Wednesday, March 21, 2012

" हर बात गवारा है - लेकिन - ये बात गवारा कैसे करें "????????

जीवन में जो मित्र "गवारा " खाने में सफल हो पाए हैं , उन सब किस्मत वालों को मेरा "ग्वार - गम " भरा नमस्कार  !! सभी जीवन भर मित्र बनकर मुझसे चिपके रहने के वचन के साथ मेरा ये नए तरीके का अभिवादन स्वीकार करें !
                                          आप कहोगे यार आज इसे क्या हो गया जो ये " गवारा - गवारा " हो रहा है किसी " गंवार " की तरह ??? तो मित्रो मैं आपको बता दूं की आजकल के समाचारों के मुताबिक सोने चांदी के बाद इस " ग्वार " का नाम आता है कीमत के मामले में !! और इस इंसान की कीमत अपनी सरकार ने मात्र बत्तीस रूपये ही लगाई है !!इसी लिए मैंने कहा की "सरकार मेरी ...हर बात गवारा है लेकिन ये बात गवारा हम कैसे करें ???? कभी हमारी माता श्री हमें बचपन में बड़ा सा पतीला दे कर कहती थी की जा बेटा इसे " गवारे " से भर कर भिगोदे शामको अपनी गौओं को दाल देंगे , घी ज्यादा निकलेगा !! तो हम अपनी माता जी से पूछा करते थे की माता ये अपनी गैया ग्वार का घी और दूध कैसे बना देती है ??? तो हमारी माता श्री कहती थी हम सब इसके बच्चे हैं इसलिए भगवन ने इसके पेट में ऐसी  फेक्ट्री लगा दी है जिस से इसकी हर चीज़ यंहा तक की इसका गोबर और पिशाब भी मानव जाती के काम आता है !! हम इसका एहसान कभी नहीं चुका सकते !! प्रकृति के तोहफों को हमने फ्री का माल समझ कर उड़ाना और बेकार फैंकना शुरू कर दिया ! जीवन मूल्यों को हवा में उड़ा दिया !! आज इन तोहफों की हमें कीमत मालूम हुई है तो इनके लिए आने वाले समय में वर्ल्ड -वार  तक हो सकती है !! 
                            खबर ये भी आई है की सरकार के यंत्रों को ठीक करने हेतु अब बाबा राम देव और अन्ना जी अपने - अपने चेलों सहित एक मंच पर आ गए हैं ! यानी जैसे कोई फिल्म में एक हीरो " अमिताभ बच्चन जिसे काम ना चलता हो तो दुसरे हीरो यानी विनोद खन्ना जी को लेकर डबल हीरो वाली कोई फिल्म बन रही हो ???? अब तो विल्लेन रुपी ये सरकारी तंत्र सुधर जाएगा ऐसी संभावना कम ही दिखाई पड़ती है अपुन को !!!!! क्योंकि जब तलक जनता में क्रान्ति नहीं आती तब तलक कुछ नहीं होने वाला नहीं !!! समय की मांग है की भारत को चाहे कुछ समय के लिए ही सही एक व्यक्ति का शासन की बड़ी आवश्यकता है !!!! क्योंकि इस सरकार के मंत्री , अफसर , विधायक , कर्मचारी सब  नकारा हो चुके हैं । एक " ओवर - हाल की भारी आवश्यकता है !                         साड़ी पार्टियों में चाँद नेता ही ऐसे हैं जो देश सेवा हेतु अपना जीवन व्यतीत कर रहे हैं !! ज्यादातर तो धन एकत्रित करने और रूतबा बढाने हेतु ही राजनीति में आ रहे हैं !! राज्यसभा की मोजुदा जो टिकटें बनती हैं उससे तो यही दिखाई दे रहा है !! कोई सुधरने की कोशिश करता भी तो नज़र नहीं आता !!! हम करें भी तो क्या समझ से बाहर हो रहा है सब ............क्या बन्दूक उठानी पड़ेगी ......लेखकों को और समाज सुधारकों को ......????? आप ही बताइये ............आपका अपना ब्लॉग और ग्रुप " 5th pillar corrouption killer " में आज ही जुड़िये और अपने अनमोल विचार उस पर टाइप करके हमें लिख भेजें !! अगर आपको पसंद आयें हमारे लिखे लेख तो उसे अपने मित्रों को शेयर भी करें !! ताकि हम सभी मिलकर देश के दुश्मनों के दांत खट्टे कर सकें जो ससुरे हमारे देश में ही पल और बढ़ रहे हैं ???आज ही log on करें :- www.pitamberduttsharma.blogspot.com. जो बत्तीस और बाईस  रुपयों में  हमें गुज़ारा करने को कहते हैं ..उन  हराम  खोरों को हमने बत्तीस रुपयों के लायक भी  नहीं छोड़ेंगे !! तो जोर से कहिये ...." राम नाम सत्य है !!!! आप सब भाइयों और उनकी भाभियों को नए संवत २०६९ की शुभकामनाएं ........!!!

No comments:

Post a Comment

"मीडिया"जो आजकल अपनी बुद्धि से नहीं चलता ? - पीताम्बर दत्त शर्मा {लेखक-विश्लेषक}

किसी ज़माने में पत्रकारों को "ब्राह्मण"का दर्ज़ा दिया जाता था और उनके कार्य को "ब्रह्मणत्व"का ! क्योंकि इनके कार्य समाज,द...