Sunday, March 18, 2012

" क्यों ज़रूरत है अब अन्ना टीम को दोबारा आन्दोलन करने की "....???

आन्दोलन करने और उसको अपना समर्थन देने वाले मित्रो , "जूस  भरा नमस्कार " स्वीकार करें !! 
पिछले सप्ताह मशहूर आन्दोलनकारी श्री - श्री अन्ना हजारे जी ने केंद्र की सरकार को एक बार फिर अल्टीमेटम दे दिया की अब एक बार फिर बड़ा आन्दोलन होगा । सच कंहूँ की अन्ना जी का और उनकी समस्त टीम का प्रशंसक होने के बावजूद मेरे मन में ये प्रश्न कोंध रहा है की ऐसा क्यों और किसके स्वार्थ पूर्ती हेतु कहा जा रहा है ??????
क्योंकि जिन उद्देश्यों को लेकर इस संस्थान का आन्दोलन शुरू हुआ था , भले ही वो सरकार ने पूरे नहीं किये हों वो कार्य , लेकिन आम जन और पूरे विश्व तलक अन्ना जी की टीम की बात पंहुच चुकी है और जनता ने अपना भरपूर समर्थन " तन - मन - धन " से दिया है !! अब जनता का भी तो कोई फ़र्ज़ बनता है की नहीं ...???? जनता अब जिस अच्छे आदमी को चाहे उसे चुने ...!! जैसे उत्तर प्रदेश में " अखिलेश " को चुना वैसे ही आगामी लोक - सभा चुनावों में भी बढ़िया नेताओं को चुन लेंगे ????
अब मेरी नज़र में तो अन्ना जी की टीम को कोई नया काम ढूंढना चाहिए ...!! क्यों आप पाठकों का क्या कहना है इस बारे में ...???
जिस प्रकार हिन्दुस्तान का पूरा मीडिया और तःथाकथित समाजसेवी एक " गोधरा की शर्मनाक घटना की प्रतिक्रिया स्वरूप हुए दंगों को उनकी नज़र में पूरी तरह से कंट्रोल नहीं कर पाने के जुर्म में वंहा के लोक प्रिय मुख्य मंत्री श्री मन नरेंद्र मोदी जी को आज तक दोषी साबित करने में जो जबरदस्ती लगे हुए हैं " वो भी देश की आम जनता को नहीं सुहाता है !! इसी तरह से बाबा राम देव भी " काला - धन " का राग गाये ही जा रहे हैं ......क्यों .....आखिर क्यों ....और किसके लिए .......?????????
देश की सुरक्षा एजेंसियों को चाहिए की इस तरह के समाजसेवियों , मिडिया वालों और तथाकथित सेक्लर नेताओं की जांच करनी चाहिए कंही ये सब किसी दुश्मन देश के " मोहरे " तो नहीं ....???? मेरा काम था चेताना ......और मैंने चेता दिया ...!!! 
बाकी आप लोग सोचो .....समझो और अपने विचार हमारे ब्लाग और ग्रुप पर जा कर लिखो ...!! अगर बात हमारी आपको पसंद आई हो तो आप इसे निसंकोच अपने मित्रों को बाँट भी सकते हैं !! आज ही log on करें :-" www.pitamberduttsharma.blogspot.com. ओके थेंक्स तो बोलो जय ...श्री ...राम ....!! 

No comments:

Post a Comment

"मीडिया"जो आजकल अपनी बुद्धि से नहीं चलता ? - पीताम्बर दत्त शर्मा {लेखक-विश्लेषक}

किसी ज़माने में पत्रकारों को "ब्राह्मण"का दर्ज़ा दिया जाता था और उनके कार्य को "ब्रह्मणत्व"का ! क्योंकि इनके कार्य समाज,द...