन्हें भी कुछ राहत सी मिल जाए .....???? क्यों मित्रो आपका क्या कहना है .....???? ये "सेक्स भी बच्चा है जी " जैसे लोग कहते हैं की " दिल तो बच्चा है जी !! जब भी ये दिल किसी पर आ जाता है तो ...आ ही जाता है ....किसी का दोष नहीं होता .....हाँ रजामंदी के बिना अगर कोई सेक्स किसी के साथ करता है तो ....." मृत्यु - दंड "  तो मिलना ही चाहिए !!! 


                आप सब मित्र अपने विचार हमारे ब्लॉग और ग्रुप जिसका नाम है " 5th pillar corrouption killer " कृपया आज ही लाग आन करें www.pitamberduttsharma.blogspot.com. पर जाकर अवश्य लिखें ..क्योंकि हम आपके अनमोल विचारों को भी सहेज कर रखना चाहते हैं जी  ..!! आप चाहें तो इसे अपने मित्रों को शेयर भी कर सकते है और कन्ही प्रकाशित करना चाहें तो भी कर सकते हैं इस लेख को !! ..धन्यवाद् !! तो बोलो जय श्री राम !! हो गया .." काम " !!

Comments

Popular posts from this blog

बुलंदशहर बलात्कार कांड को यह ‘मौन समर्थन’ क्यों! ??वरिष्ठ पत्रकार विकास मिश्रा - :साभार -सधन्यवाद !

आखिर ये राम-नाम है क्या ?..........!! ( DR. PUNIT AGRWAL )

भगवान के कल्कि अवतार से होगा कलयुग का अंत !!! ????