Friday, March 30, 2012

" कहाँ कहाँ घुस चुके हैं .." इटली,चाईना,पाकिस्तान,और अमेरिका "...??

सरप्राईज़ प्रेमी मित्रो , " अचानक वाला नमस्कार स्वीकार करें !! हम सब भारत वासी सरप्राईज़ प्रेमी हैं , चाहे हमारा कोई मित्र हो या दुश्मन , वो जब हमें अचानक आकर झिंझोड़ता है , तभी हम जागते हैं ...की ओहो तुम हो ....???                                         
                        न जाने कितनी दफा हमें हमारे दुश्मनों ने हमें सरप्राईज़ दिया है , वो कभी नेपाल, बांगला देश ,पाकिस्तान से आते हैं तो कभी और कंही से !! पिछले दिनों हमारी समुद्री सीमा में जबरदस्ती घुसे हुए एक इटली के जहाज़ से इटली के सैनिकों ने हमारे मछुआरे मार दिए ...... हमारी निकम्मी सरकार उनसे " प्यार और दुलार से पूछ रही है जी आप यंहा कुन और कब आये ...??? हमारे आदमियों को क्यों मारा ??? अब हमें बताइये न हम किसपर केस करें ....??? क्योंकि दिखावे के लिए हमें कुछ तो करना पड़ेगा न .....???? ऐसे सोनिया गांधी जी के दर से गिडगिडा रहे हैं हमारे सुरक्षा अफसर और विदेश मंत्रालय के लोग क्यों ......???

                                          आज कल भारत में इटली का सामान भी भारत में बहुत बिकने लगा है !! पहले भी जिन्होंने हमारे देश को गुलाम बनाया था , वो व्यपारी बन कर ही आये थे ...!! हमारी करंसी पर भी इटली के निशाँ और उनके लीडरों के फोटो भी छपने लगे हैं क्यों ....???? कहाँ - कहाँ तलक घुस चुके है हमारे दुश्मन और हमें " सरप्राईज़ " देने को तैयार बैठे हैं ...!! मेरी इस लेख और हमारे ब्लाग "5TH PILLAR CORROUPTION KILLER "के मंच से सभी देश भगतों और सुरक्षा एजेंसियों से निवेदन है की कृपया चौकस रहें और भारत को आने वाली सभी मुसीबतों से बचाएं ....मंत्री तो हमारे किसी काम के नहीं हैं !! अगर वो कोई काम करते हैं तो हमें दिखाई क्यों नहीं देते कोई काम करते हुए .......कोई तो बताये ......आज ही लाग आन करें :- www.pitamberduttsharma.blogspot.com. और अपने अनमोल विचारों से हमें अवगत  करवाएं ...!! हम चाहते हैं की आप सबसे हमारा संवाद कायम हो और हम सब मिलकर देश में खुशियाँ ला सकें ..!! धन्यवाद !! जय - माता - की ......जय हो !!
                        जाते - जाते एक गीत की दो पंक्तियाँ .. पेश है ......" उस मुल्क की सरहद को कोई छु नहीं सकता ....., जिस मुल्क की सरहद की निगेहबान हैं आँखें .....!! 

No comments:

Post a Comment

"मीडिया"जो आजकल अपनी बुद्धि से नहीं चलता ? - पीताम्बर दत्त शर्मा {लेखक-विश्लेषक}

किसी ज़माने में पत्रकारों को "ब्राह्मण"का दर्ज़ा दिया जाता था और उनके कार्य को "ब्रह्मणत्व"का ! क्योंकि इनके कार्य समाज,द...